New Gyan सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

मई, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गर्मी की छुट्टी में मौजमस्ती के साथ कुछ नया भी सीखो

समर वेकेशन स्पेशल अभिषेक कांत पाण्डेय बच्चो, स्कूल में गर्मी की छुट्टी हो गई होगी। मन खूब घूमने और मस्ती करने को करता होेगा, लेकिन इस दो महीने की छुट्टी का सही उपयोग करोगे तो तुम्हें फायदा होगा। बच्चों, क्यों न तुम अपना टाइमपास अपनी हॉबी या कुछ ऐसा जो तुम्हें पसंद हो, उसे करके तुम इन छुट्टियों का सही उपयोग कर सकते हो। ---------------------------------------------------------------------- बच्चो, तुम्हारे स्कूल में गर्मी की छुट्टियां शुरू हो गई हैं या तो होने वाली होगी। मन में खुशी होगी कि अब स्कूल जाना नहीं पड़ेगा, बस मौजमस्ती होगी। इस बार तुम छुट्टी में मजा और आराम भी करो, साथ में कुछ नया भी सीखों, जो तुम्हें काम आएगा। हां, एक बात ध्यान रखना गर्मी में बहुत तेज धूप होती है, ऐसे में अपने आपको लू से भी बचाना। तुम्हें जरूरत हो तभी धूप में घर से बाहर पूरी तैयारी के साथ निकलना और साथ में पानी की बोतल, धूप से बचने के लिए सिर पर कैप लगाना, आखों की सुरक्षा के लिए सन ग्लास पहना न भूलना। वर्कशॉप में सीखो बच्चो, तुम चाहो तो समर वर्कशॉप भी ज्वाइन कर सकते हो, यहां पर तुम्हें

सपने साकार करने का सुख

जीवन में कुछ सपने होते हैं, उन्हें जब पूरा कर लेते हैं तो बड़ा सुकून मिलता है। इसी तरह मीर मुनीब ने भी सपना देखा कि खुद का बिजनेस हो, इसीलिए बरिस्ता लवाजा की फ्रेंचाइजी लेने चाही, लेकिन उन्हें नहीं मिली। अब भी उनका सपना वही था, लेकिन संकल्प में बदल गया कि खुद का कैफे खोलकर अपना बिजनेस करेंगे और फिर पक्के इरादों ने उनके सपने को साकार कर दिया। ----------------------------------------------------------------------------------------- जहां चाह, वहीं राह। इस मुहावरे को कश्मीर के मीर मुनीब ने सच कर दिखाया है। मीर 23 साल के थे, उस समय मीर ने बरिस्ता लवाजा की फ्रेंचाइजी लेने की सोची, लेकिन उन्होंने फ्रेंचाइजी देने से इंकार कर दिया। मीर को लगा कि उनका खुद का बिजनेस करने का सपना टूट गया है, लेकिन कुछ दिनों के बाद एक सपना देखा और वो सपना अपने खुद के कैफे का था। कैफे का सपना हुआ सच मीर ने अपने सपने को साकार करने के लिए बहुत मेहनत की। उन्होंने अपना फास्ट फूड कैफे खोला। खास बात ये है कि मीर कश्मीर के कई लोगों को इस कैफे के जरिए रोजगार भी दे रहे हैं। मीर के कैफे में आपको कई सारे पकवान खाने

