रचना के आधार पर वाक्य Trick सीबीएसई बोर्ड class x सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रचना के आधार पर वाक्य Trick सीबीएसई बोर्ड class x

रचना के आधार पर वाक्य Trick

Rachna ke adhar per vakey trick
Multiple choice questions CBSE board class 10 hindi
Complete class Hindi
Simple vakey,
Saunkt vakeya, 
Mishr vakey
संयुक्त वाक्य मिश्रा वाक्य सरल वाक्य
New syllabus 2020-21
New pattern




 सीबीएसई बोर्ड के परीक्षा पैटर्न के अनुसार कक्षा 10 के हिन्दी अ पाठ्यक्रम में में 3 से 4 अंकों का इस बार बहुविकल्पी प्रश्न भी पूछा जाएगा। 

 रचना के आधार पर वाक्य तीन प्रकार के होते हैं- rachana ke aadhaar par vaaky teen prakaar ke hote hain

रचना के आधार पर वाक्य तीन प्रकार के होते हैं
सरल वाक्य संयुक्त वाक्य मिश्र वाक्य सरल वाक्य- जिस वाक्य में एक ही क्रिया हो मतलब की एक ही विधेय हो। कर्ता या उद्देश एक या एक से अधिक हो। इसे सरल वाक्य या साधारण वाक्य कहते हैं।

 उदाहरण 
 बालक हिन्दी पढ़ता है।

 बालक यहाँ पर उद्देश (कर्ता) है। 

 हिन्दी पढ़ता है। एक विधेय है यानी एक क्रिया है।

 छात्रों यह सरल वाक्य है।

 अब दूसरा उदाहरण लेंगे और इसमें उद्देश्य यानी कर्ता एक से अधिक का प्रयोग करके देखिए, 

इसी उदाहरण में। 

 बालक और बालिका हिन्दी पढ़ते हैं। 

 इस वाक्य में बालक और बालिका दो कर्ता है यानी कि दो उद्देश हैं 
लेकिन क्रिया पढ़ना एक है, यानी विधेय है इसलिए यह सरल वाक्य यानी साधारण वाक्य का उदाहरण है। 
Saral vakeya

 सरल वाक्य के कुछ उदाहरण 

 वहाँ मत जाओ। 

 यहाँ उद्देश्य छिपा हुआ है इसलिए 'सरल वाक्य' का उदाहरण है। क्योंकि यह वाक्य पूरा अर्थ बता रहा है। 
 अकर्मक क्रिया होने पर वाक्य में कर्म नहीं होता है। लेकिन वाक्य पूरा अर्थ बता रहा है इसलिए सरल वाक्य हुआ।

 उदाहरण- 
1. बालक रोता है।
 2. पक्षी उड़ते हैं। 
3.  सफेद शर्ट वाला व्यक्ति समझदार है।


 सरल वाक्य के और उदाहरण 


 शीला ने चम्मच से खीर खाई। 

 यहाँ चम्मच और खीर दो कर्म है।
 लेकिन क्रिया एक है इसलिए सरल वाक्य है।

 राजू ने टिफिन बस्ते में रखा। 

यहाँ टिफिन और बस्ता दो कर्म है, द्विकर्मक।
 लेकिन क्रिया एक है इसलिए सरल वाक्य है।

 प्रेरणार्थक क्रिया का उदाहरण देखें- 


 अध्यापक ने छात्रों से प्रोजेक्ट बनवाया। 

 मैनेजर ने क्लर्क से वेतन- पर्ची बनवाई।

 सरल वाक्य के कुछ उदाहरण 

 आज मैं दिल्ली घूमने जाऊँगा।
 घनश्याम क्रिकेट खेलता है। 
 वह किसी बात पर हँसता है। 

 संयुक्त वाक्य sanukt vakey


जब दो या दो से अधिक सरल वाक्य को समुच्चयबोधक द्वारा जोड़ा जाता है-
 यह दोनों वाक्य एक दूसरे के पूरक हो जाते हैं। 
यह दोनों वाक्य किसी पर आश्रित नहीं होते हैं। 
यह दोनों उपवाक्य प्रधान उपवाक्य कहलाते हैं। 

ऐसे वाक्य संयुक्त वाक्य कहलाते हैं।

 उदाहरण देखें दो सरल वाक्य से कैसे बनाते हैं,
 संयुक्त वाक्य पहला सरल वाक्य-
  मैं पढ़ रहा हूँ।

 दूसरा सरल वाक्य

 तुम लिख रहे हो। 
 
संयुक्त वाक्य बनाने की पहली शर्त की समानाधिकरण समुच्चयबोधक द्वारा जोड़ा जाना, तो 
यहाँ पर 'और' समुच्चयबोधक प्रयोग करेंगे। 

