Vigyapan Lekhan Hindi class 10 सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Vigyapan Lekhan Hindi class 10

 CBSE board advertisment writing Hindi class 10


सी० बी० एस० ई० (CBSE board) बोर्ड के कक्षा - 10 हिंदी अ पाठ्यक्रम में 5 अंकों का विज्ञापन लेखन
advertisment writing से प्रश्न परीक्षा में पूछा जाता है।


विज्ञापन किसे कहते हैं?

 विज्ञापन का उद्देश्य क्या है?

 विज्ञापन कैसे लिखा जाता है? 

विज्ञापन के प्रकार क्या होते हैं?

 विज्ञापन की  आवश्यकताएँ क्या है? 

विज्ञापन लिखे जाने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।


बोर्ड की परीक्षा में आप विज्ञापन किस तरह से लिखेंगे।

  छात्रों आज के क्लास में विज्ञापन  के   पहलुओं के बारे में चर्चा करेंगे जो हर प्रतियोगी परीक्षा और अकैडमी परीक्षा के लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण है।


 विज्ञापन किसे कहते हैं?


'विज्ञापन' शब्द के लिए अंग्रेजी में एडवर्टाइजमेंट (Advertisement) का प्रयोग होता है।  जिसका मतलब होता है, सार्वजनिक सूचना, सार्वजनिक घोषणा अथवा ध्यानाकर्षण करना।  विज्ञापन का मतलब सूचना पहुंचाना व अपील करना होता है। 

 छात्रो! विज्ञापन यदि रोचक होगा तो अपनी बात अधिक से अधिक लोग तक पहुंचाई जा सकती है इसलिए विज्ञापन में रचनात्मकता का बहुत बड़ा महत्व होता है।


 विज्ञापन दो शब्दों से मिलकर बना है-

 वि+ ज्ञापन।

यहाँ  उपसर्ग  'वि' का अर्थ-  विशेष होता है।

ज्ञापन का अर्थ होता है- सूचना का ज्ञान।

  विज्ञापन किसी  लक्षित समूह (Target Audience/ group/ consumer) को संबोधित करता है। जिसमें किसी वस्तु के क्रय- विक्रय या सेवा से संबंधित ज्ञान यानी सूचना होता है।


 विज्ञापन के उद्देश्य


 कोई विज्ञापन तभी सफल होता है जब वह  अपने उद्देश्य को पूरा कर सकता हो।

  1. उत्पादक को लाभ (profit) पहुँचाना।

  2.  उपभोक्ता (consumer) को वस्तु या सेवा खरीदने के लिए प्रेरित करना।

  3.  विक्रेता (seller) यानी बेचने वाले की  मदद विज्ञापन करता है।

  4.  प्रतिस्पर्धा (competition) बनाए रखता है और अपने उत्पाद (product) की बाजार में मांग (Demonds in maket)  पैदा करता है।

  5.  उपभोक्ता (consumer) को किसी वस्तु को खरीदने के लिए प्रेरित (motivate) करता है अर्थात उसकी क्रय क्षमता का विकास भी करता है।


 विज्ञापन की आवश्यकता


 अब प्रश्न उठता है कि विज्ञापन की आवश्यकता क्यों पड़ती है।  अगर आप कोई उत्पाद (product) बाजार में लाए हैं तो उसे  लक्षित उपभोक्ता (Target consumer) तक पहुँचाने के लिए आपको सूचना देनी पड़ेगी इसलिए आपको विज्ञापन की जरूरत पड़ती है।


  1.  नए उत्पादों या नए विचार (new product or new idea) को लोगों तक पहुँचाने के लिए विज्ञापन की जरूरत पड़ती है।

  2.  अपने उत्पादों की  विशेषता (quality) बताने के लिए ग्राहकों तक पहुँचाने के लिए विज्ञापन की आवश्यकता होती है।

  3.  अपने उत्पादों के संबंध में जो तर्क है, उसको पुष्टि करने के लिए विज्ञापन की आवश्यकता होती है।

  4.  अपने विरोधियों की विज्ञापन  के गलत तर्कों  के जवाब में अपना तर्क रखने के लिए विज्ञापन की जरूरत होती है।

  5.  विज्ञापन के जरिए अपने उत्पाद की छवि वाली ब्रांड बनाए रखने के लिए विज्ञापन की समय-समय पर जरूरत होती है।

  6.  उपभोक्ता में दीर्घ काल (long periods) तक उत्पाद  के प्रति विश्वास बनाए रखने के लिए विज्ञापन की आवश्यकता होती है।

  7.  उपभोक्ता की पसंद को अपने उत्पाद के प्रति बनाए रखने के लिए भी विज्ञापन की जरूरत होती है।


 विज्ञापन लिखते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए-


  1.  विज्ञापन ऐसा हो जो कि उत्पाद के बारे में आकर्षित ढंग से बताएं और उपभोक्ता को उत्पाद खरीदने के लिए प्रेरित करने वाला होना चाहिए।