लक्ष्य को पहचाने और फिर उठाए कदम

अभिषेक कांत पाण्डेय लक्ष्य को साधने से पहले समग्र जानकारी होना जरूरी है, फिर लक्ष्य और आपके बीच आने वाली समस्याओं को सुलझाने की जरूरत होती है। इसमें सफलता मिलने के बाद आप बेस्ट बनते हैं और फिर चिंतन-मनन से नया आइडिया आता है, जो आपको सफलता के शिखर पर विराजमान रखता है। लक्ष्य तय करें कई नाव की सवारी करने से अच्छा है कि पहले अपना एक लक्ष्य निर्धारित करें, इस लक्ष्य को पाने के लिए तत्परता दिखाएं। लक्ष्य के अनुरूप ज्ञान अर्जित करें, यह ज्ञान यानी आपके लक्ष्य को प्रा’ करने के रास्ते कौन-से हैं? मसलन किन-किन व्यक्तियों से अच्छी जानकारी मिल सकती है, किताबों से जानकारी, टीवी से जानकारी, अखबार से जानकारी, लोगों से बातचीत से जानकारी लें। लक्ष्य से भटकें न आप, इसीलिए नामचीन लोगों से मुलाकात करें, उनके बारे में जानें, माध्यम कोई भी हो सकता है। आप अपने लक्ष्य के अनुरूप ही ऐसे मशहूर वैज्ञानिक, दार्शनिक, इतिहासकार, तकनीकी विशेषज्ञों की जीवनी पढिèए। अब तक आप अपने लक्ष्य के पाने का आधा रास्ता पार कर चुके होंगे। समस्याएं आएं तो समझें और सुलझाएं लक्ष्य के निर्धारण और उससे संबंधित ज्ञान पाने के

एसएससी के ग्रेजुएट लेवल के परीक्षा की ऐसे करें तैयारी

अभिषेक कांत पाण्डेय पढ़ाई के बाद अधिकतर छात्रों का सपना होता है, सरकारी नौकरी करना। अगर आप अपने इस सपने को साकार करना चाहते हैं तो एसएससी संयुक्त स्नातक परीक्षा के लिए आवेदन करें और पूरे मन से एग्जाम की तैयारी में जुट जाए, सही दिशा में किया गया प्रयास आपको आपकी मंजिल तक जरूर पहुंचाएगा। फार्म भरने से लेकर परीक्षा की तैयारी तक पूरी जानकारी यहां पर दी जा रही है- ------------------------------ ------------------------------ ------------------------------ --- शैक्षणिक योग्यता संकलक पद के लिए: उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री अनिवार्य है या वैकल्पिक विषय के रूप में अर्थशास्त्र या सांख्यिकी या गणित के साथ स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। सांख्यिकी इनवेस्टीगेटर पद के लिए: उम्मीदवार के पास 12वीं कक्षा के स्तर पर गणित में कम से कम 6० प्रतिशत के साथ किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। डिग्री स्तर पर एक विषय के रूप में आंकड़ों के साथ किसी भी विषय में बैचलर डिग्र

अभी से तैयारी करें एसएससी संयुक्त स्नातक परीक्षा—2015

पढ़ाई के बाद अधिकतर छात्रों का सपना होता है, सरकारी नौकरी करना। अगर आप अपने इस सपने को साकार करना चाहते हैं तो एसएससी संयुक्त स्नातक परीक्षा-2०15 के लिए आवेदन करें और पूरे मन से एग्जाम की तैयारी में जुट जाए, सही दिशा में किया गया प्रयास आपको आपकी मंजिल तक जरूर पहुंचाएगा। फार्म भरने से लेकर परीक्षा की तैयारी तक पूरी जानकारी यहां पर दी जा रही है- महत्वपूर्ण तिथियां ऑनलाइन आवेदन (भाग-प्रथम) की अंतिम तिथि: 28 मई 2०15 ऑनलाइन आवेदन (भाग-द्बितीय) की अंतिम तिथि: 1 जून 2०15 शैक्षणिक योग्यता संकलक पद के लिए: उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री अनिवार्य है या वैकल्पिक विषय के रूप में अर्थशास्त्र या सांख्यिकी या गणित के साथ स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। सांख्यिकी इनवेस्टीगेटर पद के लिए: उम्मीदवार के पास 12वीं कक्षा के स्तर पर गणित में कम से कम 6० प्रतिशत के साथ किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। डिग्री स्तर पर एक विषय के रूप में आंकड़ों के साथ किसी भी विषय में बैचलर डिग्री। अन्य सभी पदों के लि

