कक्षा 4 CBSE बोर्ड के पैटर्न अनुसार New Education Policy 2020 सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कक्षा 4 CBSE बोर्ड के पैटर्न अनुसार New Education Policy 2020



National Education Policy 2020 Hindi

पाठ 2
कक्षा 4 सी० बी० एस० ई० बोर्ड के पैटर्न अनुसार

New Education Policy 2020

बोलने वाला वृक्ष
 
पर्यावरण  संरक्षण कहानी
लेखक- अभिषेक कांत पांडेय 

----------------------

 पाठ की बात…
 वृक्ष हमें शुद्ध हवा और हरियाली देते हैं।  वृक्ष में भी जीवन होता है।  ये प्रकृति के मित्र हैं। वृक्षों की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है,  हमें अधिक से अधिक वृक्ष लगाने है  और धरती को  प्रदूषणमुक्त बनाना है।

-------


नींम का वृक्ष बहुत उदास था। वह अपने कॉलोनी  का आखिरी वृक्ष था।   दूर-दूर तक ऊँची इमारतें बन गई थीं। नींम के वृक्ष के मित्र मनुष्य के स्वार्थ की भेंट चढ़ गए थे। पाँच वर्ष पहले नींम अकेले नहीं था। उसके चार कदम की दूरी पर आम का वृक्ष था।  बगल वाले मोड़ पर पीपल का वृक्ष शान से खड़ा रहता था।  उस कॉलोनी में कई वृक्ष थे।  हर गली की पहचान उन्हीं वृक्षों से होती थी।  अब उसके अलावा कॉलोनी में कोई वृक्ष बचा ही नहीं था। 

-------------

सोचकर बताएँ--   क्या आपके गली-मोहल्ले की पहचान किसी वृक्ष के नाम से है? जैसे  नींम वाली गली,  पीपल के किनारे वाली सड़क इत्यादि।

-------------

पाँच वर्ष पूर्व अचानक आसपास  की ज़मीनें बिकनी  शुरू हुईं।  खेती की सारी ज़मीनें बिक गई थीं।  इन ज़मीनों पर  इमारतें, दुकानें, विद्यालय, उद्यान, अस्पताल बन गए थे। कॉलोनी में नींम का अकेला वृक्ष था। वह उदास रहता था।  उसके साथ बोलने वाला कोई नहीं था।

 

उसी कॉलोनी में नौ वर्ष का राजू अपने  माता-पिता के साथ रहने के लिए आया था।  एक दिन राजू खेलते-खेलते नींम के वृक्ष के पास बैठता है।  पेड़ की छाया और ठंडी-ठंडी हवा उसकी थकान मिटा देती है। फिर राजू वृक्ष की छाँव के नीचे खेलने लगता है। अचानक उसे  कहराने की आवाज़ सुनाई दी। उसने इधर-उधर देखा, कोई दिखाई नहीं दिया। राजू फिर खेलने लगता है।  उसे फिर आवाज़ सुनाई दी।  राजू ने ध्यान से आवाज़ सुनी।  उसका माथा ठनका।  उसने पेड़ की  ओर ध्यान से देखा।  वह आश्चर्य में पड़ गया। यह क्या! नींम का वृक्ष बोल रहा है- 

राजू बेटा! तुम घबराओ नहीं, मैं तुम्हारे दादा जी की तरह हूँ।

 राजू ने डर से काँपते हुए कहा, " मुझे माफ करना, मैं आपको अब परेशान नहीं करूँगा।"  यह सुनकर नींम हँसने लगा।

 नींम ने कहा, "क्या तुम प्रतिदिन यहाँ पर मेरे साथ खेलने के लिए आओगे?"

