बच्चों के सीखने की क्षमता को कैसे बढ़ाएं सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बच्चों के सीखने की क्षमता को कैसे बढ़ाएं

Credit image unsplash

  • बच्चों के सीखने की क्षमता को कैसे बढ़ाएं

बच्चा बुद्धिमान है पर उसका और चीजों में मन लगता है लेकिन पढ़ाई में उसका मन नहीं लगता है।
बच्चे की राइटिंग और रीडिंग स्किल मे दिक्कत होती है तो समझ जाइए कि यह स्थिति डिक्लेसिया की है, हिंदी में इसे पठन विकार व लेखनविकार कहते हैं। यानी कि बच्चे का बौद्धिक स्तर तो ठीक है। लेकिन उसे लिखने पढ़ने या किसी विशेष स्पेलिंग, वर्तनी को याद करने में कठिनाई होती है। इस समस्या के कारण बच्चा अपनी कक्षा में लगातार पिछड़ता चला जाता है। उसका पढ़ाई में मन नहीं लगता है।




Credit image unsplash

शोधकर्ताओं ने नामी-गिरामी स्कूल के बच्चों पर 1 साल तक किया रिसर्च


 कानपुर के आईआईटी विशेषज्ञों ने ऐसे बच्चों पर एक रिसर्च किया जिसमें पाया कि डिक्लेसिया के शिकार बच्चे बौद्धिक रूप से ठीक है। लेकिन उन्हें पढ़ने-लिखने में समस्या होती है। ऐसे बच्चों पर एक साल तक किए गए रिसर्च किया तो रिसर्चर  ने यह देखा कि डिक्लेसिया के शिकार बच्चों में गंदी राइटिंग और पढ़ने में अटकते हैं। उनके घर की पृष्ठभूमि को पता किया तो मालूम चला कि वह जेनेटिक रूप से बौद्धिक माता-पिता की संतान हैं। यानी कि इससे पता चलता है कि बच्चे के बौद्धिक क्षमता सही होती है लेकिन पढ़ने-लिखने में ऐसे बच्चे कठिनाई महसूस करते हैं।

पठन विकार यानी डिक्सलेसिया से प्रभावित बच्चों की भाषा का नहीं हो पाता सही से विकास 

डिक्लेसिया से प्रभावित बच्चों में भाषा का सही विकास नहीं हो पाता है। वे कविता कहानी आदि को समझ नहीं पाते हैं। यह समस्या अगर नर्सरी कक्षा में है तो धीरे-धीरे इस पर ध्यान न दिया गया तो अगली कक्षा में यह बीमारी विकट रूप धारण कर लेती है। अगर आपका बच्चा इन समस्याओं से गुजर रहा है तो आपको तुरंत साइकोलॉजी  की मदद लेनी चाहिए।

डिक्लेसिया बीमारी प्रभावित बच्चों की क्या-क्या है समस्याएं


डिक्लेसिया बीमारी से प्रभावित बच्चे में समस्याएं अलग-अलग हो सकती हैं। जैसे कुछ बच्चों में बोलने और लिखने में समस्या हो सकती है तो कुछ बच्चों में नए शब्दों को याद करने में परेशानी होती है। इस कारण से इन बच्चों का मन पढ़ने में नहीं लगता है। लेकिन ऐसे बच्चे किसी विशेष योग्यता वाले भी होते हैं- जैसे, पेंटिंग, स्पोर्ट, डांस आदि में विशेष योग्यता वाले होती हैं।।
डिक्लेसिया से प्रभावित बच्चों में व्याकरण और नई भाषा सीखने में कठिनाइयां देखी जाती है।

इन बच्चों को प्यार दुलार और उपचार की जरूरत है


ऐसे बच्चे टीचर के उपेक्षा का शिकार होते हैं क्योंकि इनकी कक्षा में परफॉर्मेंस बहुत ही आ संतोषजनक होती है ऐसे बच्चे पढ़ाई के अलावा अन्य चीजों पर ज्यादा ध्यान देते हैं, लिखने और पढ़ने में आलस दिखाते हैं। इन बच्चों के लिए तुरंत मनोवैज्ञानिक उपचार करने की आवश्यकता है।


आइए जानते हैं बच्चे के सीखने की क्षमता यानी एबिलिटी को प्रभावित करने वाले और फैक्टर के बारे में। 