घर के छत पर सोलर पैनल लागाएं और कमाएं पैसा

सेल्फ एम्प्लॉयमेंट सोलर एनर्जी एक ऐसा फलता-फूलता रोजगार है, जो पारंपरिक ऊर्जा की जगह ले रहा है। राज्य सरकार भी इस क्षेत्र में अपनी हिस्?सेदारी बढ़ाने के लिए हर मदद दे रही हैं। राजस्?थान, मध्?य प्रदेश, उत्?तर प्रदेश, पंजाब जैसे राज्?य न सिर्फ मेगा सोलर पावर प्?लांटों की स्?थापना पर जोर दे रहे हैं। वहीं, घरों और व्?यावासियक इमारतों पर छोटे सोलर प्?लांटों के जरिए पैसा कमाने का स्वारोजगार के मौके भी दे रहे हैं। इसकी पूरी जानकारी यहां पर दी जा रही है। ----------------------------------------------------------------------------------- राजस्?थान, पंजाब, मध्?य प्रदेश और छत्?तीसगढ़ में सोलर एनर्जी को बेचने की सुविधा दी जा रही है। इसके तहत सौर ऊर्जा संयंत्र द्बारा उत्?पादित की गई अतिरिक्?त बिजली पावर ग्रिड से जोड़कर राज्?य सरकार को बेचा जा सकेगा। वहीं, उत्?तर प्रदेश ने सोलर पावर का प्रयोग करने के लिए प्रोत्?साहन स्?कीम शुरू की है। इसके तहत सोलर पैनल के इस्?तेमाल पर बिजली बिल में छूट मिलेगी। कहां से खरीदें सोलर पैनल सोलर पैनल खरीदने के लिए आप राज्य सरकार की रिन्यूएबल एनर्जी डेवलपमेंट अथॉ

क्यों आता है भूकंप

मंगलवार 24 सितंबर 2019, शाम 4:30 बजे के आसपास आए भूकंप के झटकों से पाकिस्तान लेकर पूरे उत्तर भारत (North India) में धरती हिल गई। दिल्ली-एनसीआर (National Capital Region) समेत पूरे उत्तर भारत में मंगलवार शाम को भूकंप (Earthquake) के झटके महसूस किए गए, जिससे लोग दहशत में आ गए। कश्‍मीर में भूकंप के झटके महसूस किए गए।  ऐसा क्यों? ज्वालामुखी, बाढ़, सुनामी, भूकंप कुछ ऐसी प्राकृतिक आपदाएं हैं, जो धरती पर अकसर आती रहती हैं। कुछ दिनों पहले नेपाल में आए भूकंप के कारण हजारों लोगों की जान चली गई और पूरा का पूरा काठमांडू शहर बर्बाद हो गया। भूकंप कैसे आते हैं, कहां पर आते हैं और इससे बचने के क्या तरीके हैं, यह जानना तुम्हारे लिए बहुत जरूरी है। नेपाल में अचानक आए भूकंप के झटकों का एहसास दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश के कई शहरों में लोगों ने महसूस किया गया था। लेकिन नेपाल में भूकंप का केंद्र काठमांडू के पास होने के कारण यहां पर सबसे ज्यादा नुकसान हुआ, जबकि इससे दूर 5०० किलोमीटर की दूरी पर केवल हल्का कंपन ही महसूस हुआ।  आपने कभी तालाब में कंकड़ फेंका होगा तो देखा होगा कि किस तरह से गोलाकार

