New Gyan सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

फ़रवरी, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं
हिंदू धर्म में रामायण का बहुत महत्व है। मर्यादा पुरुषोत्तम राम की जीवन यह कथा हमें बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देता है। आइए जाने रामायण के छिपे हुए किरदार की जो रावण से भी ज्यादा शक्तिशाली था। इसका नाम है अहिरावण। दोस्तो! बजरंगबली और अहिरावण के बीच भी घमासान युद्ध हुआ था। खैर इन सब बातों का जिक्र मैं आगे बताऊंगी लेकिन जान लीजिए कि रावण जिस तरह लंका का राजा था, उसकी तूती पूरे लंका में गूंजती थीं और भारत में तहलका मचाया हुआ था। राक्षसों का जिस तरह से आतंक था और उस समय के साधु सन्यासी कोई धार्मिक कर्मकांड जब करते थे तो राक्षस उनमें व्यवधान डालते थे। इसी तरीके से पाताल लोक में रावण का ही भाई अहिरावण वहां पर भव्य तरीके से रहता था। कृत्तिवास रामायण के अनुसार अहिरावण विश्रवा ऋषि के पुत्र और रावण के भाई थे। अहिरावण पाताल लोक का राजा था। धार्मिक मान्यता के अनुसार धरती के नीचे भी एक लोक है, जिसे पाताल लोक कहते हैं। लेकिन तय है कि यह पताल लोक कहीं ना कहीं रहा होगा क्योंकि अहिरावण की कथा रामायण से भी जुड़ी हुई है। आप हमारे साथ बने रहिए पाताल के राजा ही अहिरावण से जुड़ी हर एक कथा और कह

क्लास मानीटर बनने के टिप्स/ What are the duties of a class monitor?

Tips to become a class monitor क्लास में मॉनिटर कैसे बने Image pexels इसे भी पढें, बच्चे के लिए प्रोजेक्ट वर्क क्यों है, जरूरी क्यों है- क्या आप भी अपने बचपन में  क्लास के मॉनिटर थे! हर माता-पिता सोचता है कि उसका बच्चा भी क्लास में अंतर होता कि उसके अंदर की जिम्मेदारी आए। एक क्लास में 30 40 बच्चे होते हैं ऐसे में सभी को मॉनिटर बनाना मुश्किल होता है लेकिन जोड़ने से ज्यादा सिंसियर होते हैं, उन्हें ही अक्सर क्लास मॉनिटर बनाया जाता है। कुछ बच्चे क्लास में बहुत ही लापरवाह होते हैं, उन बच्चों को जिम्मेदार बनाने के लिए भी टीचर ने मॉनिटर बनाते हैं-           याद करिए वह दिन जब मॉनिटर आप पर रौब जमाता था और आप अपने टीचर से शिकायत करते थे। मानिटर को बदल दीजिए, मुझे मॉनिटर बना दीजिए।  मॉनिटर बनने की होड़ कक्षा में हमेशा लगी रहती है। पर क्लास में मॉनिटर वही बनता है, जो पढ़ने के साथ-साथ क्लास में अपनी बातों को सही ढंग से कह सकता हो। उसकी क्लास के सभी बच्चे उसे पसंद करते हों। आपका बच्चा भी अगर क्लास में मॉनिटर बनना चाहता है तो उसके पास यह गुण होने चाहिए-  पढ़ाई में ध्यान देने वाला Class leader

बच्चों के लिए प्रोजेक्ट वर्क और क्रिएटिविटी पढ़ाई में क्यों है जरूरी: श्री 420 फिल्म के किस एक गाने में क्रिएटिविटी से बच्चों को पढ़ाया गया है

