CBSE Board Class 10 Education funda Hindi

samvad lekhan hindi संवाद लेखन कक्षा 9 and 10 example cbse

Table of Contents

 samvad lekhan hindi संवाद लेखन कक्षा 9 and 10 example cbse


सीबीएसई बोर्ड CBSE Hindi samvad Likhana कक्षा 9 और 10 के वर्तमान पाठ्यक्रम में संवाद लेखन से  5 अंकों का एक प्रश्न पूछा जाता है। आज हम इसी प्रकरण यानी टॉपिक पर चर्चा करेंगे।


 यदि आपके मन में कोई प्रश्न हैं,  तो समाधान के लिए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके आप प्रश्न पूछ सकते हैं।

CBSE Hindi samvad Likhana के लिए

 वीडियो क्लास video class को लाइक और शेयर जरूर कीजिए। ताकि आपके सहपाठी को यह वीडियो क्लास प्राप्त हो सके। 

samvad lekhan hindi  संवाद लेखन कक्षा 9 and 10 example cbse


वीडियो क्लास के लिए क्लिक करें


डिस्क्रिप्शन बॉक्स में कक्षा 10 के नये पाठ्यक्रम के कई वीडियो लिंक भी दिए हैं, इसे क्लिक करके अपना- अपना  सीबीएसई बोर्ड कक्षा 9 व 10  का  हिंदी पाठ्यक्रम को पूरा अवश्य  कर लें।


How to write samvad lekhan in Hindi for Class 6.7,8,9,10?

 संवाद लेखन what is meaning of Samvad Lekhan आज हम आपको  कक्षा 6, 7, 8  9 व 10 सीबीएसई बोर्ड  के पाठ्यक्रम CBSE Hindi samvad Likhana (सिलेबस) में यह 5 अंकों का प्रश्न नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार इस बार यानी सन 2022  के  परीक्षा में पूछा जाएगा।


what is the samavd lekhan how wrtie and what is the rule of samavad wititng

संवाद किसे कहते हैं

सबसे पहले पढ़ेंगे- संवाद लेखन क्या है? फिर पढ़ेंगे- संवाद लेखन के नियम फिर मैं एक संवाद लिखकर आपको बताऊँगा। (CBSE Hindi samvad Likhana ) सीबीएसई बोर्ड – 2022-23 की परीक्षा प्रणाली पर संवाद लेखन कक्षा 6, 7, 8, 9 -10 के पाठ्यक्रम के अनुसार Acording to new education poicy

   आप अपने आसपास किसी से बात करते हैं तो संवाद-शैली यानी डायलॉग बोलकर उससे अपनी बात बताते हैं और वह अपनी प्रतिक्रिया भी बातें कह कर देता है।

इन्हीं दो व्यक्तियों के आपस की बातचीत को  यदि हम लिखित रूप में लिखें तो वह ‘संवाद’ कहलाता है, जिसे इंग्लिश में ‘डायलॉग’ (Dialogue) कहते हैं।


 ‘संवाद-लेखन’ यानी ‘डायलॉग- राइटिंग’ (Dailogue Writing) साहित्य में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। 

 रचनात्मक लेखन (Creative Writing) में फिल्मों की स्क्रिप्ट,  विज्ञापन लेखन तक में संवाद लेखन की आवश्यकता होती है।  

इसी तरह साहित्य विधा जैसे- कहानी, उपन्यास, नाटक, एकांकी इत्यादि में संवाद पात्रों यानी कैरेक्टर्स के अनुकूल स्वभाविक तरह से लिखा जाता है।


 छात्रों व्यवहारिक रूप से संवाद-लेखन (Dailogue Writing)  सीखना आप में लेखन की कुशलता को बढ़ाता है। इसीलिए सी० बी० एस० ई० (CBSE SYLLABUS) के पाठ्यक्रम में संवाद-लेखन को शामिल किया गया है।  


छात्रो! आपने संवाद-लेखन की उपयोगिता के बारे में जान लिया है।

 आब बारी है…

 

संवाद- लेखन लिखने के नियम क्या है? (What is Rule of dialogue writing)


 तरीका क्या है?