राजू का डर अब खत्म हो गया। प्रतिदिन आने के लिए राजू ने नींम से वादा किया। 


 राजू हर दिन नींम के पास आता और खूब खेलता था। नींम ने राजू को कई  कहानियाँ भी सुनाईं।  राजू प्रसन्न रहने लगा। राजू नजदीक के विद्यालय में पढ़ने भी जाता था। विद्यालय की सारी बातें वह नींम से बताता था। नींम और राजू  आपस में  खेलते, हँसते और बतियातें। 

महीनों गुजर गएँ। आज नींम बहुत उदास था।  राजू ने कारण पूछा।  नींम ने बताया कि इस ज़मीन का मालिक यहाँ पर मकान  बनवाना चाहता है। वह मुझे  काटना चाहता है। ये बातें सुनकर राजू बहुत दुखी हो गया।  उसने नींम से कहा कि तुम चिंता मत करो।  मैं आपको बचाऊँगा।  राजू की बातें सुनकर नींम ने कहा, "राजू,  तुम तो बहुत छोटे हो।  तुम्हारी कौन सुनेगा?  यहाँ कई वृक्ष थे।  सभी वृक्षों को एक-एक करके काट दिए गए। अब ये इंसान मुझे भी काटना चाहते हैं।"  

इतना कहने के बाद नींम चुप हो गया। राजू वहाँ  से लौटकर अपने घर आया। उसने अपनी माँ से सारी बातें बताईं। माँ! नींम का वृक्ष बोलता है। वह रोज़ मुझसे बातें करता है। यह सुनकर माँ को विश्वास नहीं हुआ।  राजू ने माँ से बताया कि उस वृक्ष को भी काट दिया जाएगा। राजू उदास हो गया। उसकी माँ ने कहा कि यदि  तुम चाहोगे तो उस वृक्ष को कोई नहीं काट सकता है।  लेकिन तुम्हें सभी को दिखाना और सुनाना पड़ेगा कि वह वृक्ष बोलता है। तब ज़मीन का मालिक उस वृक्ष को नहीं काटेगा।  


राजू रातभर सोचता रहा। उसने एक युक्ति सोची।  वह खुशी से उछल पड़ा!

 अगली सुबह वह वृक्ष के पास पहुँचा।  वृक्ष को सारी बातें बताईं और कहा, उन्हें सबके सामने बोलना है,  अपनी बात कहेंगे तो ज़मीन के मालिक  को अपनी ग़लती का  एहसास होगा।

नींम इस बात पर सहमत हो गया।

 अगले दिन राजू ने अपनी माँ की सहायता से वहाँ रहने वाले सभी लोगों को इकट्ठा कर लिया। सभी लोग उत्सुक थे।  यह जानने के लिए कि कोई पेड़ क्या सचमुच में बोलता है!  जमीन के मालिक को भी यह सूचना मिली और वह भी वहाँ चला आया।  भीड़ इकट्ठी हो गई।  राजू ने कहा, "यह नींम का  पेड़ मेरे दादाजी के समान है।  मैं  प्रतिदिन इनसे कहानियाँ सुनता हूँ और ज्ञान की बातें भी सीखता हूँ।  राजू की बातें सुनकर वहाँ उपस्थित सभी लोग जोर-जोर से हँसने लगें। राजू थोडा़ भी घबराया नहीं। राजू ने ज़मीन के मालिक से कहा कि इस पेड़ को मत काटो। 

 ज़मीन का मालिक हँसकर कहने लगा, "यदि मैं इस पेड़ को नहीं काटूँगा तो लोग को घर कैसे बनाकर दूँगा।"

 तब राजू ने कहा कि क्या  आप  एक जिंदा पेड़ को काटेंगे।  यह पेड़ हमें स्वच्छ वायु देता है। इस तरह  के कई वृक्षों को यहाँ से काटकर हटा दिया गया।  इस मोहल्ले में केवल  एक बोलता  एक  वृक्ष ही बचा है। क्या हम सबकी जिम्मेदारी नहीं है कि इस वृक्ष की रक्षा करें।