 न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम होता है,  जो  दिमाग तक मैसेज भेजने की क्षमता  और ग्रहण करने की क्षमता को  प्रभावित करता है ।  यदि इसे साइंस की भाषा में कहें तो या न्यूरोलॉजिकल से जरूरी समस्या है। रानी बच्चा सीखने के प्रोसेस में उसका न्यूरोलॉजिकल प्रोसेस प्रभावित होता है। हुआ अशक्तता एक न्यूरोलॉजिकल यानि तंत्रिका तंत्र से जुड़ी समस्या है जो संदेश भेजने, ग्रहण करने और उसे प्रोसेस करने की मस्तिष्क की क्षमता  को प्रभावित करती है। 
इस प्रॉब्लम से जूझ रहे बच्चों में रीडिंग, राइटिंग लिसनिंग और मैथमेटिकल क्वेश्चन को सॉल्व करने में प्रॉब्लम होती है। इसके साथ ही किसी विषय के कांसेप्ट को समझने में भी बच्चे को परेशानी होती है।

डिक्लेसिया बीमारी


बच्चे में इस तरह की समस्या को एक तरह की बीमारी ही कहा जाएगा। अगर बच्चे में रेटिंग स्किल कमजोर है तो वह डिक्लेसिया जैसी बीमारी से ग्रसित है।

डिस्केलकुलिया बीमारी


इसी तरह अगर बच्चे में मैथ के सवालों को समझने व कैलकुलेट करने में परेशानी होती है तो वह डिस्केलकुलिया नाम की बीमारी से ग्रसित है। 

डिसग्राफिया बीमारी

अगर बच्चा लिखने में गलतियां करता है। ब्लैकबोर्ड से सही से लिखना पाना। अंग्रेजी के अल्फाबेट को उल्टा बनाना या हिंदी के अल्फाबेट में भेद न कर पाना यह लक्षण लिखने से संबंधित है अगर बच्चे की राइटिंग खराब है और उसका लिखने में मन नहीं लगता है तो यह लेखन विकास डिसग्राफिया कहलाता है।
ऊपर तीनों तरह की बीमारियां एक ही बच्चे में भी हो सकती है या तो इनमें से कोई एक ही हो सकता है।

ऐसे बच्चे बौद्धिक रूप से तेज होते हैं यानी कि बुद्धिमान होते हैं


एक बात आप ध्यान दीजिए की ऐसे बच्चे बौद्धिक रूप से संपन्न होते हैं लेकिन उनके लिखने पढ़ने और गणित के सवालों को हल करने में उनके मस्तिष्क से विशेष प्रकार की बाधा होती है। दूसरी बात यह समझ ले कि बच्चा शारीरिक रूप से अक्षम नहीं होता है। बीमारियों से ग्रसित बच्चे  देख-सुन  और अपने  हाथों का प्रयोग करने में सक्षम होते हैं।  अगर  आंखों से देखने में या सुनने में कोई परेशानी होती है तो वह डिस्लेक्सिया, डिसग्राफिया या डिस्केलकुलिया के अंतर्गत नहीं आता है बल्कि  उसकी समस्या  आंखों से कम दिखना या कम सुनाई पड़ना है, जिसका रोकथाम अलग तरीके से किया जा सकता है ।  

लेकिन  शारीरिक रूप से सक्षम  बच्चे  और बौद्धिक रूप से सक्षम बच्चे  हैं लेकिन उनकी पढ़ाई का स्तर लगातार गिर रहा है ।  खासतौर पर  उनके  भाषा का विकास  और  गणित सीखने की प्रवृत्ति बहुत ही में है  तो  वह  ऊपर बताए गए तीन  तरह की बीमारियों से ग्रसित हो सकते हैं उन्हें तुरंत  विषय विशेषज्ञ उपचार करने की आवश्यकता होती है। इस तरह से ग्रसित बच्चों का पहचान माता-पिता और शिक्षकों द्वारा तुरंत कर लिया जाना चाहिए और इनका ट्रीटमेंट  सही समय पर हो जाता है तो उन्हें के पढ़ने लिखने  की स्थिति में बहुत सुधार आ सकता है।