इन्हें प्रकृति से मिला सुरक्षा कवच

अभिषेक कांत पाण्डेय इन्हें प्रकृति से मिला सुरक्षा कवच   इस धरती पर हर जीव को जीने का अधिकार है, प्रकृति ने कुछ जीवों के शरीर पर सुरक्षा कवच दिए हैं, जिससे कि उनका शिकार करने वाले जानवर उससे घायल हो जाएं या डरकर भाग जाएं। त्वचा की बाहरी सतह पर पाया जाने वाला सुरक्षा कवच इन जीवों में कई रूपों में दिखता है, आइए जानते हैं कि कौन से हैं ये जीव। कांटों वाला साही  साही का सुरक्षा कवच है इनके पूरे शरीर के कांटे। जब भी इसे किसी खतरे का अंदेशा होता है तो साही अपने आप को एक गेंद की तरह मोड़ लेता है। शरीर को मोड़ने से बाहरी सतह पर 5,००० से भी अधिक कांटे सीधे खड़े हो जाते हैं। इन कांटो के डर से शिकारी भाग जाता है। साही के कांटे एक साल में गिर भी जाते हैं और इसकी जगह नए और मजबूत कांटे फिर उग आते हैं। खोल में छुपा कछुआ बच्चों, तुम तो जानते हो कि कछुआ सीधे स्वाभाव का और धीरे चलने वाला जीव है। कछुए की कई किस्मों में शरीर के ऊपर भारी कवच पाया जाता है। जानते हो यह कवच कछुए के कोमल शरीर की रक्षा करता है। शिकारी के आने पर यह बिना हिले-डुले खुद को इतना शांत रखता है कि शिकारी इसे पत्थर समझ लेता है और

quiz

1. निम्न में से कौन-सा भूकंप का कारण नहीं है?      (क) वोल्केनो विस्फोट (ख) सतह के नीचे प्लेट स्लाइड     (ग) सुनामी     (घ) फ़्रैकिग (शैल गैस एक्सट्रैक्शन)    2. भूकंप को किस स्केल में मापा जाता है?     (क) रिक्टर स्केल     (ख) एकॉस्टिक स्केल         (ग) किन्से स्केल    (घ) वोल्कनिक एक्सप्लोसिविटी स्केल 3. किस भारतीय अभिनेता को प्रतिष्ठित मास्टर दीनानाथ मंगेशकर पुरस्कार 2०15 से सम्मानित किया गया है?     (क) रितेश देशमुख    (ख) अनिल कपूर        (ग) अरशद वारसी    (घ) शाहरुख खान    4. ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता भालचंद्र नेमाडे किस भाषा में लिखते हैं?      (क) गुजराती    (ख) मराठी     (ग) कन्नड़    (घ) मलयालम    5. भारतीय बैंकों में से किस बैंक ने 'एशियन बैंकर अचीवमेंट पुरस्कार 2०15’ जीता है?     (क) मुद्रा बैंक        (ख) नाबार्ड         (ग) भारतीय महिला बैंक    (घ) सिडबी    6. तुरीआल्बा ज्वालामुखी किस देश में प्रस्फुटित हुआ है?     (क) मेक्सिको     (ख) चिली     (ग) अर्जेन्टीना    (घ) कोस्टा रिका    7. हाल ही में, रिक्टर पैमाने पर 7.9 की तीव्रता वाले भूकंप ने किस देश को प्रभावित किया है

लक्ष्य को जानें, कठोर मेहनत करें, मिलेगी सफलता

सक्सेस फंडा अभिषेक कांत पाण्डेय अकसर हम सफलता के पीछे भागते हैं और सफलता मिलती भी है और नही भी, लेकिन थोड़ा-सा ठहरकर सोचें, तो यही मन में सवाल उठता है कि क्या हम अपनी सफलता के लिए सही लक्ष्य और कठोर मेहनत के पैमाने पर खरे उतरे हैं कि नहीं। पहले लक्ष्य का करें निर्धारण अगर आपको जीवन में सफल होना है, तो सबसे पहले अपना लक्ष्य निर्धारित करें कि आप करना क्या चाहते हैं? लक्ष्य निर्धारित करते समय अपनी रुचि और क्षमता का विशेष ध्यान रखें। आप पहले यह आश्वस्त हो लें कि जैसे आप लॉन्ग टर्म पढ़ाई करना चाहते हैं अथवा कुछ वर्षो के लिए। इस समय युवाओं के पास इस तरह के कई विकल्प हैं। एक बार लक्ष्य निर्धारित हो जाने के बाद उसे प्राप्त करने में आसानी होती है और व्यक्ति अपना सर्वस्व लगा देता है। मेहनत का कोई विकल्प नहीं किसी भी सफलता को पाने के लिए मेहनत का कोई विकल्प नहीं है। हो सकता है कि आप सबसे तेज व प्रतिभाशाली व्यक्ति न हों, कितु लगातार मेहनत करें तो सफलता किसी भी कीमत पर आपकी होगी। इस दुनिया में हमारी जीत निरंतर प्रयत्नशीलता पर ही टिकी है। सफलता एक निरंतर चलने वाला अभ्यास है। अगर आप अपनी

