New Gyan सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

धर्म- अध्यात्म लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गांधी जयंती संदेश: Gandhi Jayanti Wishes in hindi: Gandhi Jayanti Status and Quotes with Images (Mahatma Gandhi birthday 2nd October 2021)

  गांधी जयंती संदेश: Gandhi Jayanti Wishes: Gandhi  Jayanti Status and Quotes with Images (Mahatma Gandhi birthday 2nd October 2021)  Mahatama Gandhi jee jayanti: महात्मा गांधी जी का जन्म दिवस 2 अक्टूबर महत्वपूर्ण होता है। गांधी जयंती पर शुभकामना संदेश भेजें। Gandhi Jayanti Images और Gandhi Jayanti Quotes in Hindi, गांधी जयंती विशेष, Mahatma Gandhi Quotes In Hindi Gandhi Jayanti Quotes pic  उपलब्ध करा रहे हैं, जिसे आप सोशल मीडिया जैसे facebbook, whatsapp शेयर कर सकते हैं। 2 अक्टूबर गांधी जयंती 2021 न्यू अपडेट।  Gandhi Jayanti wishes hindi/ गांधी जयंती पर special message और शुभकामना संदेश अहिंसा इंसान का दुश्मन है,  क्रोध अहिंसा को जन्म देती है।  गांधी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं। 2021 free download image whishes आओ कर ले वंदना महात्मा गांधी जी की, जिनके त्याग-समर्पण से मिली हमें आजादी। आओ कर ले वंदना महात्मा गांधी जी की, दिया अहिंसा का संदेश जिसने पूरी दुनिया को, आओ नमन कर ले, वीर सपूत महात्मा को।। सत्य बोलने और सत्याग्रह का सीख देकर गये,  पूरी दुनिया में लोकतंत्र  की अलख जगा कर गये

जीवन को प्रभावित करती हैं नवग्रह

हमारे जीवन (#life) में ग्रहों के प्रभाव को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। ग्रह (grah) मनुष्य के जीवन का आधार है।  ग्रह और नक्षत्र (nakshatra) सही हो तो मनुष्य को हर सफलता आसानी से मिलती है।  ज्योतिष शास्त्र में मनुष्य के ऊपर नवग्रह के पड़ने वाले प्रभाव के बारे में ही बताया जाता है। सूर्य sun, चंद्र moon, मंगल, बुद्ध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु, ये नवग्रह हैं। हमारे जीवन में वैभव, सुख, धन, विवाह, संतान-सुख, सरकारी नौकरी, रोजगार इत्यादि को प्राप्त करने के लिए ज्योतिष के अनुसार उपाय करना आवश्यक होता है।  ज्योतिष ज्ञान Jyotish एक विज्ञान है।  यह वेद से उत्पन्न हुआ है।  वेदों के अनुसार ज्योतिष में ग्रहों का प्रभाव व्यक्तिगत रूप से  मनुष्य पर पड़ता है। ग्रह और नक्षत्र का  प्रभाव दुनिया में युद्ध, प्रकृति आपदा, भूकंप,  महामारी  का दुष्प्रभाव के रूप में देखने को मिलता है। क्या एलियन कहीं छुपा तो नहीं है, जानने के लिए पढ़ें नवग्रहों का हमारे जीवन में अलग-अलग प्रभाव पड़ता है। ज्योतिष शास्त्र में  कुंडली के अध्ययन के साथ उस मनुष्य पर कमजोर ग्रहों के दुष्प्रभाव  को भी देखा जाता है।

