New Gyan सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

जून, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बच्चों को बाइक चलाने न दें

               Credit image dream times  बच्चों को बाइक चलाने देना कानूनी रूप से गलत है  आजकल जब आप किसी सड़क से गुजरते हैं तो अचानक बहुत तेज से  मोटरसाइकिल (bike) चलाते हुए कुछ स्कूली लड़के नजर आते होंगे।  prohibited to drive bike  आपको थोड़ा गुस्सा भी आता है। क्योंकि ये लड़के बहुत तेजी से मोटरसाइकिल moter bike चलाते हैं और अपने साथ दूसरों की जिंदगी भी खतरे में डाल देते हैं।  आइए  जाने, क्यों स्कूली बच्चे मोटरसाइकिल चलाते हैं और उनके माता-पिता को क्या करना चाहिए? बिना लाइसेंस के मोटरसाइकिल चलाना अपराध भी है- without licenc bike driving probhited                            Credit image dream times दिखावे में मोटरसाइकिल bike ride चलाना आज की जनरेशन सिनेमा से ज्यादा प्रभावित है! इस कारण से रोमांच भरे जीवन की कल्पना में डूबा रहता है! वह सब कारनामे करना चाहता है जो फिल्मी पर्दे पर हीरो किसी स्टंट डायरेक्टर और सपोर्टर की मदद से करता है लेकिन यह बच्चे उसे असली समझ लेते हैं और इस तरह की अपनी कल्पना की उड़ान अपनी बाइक से पूरा करते हैं। गलत ढंग से कहा गाड़ी चलाना और नाबालिग का गाड़ी च

एजुकेशन में हिंदी hindi language भाषा कैसे पढ़ाएं

आज के स्कूल एजुकेशन में हिंदी कैसे पढ़ाएं hindi से  (हिंदी माध्यम से) पढ़ाना चैलेंजिंग है। इस प्रश्न का समाधान खोजने के लिए सबसे पहले हम निम्नलिखित पॉइंट पर चर्चा करेंगे। यहां पर सरल ढंग से इस बात को समझाने के लिए भाषा में अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग किया गया है।  ln school education system today Hindi teaching why challenging? Study system अंग्रेजी माध्यम में अधिक प्रचलित है बाजार की मांग अंग्रेजी स्किल्ड प्राप्त युवा हैं। इसलिए 90 के दशक से अंग्रेजी माध्यम स्कूलों की पहचान बनी। यहां पढ़ने वाले छात्रों को भी बाजार में अपनी पैठ बनाने के लिए अंग्रेजी की जरूरत उन्हें रोजगार दिलाने में मददगार भी साबित हुआ। Hindi education system  क्यों  मातृभाषा से बच्चा तेजी से सीखता है Why a child learns faster than mother tongue in Hindi कोई भी बच्चा अपनी मातृभाषा में बहुत तेजी से सीखता है इसलिए अगर आप उसे हिंदी भाषा में पढ़ा रहे हैं और अगर उसकी मातृभाषा mother toungu Hindi है तो निश्चित ही उसकी सीखने की गति बहुत तेजी से बढ़ेगी। हिंदी (hindi market )का मार्केट बहुत बड़ा है Hindi market is very big समस्या

एक्टर के लिए मिमिक्री और रिजोनेटर्स की पहचान क्यों ज़रूरी Tips

एक्टिंग करना भी एक कला है, इसलिए  एक्टर को अपनी आवाज़ को लेकर प्रभावशाली प्रयोग करना पड़ता है।  ऐक्टर के लिए मिमिक्री और रिजोनेटर्स की पहचान होना क्यों जरूरी है, इस लेख में बता रहे हैं, अभिनेता आशीष कांत पांडेय-              Seen of film Gulabo Sitabo फिल्म अभिनेता (Actors) और रंगमंच के अभिनेताओं के लिए वॉइस वेरिएशन (variation) बहुत ही जरूरी होता है। जिस प्रकार एक वर्ष का बच्चा बोलने के लिए होंठ (Lips) और जीभ (Toungu) को तेज़ी से हिलाकर (movement) ब्रूम... ब्रूम... गाड़ी की तरह आवाज़ निकालता है और कुछ समय पश्चात वह छोटे-छोटे शब्दों को बोलना सीख जाता है, उसी प्रकार एक अच्छे अभिनेता (Actor) को अपने रिजोनेटर्स (resonator) का इस्तेमाल करते हुए इसी प्रकार का अभ्यास करना चाहिए। जिससे वह कई तरह की आवाज़ को निकालने की क्षमता रख सके। कुछ लोग इसे मिमिक्री कहकर आपको भ्रमित करेंगे परंतु यह मिमिक्री नहीं अभिनय की एक टूल्स है, जो हर अभिनेता (Actor) को आना चाहिए।  यदि आपको यह करना नहीं आता तो आपके डायलॉग (dialogue) में कोई भी वेरिएशन नहीं होगा और हर उम्र के अभिनय और आवाज़ को आप  प्रस्तुत नहीं कर प