स्नातक पास हैं तो असिस्टेंड कमांडेट बनने की करें तैयारी

एग्जाम वॉच अभिषेक कांत पाण्डेय पुलिस फोर्स में अधिकारी का एक अलग ही रुतबा होता है, लेकिन इस पद तक पहुंचने के लिए मेहनत भी खूब करनी होती है, अगर आप खुद की झमता पर रखते हैं यकीन, तो जुट जाइए असिस्टेंड कमांडेट बनने के लिए। संघ लोक सेवा आयोग की सीएपीएफ असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा, 2०15 आपका इंतजार कर रही है। सही दिशा में तैयारी और आवेदन करने की पूरी जानकारी यहां पर दी जा रही है। यूपीएससी ने इस बार असिस्टेंट कमांडेट के 3०4 पदों पर वैकेंसी निकाली हैं। ये भर्तियां बीएसएफ, सीआरपीएफ और सीआइएसएफ के लिए होनी हैं। इन पदों पर आवेदन की अंतिम तारीख 15 मई 2०15 है।  कौन हैं योग्य 2० से 25 वर्ष के भारतीय नागरिक, जो स्नातक कर चुके हैं या उसके अंतिम वर्ष में हैं, वे इसके लिए योग्य माने जाएंगे। इन पदों के लिए महिला और पुरुष दोनों आवेदन कर सकते हैं।  कैसे करें आवेदन आवेदन ऑनलाइन मोड से किया जा सकता है, जिसकी आखिरी तारीख 15 मई, 2०15 है। जनरल और ओबीसी कैटेगरी के आवेदकों को 2०० रुपये आवेदन शुल्क जमा करना होगा। एससी/एसटी और महिला आवेदकों से शुल्क नहीं लिया जाएगा। आवेदन करने और इससे जुड़ी अधिक जानकारी के लिए यूप

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। Laghu Katha ke Udharan class 9th hindi term-2 sylabuss 2022 hindi  न्यू सिलेबस सीबीएसई बोर्ड लघु कथा लेखन क्लास नाइंथ इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य और दूसरा काव्य साहित्य।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। लघुकथा के महत्वपूर्ण बातें 1.आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। 2.लघु कथा की परंपरा हमारे संस्कृति में 'पंचतंत्र' और 'हितोपदेश' की छोटी कहानियों  से भी  रही है। इन कहानियों को लघु-कथा भी कह सकते हैं। आपने भी छोटी-छोटी लघु कहानियाँ अपने बड़ों से जरूर सुनी होगी।  3.

MCQ Vachya वाच्य class 10 cbse board new 2021

MCQ Vachya  वाच्य class 10 cbse board new 2021 CBSE Change question paper pattern in hindi. Hindi Grammar asking MCQ's. वाच्य Vachya topic given multiple cohice question with answer.     सीबीएसइ कक्षा 10 की हिन्दी  अ Syllabus 2021 में अब अधिकतर Questions Objective  टाइप के प्रश्न पूछे जाएंगें। यहां पर Vachya वाच्य टॉपिक से दे रहे हैं। Vachya Topic  में 5 में से 4  इस वाच्य टॉपिक questions आएंगे। वाच्य शब्द का अर्थ बोलने का तरीका वाच्य कहलाता है। ऐसा वाक्य जहां पर क्रिया का पर प्रभाव कर्ता, कर्म या भाव का पड़ता है तो क्रिया उसी के अनुसार परिवर्तित होती है। इस तरह से वाच्य तीन प्रकार के हुए। क्योंकि तीन तरह से क्रिया पर प्रभाव पड़ता है। यानी  1 कर्ता  2 कर्म  3 भाव क्रिया विधानों के अनुसार वाच्य 3 तरह के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य (Active Voice) 2. कर्मवाच्य (Passive Voice) 3. भाववाच्य (Impersonal Voice) कर्तृवाच्य व अ कर्तृवाच्य   के अनुसार वाच्य दो प्रकार के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य 2  अ कर्तृवाच्य  अ कर्तृवाच्य के दो भेद होते हैं-        i. कर्मवाच्य (Passive Voice)         ii भावव