इस समस्या से जूझ रहे बच्चों में किस कारण से होती है यह बीमारी आइए इसे जान ले।
विषय विशेषज्ञों का मानना है कि किसी बच्चे में इस तरह के विकार हैं तो इसके लिए कोई एक कारक यानी फैक्टर जिम्मेदार नहीं है बल्कि इसके लिए एक से अधिक फैक्टर जिम्मेदार होते हैं।


जीनेटिकल कारण

 अगर बच्चे के माता-पिता में सीखने की समस्या है तो वह उनके बच्चों में भी वही समस्या जेनेटिक्स रुप में पूरी आने की संभावना रहती है। 

जन्म के समय या उसके बाद बच्चे को कोई चोट लगी हो तो संभावना इस बात की है कि उसे सीखने की यह बीमारी हो सकती है। इसके अलावा गर्भ के समय में ड्रग्स या नशा आदि का सेवन करने पर भी बच्चे के दिमाग पर इसका असर पड़ता है जिससे वह सीखने की अक्षमता का शिकार हो सकता है।
बच्चे अगर ऐसे खिलौने से खेलते हैं जिनमें लेड की मात्रा या रंगो के रूप में हानिकारक विषैले केमिकल होते हैं जो उनके बढ़ते हुए दिमाग को प्रभावित करते हैं इसलिए संभावना है कि उन बच्चों में सीखने संबंधित यह रोग होने की संभावना अधिक होती है।

 सीखने में होने वाली परेशानियों  के लक्षण बच्चों में  इस तरह से पहचानें


बच्चे की शारीरिक और मानसिक विकास पर नजर रखें। अगर बच्चा सारे ग्रुप से विकास कर रहा लेकिन मानसिक रूप से उसके सीखने की गति कम हो रही है तो या समस्या आ रही है तो तुरंत सावधान होने की जरूरत है।
आमतौर पर 5% स्कूली बच्चों में सीखने से संबंधित बीमारी पाई जाती है।

यहां पर बच्चों की कक्षा के अनुसार उनमें लिखने पढ़ने की जो समस्या है उसको सरल भाषा में दिया गया है। आप उन्हें ध्यान से पढ़े और समझे।

प्रीस्कूल या नर्सरी 

जब बच्चा आपका प्रीस्कूल या नर्सरी में पढ़ रहा होता है हो सकता है उसे इस तरह की कठिनाइयां पढ़ाई में आती हो उसे आपको पहचानना होगा। इस स्टेज पर बच्चे से नीचे लिखी सीखने की की गति को वह प्राप्त कर जाना चाहिए।


सामान्य उम्र (15-18 महीने) बच्चा बोलने लगना चाहिए यानी उसके बोलने की क्षमता का विकास हो जाना चाहिए। 
सरल और साधारण शब्दों को बोल पाना।
अक्षरों और शब्दों को पहचानना।
अंक, शिशुगीत या गाने सीखना।
किसी काम पर ध्यान लगाना।
टीचर और आपके बताए नियमों का वह पालन करने लगे।
अपने शारीरिक  क्षमता का उपयोग  करता हो जैसे  वह पेंसिल से  लिखना  अपने उंगलियों से पकड़ना  और  सही तरीके से चलना आदि की कुशलता उसके अंदर आ जानी चाहिए 



प्राइमेरी स्कूल के बच्चों में यह समस्या हो सकती है इसे पहचान करना जरूरी है।


अक्षरों और उसके ध्वनियों को समझे और जैसे हीब बोला अक्षर बोला जाए तो वहां अक्षर वाली लिख ले।
एक जैसे ध्वनि जाने वाले शब्दों को अलग रूप में समझने की क्षमता होनी चाहिए जैसे नल, नाला, चल चाल शब्दों के मतलब सही से समझे।

आओ जाने डायनासोर के बारे  में




बच्चा जो बोले उसकी स्पेलिंग वह सही सही लिखने उसे कोई कठिनाई न हो।
बच्चे में लेफ्ट और राइट शब्दों में सही भेद करने की समझ हो जैसे 52 और 25 या d  व b में कोई कंफ्यूजन नहीं होना चाहिए। S को 5 समझ लेने की समस्या।

