Hindi Nibandh

लेटेस्ट Nari Niketan kya hota hai in Hindi : नारी निकेतन पर निबंध लेखन

nibhandh of nari niketan and arth lekhan: नारी निकेतन पर निबंध, अर्थ, मतलब नारी निकेतन का मतलब क्या होता है- नारी निकेतन ऐसी जगह जहां पर असहाय नारी रहती है। ऐसी महिलाएं (नारी) जिनका कोई नहीं होता है उन्हें असहाय कहा जाता है। अतः हम कह सकते हैं कि ऐसी अनाथ बालिका, तलाकशुदा, बुजुर्ग महिला जिनका कोई नहीं होता है, ऐसी नारियां जहां रहती हैं, उसे नारी निकेतन कहते हैं। निबंध लिखने का तरीका बताया गया है.

नारी निकेतन पर निबंध यहां पर उपशीर्षक के साथ प्रस्तुत किया जा रहा है, आरंभ में इंट्रो जिसे प्रस्तावना कहा जाता है, लिखा है। नारी निकेतन पर निबंध लिखने के तरीके बारे में ​बाताया जा रहा है, इसलिए इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़िए, आपके लिए उपयोगी हो तो टिप्पणी कर हमें अपनी राय जरूर बताइए।

नारी निकेतन का अर्थ

 word meaning in hindi: नारी निकेतन दो शब्द से मिलकर बना है नारी का अर्थ महिला और निकेतन का मतलब घर ऐसी जगह जहां नारी रहती है उसे नारी निकेतन कहा जाता है। नारी निकेतन (nari niketan) एक संस्था होती है, इस संस्था को जब सरकार या कोई एनजीओ चलाती है तो इसे नारी निकेतन संस्था कहा जाता है।

नारी निकेतन संस्था की आवश्यकता क्यों

हमारे समाज में नारी को दोयम दर्जे का माना जाता रहा है। केवल सिंधु सभ्यता में ही नारी को बहुत महत्व दिया गया और उन्हेंयह सभी अधिकार दिए गए थे इसलिए वह सभ्यता मातृसत्तात्मक सभ्यता थी। जबकि उसके बाद जितने भी समाज हुए उनमें नारी को केवल सजावटी वस्तु की तरह ही देखा गया।

कुछ धार्मिक अनुष्ठान और रीति रिवाज में नारी को महत्व दिया जाता है लेकिन वास्तविकता यह है कि नारी आज भी असहाय है, इसलिए आधुनिक समय में नारियों को सुरक्षा और संरक्षा प्रदान करने के लिए सरकार और एनजीओ द्वारा नारी निकेतन की स्थापना की गई है।

अगर नारी असहाय नहीं होती तो नारी निकेतन जैसी संस्था की आवश्यकता नहीं होती। असल में नारी सशक्तिकरण के इस दौर में नारी बहुत तीव्र गति से आगे तरक्की की है। लेकिन आज भी पुरानी खयालात के कारण नारियों की उपेक्षा हो रही है। इसके लिए जिम्मेदार हमारे दकियानूसी खयालात है जिसमें दहेज प्रथा और बालिकाओं को समाज में बालक से कमतर मानना है।

प्राचीन काल से नारियों को कमतर माना जाता है

 

प्राचीन काल से ही नारी को उतना अधिकार नहीं दिया गया जितना एक पुरुष को दिया गया है। आज के दौर में तलाकशुदा, महिला, बुजुर्ग महिला, अनाथ बालिका इन सब की देखभाल करने के लिए नारी निकेतन जैसी संस्था बनाई गई है। यहां पर महिलाएं किसी भी बंधन से अलग स्वयं अपनी पढ़ाई लिखाई और कोई योग्यता हासिल कर सकती हैं।

नारी संरक्षण की आवश्यकता

समाज में नारियों के साथ  दुर्व्यवहार भी होता है। जिन महिलाओं का परिवार नहीं होता है या उन्हें की देखभाल करने वाला कोई नहीं होता है, ऐसे में इन महिलाओं को उनकी सुरक्षा के लिए नारी निकेतन में उन्हें रहने की सुविधा दी जाती है।  नारी निकेतन की स्थापना सरकार हर जिले में करती है इसके साथ ही समाज के उत्साही सामाजिक संगठन एनजीओ के माध्यम से नारी निकेतन की स्थापना करती और उसका संचालन सोसाइटी के द्वारा होता है।

नारी निकेतन संस्था कौन चलाता है?

हर जिले में सरकार द्वारा पोषित यानी फाइनेंशियल सपोर्ट वाली नारी निकेतन संस्थाएं होती हैं। जिन महिलाओं का कोई भी नहीं होता है ऐसी महिलाओं को यहां पर रहने दिया जाता है, उन्हें छोटे-मोटे काम और कुशलता सिखाई जाती है ताकि वह अपने खर्चे स्वयं उठा सके। नारी निकेतन में रहने वाली महिलाएं खुद को स्वालंबन भी बना रही है और कई सहायता समूह के साथ काम करके तरक्की भी कर रही है।  नारी निकेतन में रहने वाली बालिकाओं का विवाह 18 साल होने के बाद किया जाता है। राज सरकार या संस्था द्वारा सामूहिक विवाह का आयोजन कराया जाता है। विधवा और तलाकशुदा महिलाओं का भी पुनर्विवाह इस संस्था द्वारा कराया जाता है ताकि उनका पारिवारिक जीवन फिर से बस सके।

Nari Niketan kya hota hai नारी निकेतन क्या होता है? nari niketan nari niketan essay in hindi lekhan

Related post

लघुकथा लेखन कैसे लिखें? Laghu Katha Lekhan

Shram Divas per bhashan in Hindi

Shram Divas Labour Day

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस International Nurse Day 2023: message status quotation in Hindi

 World Red Cross Day 2023, Whatsup status Subhkamna Sandesh in hindi, download

15 मई विश्व परिवार दिवस पर स्लोगन कविता शेरो शायरी भेजने के लिए कॉपी पेस्ट करें

About the author

admin

Hello friends!
New Gyan tells the words of knowledge with educational and informative content in Hindi & English languages. new gyan website tells you new knowledge. This is an emerging Hindi & English website in the Internet world. Educational, knowledge, information etc. new knowledge, new update, new method in a very simple and easy way.
Founder of Blog Founder of New gyan.

A. K Pandey - Teacher, Writer - Journalist, Blog Writer, Hindi Subject - Expert with more than 15 years of experience. Articles on various topics have been published in various magazines and on the Internet.
Educational Qualification- Master of Art. Professional Qualification-
Diploma in Journalism from Allahabad University, Master of Journalism and Mass Communication, B.Ed.

Leave a Comment