 यह बात सुनकर सभी लोग नींम की तरफ देखने लगें। एक व्यक्ति ने कहा कि हम कैसे मान लें कि यह वृक्ष बोलता है।  दूसरे व्यक्ति ने कहा कि यदि  यह वृक्ष बोलकर दिखाए तो हम इसे नहीं काटेंगे।  अब सभी लोग को प्रमाण चाहिए कि वृक्ष बोलता है कि नहीं।

 राजू वृक्ष के सामने खड़ा हो गया और कहने लगा, " नींम दादा बोलिए न!  अगर आप नहीं बोलेंगे तो इन लोग को विश्वास नहीं होगा। फिर पेड़ों की रक्षा कैसे होगी!"  


सभी लोग वृक्ष की तरफ आश्चर्य से देखने लगे। वृक्ष जो़र-जो़र से रोने लगा।  वृक्ष की आवाज़ सुनकर सभी डर गएँ। अब सभी को विश्वास हो गया कि  वृक्ष भी बोलते हैं, उनकी भी भावनाएँ होती हैं।  ज़मीन के मालिक का  दिल पसीज गया।  उसने  राजू से कहा, "तुमने हमारी आँखें खोल दी।  तुम एक अच्छे बच्चे हो।  आज से हम लोग भी वृक्ष लगाएँगे। वृक्ष को काटेंगे नहीं, वृक्ष की सुरक्षा को ध्यान में रखकर ही मकान बनाएँगे।"

 सभी लोग ने राजू की तारीफ़ की।  कॉलोनी  के लोग अब पेड़-पौधों के महत्व को जानने लगे थे। कॉलोनी में सैकड़ों पेड़-पौधे रोपे गएँ। वहाँ पर फिर से हरियाली  लौट आई। राजू और नींम दोनों प्रसन्न हैं। आज भी राजू उस नींम के वृक्ष से बातें करता है।

-------------

सोचकर बताएँ--  राजू ने वृक्ष को क्यों बचाया?

-------------


 आओ अर्थ जानें-

 पूर्व-  पहले, आगे

          पूर्व एक दिशा  का नाम भी है।  चार         दिशाएँ, पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण

उद्यान- पार्क

 प्रतिदिन- हर रोज़

एहसास होना- महसूस होना

  प्रमाण- सबूत, साक्ष्य

युक्ति- उपाय, तरकीब़



मुहावरा-


भेंट चढ़ाना-  कुर्बानी देना

 माथा ठनकना-  अहित होने की आशंका

दिल पसीजना- उदारता, दया, स्नेह आदि का भाव आना।


 अब बताने की बारी-


 पाठ की समझ

  

  1. प्रश्नों के उत्तर बोलकर बताइए- 

क.  नींम का  क्यों उदास था?

ख.  खेती की सारी जमीनें क्यों बेच दी गई?

ग. राजू की बात सुनकर लोग क्यों हँसने लगे?

घ.  राजू ने वृक्ष को कटने से कैसे बचाया?

  1. प्रश्नों के उत्तर वाक्यों में लिखें-

           क. जमीन के मालिक का दिल क्यों     पसीज गया?

           ख.   राजू की माँ ने वृक्ष को बचाने के लिए क्या उपाय सुझाया?

           ग. कहानी के अंत में राजू और नींम क्यों प्रसन्न थे?

           

  1. किसने कहा?

क. " मुझे माफ करना, मैं आपको अब परेशान नहीं करूँगा।"  

ख. "यदि मैं इस वृक्ष को नहीं काटूँगा तो लोग को घर कैसे बनाकर दूँगा।"


  1.   आओ विचार करें-

क.   हमें वृक्षों  की रक्षा क्यों करनी चाहिए?

ख.   घर के आस-पास वृक्ष होना क्यों जरूरी है?