 वर्णमाला के अक्षरों को पहचानने में।

गणित के सवालों को हल करने के लिए मैथमेटिकल सिंबल को सही तरीके से समझने की समझ होनी चाहिए।
संख्याएं और फैक्ट याद करने में परेशानी ना हो।
नई चीज़ सीखने में बच्चा अपनी उम्र के बच्चों से धीमा सीखता हो।
कविता याद रखने में और उसका विश्लेषण करने में कठिनाई अनुभव करता हो।
सुबह शाम तारीख घड़ी के समय को समझने में कठिनाई अनुभव करता हो।

हाथ और आंख के तालमेल से किसी दूरी और गति को समझने का अनुमान लगाने में असमर्थ हो।
छोटे-छोटे कुशलता वाले कार्य करने में उसे परेशानी होती हो जैसे टाई बांधना जूते का फीता बांधना शर्ट का बटन बंद करना आदि।

अपनी चीजों का ख्याल रखना ना आता हो कॉपी पेंसिल आदि स्कूल में उसकी खो जाती हो।

इस तरह के विकार या बीमारी होने के कारण भी बच्चा किसी एक विषय में बहुत ही तेज भी हो सकता है।

इस समस्या के समाधान के लिए अभिभावक और शिक्षक पहले ही चरण में बच्चों के इन विकारों में सुधार लाया जा सकता है उनके सीखने की क्षमता कुछ तरीकों से बढ़ाया जा सकता है।

आगे के लेख में इन समस्याओं से छुटकारा दिलाने के लिए और बच्चों के सीखने की गति को बढ़ाने के लिए कुछ उपाय बताएंगे।पोस्ट के दूसरे भाग में आप यह जान पाएंगे।आपको या पोस्ट कैसे लगी नीचे टिप्पणी करना ना भूले।

टिप्पणी- यह लेख केवल जानकारी के लिए है ,उपचार के लिए विषय विशेषज्ञ की मदद लें।

ये भी देखें 

इस लेख में गांधीजी और पर्यावरण के पवित्र इकोनॉमिक्स के बारे में क्लिक करें

टिप्पणियां

Popular Article

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य और दूसरा काव्य साहित्य।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। लघु कथा की परंपरा हमारे संस्कृति में 'पंचतंत्र' और 'हितोपदेश' की छोटी कहानियों  से भी  रही है। इन कहानियों को लघु-कथा भी कह सकते हैं। आपने भी छोटी-छोटी लघु कहानियाँ अपने बड़ों से जरूर सुनी होगी।  'पंचतंत्र' में इस तरह की लघु-कथाओं में जीव-जंतु यानी जानवरों और पक्षियों के माध्यम से मनुष्य को नीति की शिक्षा यान

Laghu Katha Lekhan CBSE Board

    लघु कथा कैसे लिखें, उदाहरण से समझें CBSE board hindi  प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा (laghu katha)  लिखना। CBSE Board 9th class Laghu Katha lekhan दसवीं बोर्ड की कक्षा 9 के सिलेबस में और कई  बोर्ड की परीक्षा में इस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं।  (new syllabus 2021 Laghu Katha lekhan)    दिए गए प्रस्थान बिंदु (prasthan Bindu) का मतलब है कि दो या चार लाइन लघुकथा के दिए होते हैं। उसके बाद आपको 80 से 100 शब्दों में लघुकथा को पूरा करना होता है। उसका एक शीर्षक (title) लिखना होता है।  नई शिक्षा नीति 2020 (New Education Policy) में भाषा में रचनात्मक लेखन (Creative Writing) को बढ़ावा दिया गया है। इसलिए  हिंदी Hindi, अंग्रेजी, मराठी  उर्दू किसी भी भाषा के पेपर में संवाद लेखन, लघुकथा, लेखन अनुच्छेद, (anuchchhed lekhan) लेखन विज्ञापन लेखन, (Vigyapan lekhan) सूचना लेखन (Hindi mein Suchna lekhan) जैसे टॉपिक में नई शिक्षा नीति के ( new education policy 2021) अंतर्गत सिलेबस में रखे गए हैं।  लघुकथा लेखन 9 व 10 की परीक्षा में पूछा जाता है Laghu katha lekhan in Hindi in board examination आप