MCQ Balgobin Bhagat CBSE Class 10

  MCQ Balgobin Bhagat CBSE Class 10  बालगोबिन भगत पाठ, लेखक रामवृक्ष बेनीपुरी क्षितिज भाग- 2 बुक से MCQ Balgobin Bhagat, CBSE Class 10  CBSE 2020-21 नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार इस बार हिन्दी अ पाठ्यक्रम में पेपर में दो खंड होंगे। अ और ब खंड हैं। इग्जामिनेशन में 40 अंक के 40 MCQ क्यूश्चन ( questions) पूछा जाएगा।    सीरीज में MCQ Balgobin Bhaghat CBSE Class 10  MCQ दे रहे हैं। कक्षा 10 क्षितिज भाग 2 book kshitij   से Balgobin Bhaghat  MCQ  CBSE Class 10  पर बहुविकल्पी MCQs प्रश्न दे रहे हैं। Class 10 Hindi Class YouTube Channel Link    निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्पों पर टिक ​लगाइए —  1 भगत जी कौन-सा काम करते थे? i खेतीबारी ii नौकरी iii भजन गाते ​थे iv व्यापार करते थे उत्तर—i  खेतीबारी 2 बालगोबिन भगत किसको साहब कहते थे? i भगवान ii कबीर iii जमींदार iv मुखिया उत्तर—ii कबीर 3. बालगोबिन भगत साहब के दरबार में फसल ले जाते थे। यहां साहब के दरबार से क्या अभिप्रायय है? i जमींदार की हवेली ii राजा का दरबार iii कबीरपंथी मठ iv मंडी उत्तर—iii कबीरपंथी मठ 4.  ठंडी पुरवाई का क्या मतलब

MCQ Ras Hindi class 10 cbse

MCQ Ras Hindi class 10 cbse MCQ Ras Hindi class 10 cbse Ras Hindi MCQ class# 10 CBSE board new# syllabus objective questions. New gyan dotcom Gmail important question topic ras रस पर क्वेश्चन आंसर यहां दिये जा रहे हैं।‌  If you have any problem of the topic of Hindi Ras write a comment, I will solve your problems within 24 hours. You have know that  multiple choice question coming Hindi grammar section class of 10.  Ras,  Rachna ke Aadhar per Vakya, Pad Parichy,  aur Vachy. रस, रचना के आधार पर वाक्य, पद परिचय और वाच्य है। यहां पर रस पर आधारित MCQ क्वेश्चन दिए जा रहे हैं यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा कई प्रतियोगी परीक्षा के लिए भी रस पर MCQ  प्रश्न काफी आते हैं। Given 10 topic question answer objective type. रस के बहुविकल्पी प्रश्न के उत्तर भी लिखे हुए हैं। १. निम्नलिखित प्रश्नों में दिए गए चार विकल्पों में से सर्वश्रेष्ठ सही विकल्प चुनिए। रस  को काव्य की आत्मा माना जाता है। " जब किसी नाटक, काव्य में आनंद की अनुभूति होती है तो वह रस  है।  रस  काव्य की