सच क्या है, सच के साथ आप

झूठ को किस तरह से पहचाने Tip झूठ यानी माया, ये माया जीवन में इंसानों को धोखा दे  रहा है। ये झूठ कितने को बुरा साबित कर देता है। इस झूठ के कारण कितनी जिंदगियां तबाह हो जाती हैं। हम इंसान है, हमें जीवन के दुखों से डँटकर सामना करना चाहिए। झूठ को पहचाना जा सकता है बस इसे समझने की फेर है।   आइए कुछ तर्कों से जाने की अंत में  सच की ही जीत होती है। इसलिए हर हाल में हम लोग को सच के साथ खड़ा होना चाहिए।  *सत्य के साथ चलना  जीवन जीने की कला*  जो सत्य के रास्ते में चला उसे परेशानियों का सामना करना पड़ता है। सत्य के मार्ग में हमेशा काँटे होते हैं, लेकिन इन काँटों में उसे जीवन की सच्चाई यानी जीने का ढंग पता चलता है, कहने का मतलब हैं कि सच के रास्ते चलने वाला आदमी सुकून की जिंदगी जीता है।जीवन की समस्या को लेकर परेशान नहीं रहता है। वह सदैव आगे की सोचता है। आपने  अनुभव जरूर किया होगा कि सच बोलते हैं तो आपका अंतर्मन खुश हो जाता है। आप भय मुक्त हो जाते हैं।  *झूठ बोलना यानी असत्य का साथ देना*   झूठ जीवन का ऐसा कर्ज है, जो कष्ट रूपी ब्याज की तरह पूरी जिंदगी परेशान करता रहता है।  सच का साथ देने वाला असल म
हिंदू धर्म में रामायण का बहुत महत्व है। मर्यादा पुरुषोत्तम राम की जीवन यह कथा हमें बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देता है। आइए जाने रामायण के छिपे हुए किरदार की जो रावण से भी ज्यादा शक्तिशाली था। इसका नाम है अहिरावण। दोस्तो! बजरंगबली और अहिरावण के बीच भी घमासान युद्ध हुआ था। खैर इन सब बातों का जिक्र मैं आगे बताऊंगी लेकिन जान लीजिए कि रावण जिस तरह लंका का राजा था, उसकी तूती पूरे लंका में गूंजती थीं और भारत में तहलका मचाया हुआ था। राक्षसों का जिस तरह से आतंक था और उस समय के साधु सन्यासी कोई धार्मिक कर्मकांड जब करते थे तो राक्षस उनमें व्यवधान डालते थे। इसी तरीके से पाताल लोक में रावण का ही भाई अहिरावण वहां पर भव्य तरीके से रहता था। कृत्तिवास रामायण के अनुसार अहिरावण विश्रवा ऋषि के पुत्र और रावण के भाई थे। अहिरावण पाताल लोक का राजा था। धार्मिक मान्यता के अनुसार धरती के नीचे भी एक लोक है, जिसे पाताल लोक कहते हैं। लेकिन तय है कि यह पताल लोक कहीं ना कहीं रहा होगा क्योंकि अहिरावण की कथा रामायण से भी जुड़ी हुई है। आप हमारे साथ बने रहिए पाताल के राजा ही अहिरावण से जुड़ी हर एक कथा और कह

मंगलवार को हनुमान जी पूजा ऐसे करें रोग और दरिद्रता दूर हो जाती है

मंगल को जन्मे मंगल ही करते, मंगलमय हनुमान।  मंगलवार के दिन सुंदरकांड का पाठ करने से हनुमान प्रसन्न होते हैं। रामचरितमानस के कांड सुंदरकांड को पढ़ने से आप में ऊर्जा का संचार होता है और हनुमान जी आपके हर काम सही बनाते हैं। credit: third party image reference मंगलवार के दिन भगवान हनुमान का दर्शन करने से रोग और दरिद्रता दूर हो जाती है। मंगलवार के दिन मंदिर में हनुमान जी की प्रतिमा पर सिंदूर और चमेली या देशी घी का लेप, जिसे चोला कहते हैं, अपने हाथों से मूर्ति पर लगाने से हनुमान जी आपकी सेवा भाव से बहुत प्रसन्न होते हैं। इस समय आप हनुमान जी से जो चाहे वह मांग सकते हैं क्योंकि लाल रंग का चोला हनुमान जी को बहुत पसंद है। आपकी इस भक्ति से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और मनचाहा वरदान भी देंगे जिससे आपके भाग जाएंगे और सुख की प्राप्ति हो। credit: third party image reference गुड़, चना या बेसन के लड्डू से भोग लगाने पर हनुमान जी बहुत प्रसन्न होते हैं। लड्डू उन्हें बहुत पसंद है। हनुमान जी को लाल रंग के फूल अत्यधिक पसंद है इसलिए हनुमान जी की पूजा के समय उन्हें लाल फूल अर्पण करें। credit: th