 फिर उसके बाद एक संवाद लिखकर दिखाऊँगा। इसके बाद संवाद आप  संवाद लिखने का प्रयास करेंगे। तब आप  संवाद लेखन की कुशलता हासिल कर पाएँगे। परीक्षा में आप किसी भी विषय पर संवाद लिख  सकेंगे। ये बहुत आसान है।


 संवाद लेखन क्या है? What is dialogue writing

जब दो या दो से अधिक व्यक्ति किसी विषय पर बातचीत करते हैं तो उस बातचीत को संवाद कहते हैं। यदि इस बातचीत को लिख लिया जाए तो उसे संवाद -लेखन कहते हैं।


 संवाद- लेखन में किसी औपचारिकता की आवश्यकता नहीं होती है।


संवाद-लेखन के नियम


  1. संवाद लेखन की भाषा सरल और संक्षिप्त होनी चाहिए। 

  2. संवाद विषय पात्रों के अनुसार होना चाहिए। संवाद लेखन में विराम चिह्नों का सही प्रयोग किया जाना चाहिए। 

  3. प्रश्नोत्तर शैली के संवाद जिस काल (Tense) में प्रश्नोत्तर उसी काल में उत्तर दिया जाना चाहिए।

  4.  आदेशात्मक शैली में दिए जाने वाला उत्तर अक्सर भूतकाल (past tense) या वर्तमान काल (present tense) में होना चाहिए। 

  5. संवाद (dialogue) छोटे (short) और रोचक (interesting) होने चाहिए।

  6. संवाद बात को आगे ले जाने वाला होना चाहिए।

  7. मुहावरों और लोकोक्तियों का सही प्रयोग करना चाहिए।

  8.  बातचीत में औपचारिकता जरूरी नहीं है।

  9.  वाक्य में  आत्मीयता लाने ने वाले उचित संबोधन का प्रयोग करना चाहिए।

  10.  पात्रों के हाव-भाव विचार विभिन्न मुद्राओं आदि को  कोष्टक (breakets) में लिख देना चाहिए।


 आइए उदाहरण से समझें do dosto ke beech batcheet samad lekhan


बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए दो मित्रों के बीच संवाद  लिखिए। dialogue


छात्रों यहाँ पर आप काल्पनिक नाम रख करके  दो मित्रों का वार्तालाप लिखेंगे।

लेकिन ध्यान रखिएगा कि यह वार्तालाप ‘बाढ़-पीड़ितों’ की सहायता से संबंधित है तो इस तरह कल्पना करेंगे और वाक्य छोटे-छोटे रखकर बिल्कुल जिस तरह से अभी बताया है उस तरह से प्रयोग करके लिखेंगे तो आइए लिखते हैं। 


राजू:  आकाश! आज का समाचार-पत्र पढ़ा?


आकाश:  हाँ, बाढ़ की वजह से गाँववालों का बहुत नुकसान हो गया है। सारी फसलें खराब हो गई हैं। कई गाँव डूब गए हैं। 


राजू:  सरकार तो मदद कर रही है, न!


आकाश: हमें भी तो बाढ़ पीड़ितों की मदद करनी चाहिए।


राजू: मेरे मन में भी ऐसे विचार आ रहे हैं लेकिन हम कर क्या सकते हैं?


आकाश: हम उनकी सहायता कर सकते हैं।


राजू: पर हमारे पास तो कोई साधन भी नहीं है।


 आकाश:  राजू, अगर हम इस तरह सोचते रहेंगे तो बाढ़-पीढ़ितों  की  सहायता नहीं कर सकेंगे। 


राजू: तब हम लोग बाढ़-पीड़ित कैंप पर जाएँगे और वहाँ पर जो सहायता कर सकेंगे, वह सहायता हम लोग करेंगे।


आकाश (खुश होकर):  हाँ दोस्त,  तुम सही कहते हो, ऐसे  हाथ में हाथ धरे रहने से कोई फायदा नहीं है! हम लोगों को वहीं चलना चाहिए।

राजू:  हम लोग एक घंटे बाद, अपनी-अपनी साइकिल से चलेंगे।

आकाश:  ठीक है! मैं घर जा रहा हूंँ,  साइकिल लेकर एक  घंटे बाद  तुमसे यहाँ पर मिलता हूँ। तुम भी घर जाओ और साइकिल लेकर यहाँ पर  आना। 

राजू:   ठीक है, दोस्त।

—–


samvad lekhan in Hindi for Class 9 between teacher and student लेखन शिक्षक और छात्र के बीच में


