लाइए अपने जीवन में मुस्कान, देखिए ऊपर है आसमान, वहां से तोड़ लाइए मुस्कुराहट सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लाइए अपने जीवन में मुस्कान, देखिए ऊपर है आसमान, वहां से तोड़ लाइए मुस्कुराहट

Life ki Muskan

  लाइए अपने जीवन में मुस्कान, देखिए ऊपर है आसमान, वहां से तोड़ लाइए मुस्कुराहट


इंसान अगर मुस्कुराता नहीं तो लगता है जैसे चारों तरफ मायूसी छाई हुई है। हम में से अधिकतर लोग उन्हीं को पसंद करते हैं जिनके चेहरे पर मुस्कान होती है। हम जानते हैं कि ऐसे लोग जो हैं हर परिस्थिति में मुस्कुराकर जीवन को  जिंदादिल बनाते हैं, वे खास होते हैं।  जब भी आप किसी से मिलते हैं और आप के चेहरे पर मुस्कान होती है तो सामने वाला भी आपको तवज्जो देता है। इसलिए हम बताने जा रहे हैं, कैसे लाए अपने चेहरे पर प्यारी-सी फूलों वाली मुस्कान-


  चिंता को बाय-बाय बोले


 टेंशन की दुनिया है, टेंशन लेने का नहीं, टेंशन देने का भी नहीं।  जब किसी से मिले तो पूरे गर्मजोशी के साथ मुस्कुराकर मिले।  हो सकता है, उस इंसान के अंदर भी तनाव हो और आपकी  मुस्कुराहट  देखकर वह कुछ समय के लिए  टेंशन फ्री हो जाए।  इसलिए मुस्कुराहट आप की पहली जीत होती है, आप जिससे भी मिलते हैं वह आपको तवज्जो देना शुरू करता है। आपकी बातों में इंटरेस्ट लेना शुरु करता है, जिससे आपका काम बनने लगता है। 


 मुस्कुराहट कायम रखें


 जब आप किसी नए व्यक्ति से मिलते हैं तो आपकी मुस्कुराहट बनावटी नहीं होनी चाहिए बल्कि नेचुरल  मुस्कुराहट होनी चाहिए।  मुस्कुराहट वाली मीटिंग आपकी सबसे बेहतरीन मीटिंग होगी। इससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा। बात करते समय अपनी सोच पर काबू रखें जिससे कि आपका कॉन्फिडेंस कम न हो।


  ऐसी तस्वीरें देखिए जो आपको मुस्कुराने के लिए कहे

छोटे से बच्चे की मुस्कुराती तस्वीरें आपको मन ही मन मुस्कुराहट दे जाती हैं। कोई ऐसी बात चुटकुला, जो आपको मुस्कुराहट दे सकती है उसे जरूर पढ़ें। छोटे बच्चों से बातें करें। उनकी हर बातों में खुशियां झलकती है आप उसे कैच करने की कोशिश करें। 


 मुस्कुराहट का दुश्मन क्रोध


  जिन बातों पर गुस्सा आता है, उन बातों को न सोचें हो सकता है कि आपका यह गुस्सा कुछ अधिक   रियक्ट करता है तो आप उन बातों से दूर रहिए। मुस्कुराहट के साथ रहेंगे तो निश्चित ही आपका मन क्रोध रूपी अग्नि में गोते नहीं लगाएगा, वह तो मुस्कुराहट की भीनी भीनी बारिश में खुद को भी भिगोना चाहेगा इसलिए जहां पर हंसी है, वहां पर खुशी है, और वहां पर आपको होना चाहिए।


 आओ प्रकृति से सीखे मुस्कुराना


 देखिए प्रकृति की हर चीजें मुस्कुराती है।  खिली- खिली धूप का मुस्कुराना,  मंद- मंद चलती हवा का मुस्कुराना, खिलते हुए फूलों का मुस्कुराना,  तितलियों को मुस्कुराते हुए  उड़ते हुए देखना और नीले गगन का बादलों के साथ मुस्कुराहट के खेल  देखिए!

कैसे  कोई बादल आसमान के कैनवास पर  मुस्कुराती हुई आकृति बनाता है, उसे आप  देखें वह तो आप से कहता है, थोड़ा मुस्कुरा दो! 



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य और दूसरा काव्य साहित्य।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। लघु कथा की परंपरा हमारे संस्कृति में 'पंचतंत्र' और 'हितोपदेश' की छोटी कहानियों  से भी  रही है। इन कहानियों को लघु-कथा भी कह सकते हैं। आपने भी छोटी-छोटी लघु कहानियाँ अपने बड़ों से जरूर सुनी होगी।  'पंचतंत्र' में इस तरह की लघु-कथाओं में जीव-जंतु यानी जानवरों और पक्षियों के माध्यम से मनुष्य को नीति की शिक्षा यान

संज्ञा और उसके भेद

​हिंदी व्याकारण नवाचार कक्षा 4 व 5 संज्ञा और उसके                              सामग्री- 6 कार्ड उसमें संज्ञा के तीनों भेद के उदाहरण लिखा हुआ होगा। यह कार्ड ताश के पत्ते के आकार का होगा। प्रथम चरण सर्वप्रथम शिक्षक द्वारा कक्षा में बच्चों का नाम  पूछेगा। आपक नाम क्या है? इस तरह वह छह बच्चों से नाम पूछकर उन्हें एक एक कार्ड क्रम से दे देगा और बैठने के लिए कहेंगे। कुछ बच्चों से शिक्षक पूछेगा कि वे कहाँ-कहाँ घूमने के लिए गए थे? इस तरह से कुछ स्थानों का नाम वह श्यामपट्ट पर लिख देगा। दूसरा चरण प्रस्तावना प्रश्न के बाद, ब्लैक बोर्ड पर संज्ञा लिखना, फिर किसी बच्चे का नाम ब्लैकबोर्ड पर लिखना। वह किस शहर में रहता है। वह भी लिखना। फिर एक पंक्ति में यह बताना कि मैं प्रयागराज में रहता हूं। तो यहाँ पर संज्ञा कौन-कौन सी है। उसे इंगित करेंगे यानी जो नाम है, वह संज्ञा है। `राजू` यहां पर किसी भी बच्चे का नाम लिख सकते हैं। संज्ञा एक नाम है क्योंकि यह एक लड़के का नाम है। जबकि `प्रयागराज` किसी स्थान का नाम है, इसलिए यह भी संज्ञा है।  श्यामपट् पर व्यक्तिवाचक संज्ञा लिखकर, पहले वाले बच्चे

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं? ----------------------------------------------------------------------- हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।