Laghu Katha Lekhan CBSE Board

    लघु कथा कैसे लिखें, उदाहरण से समझें CBSE board hindi  प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा (laghu katha)  लिखना। CBSE Board 9th class Laghu Katha lekhan दसवीं बोर्ड की कक्षा 9 के सिलेबस में और कई  बोर्ड की परीक्षा में इस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं।  (new syllabus 2022 Laghu Katha lekhan)    दिए गए प्रस्थान बिंदु (prasthan Bindu) का मतलब है कि दो या चार लाइन लघुकथा के दिए होते हैं। उसके बाद आपको 80 से 100 शब्दों में लघुकथा को पूरा करना होता है। उसका एक शीर्षक (title) लिखना होता है।  नई शिक्षा नीति 2020 (New Education Policy) में भाषा में रचनात्मक लेखन (Creative Writing) को बढ़ावा दिया गया है। इसलिए  हिंदी Hindi, अंग्रेजी, मराठी  उर्दू किसी भी भाषा के पेपर में संवाद लेखन, लघुकथा, लेखन अनुच्छेद, (anuchchhed lekhan) लेखन, विज्ञापन लेखन, (Vigyapan lekhan) सूचना लेखन (Hindi mein Suchna lekhan) जैसे टॉपिक में नई शिक्षा नीति के ( new education policy 2021) अंतर्गत सिलेबस में रखे गए हैं।  लघुकथा लेखन 9 व 10 की परीक्षा में पूछा जाता है Laghu katha lekhan in Hindi in board examination

भारतीय आजादी के गुमनाम नायक

भारतीय आजादी के गुमनाम नायक bhaarateey aajaadee ke gumanaam naayak आज हम अपनी मर्जी से कहीं भी आ जा सकते हैं, पढ़ लिख सकते हैं अपने मनपसंद का करियर चुन सकते हैं, क्योंकि हम आजाद हैं और इस आजादी के लिए वीरों ने अपनी आहुति दी है, पर जब स्वतंत्रता सेनानियों के नाम बताने की बारी आती है तो हम सिर्फ गिने-चुने नाम ही बता पाते हैं, जबकि हकीकत यह है कि आजादी सिर्फ कुछ लोगों के बलिदान से नहीं मिली बल्कि इसके लिए बहुतों ने अपनी जान गंवाई। इनमें से कई तो गुमनामी की अंधेरों में खो चुके हैं। हम आपको ऐसे ही स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्होंने आज़ादी की लड़ाई में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी-  आजादी के गुमनाम नायक हम बताने जा रहे हैं आजादी के महानायक जिनको हम भूल गए हैं-- कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी भारत छोड़ो आंदोलन से जुड़ने वाले कन्हैयालाल कई बार अंग्रेजी शासन के खिलाफ आवाज उठाने के आरोप में गिरफ्तार किए गए और अंग्रेजों के जुल्म का शिकार हुए पर उन्होंने कभी हार नहीं मानी हर बार दुगनी ताकत के साथ अंग्रेजों से मुकाबला किया। भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, इं

MCQ नेताजी का चश्मा पाठ 10 हिंदी. MCQ QUESTION CBSE BOARD New Examination Pattern-2021

 नेताजी का चश्मा पाठ  10 हिंदी/ MCQ-QUESTION CBSE BOARD. New Examination Pattern-2021  CBSE BOARD बहुविकल्पी प्रश्न. Cbseb board  Netajee-Ka-Chashma-path-class-10-Hindi-MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2021  नेताजी का चश्मा पाठ  10 हिंदी. MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2020  Catch up course kya hai कैच-अप कोर्स/ केचप कोर्स -2021क्या है?/Bihar education Neta jee ka chashma lesson: hindi class 10 mcq, cbse board new examination pattern 2021  CBSE  CBSE 2021-22 नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार इस बार हिंदी अ पाठ्यक्रम में पेपर में दो खंड होंगे। अ और ब खंड। इस बार परीक्षा में 40 अंक के 40 प्रश्न बहुविकल्पी प्रश्न पूछेंगे जाएंगे। इसके अलावा लेखन और पाठ पर आधरित लिखने वाले प्रश्न भी 40 अंक के पूछे जाएंगे। इस सीरीज में आज हम नेताजी का चश्मा पाठ का MCQ  प्रश्न दे रहे हैं।  Netajee-Ka-Chashma-path-class-10-Hindi-MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2022  निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्पों पर टिक ​लगाइए— 1. नेताजी का चश्मा पाठ किसने लिखा है? i स्वयं प्र