मातृभाषा की कविता में एजुकेशन क्यों जरूरी है

छोटे बच्चों को हिंदी कविता (hindi poetry teaching method) के माध्यम से उन्हें बहुत सारी जानकारियां दी जा सकती हैं। prakhar chetna में इसकी जानकारी दी जा रही है। एजुकेशन में मात्र भाषा क्यों जरूरी है बच्चे की मातृभाषा (#mothertoungue) चाहे हिंदी #hindi हो या कोई अन्य भाषा कविता के माध्यम से उसे कई तरह की आस पास की जानकारियां उपलब्ध कराई जा सकती हैं। आज एजुकेशन में मातृभाषा जरूरी है। कक्षा 1 से 5 तक की क्लास में कविता के माध्यम से पढ़ाई कराई जाती है। देश-राष्ट्र और संस्कृति से जोड़ने के लिए कविता एक प्रभावशाली माध्यम है।  (New Indian educatetion policy) भारत सरकार की शिक्षा नीति में भाषा के साथ-साथ गणित और विज्ञान जैसे बोझिल विषयों को भी प्राइमरी में कविता के माध्यम से पढ़ाने की बात कही जाती है। हाय इस लेख के माध्यम से जाने की किस तरीके से हम कविता के माध्यम से बच्चों में पढ़ाई के स्तर को और बढ़ा सकते हैं और पढ़ाई के प्रति लगाव पैदा कर सकते हैं। मातृभाषा  से आती है देशभक्ति की भावना #deshbhakti छोटे बच्चों को मातृभाषा की कविता के माध्यम से देश भक्ति की भावना का संचार किया जाता है। बच्चा

जीवन को प्रभावित करती हैं नवग्रह

हमारे जीवन (#life) में ग्रहों के प्रभाव को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। ग्रह (grah) मनुष्य के जीवन का आधार है।  ग्रह और नक्षत्र (nakshatra) सही हो तो मनुष्य को हर सफलता आसानी से मिलती है।  ज्योतिष शास्त्र में मनुष्य के ऊपर नवग्रह के पड़ने वाले प्रभाव के बारे में ही बताया जाता है। सूर्य sun, चंद्र moon, मंगल, बुद्ध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु, ये नवग्रह हैं। हमारे जीवन में वैभव, सुख, धन, विवाह, संतान-सुख, सरकारी नौकरी, रोजगार इत्यादि को प्राप्त करने के लिए ज्योतिष के अनुसार उपाय करना आवश्यक होता है।  ज्योतिष ज्ञान Jyotish एक विज्ञान है।  यह वेद से उत्पन्न हुआ है।  वेदों के अनुसार ज्योतिष में ग्रहों का प्रभाव व्यक्तिगत रूप से  मनुष्य पर पड़ता है। ग्रह और नक्षत्र का  प्रभाव दुनिया में युद्ध, प्रकृति आपदा, भूकंप,  महामारी  का दुष्प्रभाव के रूप में देखने को मिलता है। क्या एलियन कहीं छुपा तो नहीं है, जानने के लिए पढ़ें नवग्रहों का हमारे जीवन में अलग-अलग प्रभाव पड़ता है। ज्योतिष शास्त्र में  कुंडली के अध्ययन के साथ उस मनुष्य पर कमजोर ग्रहों के दुष्प्रभाव  को भी देखा जाता है।