Project work nursery (Prakharchetnablogspot) आज एजुकेशन सिस्टम में पढ़ाने का तरीका बदला है। आज प्रोजेक्ट वर्क पढाई का हिस्सा है। आज सामाजिक विज्ञान, विज्ञान, गणित जैसे विषयों के साथ ही भाषा के विषयों जैसे हिन्दी व अंग्रेजी में प्रोजेक्ट जरूरी है। कई अभिभावक प्रोजेक्ट वर्क को पढ़ाई नहीं समझते हैं। प्रोजेक्ट वर्क से ही बच्चा उस टॉपिक को बेहतर तरीके सीखता है। आने वाली शिक्षा नीति में भी इस बात पर जोर दिया गया है कि बच्चा किताबी ज्ञान को व्यावहाकि ज्ञान से जोड़ सकने की काबलियत विकसित कर सके। क्यों जरूरी है प्रोजेक्ट वर्क शुरुआती दौर में बच्चे अपने आसपास से बहुत तेजी से सीखते हैं। वे स्कूल में पहुंचते हैं तो उन्हें किताबी ज्ञान एक तरह से बोझ लगने लगता है। नर्सरी के के बच्चे को लिखने से अधिक पढ़ना अच्छा लगता हैै। ऐसे बच्चे अभी पढ़ना सीख रहे होते हैं, ऐसे में चित्रों, पहेली, ड्राइंग के माध्यम से सीखने के लिए उनके अंदर ललक पैदा की जाती है। अ से अनार बताने से अच्छा है कि आ से अनार की मिट्टी या प्लास्टिक के बने खिलोने के नमूनों को छूकर बताना, उसके रंगों और बीज पर बातचीत करना, ये कहना

स्लिमी और पतले लोगों के लिए सही फैशन ट्रिक क्या है? आपको नहीं मालूम है तो जरूर पढ़ें और अपने दोस्तों को बताएं।

नमस्कार दोस्तो! आज हम देने जा रहे हैं ऐसा ट्रिक जो खासकर पुरुषों को एक अच्छा ड्रेस लुकिंग देता है। बताइये, हम फैशन क्यों करते हैं? अरे भाई! ताकि हम कॉन्फिडेंट दिखें, आप सोच रहे कि आपके मसल्स सलमान खान की तरह नहीं है तो क्या आप पर कोई कपड़ा अच्छा ही नहीं लगेगा, ऐसा मत सोचिए! स्लिम और पतले लोग भी अगर सही तरह के ड्रेसेस सेन्स को अपनाएं तो उनका लुक भी बेहतर और ड्रेसिव लगेगा। दोस्तो! आज पर्सनल केयर में में बात करने जा रहा हूं पतले लोगों के लिए ड्रेसिंग सेंस के बारे में। तो हो जाइए मेरे साथ तैयार और इन स्टेप को फॉलो करिए और दिखें सबसे स्मार्टी और आत्मविश्वास से भरपूर! पूरे बांह की टीशर्ट पहने अगर आप पतले हैं तो पूरी बांह का टी-शर्ट पहनें। टी-शर्ट को हल्का से कोहनी के पास लाकर मोड़ लें। आप स्मार्टी और शानदार दिखेंगे क्योंकि हाथ के मसल्स भले पतले हो लेकिन पूरी बांह टी-शर्ट आपके लुक को और बेहतर बना देता है। डबल लेयर यानी डबल कपड़ा आप पतले हैं तो आपको डबल लेयर वाले कपड़े पहने चाहिए। इससे आपको एक बेहतरीन लुक और बेहतरीन कॉन्फिडेंस मिलता है। आप अंदर से एक टी-शर्ट और ऊपर से एक शर्ट भी पहन सक

इन सब्जियों को खा लेंगे तो शरीर में कोई रोग नहीं होगा

इन सब्जियों को खा लेंगे तो शरीर में कोई रोग नहीं होगा दोस्तो! कुछ सब्जियां ऐसी हैं,जिसके बारे लोग बहुत कम जानते हैं पर आप इन सब्जियों को अपने डाइट में शामिल कर लिया तो आपके शरीर को जरूरी पोषक तत्व तो आसानी से मिल जाता है और साथ ही आप बीमारियों से भी बचे रहते हैं। ऐसी ही कुछ सब्जियों को बारे में बताने जा रहे हैं, इन्हें खाइएगा जरूर— कंटोला नाम की यह जादूई सब्जी इसे मीठी नींम के नाम से भी जाना जाता है। दोस्तो! ये फाइटोकैमिकल, एंटीआक्सीडेंट, प्रोटीन, मोमोरडिसीन और फाइबर को खजाना है। साधारण—सी दिखने वाली इस सब्जी में मीठ से दुगुना प्रोटीन है। इसे खाने से आपके मसल्स बनेगा। भारत में कंटोला मानसून के समय मिलता है। ये हृदय रोगियों के फायदेमंद सब्जी है। कैंसर जैसी बीमारियों को रोकने में कंटोला का जवाब नहीं है। ये शरीर को बीमारियों से लड़ने शक्ति देता है। इसलिए खांसी—जुकाम से छुटकारा पाने के लिए इस सब्जी का सेवन लोग करते हैं। तो इस बार कंटोला आपके किचन में पकना जरूर चाहिए। एक बात और नोट कर लें, संक्रामक बीमारियों से बचने के लिए कंटोला बहुत कारगर है। ल्यूटेन की मात्रा इसमें होने के का