  1. भाषा ज्ञान-

क. किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान या भाव के नाम को संज्ञा कहते है।

 यहाँ दिए गए शब्दों में से  संज्ञा शब्द छाँटकर अलग लिखें-

आज, तरफ,  राजू, तुमने, हँसना, पीपल,  वृक्ष, दोनों, सीखता


ख.  इन शब्दों के दो-दो पर्यायवाची  शब्द लिखें-

 वृक्ष 

 वायु

 रात

 दया 



ग. पाठ में आए हुए मुहावरे को खोजकर लिखें  और वाक्य बनाओ।


  1. आओ कुछ अलग करें-


क. अपने घर के आस-पास के मनपसंद पेड़ों की लिस्ट बनाएँ। उनके बारे में जानकारी इकट्ठा करके दस वाक्य लिखें। 

ख.  वृक्ष बचाने के लिए और  जागरूक करने के लिए सुंदर वाक्यों में दो स्लोगन लिखें।

ग.  वृक्ष के महत्व को बताने के लिए  एक रंगीन चित्र बनाओ।

घ.  तुमने कुछ कहानियाँ अपनी माँ, नानी और दादी से ज़रूर सुनी होगी।  कोई एक कहानी अपनी कक्षा में सुनाओ। 


सी० बी० एस० ई० बोर्ड या किसी और बोर्ड की हिन्दी पाठ्यक्रम पुस्तक लिखवाने के लिए संपर्क करें-
Mail-in abhishekkantpandey@gmail.com

यह पूरा पाठ कहानी सहित कॉपीराइट है, बिना अनुमति इसका कहीं भी प्रयोग नहीं कर सकते हैं।



        










टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य और दूसरा काव्य साहित्य।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। लघु कथा की परंपरा हमारे संस्कृति में 'पंचतंत्र' और 'हितोपदेश' की छोटी कहानियों  से भी  रही है। इन कहानियों को लघु-कथा भी कह सकते हैं। आपने भी छोटी-छोटी लघु कहानियाँ अपने बड़ों से जरूर सुनी होगी।  'पंचतंत्र' में इस तरह की लघु-कथाओं में जीव-जंतु यानी जानवरों और पक्षियों के माध्यम से मनुष्य को नीति की शिक्षा यान

संज्ञा और उसके भेद

​हिंदी व्याकारण नवाचार कक्षा 4 व 5 संज्ञा और उसके                              सामग्री- 6 कार्ड उसमें संज्ञा के तीनों भेद के उदाहरण लिखा हुआ होगा। यह कार्ड ताश के पत्ते के आकार का होगा। प्रथम चरण सर्वप्रथम शिक्षक द्वारा कक्षा में बच्चों का नाम  पूछेगा। आपक नाम क्या है? इस तरह वह छह बच्चों से नाम पूछकर उन्हें एक एक कार्ड क्रम से दे देगा और बैठने के लिए कहेंगे। कुछ बच्चों से शिक्षक पूछेगा कि वे कहाँ-कहाँ घूमने के लिए गए थे? इस तरह से कुछ स्थानों का नाम वह श्यामपट्ट पर लिख देगा। दूसरा चरण प्रस्तावना प्रश्न के बाद, ब्लैक बोर्ड पर संज्ञा लिखना, फिर किसी बच्चे का नाम ब्लैकबोर्ड पर लिखना। वह किस शहर में रहता है। वह भी लिखना। फिर एक पंक्ति में यह बताना कि मैं प्रयागराज में रहता हूं। तो यहाँ पर संज्ञा कौन-कौन सी है। उसे इंगित करेंगे यानी जो नाम है, वह संज्ञा है। `राजू` यहां पर किसी भी बच्चे का नाम लिख सकते हैं। संज्ञा एक नाम है क्योंकि यह एक लड़के का नाम है। जबकि `प्रयागराज` किसी स्थान का नाम है, इसलिए यह भी संज्ञा है।  श्यामपट् पर व्यक्तिवाचक संज्ञा लिखकर, पहले वाले बच्चे

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं? ----------------------------------------------------------------------- हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।