सच क्या है, सच के साथ आप

झूठ को किस तरह से पहचाने Tip झूठ यानी माया, ये माया जीवन में इंसानों को धोखा दे  रहा है। ये झूठ कितने को बुरा साबित कर देता है। इस झूठ के कारण कितनी जिंदगियां तबाह हो जाती हैं। हम इंसान है, हमें जीवन के दुखों से डँटकर सामना करना चाहिए। झूठ को पहचाना जा सकता है बस इसे समझने की फेर है।   आइए कुछ तर्कों से जाने की अंत में  सच की ही जीत होती है। इसलिए हर हाल में हम लोग को सच के साथ खड़ा होना चाहिए।  *सत्य के साथ चलना  जीवन जीने की कला*  जो सत्य के रास्ते में चला उसे परेशानियों का सामना करना पड़ता है। सत्य के मार्ग में हमेशा काँटे होते हैं, लेकिन इन काँटों में उसे जीवन की सच्चाई यानी जीने का ढंग पता चलता है, कहने का मतलब हैं कि सच के रास्ते चलने वाला आदमी सुकून की जिंदगी जीता है।जीवन की समस्या को लेकर परेशान नहीं रहता है। वह सदैव आगे की सोचता है। आपने  अनुभव जरूर किया होगा कि सच बोलते हैं तो आपका अंतर्मन खुश हो जाता है। आप भय मुक्त हो जाते हैं।  *झूठ बोलना यानी असत्य का साथ देना*   झूठ जीवन का ऐसा कर्ज है, जो कष्ट रूपी ब्याज की तरह पूरी जिंदगी परेशान करता रहता है।  सच का साथ देने वाला असल म

कॉमेडी एक्टर कैसे बने, Comedy action

कॉमेडी एक्टर कैसे बने Comedy Actor बनने के लिए Tips कॉमेडियन यानि हँसाने वाली एक्टिंग करने वाले एक्टर को जब आप सिनेमा के पर्दे पर देखते हैं तो आप हंसने की मुद्रा में आ जाते हैं। किसी को हंसाना बहुत मुश्किल काम है। कुछ एक्टर इतने मझे हुए होते हैं कि उनकी हाव भाव में भी दर्शक को हंसी आ जाती है। सर चार्ल्स स्पेन्सर चैप्लिन इस कारण से भी बहुत फेमस हुए थे। हास्य-एक्टर यानि कॉमेडियन बनना आसान नहीं है। हिन्दी फिल्मों के जानेमाने हास्य अभिनेताओं  जैसे जानीवॉकर, जगदीप, असरानी इनकी बेजोड़ एक्टिंग पूरे फिल्मों में बेहद प्रभावशाली रहती थी। ऐसे कई मजेदार एक्टिंग और सिनेमा जगत के कई पहलूओं पर जानकारी देने के लिए हम लेकर आए हैं, जाने-माने एक्टर और लेखक ’आशीष कांत पांडेय’ जी को, जो आपको एक्टिंग व सिनेमा जगत से संबंधित खास जानकारी से रूबरू करवाएंगे, आज से लेख की एक सीरीज शुरू करने जा रहे हैं, इस कड़ी में पहला लेख हास्य एक्टिंग पर आधारित है, यानि एक अच्छा कॉमेडियन कैसे बने- Comedy Actor (resonators)  जीवन में खुश रहना है तो हँसना भी जरूरी है। लेकिन  टेंशन भरे इस दुनिया में हमारे चेहरे से ह

Art integration cbse board project work class 9 cbse

हिन्दी प्रोजेक्टकार्य कक्षा-9 कला-एकीकरण अधिन्यास-कार्य (प्रोजेक्ट-कार्य) Art integration सत्र- 2020-21 माह कला -एकीकरण प्रोजक्टकार्य  सहभागिता टिप्पणी जुलाई दृश्य-कला प्रोजेक्टकार्य अरूणाचल प्रदेश एवं  मेघालय राज्य की हस्तशिल्प कला के बारे में चार्टपेपर पर लिखना है। प्रत्येक महत्वपूर्ण सूचनाएँ, चित्रों, त्रिआयामी-मॉडल के माध्यम से प्रस्तुत करना है।  विभिन्न वस्तुओं को दिखाने के लिए त्रिआयामी-मॉडल भी बनाना जरूरी है। व्यक्तिगत प्रोजेक्टकार्य विभिन्न रंगों एवं आरेखों के माध्यम से चार्टपेपर पर आकर्षित तरीके से प्रस्तुत करना है। चार्टपेपर एवं त्रिआयामी मॉडल के माध्यम से प्रस्तुतीकरण।  अगस्त संदेश लेखन-प्रोजेक्ट कार्य विद्यालय में आयोजित होने वाले कार्यक्रम की सूचना देने हेतु सूचना-लेखन कार्य या विभिन्न पर्व के अवसरों पर शुभकामना लेखन प्राजेक्ट-कार्य। सामूहिक कार्य कक्षा में पाँच-पाँच विद्यार्थियों का समूह संदेश-लेखन की योजना से लेकर प्रदर्शन कार्य की जिम्मेदारी का निर्वहन करेंगे।  कुछ समूह को इस माह में आयोजित होने वाले विद्यालय-कार्यक्रम की सूचनाओं को चार्टपेपर पर तैयार करके समयपूर्