Teacher and students dialogue writing for class 6,7,8,9,10

टीचर और स्टूडेंट संवाद छात्राध्यापक संवाद कक्षा 7 8 9 10 के लिए


शिक्षक: राजू तुम्हारी परीक्षाएं कुछ ही दिनों में शुरू होने वाली है और तुम पढ़ाई भी बिल्कुल ध्यान नहीं दे रहे हो।

राजू: हां महोदय मैं अब से ध्यान दूंगा।


शिक्षक: पर कब? जब परीक्षाएं खत्म हो जाएंगी तब…।


राजू: नहीं महोदय! मैं ध्यान दे रहा हूं, इतने सारे विषय है कि किस से पहले ध्यान दूं, समझ में नहीं आता है। स्कूल के बाद शाम को कोचिंग भी पढ़ने जाता हूं।


शिक्षक: तुम उस विषय पर ध्यान दो जिसमें तुम कमजोर हो


राजू: महोदय मैं तो सभी विषय में कमजोर हूं। मेरी मां ने मेरी कोचिंग भी लगाई लेकिन फिर भी मुझे पढ़ाई समझ में नहीं आता है।


शिक्षक: लेकिन स्कूल में तो अच्छे से पढ़ाई होती है तो तुम्हें कोचिंग की जरूरत कैसे पड़ गई?


राजू: हां वह तो सही है महोदय लेकिन मैं अच्छे से ही बहुत कमजोर हूं। मुझे गणित और विज्ञान के बात समझ में नहीं आता है। महोदय मुझे हिंदी और अंग्रेजी के व्याकरण भी समझ में नहीं आता है। ‌ गणित के सवालों में मैं उलझ जाता हूं।


शिक्षक: राजू या तुम्हारी गलती नहीं है। अगर तुम्हारी नींबू बचपन से ही मजबूत होती तो तुम्हें आज कक्षा 9 की सारा जिसे समझ में आता। प्रधानाचार्य से बात करूंगा और तुम जैसे कमजोर बच्चों के लिए अतिरिक्त कक्षाओं की व्यवस्था कर लूंगा जिसमें सरल और सहज ढंग से तुम्हें हर विषय के विषय अध्यापक पढ़ाएंगे जिससे तुम्हारा नींल मजबूत हो जाएगा और तुम्हारा मन पढ़ाई में लगेगा।


राजू: जी महोदय! मैं इन अतिरिक्त कक्षाओं में बड़ी मेहनत से पढ़ाई करूंगा और परीक्षा में प्रथम श्रेणी में पास होकर दिखाऊंगा।


शिक्षक: शाबाश राजू तुम एक अच्छे बालक हो‌। राजू यदि तुम मेहनत करोगे तो परीक्षा में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होगे।



इस तरह के संवाद आपकी परीक्षा में पूरे कॉन्फिडेंस के साथ लिखिए यदि किसी तरह की परेशानी है तो कमेंट बॉक्स में देख कर सकते हैं ऊपर दिए गए वीडियो लिंक से भी बढ़कर आप और अधिक जान सकते हैं।

यूट्यूब पर कक्षा 9 और 10 की वर्तमान syllabus से संबंधित पाठ सामग्री और वीडियो क्लासेज दिया गया है। आप अपने नए परीक्षा पैटर्न और 2021 एग्जामिनेशन की तैयारी अभी से करना शुरू कर दीजिए।


सुझाव

नए परीक्षा पैटर्न पर आधारित आपके अबजेक्टिव टाइप क्वेश्चन आंसर नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार दिया गया है। इसे नीचे के लिंक पर देखे और हर पाठ के क्वेश्चन आंसर हैं । इससे संबंधित वीडियो भी उपलब्ध है लिंक पर जाकर उन वीडियो को भी देख सकते हैं।



About the author

admin

Hello friends!
New Gyan tells the words of knowledge with educational and informative content in Hindi & English languages. new gyan website tells you new knowledge. This is an emerging Hindi & English website in the Internet world. Educational, knowledge, information etc. new knowledge, new update, new method in a very simple and easy way.
Founder of Blog Founder of New gyan.

A. K Pandey - Teacher, Writer - Journalist, Blog Writer, Hindi Subject - Expert with more than 15 years of experience. Articles on various topics have been published in various magazines and on the Internet.
Educational Qualification- Master of Art. Professional Qualification-
Diploma in Journalism from Allahabad University, Master of Journalism and Mass Communication, B.Ed.

1 Comment

Leave a Comment