आपका बच्चा पढ़ने में कमजोर है तो ये टिप्स जरूर पढ़ें / child weak in reading

Credit image आपका बच्चा पढ़ने में कमजोर है तो ये टिप्स जरूर पढ़ें पैरेंट्स का यही सपना होता है कि उसका बच्चा पढ़ लिखकर कामयाबी हासिल करें। अगर आप अपने बच्चे पर ध्यान नहीं देते हैं तो ये सपना अधूरा रह सकता है। आइए कुछ ऐसे टिप्स बताने जा रहे हैं, जिसे आप अपनाकर अपने बच्चे को पढ़ाई में अव्वल बना सकते हैं। जब लापरवाह हो बच्चा पैरेंट्स को समझना चाहिए कि अगर उनका बच्चा लापरवाह है तो उसका पढ़ाई में भी मन नहीं लगेगा। वह क्लास में भी लापरवाही करता है, इसलिए उसके अंक कम आते हैं। अगर बच्चे की स्कूल से शिकायत आ रही हो कि वह क्लास में बातें करता है। टाइमटेबल के हिसाब से कॉपी और बुक्स नहीं लाता है तो आप संभल जाइए, आपका बच्चा लापरवाही कर रहा है, इसलिए आप लापरवाही ना करें, हर दिन उसकी कॉपी और किताबें चेक करें,  टाइमटेबल के हिसाब से बुक्स व कॉपी ले जाने के लिए कहें। आप उसकी हर विषय की कॉपी देखें। ट्यूशन के बावजूद बच्चा पढ़ाई में कमजोर है अगर आपका बच्चा ऐसे स्कूल में पढ़ रहा है, जहां पर पढ़ाई अच्छी होती है लेकिन आपका बच्चा फिर भी पढ़ाई में कमजोर है, इसलिए आपने बच्

fashion style Amezon

Summer 2020 fashion style वसंत फिर उसके बाद वैलेंटाइन डे यानी कि इस फरवरी के बाद से ही एक लंबा समय गर्मियों का चलने वाला है, न्यू ट्रेन्ड का न्यू फैशन स्टाइल आपके हाथों से फिसल ना जाए तो हम लेकर आए हैं दोस्तों आज के लिए कर्मियों के नए फैशन और स्टाइल जो कि इस गर्मी में धूम मचाने वाला है और जब आप उसे पहल करेंगे तो सब कहेंगे वाह वाह और फेसबुक पर फोटो डालेंगे तो उम्मीद से ज्यादा लाइक मिलेंगे, बताना ना भूलना दोस्तों! गर्मियों के फैशन कपड़े चुनते समय दो बातों का ध्यान रखें। कपड़े ऐसे हो जो तन पर गर्माहट ना दें बल्कि ठंडा ठंडा लगे इसलिए कॉटन के कपड़ों की क्वालिटी को ध्यान में रखें। कलर कॉन्बिनेशन ऐसा होना चाहिए कि ना तो डल होना बहुत ही ब्राइट। मॉल में जब कपड़े ट्रायल रूम में पहनने के लिए जाए तो एक बात का ध्यान रखें कि वहां ऐसी चलता है इसलिए वह कपड़ा आपको ठंडा रख रहा है। लेकिन नॉर्मल मौसम में उस कपड़े का रिस्पांस कैसा होगा यह सोच समझ लें, कपड़े में सिंथेटिक की मात्रा ज्यादा हुई तो गर्मी में पहनते समय आपको गर्मी लगेगी और उलझन महसूस होगी और असहज लगेंगे ,इन बातों पर गौर करें और कपड़े की क्वालि