'असुर आदिवासी' पुस्तक असुर आदिवासी जनजाति जनजीवन और सामाजिक पहलुओं पर पड़ताल करती पुस्तक

https://amzn.to/2Y4Pc7N  हिन्दी साहित्य जगत के प्रख्यात लेखक व कवि  (एडवोकेट) श्रीरंग पांडेय जी की नयी  पुस्तक 'असुर आदिवासी' अमेजॉन पर ऑनलाइन उपलब्ध है। यह पुस्तक एक नया शोध का ऐसा दस्तावेज है, जो अब तक हाशिए पर रहे समाज की सच्ची दास्तां सुनाती है।  'असुर आदिवासी' किताब के जरिए उन असुर आदिवासी जनजातियों के बारे में इनके सही इतिहास को प्रस्तुत करने वाली इस तरह की पुस्तक की जरूरत हमेशा पाठकों और विद्वानजनों को रही है। इस पुस्तक में खो गए इन जातियों के ऐसे  सामाजिक परिदृश्य को सही ढंग से बताया गया है, जिसके इतिहास को लगभग भुला दिया गया है।   पाठकों और विद्वानजनों के  ज्ञान में यह पुस्तक अवश्य अभिवृद्धि करेगी।   'किताब एक सच्चा दोस्त होता है।" अमेजॉन पर पुस्तक ' असुर आदिवासी'   उपलब्ध है, अमेजॉन से ऑनलाइन पुस्तक मँगाने के लिए क्लिक करें असुर आदिवासी   पुस्तक को फ्लिपकार्ट से मँगाने के लिए यहाँ पर क्लिक करें  असुर आदिवासी पुस्तक के लेखक श्रीरंग पांडेय जी के फेसबुक वॉल पर जाने के लिए लिंक क्लिक करें उर्दू बाजार ड

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। Laghu Katha ke Udharan class 9th hindi term-2 sylabuss 2022 hindi  न्यू सिलेबस सीबीएसई बोर्ड लघु कथा लेखन क्लास नाइंथ इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। the shrot story छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य (gadya sahitya)  और दूसरा काव्य साहित्य ।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। लघुकथा की महत्वपूर्ण बातें the important character of laghu katha in Hindi लघु कथा क्यों लिखी जाती है? 1.आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। लघु कथा का जन्म कैसे हुआ? हमारी संस्कृति में लघु कथा का क्या-क्या रूप है? laghu Katha kya hota hai? 2.लघु कथा

ईमेल लेखन कैसे करें | cbse class 10, 9 Email writing in hindi

  ईमेल लेखन कैसे करें cbse class 10, 9 Email writing in hindi CBSE बोर्ड की क्लास 9th और 10th में सेशन 2022 23 से ईमेल राइटिंग पर प्रश्न पूछा जाएगा। ईमेल राइटिंग जी का यह प्रश्न सीबीएसई बोर्ड क्लास 10th की बोर्ड परीक्षा में ढाई अंक का होगा। आपको बता दें कि क्लास 9th और 10th मे अनुच्छेद-लेखन Anuched Lekhan for class 10 and 9 , लघुकथा-लेखन, विज्ञापन-लेखन, संदेश-लेखन, संवाद-लेखन से प्रश्न भी पूछा जाता है इस पर आपको अधिक जानकारी चाहिए तो क्लिक करके पढ़ें… छात्रों ईमेल राइटिंग लिखना बहुत आसान है। ईमेल राइटिंग का प्रारूप और विषय आपको बस समझ में आना चाहिए। आपको यह बता दे कि आपकी परीक्षा में औपचारिक यानी कि फॉर्मल ईमेल राइटिंग ही पूछा जाएगा. जैसे कि बैंक मैनेजर को  पासबुक जारी करने के लिए ई-मेल लिखना, आप एक लाइब्रेरियन है और किताब मगवाना चाहते हैं  तो बुक पब्लिशर को आप ईमेल लिखेंगे। ई-मेल की भाषा हिंदी | Email writing in hindi अगर आप ईमेल लिख रहे हैं तो उसकी भाषा हिंदी ही होनी चाहिए। प्रचलित का अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं, जैसे स्कूल, बस, ट्रेन इत्यादि। ई-मेल 20 से 30 शब्द