 मैं पढ़ रहा हूँ और तुम लिख रहे हो। 

 संयुक्त वाक्य का दूसरा उदाहरण देखिए-

   दादा जी आने वाले थे, लेकिन नहीं आए।
 क्या सोचा था, क्या हो गया। 

 यहाँ पर समुच्चयबोधक का लोप है। 

 संयुक्त वाक्य समुच्चयबोधक अव्यय से जुड़े होते हैं उनकी सूची ये है- 

 और तथा एवं 
 इसलिए सो अत:
 या अथवा या 
ना नहीं तो अन्यथा वरना 
 लेकिन किंतु अगर मगर पर परंतु  
चाहे…. चाहे, न कि 

 आइए कुछ उदाहरण देखें और समझे की संयुक्त वाक्य कैसे बनते हैं- 


 मनीष आया और बैग रखकर खेलने चला गया।

 प्रधानाचार्य कक्षा में आए एवं सभी छात्र खड़े हो गए। 

पिताजी ने समझाया किंतु मैं समझ न सका।

 वह खेलने में तो अच्छा है मगर पढ़ाई लिखाई नहीं करता। 

 आप पहुँच जाएँगे या मैं आपको फोन करूँ। 

 सरल वाक्य से संयुक्त वाक्य बनाएँ। 


 सरल वाक्य

 हम लोग तैरने के लिए तालाब पर गए थे। 

 संयुक्त वाक्य 

 हम लोग को तैरना था इसलिए हम तलाब पर गए थे। 

सरल वाक्य 

माँ ने बच्चों को नहला कर स्कूल भेजा।

 संयुक्त वाक्य 

 माँ ने बच्चों को नहलाया और स्कूल भेजा।

 सरल वाक्य 

 आकाश और विकास में से कोई एक नौकरी करेगा।

 संयुक्त वाक्य 

 आकाश नौकरी करेगा अथवा विकास नौकरी करेगा। 

निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए- 


 वह बाजार गई और मेरे लिए खिलौना लाई।

 इस संयुक्त वाक्य को सरल वाक्य में बदलिए। 

 उत्तर-

  बाजार जाकर वह मेरे लिए खिलौना लाई।

 सूर्योदय होते ही पक्षी चहचहाने लगे। 

रचना के आधार पर यह कौन- सा वाक्य है?

 उत्तर- सरल वाक्य 

 इसे संयुक्त वाक्य में बदलिए - 

सूर्योदय हुआ और पक्षी चहचहाने लगे।


 मिश्र वाक्य mishra vakeya


जिस वाक्य में एक प्रधान वाक्य और एक या कई आश्रित उपवाक्य हो उन्हें 'मिश्र वाक्य' mishra vakeya कहते हैं। प्रधान उपवाक्य किसे कहते हैं? मुख्य उद्देश और मुख्य विधेय वाले उपवाक्य प्रधान उपवाक्य होते हैं। 

 बचे हुए उपवाक्य आश्रित उपवाक्य कहलाते हैं।

 आइए उदाहरण से समझे

 आज वह नहीं आएगा क्योंकि उसकी तबीयत ठीक नहीं है।  
ध्यान दें कि मिश्र वाक्य में आश्रित उपवाक्य, वाक्य के पहले या बीच में या अंत में कहीं भी हो सकता है।

 आज वह नहीं आएगा

 यह वाक्य का प्रधान उपवाक्य है। 

 जबकि इस पर आश्रित उपवाक्य है-

क्योंकि उसकी तबीयत ठीक नहीं है। 

 छात्रों यहाँ ध्यान दें कि क्योंकि समुच्चयबोधक अव्यय क्योंकि से जुड़ा है लेकिन दोनों उपवाक्य स्वतंत्र नहीं है इसलिए संयुक्त वाक्य नहीं है बल्कि दोनों उपवाक्य में एक उपवाक्य प्रधान उपवाक्य है और दूसरा उपवाक्य उस पर आश्रित उपवाक्य है इसलिए यहां मिश्र वाक्य का उदाहरण है।

 कुछ उदाहरण और देखें 


 शिक्षक महोदय बताते हैं कि शाम को एक घंटा पढ़ना जरूरी है। 


 छात्रों यहां दो उपवाक्य है लेकिन एक प्रधान उपवाक्य है और दूसरा उस पर आश्रित उपवाक्य है इसलिए यह मिश्र वाक्य है। 