  2.    एक अच्छा विज्ञापन लोगों में उत्पाद के प्रति उनके मन में ब्रांड की छवि उभारता है।

  3. विज्ञापन उत्पाद के प्रति कम शब्दों में सही सूचना प्रदान करने वाला होना चाहिए।

  4.  सबसे महत्वपूर्ण बात की विज्ञापन उसको उपभोक्ता को यह समझाने में सफल रहे कि आखिर इस उत्पाद को खरीदने में उन्हें क्या लाभ होगा।


विज्ञापन और माध्यम (advertisment and medium)


  आज के युग में विज्ञापन कई माध्यमों में प्रचारित होते हैं। लिखित विज्ञापन अखबारों और छपते हैं।

  रेडियो में केवल ध्वनि प्रभाव वाले विज्ञापन सुनाई देते जिस में संगीत का अच्छा प्रयोग किया जाता है।  इसी तरह इलेक्ट्रॉनिक चैनलों में भी विज्ञापन ऑडियो और वीडियो के माध्यम से प्रस्तुत किया जाता है। 

 आज के समय में विज्ञापन लिखना  बहुत सम्मानजनक और पैसा कमाने वाला व्यवसाय है। विज्ञापन वही व्यक्ति बेहतर लिख सकता है, जिन्हें उत्पाद के साथ-साथ  उपभोक्ता की भी समझ  हो। 


आपके बोर्ड परीक्षा में 5 अंकों का जो विज्ञापन लेखन आता है, उसमें आपको कम से कम शब्दों में आकर्षक चित्र के माध्यम से विज्ञापन लिखना होता है।


 आइए विज्ञापन लिखा जाए


छात्रों विज्ञापन में आकर्षक वाक्यों के साथ ही आकर्षक ग्राफिक्स यानी चित्र भी होते हैं। विज्ञापन के प्रकार के बारे में जान लीजिए-

  1.  अनुनेय विज्ञापन 

 उपभोक्ता के मन में आकर्षित करने वाले विज्ञापन खरीदने के लिए प्रेरित करने वाले विज्ञापन इसके अंतर्गत आते हैं।

  1. सूचना प्राप्त विज्ञापन

  ट्रेनिंग या रोजगार, कार्यशाला आयोजन वाले विज्ञापन।

  1.  संस्थानिक विज्ञापन

 इस तरह के विज्ञापन व्यवसायिक विज्ञापन होते हैं जो कि समय-समय पर उन संस्थानों द्वारा अपनी साख बनाने के लिए प्रसारित किए जाते हैं। ब्रांड का विज्ञापन, जैसे- कार का विज्ञापन


  1. औद्योगिक विज्ञापन

 औद्योगिक संस्थान का विज्ञापन ताकि प्रोडक्ट डिमांड को बढ़ाया जा सके। वाशिंग पाउडर, चायपत्ती आदि का विज्ञापन की श्रेणी में आता है।

  1.  वित्तीय विज्ञापन 

शेयर  खरीदने वाले विज्ञापन, आनंद से संबंधित विज्ञापन एलआईसी वगैरह के विज्ञापन किस श्रेणी में आता है।

  1. वर्गीकृत विज्ञापन जिसे क्लासीफाइड विज्ञापन भी कहते हैं।  अखबारों में विज्ञापन अधिकतर देखे जाते हैं कम खर्च में उपभोक्ता तक पहुंचने वाले यह विज्ञापन किसी शहर के अखबार में वहां स्थानीय जरूरतों के हिसाब से प्रकाशित किया जाता है। 

  2. नौकरी के लिए विज्ञापन


 विज्ञापन लिखने वाला कॉपीराइटर कहलाता है। 


विज्ञापन में शीर्षक

 यह आकर्षित करने वाला होना चाहिए।


उपशीर्षक

  शीर्षक के अतिरिक्त उपशीर्षक में अन्य बातें आती है जो उत्पाद के बारे में अलग तरह से बताती है।


मुख्य कथ्य (बॉडी कॉपी) (body copy)


 इसमें उपभोक्ताओं को विस्तार से उत्पाद के बारे में बताया जाता है और उसे खरीदने के लिए अभिरुचि उपभोक्ता में जगाई जाती है जिज्ञासा पैदा किया जाता है कि उत्पाद उनके लिए सबसे बेहतर होगा।


विज्ञापन की लेआउट (layout of Advertisement)


  विज्ञापन की रूप सज्जा, रंग- संयोजन, चित्र, इन सब बातों का ध्यान विज्ञापन की लेआउट  बनाते समय रखा जाता है ताकि उपभोक्ता को विज्ञापन एक नजर में आकर्षित लगे और उसे पढ़ने के लिए तैयार हो जाए।


 ट्रेडमार्क व लोगो (logo)