MCQ Vachya वाच्य class 10 cbse board new 2021

MCQ Vachya  वाच्य class 10 cbse board new 2021 CBSE Change question paper pattern in hindi. Hindi Grammar asking MCQ's. वाच्य Vachya topic given multiple cohice question with answer.     सीबीएसइ कक्षा 10 की हिन्दी  अ Syllabus 2021 में अब अधिकतर Questions Objective  टाइप के प्रश्न पूछे जाएंगें। यहां पर Vachya वाच्य टॉपिक से दे रहे हैं। Vachya Topic  में 5 में से 4  इस वाच्य टॉपिक questions आएंगे। वाच्य शब्द का अर्थ बोलने का तरीका वाच्य कहलाता है। ऐसा वाक्य जहां पर क्रिया का पर प्रभाव कर्ता, कर्म या भाव का पड़ता है तो क्रिया उसी के अनुसार परिवर्तित होती है। इस तरह से वाच्य तीन प्रकार के हुए। क्योंकि तीन तरह से क्रिया पर प्रभाव पड़ता है। यानी  1 कर्ता  2 कर्म  3 भाव क्रिया विधानों के अनुसार वाच्य 3 तरह के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य (Active Voice) 2. कर्मवाच्य (Passive Voice) 3. भाववाच्य (Impersonal Voice) कर्तृवाच्य व अ कर्तृवाच्य   के अनुसार वाच्य दो प्रकार के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य 2  अ कर्तृवाच्य  अ कर्तृवाच्य के दो भेद होते हैं-        i. कर्मवाच्य (Passive Voice)         ii भावव

MCQ Balgobin Bhagat CBSE Class 10

  MCQ Balgobin Bhagat CBSE Class 10  बालगोबिन भगत पाठ, लेखक रामवृक्ष बेनीपुरी क्षितिज भाग- क्षितिज भाग- 2 बुक से MCQ Balgobin Bhagat, CBSE Class 10  CBSE 2023  नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार इस बार हिन्दी अ पाठ्यक्रम में पेपर में दो खंड होंगे। अ और ब खंड हैं। Examination में  MCQ क्यूश्चन ( questions) पूछा जाएगा।  इस   सीरीज में MCQ Balgobin Bhaghat CBSE Class 10  MCQ दे रहे हैं। कक्षा 10 क्षितिज भाग 2 book kshitij   से Balgobin Bhaghat  MCQ  CBSE Class 10  पर बहुविकल्पी MCQs प्रश्न दे रहे हैं। Class 10 Hindi Class YouTube Channel Link    निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्पों पर टिक ​लगाइए —  1 भगत जी कौन-सा काम करते थे? i खेतीबारी ii नौकरी iii भजन गाते ​थे iv व्यापार करते थे उत्तर—i  खेतीबारी 2 बालगोबिन भगत किसको साहब कहते थे? i भगवान ii कबीर iii जमींदार iv मुखिया उत्तर—ii कबीर 3. बालगोबिन भगत साहब के दरबार में फसल ले जाते थे। यहां साहब के दरबार से क्या अभिप्रायय है? i जमींदार की हवेली ii राजा का दरबार iii कबीरपंथी मठ iv मंडी उत्तर—iii कबीरपंथी मठ 4.  ठंडी पुरवाई का क्या मतल