मंगलवार को हनुमान जी पूजा ऐसे करें रोग और दरिद्रता दूर हो जाती है

मंगल को जन्मे मंगल ही करते मंगलमय हनुमान। मंगलवार के दिन सुंदरकांड का पाठ करने से हनुमान प्रसन्न होते हैं। रामचरितमानस के कांड सुंदरकांड को पढ़ने से आप में ऊर्जा का संचार होता है और हनुमान जी आपके हर काम सही बनाते हैं। credit: third party image reference मंगलवार के दिन भगवान हनुमान का दर्शन करने से रोग और दरिद्रता दूर हो जाती है। मंगलवार के दिन मंदिर में हनुमान जी की प्रतिमा पर सिंदूर और चमेली या देशी घी का लेप, जिसे चोला कहते हैं, अपने हाथों से मूर्ति पर लगाने से हनुमान जी आपकी सेवा भाव से बहुत प्रसन्न होते हैं। इस समय आप हनुमान जी से जो चाहे वह मांग सकते हैं क्योंकि लाल रंग का चोला हनुमान जी को बहुत पसंद है। आपकी इस भक्ति से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और मनचाहा वरदान भी देंगे जिससे आपके भाग जाएंगे और सुख की प्राप्ति हो। credit: third party image reference गुड़ चना या बेसन के लड्डू से भोग लगाने पर हनुमान जी बहुत प्रसन्न होते हैं। लड्डू उन्हें बहुत पसंद है। हनुमान जी को लाल रंग के फूल अत्यधिक पसंद है इसलिए हनुमान जी की पूजा के समय उन्हें लाल फूल अर्पण करें। credit: third

क्या एलियन कहीं छिपे तो नहीं, आइए जाने

क्या एलियन कहीं छिपे तो नहीं, आइए जाने याद कीजिए जब आप कक्षा दो या तीन में पढ़ते थे तो उस समय हमें जीवन के बारे में बताया जाता था। पेड़-पौधे जीव-जंतु यह सब जीवित हैं और ये पहाड़, नदियां, पत्थर, मिट्टी ये सब जीवित नहीं हैं। जीवन का मतलब सांस लेना, बढ़ना है, चलना-फिरना, खाना खाना हैं, इन सब लक्षणों के आधार पर हम लोग सामान्य तौर पर उन्हें जीवित कहते हैं। credit: third party image reference जीवन क्या है यह बताना कठिन वैज्ञानिक भी अभी तक यह तय नहीं कर पाए हैं कि जीवन किसे कहा जाए या इसका कैसा रूप होता है। आप सोच रहे होंगे यह कैसी बात! दोस्तों जब हम जीवन की बात करते हैं तो केवल धरती पर जीवन की बात करते हैं और उन्हीं लक्षणों को ध्यान में रखकर जीवन को खोजते हैं। पर वैज्ञानिक इस ग्रह के बाहर पूरे ब्रह्मांड में जीवन की खोज में लगे हुए हैं। जाहिर है कि जीवन की परिभाषा धरती के जीवन की परिभाषा से पूरी ब्रह्मांड के जीवन की परिभाषा से इत्तेफाक ना रखता हो? दोस्तों इस सवाल की पहेली सुलझाने के लिए पूरी दुनिया के वैज्ञानिक माथापच्ची कर रहे हैं। एलियंस होते हैं या अफवाह credit: third pa

4 tips to improve children in the classroom in hindi

बच्चों को कक्षा का बेहतर बनाने की चार टिप्स/ 4 tips to improve children आज का एजुकेशन सिस्टम बच्चों की रुचि को बढ़ाकर पढ़ाने पर जोर देता है। अकसर कक्षा में बच्चा इन कारणों से पिछड़ जाता है। ये बात बिलकुल सही है कि स्कूली शिक्षा बच्चों में अनुशासन और नैतिकता का विकास करती है। इसलिए अगर आपका बच्चा कक्षा में ये गलतियां करता है तो उसकी पढ़ाई में रुकावाट पहुंच रही है, आइए टिप्स के जरिए समस्या के समाधान के बारे जानें— New Gyan credit: unsplas अगर आपका बच्चा  classroom  में बातूनी है If your child is talking in classroom शिक्षक भी मानते हैं कि अगर आपका बच्च पढ़ते समय ध्यान से नहीं सुनेगा और पास बैठे बच्चों से बात करता है तो वही कक्षा में पढ़ाए जाने वाले विषय को नहीं समझ पाएगा। हो सकता है कि उसे ऐसा करने से कई बार मना किया जाए, लेकिन अगर बच्चा नहीं मानता है तो उसे सजा मिलती है, इससे उसकी पढ़ाई में नुकासा होता है।  कक्षा में बात करने वाले बच्चों के बारे में अगर उसके शिक्षक बताएं तो पैरेंट्स होने के नाते आप अपने बच्चे को समझाएं, घर पर उससे उसकी मन की बात जानें, उसके बात को महत्व दें, इस