 हर उत्पाद की पहचान उसकी ट्रेडमार्क होता है जिससे कि उसे पहचाना जाता है।  यह चित्र के रूप में या खास लिखावट के रूप में ट्रेडमार्क या लोगों होते हैं जिससे उस उत्पाद की पहचान उपभोक्ता आसानी से कर लेता है और जब खरीददारी करने जाता है तो वह उत्पाद में यह लोगों देखकर उसे जल्दी याद आ जाता है कि इसे ही खरीदना था। इसलिए विज्ञापन में इन बातों का ध्यान रखा जाता है ट्रेडमार्क और लोगो का प्रयोग किया जाता है।


आइए उदाहरण से समझें-

प्रश्न1.   न्यू रॉयल चाय चायपत्ती के प्रोडक्ट के लिए एक एक आकर्षक विज्ञापन तैयार कीजिए। 

 शीर्षक-  रॉयल चायपत्ती


सेहत भी बनाए और चुस्ती भी लाए

 असम की चुनिंदा बागानों से चुनकर लाएं हैं, 

 आपके लिए बेहतरीन  चाय!

सुबह की  एक प्याली चाय 

 आपकी सुस्ती भगाए  और सेहत बनाएं


विज्ञापन लेखन एडवरटाइजमेंट राइटिंग


  प्रोजेक्ट वर्क से पढ़ाई क्यों जरूरी है?  पढ़ने केेेेे लिए क्लिक करें।





टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य और दूसरा काव्य साहित्य।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। लघु कथा की परंपरा हमारे संस्कृति में 'पंचतंत्र' और 'हितोपदेश' की छोटी कहानियों  से भी  रही है। इन कहानियों को लघु-कथा भी कह सकते हैं। आपने भी छोटी-छोटी लघु कहानियाँ अपने बड़ों से जरूर सुनी होगी।  'पंचतंत्र' में इस तरह की लघु-कथाओं में जीव-जंतु यानी जानवरों और पक्षियों के माध्यम से मनुष्य को नीति की शिक्षा यान

Laghu Katha Lekhan CBSE Board

    लघु कथा कैसे लिखें, उदाहरण से समझें CBSE board hindi  प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा (laghu katha)  लिखना। CBSE Board 9th class Laghu Katha lekhan दसवीं बोर्ड की कक्षा 9 के सिलेबस में और कई  बोर्ड की परीक्षा में इस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं।  (new syllabus 2020 Laghu Katha lekhan)    दिए गए प्रस्थान बिंदु (prasthan Bindu) का मतलब है कि दो या चार लाइन लघुकथा के दिए होते हैं। उसके बाद आपको 80 से 100 शब्दों में लघुकथा को पूरा करना होता है। उसका एक शीर्षक (title) लिखना होता है।  नई शिक्षा नीति 2020 (New Education Policy) में भाषा में रचनात्मक लेखन (Creative Writing) को बढ़ावा दिया गया है। इसलिए  हिंदी Hindi, अंग्रेजी, मराठी  उर्दू किसी भी भाषा के पेपर में संवाद लेखन, लघुकथा, लेखन अनुच्छेद, (anuchchhed lekhan) लेखन विज्ञापन लेखन, (Vigyapan lekhan) सूचना लेखन (Hindi mein Suchna lekhan) जैसे टॉपिक में नई शिक्षा नीति के ( new education policy 2020) अंतर्गत सिलेबस में रखे गए हैं।  लघुकथा लेखन 9 व 10 की परीक्षा में पूछा जाता है Laghu katha lekhan in Hindi in board examination आप ह

Laghu katha prasthan bindu ke adhar per kaise likhe/ लघु कथा प्रस्थान बिंदु के आधार पर कैसे लिखें?

    लघु कथा प्रस्थान बिंदु के आधार पर कैसे लिखें? Laghu katha prasthan bindu ke adhar per kaise likhe लघुकथा लेखन उदाहरण सहित    कई बोर्ड की परीक्षाओं (board examination CBSE board) में लघुकथा (laghu Katha) लिखने को दिया जाता है। स्टेट बोर्ड (State board) की परीक्षा में भी लघुकथा पर प्रश्न (question of laghu katha) पूछता है। लघु कथा कैसे लिखा (How To write short story in hindi) जाए? आज हम laghu katha टॉपिक पर चर्चा करने जा रहे हैं। छात्रों सीबीएसई बोर्ड की कक्षा 9 के नए (CBSE board syllabus class 9 session 2020-21) सिलेबस 2020 के अनुसार हिंदी यह पाठ्यक्रम में प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा लिखने का प्रश्न इस बार आएगा। CBSE class 10 B hindi syllabus. लघु कथा लेखन पूछा जाता है। According to the new syllabus 2020 of class 9 of CBSE board students, this question of writing short story based on the point of departure in Hindi syllabus will come this time.  निम्नलिखित   प्रस्थान बिंदु के आधार पर 100 से 150 शब्दों में एक लघुकथा लिखिए। (Write a short story in 100 to 150 words based on t