MCQ Ras Hindi class 10 cbse Update 2023

MCQ Ras Hindi class 10 cbse Update 2023 MCQ Ras Hindi class 10 cbse Ras Hindi MCQ class# 10 CBSE board new# syllabus objective questions. New gyan dotcom Gmail important question topic ras रस पर क्वेश्चन आंसर यहां दिये जा रहे हैं।‌  If you have any problem of the topic of Hindi Ras write a comment, I will solve your problems within 24 hours. You have know that  multiple choice question coming Hindi grammar section class of 10.  Ras,  Rachna ke Aadhar per Vakya, Pad Parichy,  aur Vachy. रस, रचना के आधार पर वाक्य, पद परिचय और वाच्य है। यहां पर रस पर आधारित MCQ क्वेश्चन दिए जा रहे हैं यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा कई प्रतियोगी परीक्षा के लिए भी रस पर MCQ  प्रश्न काफी आते हैं। Given 10 topic question answer objective type. latest 2022-23 रस के बहुविकल्पी प्रश्न के उत्तर भी लिखे हुए हैं। १. निम्नलिखित प्रश्नों में दिए गए चार विकल्पों में से सर्वश्रेष्ठ सही विकल्प चुनिए। रस  को काव्य की आत्मा माना जाता है। " जब किसी नाटक, काव्य में आनंद की अनुभूति होती है त

Laghu Katha Lekhan CBSE Board

     लघु कथा कैसे लिखें, उदाहरण से समझें CBSE board hindi  प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा (laghu katha)  लिखना। CBSE Board 9th class Laghu Katha lekhan दसवीं बोर्ड की कक्षा 9 के सिलेबस में और कई  बोर्ड की परीक्षा में इस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं।  (new syllabus 2022 Laghu Katha lekhan)    दिए गए प्रस्थान बिंदु (prasthan Bindu) का मतलब है कि दो या चार लाइन लघुकथा के दिए होते हैं। उसके बाद आपको 80 से 100 शब्दों में लघुकथा को पूरा करना होता है। उसका एक शीर्षक (title) लिखना होता है।  नई शिक्षा नीति 2020 (New Education Policy) में भाषा में रचनात्मक लेखन (Creative Writing) को बढ़ावा दिया गया है। इसलिए  हिंदी Hindi, अंग्रेजी, मराठी  उर्दू किसी भी भाषा के पेपर में संवाद लेखन, लघुकथा, लेखन अनुच्छेद, (anuchchhed lekhan) लेखन, विज्ञापन लेखन, (Vigyapan lekhan) सूचना लेखन (Hindi mein Suchna lekhan) जैसे टॉपिक में नई शिक्षा नीति के ( new education policy 2021) अंतर्गत सिलेबस में रखे गए हैं।  लघुकथा लेखन 9 व 10 की परीक्षा में पूछा जाता है Laghu katha lekhan in Hindi in board examination

भारतीय आजादी के गुमनाम नायक

भारतीय आजादी के गुमनाम नायक bhaarateey aajaadee ke gumanaam naayak 2022 आज हम अपनी मर्जी से कहीं भी आ जा सकते हैं, पढ़ लिख सकते हैं अपने मनपसंद का करियर चुन सकते हैं, क्योंकि हम आजाद हैं और इस आजादी के लिए वीरों ने अपनी आहुति दी है, पर जब स्वतंत्रता सेनानियों के नाम बताने की बारी आती है तो हम सिर्फ गिने-चुने नाम ही बता पाते हैं, जबकि हकीकत यह है कि आजादी सिर्फ कुछ लोगों के बलिदान से नहीं मिली बल्कि इसके लिए बहुतों ने अपनी जान गंवाई। इनमें से कई तो गुमनामी की अंधेरों में खो चुके हैं। हम आपको ऐसे ही स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्होंने आज़ादी की लड़ाई में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी-  आजादी के गुमनाम नायक हम बताने जा रहे हैं आजादी के महानायक जिनको हम भूल गए हैं-- कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी भारत छोड़ो आंदोलन से जुड़ने वाले कन्हैयालाल कई बार अंग्रेजी शासन के खिलाफ आवाज उठाने के आरोप में गिरफ्तार किए गए और अंग्रेजों के जुल्म का शिकार हुए पर उन्होंने कभी हार नहीं मानी हर बार दुगनी ताकत के साथ अंग्रेजों से मुकाबला किया। भगत सिंह, चंद्रशेखर आजा