आइए इसे पहचाने तो-

शिक्षक महोदय बताते हैं 

यह इस वाक्य का प्रधान उपवाक्य है और इस पर ही आश्रित उपवाक्य है कि 
शाम को एक घंटा पढ़ना जरूरी है। 


 मिश्र वाक्य पहचानने की ट्रिक 


मिश्र वाक्य के उपवाक्य हमेशा कि, जो, जहाँ, जब तक, तो, अगर तो समुच्चयबोधक अव्यय से जुड़े होते हैं। 

 मिश्र वाक्य का आश्रित उपवाक्य वाक्य के आरंभ में या बीच में या अंत में कहीं भी हो सकता है।



 उदाहरण देखें 
 
जो लड़का यहाँ आया था, उसने प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया है। 

 यहां आश्रित उपवाक्य वाक्य के आरंभ में है यानी शुरुआत में है।
--------
 वह लड़का, जो कल यहाँ आया था, प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया है।

 यहां आश्रित उपवाक्य वाक्य के बीच में है। 
-------
उसने प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया है जो कल यहाँ आया था। 

 आश्रित उपवाक्य वाक्य के अंत में है। 
----------

 सरल वाक्य से मिश्र वाक्य बनाएं


 मैंने श्याम से अपने साथ चलने के लिए कहा।
 
मैंने श्याम से कहा कि वह मेरे साथ चले।

 फायदे वाला काम करो। 

संयुक्त वाक्य-
ऐसा काम करो जिसमें फायदा हो।

 मिश्र वाक्य से सरल वाक्य बनाइए


 जो सच बोलता है उसे सभी प्यार करते हैं।

संयुक्त वाक्य-
सच बोलनेवाले से सभी प्यार करते हैं।

 छात्रों आशा है कि आपको सरल वाक्य, संयुक्त वाक्य और मिश्र वाक्य समझ में आया होगा। किसी तरह की समस्या है तो समाधान के लिए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं और चैनल पर नए हैं तो सब्सक्राइब कर ले। बेल आईकॉन को दबाकर सूचना पाना सुनिश्चित कर लें और वीडियो को लाइक करना न भूलें। अपने सहपाठियों को शेयर करें ताकि उन्हें भी वीडियो क्लास का लाभ मिल सके।


वीडियो क्लास के लिए लिंक

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य और दूसरा काव्य साहित्य।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। लघु कथा की परंपरा हमारे संस्कृति में 'पंचतंत्र' और 'हितोपदेश' की छोटी कहानियों  से भी  रही है। इन कहानियों को लघु-कथा भी कह सकते हैं। आपने भी छोटी-छोटी लघु कहानियाँ अपने बड़ों से जरूर सुनी होगी।  'पंचतंत्र' में इस तरह की लघु-कथाओं में जीव-जंतु यानी जानवरों और पक्षियों के माध्यम से मनुष्य को नीति की शिक्षा यान

संज्ञा और उसके भेद

​हिंदी व्याकारण नवाचार कक्षा 4 व 5 संज्ञा और उसके                              सामग्री- 6 कार्ड उसमें संज्ञा के तीनों भेद के उदाहरण लिखा हुआ होगा। यह कार्ड ताश के पत्ते के आकार का होगा। प्रथम चरण सर्वप्रथम शिक्षक द्वारा कक्षा में बच्चों का नाम  पूछेगा। आपक नाम क्या है? इस तरह वह छह बच्चों से नाम पूछकर उन्हें एक एक कार्ड क्रम से दे देगा और बैठने के लिए कहेंगे। कुछ बच्चों से शिक्षक पूछेगा कि वे कहाँ-कहाँ घूमने के लिए गए थे? इस तरह से कुछ स्थानों का नाम वह श्यामपट्ट पर लिख देगा। दूसरा चरण प्रस्तावना प्रश्न के बाद, ब्लैक बोर्ड पर संज्ञा लिखना, फिर किसी बच्चे का नाम ब्लैकबोर्ड पर लिखना। वह किस शहर में रहता है। वह भी लिखना। फिर एक पंक्ति में यह बताना कि मैं प्रयागराज में रहता हूं। तो यहाँ पर संज्ञा कौन-कौन सी है। उसे इंगित करेंगे यानी जो नाम है, वह संज्ञा है। `राजू` यहां पर किसी भी बच्चे का नाम लिख सकते हैं। संज्ञा एक नाम है क्योंकि यह एक लड़के का नाम है। जबकि `प्रयागराज` किसी स्थान का नाम है, इसलिए यह भी संज्ञा है।  श्यामपट् पर व्यक्तिवाचक संज्ञा लिखकर, पहले वाले बच्चे

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं? ----------------------------------------------------------------------- हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।