Sandesh Lekan Hindi CBSE board class 10, new syllabus

   Message Writing : संदेश लेखन का प्रारूप व उदाहरण Sandesh Lekan Hindi CBSE board class 10, new syllabus New syllabus CBSE board, New Topic Sandesh Lekhan  आज हम संदेश लेखन  (message writing) के बारे में चर्चा करेंगे।  कई बोर्ड की परीक्षाओं में (CBSE board MP Board UP Board) और कंपटीशन यह आजकल संदेश लेखन पर प्रश्न आता है। इन प्रश्नों को करने के लिए आपको संदेश लेखन का ज्ञान होना जरूरी है। सीबीएससी बोर्ड के हाईस्कूल में इस बार संदेश लेखन 5 अंक का बोर्ड की परीक्षा में आएगा।   नई एजुकेशन पॉलिसी  (new education policy 2020) में  कई सब्जेक्ट  के सिलेबस में बदलाव होने वाला है। रटने की जगह समझने वाली और व्यवहारिकता कुशलता बढ़ाने वाली। इसीलिए इस बार CBSE बोर्ड की परीक्षा के सिलेबस में बदलाव किया गया है।  लेखन करना आपको आना चाहिए। जिसमें पत्र लेखन (letter writing in Hindi), अनुच्छेद लेखन (paragraph writing in Hindi), संदेश लेखन (message writing), सूचना लेखन, संवाद लेखन (dialogue writing in Hindi), सार लेखन (summary writing in Hindi) इन सब की जरूरत  पढ़े लिखे इंसान को पड़ती  है।  लेखन  कार्यालय

MCQ hindi pad parichayCBSE Class 10 Hindi A व्याकरण पद परिचय | New pattern hindi pad parichay 2021

CMCQ CBSE Class 10 Hindi A व्याकरण पद परिचय | New pattern hindi pad parichay 2021 CBSE Class 10 Hindi A व्याकरण पद परिचय पद परिचय का अर्थ— जब किसी वाक्य में कोई शब्द आता है। जैसे— ज्ञान स्कूल जाता है। तो यहां पर हर शब्द व्याकरण का नियम के पालन करते हैं। ज्ञान यहां पर नामवाला शब्द है। वाक्य में आने से ये शब्द पद कहलााता है। इस पद का अपना व्याक​रण के नियम के आधार पर परिचय है। जब इसके बारे में हम व्याकरणिक नियमों के बारे में बातएंगे तो ये बताना ही पद परिचय है। ज्ञान पद का परिचय इस तरह से देंगे— ज्ञान एक पद के रूप में इस वाक्य में आया है। संज्ञा के रूप में आया है। यानि व्यक्ति​वाचक संज्ञा,एकवचन, पुल्लिंग, कर्ताकारक इसका पद परिचय है। पद का शब्द की परिभाषा— पद – जब कोई शब्द व्याकरण के नियमों के अनुसार वाक्य में प्रयोग होता है तो उसे पद कहते हैं। पद-परिचय- वाक्य में प्रयुक्त पदों का विस्तृत व्याकरणिक परिचय देना ही पद-परिचय कहलाता है। आइए सीबीएसई बोर्ड कक्षा 10  (CBSE BOARD CLASS 10) में इस टॉपिक से संबंधित MCQ बहुविकल्पी प्रश्नों को साल्व करें। पद परिचय सीबीएसई क्लास 10 हिन्दी अ पठ्यक्रम म

Laghu katha prasthan bindu ke adhar per kaise likhe/ लघु कथा प्रस्थान बिंदु के आधार पर कैसे लिखें?

    लघु कथा प्रस्थान बिंदु के आधार पर कैसे लिखें? Laghu katha prasthan bindu ke adhar per kaise likhe लघुकथा लेखन उदाहरण सहित    कई बोर्ड की परीक्षाओं (board examination CBSE board) में लघुकथा (laghu Katha) लिखने को दिया जाता है। स्टेट बोर्ड (State board) की परीक्षा में भी लघुकथा पर प्रश्न (question of laghu katha) पूछता है। लघु कथा कैसे लिखा (How To write short story in hindi) जाए? आज हम laghu katha टॉपिक पर चर्चा करने जा रहे हैं। छात्रों सीबीएसई बोर्ड की कक्षा 9 के नए (CBSE board syllabus class 9 session 2020-21) सिलेबस 2020 के अनुसार हिंदी यह पाठ्यक्रम में प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा लिखने का प्रश्न इस बार आएगा। CBSE class 10 B hindi syllabus. लघु कथा लेखन पूछा जाता है। According to the new syllabus 2020 of class 9 of CBSE board students, this question of writing short story based on the point of departure in Hindi syllabus will come this time.  निम्नलिखित   प्रस्थान बिंदु के आधार पर 100 से 150 शब्दों में एक लघुकथा लिखिए। (Write a short story in 100 to 150 words based on t

MCQ Ras Hindi class 10 cbse

MCQ Ras Hindi class 10 cbse MCQ Ras Hindi class 10 cbse Ras Hindi MCQ class# 10 CBSE board new# syllabus objective questions. New gyan dotcom Gmail important question topic ras रस पर क्वेश्चन आंसर यहां दिये जा रहे हैं।‌  If you have any problem of the topic of Hindi Ras write a comment, I will solve your problems within 24 hours. You have know that  multiple choice question coming Hindi grammar section class of 10.  Ras,  Rachna ke Aadhar per Vakya, Pad Parichy,  aur Vachy. रस, रचना के आधार पर वाक्य, पद परिचय और वाच्य है। यहां पर रस पर आधारित MCQ क्वेश्चन दिए जा रहे हैं यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा कई प्रतियोगी परीक्षा के लिए भी रस पर MCQ  प्रश्न काफी आते हैं। Given 10 topic question answer objective type. रस के बहुविकल्पी प्रश्न के उत्तर भी लिखे हुए हैं। १. निम्नलिखित प्रश्नों में दिए गए चार विकल्पों में से सर्वश्रेष्ठ सही विकल्प चुनिए। रस  को काव्य की आत्मा माना जाता है। " जब किसी नाटक, काव्य में आनंद की अनुभूति होती है तो वह रस  है।  रस  काव्य की

Vigyapan Lekhan Hindi class 10

 CBSE board advertisment writing Hindi class 10 सी० बी० एस० ई० (CBSE board) बोर्ड के कक्षा - 10 हिंदी अ पाठ्यक्रम में 5 अंकों का विज्ञापन लेखन advertisment writing से प्रश्न परीक्षा में पूछा जाता है। विज्ञापन किसे कहते हैं?  विज्ञापन का उद्देश्य क्या है?  विज्ञापन कैसे लिखा जाता है?  विज्ञापन के प्रकार क्या होते हैं?  विज्ञापन की  आवश्यकताएँ क्या है?  विज्ञापन लिखे जाने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। बोर्ड की परीक्षा में आप विज्ञापन किस तरह से लिखेंगे।   छात्रों आज के क्लास में विज्ञापन  के   पहलुओं के बारे में चर्चा करेंगे जो हर प्रतियोगी परीक्षा और अकैडमी परीक्षा के लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण है।  विज्ञापन किसे कहते हैं? 'विज्ञापन' शब्द के लिए अंग्रेजी में एडवर्टाइजमेंट (Advertisement) का प्रयोग होता है।  जिसका मतलब होता है, सार्वजनिक सूचना, सार्वजनिक घोषणा अथवा ध्यानाकर्षण करना।  विज्ञापन का मतलब सूचना पहुंचाना व अपील करना होता है।   छात्रो! विज्ञापन यदि रोचक होगा तो अपनी बात अधिक से अधिक लोग तक पहुंचाई जा सकती है इसलिए विज्ञापन में रचनात्मकता का बहुत बड़ा महत्व

MCQ Vachya वाच्य class 10 cbse board new 2021

MCQ Vachya  वाच्य class 10 cbse board new 2021 CBSE Change question paper pattern in hindi. Hindi Grammar asking MCQ's. वाच्य Vachya topic given multiple cohice question with answer.     सीबीएसइ कक्षा 10 की हिन्दी  अ Syllabus 2021 में अब अधिकतर Questions Objective  टाइप के प्रश्न पूछे जाएंगें। यहां पर Vachya वाच्य टॉपिक से दे रहे हैं। Vachya Topic  में 5 में से 4  इस वाच्य टॉपिक questions आएंगे। वाच्य शब्द का अर्थ बोलने का तरीका वाच्य कहलाता है। ऐसा वाक्य जहां पर क्रिया का पर प्रभाव कर्ता, कर्म या भाव का पड़ता है तो क्रिया उसी के अनुसार परिवर्तित होती है। इस तरह से वाच्य तीन प्रकार के हुए। क्योंकि तीन तरह से क्रिया पर प्रभाव पड़ता है। यानी  1 कर्ता  2 कर्म  3 भाव तो क्रिया पर  प्रभाव पड़ने पर जब वाक्य मुख्य रूप से कर्ता प्रधान हो जाए तो उसे कर्तृवाच्य कहते है। इसी तरह से जब कर्म प्रधान वाक्य हो तो क्रिया पर प्रभाव कर्म का पड़ता है तो वाक्य कर्मवाच्य होता है। इसी तरह से जब वाक्य भाव प्रधान हो जाता है। तो उसे भाववाच्य कहते है।  उदाहरण कर्तृवाच्य के- अभिषेक ने चित्र बनाया। क्या

Multiple choice question answer New pattern Surdas lessons बहुविकल्पी प्रश्न सूरदास Hindi class 10

Multiple choice  question answer New pattern Surdas lessons बहुविकल्पी प्रश्न सूरदास  Hindi class 10 डिजिटल वीडियो पाठ के अंतर्गत हिन्दी के नए पैटर्न के अनुसार अपठित काव्यांश पर आधारित प्रश्नों की श्रृंखला में बहुविकल्पी प्रश्न पाठ सूरदास पुस्तक क्षितिज भाग 2 से। multiple choice new pattern. कक्षा 10 सीबीएसई बोर्ड में चलने वाली हिंदी का पाठ्यक्रम के नए परीक्षा पैटर्न में हम आज आपसे बहुविकल्पी प्रश्न के बारे में चर्चा करेंगे।  कक्षा 10 के नए पाठ्यक्रम में बहुविकल्पी प्रश्न पेपर (multiple choice questions) के अखंड में आएंगे जिसमें से आज हम क्षितिज भाग 2 से जो प्रश्न पूछे जाएंगे बहुविकल्पी प्रकार के उनका अध्ययन करेंगे आज क्षितिज भाग 2 का पहला पाठ सूरदास से संबंधित अपठित गद्यांश से बनने वाले प्रश्नों के उत्तर के बारे में चर्चा करेंगे और कुछ प्रश्न आपसे हल भी करवाएंगे तो आइए इस क्लास को शुरू करते हैं निम्नलिखित पठित  काव्यांश को पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों से चुनकर लिखिए-  ऊधौ, तुम हौ अति बड़भागी। अपरस रहत सनेह तगा तैं, नाहिन मन अनुरागी। पुरइनि पात रहत जल भीतर, ता रस देह न दागी।

Alankar hindi objective question answer CBSE Class 9, 10, 11, 12

  Alankar hindi objective question answer  CBSE Class 9, 10, 11, 12 अलंकार Alankar# Cbse#  Multiple and objective Question very Impotent for you. Given Question Answer for total syllabus of CBSE Class 9 to 12 अलंकार पर आ​धारित प्रश्न सीबीएसई बोर्ड के न्यू पैटर्न पर। कक्षा 9 के सिलेबस में है। कक्षा 10 में भी अलंकार से प्रश्न पूछ लेता है। ये प्रश्न अपछित काव्यांश या पठित कविता में से अलंकार पहचानने वाला प्रश्न होता है।  Alankar-hindi-objective-question-answer-CBSE-Class-9-10-11-12 अलंकार काव्य के सौंदर्य में अभिवृद्धि करते हैं। काव्य की शोभा अलंकार बढ़ाता है। अलंकार के दो भेद होते हैं- 1. शब्दालंकार 2. अर्थालंकार जहाँ पर वर्णों की आवृत्ति अनुप्रास अलंकार कहलाती हैं। यहां पर वर्ण का मतलब अक्षर से है। एक शब्द का अलग अलग अर्थ में एक से अधिक बार प्रयोग यमक अलंकार कहलाता है।इसे सरल भाषा में समझें—अर्थात जब एक ही शब्द एक या दो से अधिक बार आता है परंतु उसके मतलब अलग अलग होता है। तो उसे कहते हैं।  जहाँ एक शब्द एक ही बार प्रयोग में आए लेकिन उसका अर्थ अलग-अलग हो तो उसे श्लेष अलंकार कहते हैं। श