24, जनवरी 2020 हिंदू धर्म शास्त्रों में मौनी अमावस्या का खास महत्व है।

दोस्तो! 24, जनवरी 2020 हिंदू धर्म शास्त्रों में मौनी अमावस्या का खास महत्व है। यह अमावस्या माघ मास में आती है। इसलिए इसे माघ अमवास्या के नाम से भी जाना जाता है, उत्तर प्रदेश में गांव-गांव अमावस का मेला खास होता है। गांव के भोले भाले ग्रामीण लोग इस मेले में बहुत श्रद्धा से शामिल होते हैं और गंगा में डुबकी लगाकर तर जाते हैं। दोस्तों आज बात करते हैं प्रयागराज यानि इलाहाबाद में इसका है, खास महत्त्व। प्रयागराज में इस समय माघ मेला का आयोजन हो रहा है। यहाँ की छटा देखते बनती है। गंगा-यमुना के पावन तीर्थ स्थल पर अदृश्य रूप में बहती हुई ज्ञान की देवी सरस्वती नदी... हजारों स्ट्रीट लाइट, रात के समय दूधिया रोशनी से नहाई सड़कें और तम्बुओं में रहते हजारों लोग के बीच जब आप जहां होते हैं तो भारत की एकता और संस्कृति का दर्शन करते हैं। इसीलिए तो यह है एक अनोखा शहर माघ मेला।  प्रयागराज के संगम स्थल पर इस साल 24 जनवरी 2020 को इकट्ठा होगी श्रद्धालुओं की भीड़ और इस अमावस में संगम में डुबकी लगाकर भारतीय संस्कृति और एकता का मिसाल बनेगा। मौनी अमावस्या 24 जनवरी को पड़ रही है। इस दिन व्रती को म

सूर्य यंत्र की पूजा कैसे करें, टिप्स

सूर्य यंत्र की पूजा कैसे करें  सफलताओं मान मर्यादा पद प्रतिष्ठा से आप वंचित है या मनचाही सफलता नहीं मिल रही है तो ग्रह इस सही स्थिति नहीं है। नवग्रह में सूर्य की उपासना सफलता मान मर्यादा और प्रतिष्ठा पाने के लिए सबसे कारगर उपाय है। दोस्तों आज चर्चा करेंगे सूर्य उपासना की जो आपके जीवन को बदल देगा। धरती पर समस्त ऊर्जा का स्रोत सूर्य की रोशनी ही है। सूर्य की रोशनी ही मनुष्य के जीवन में  उजाला भरती है। सूर्य उपासना नौ ग्रहों में उन्नति के मार्ग प्रशस्त करने का सबसे अच्छा माध्यम है। नौ ग्रह में सूर्य को राजा की उपाधि दी गई है। सूर्य की किरणें सात घोड़ों के रथ पर सवार होकर धरती तक अपनी ऊर्जा का संचार करती है, ऐसा सनातन धर्म की मान्यता है। सूर्य निकलने के समय जल से अर्ध्य देना इंसान के उन्नति और स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। ज्योतिष के अनुसार अगर आपका सूर्य ग्रह कमजोर है तो उन्नति में चुनौतियां मिल सकती है। यहां पर सूर्य यंत्र स्थापना करके आप जीवन के हर क्षेत्र में सक्सेस प्राप्त कर सकते हैं। सूर्य यंत्र की पूजा से आपकी सफलता के घोड़े कभी नहीं रुकेगा। सूर्य यंत्र की पूजा प

adhyatm jeewan, अध्यात्म जीवनशैली से बदलाव

Adhyatm jeewan, अध्यात्म जीवनशैली से बदलाव आध्यात्मिक प्रयोग से लाए व्यवहार में शालीनता Abhishek kant pandey इस लेख को पढ़ने के लिए आओ खत्म करें प्रदूषण के रावण वाले राक्षस को यह एक जनरल थ्योरी है कि भले लोग गृहस्थी बसाते हैं और सज्जनता से चलाते हैं, सज्जनता और शालीनता में बारीक फर्क है। गृहस्थी चलाते हुए कई सज्जन लोग खाली नहीं रह पाते हैं। शालीनता एक आत्मिक अनुशासन है। जीवन में विलास और अहंकार जिस तेजी से प्रवेश करते हैं, उसके लिए शालीनता स्पीड ब्रेकर का काम करती है। घर के किसी मेंबर का एक दूसरे के प्रति और खासतौर पर लाइफ पार्टनर जब शालीनता का व्यवहार करेंगे तो अपने मन के भाव में बढ़ोतरी होगी। व्यवहार में शालीनता लाने के लिए आध्यात्मिक प्रयोग किए जा सकते हैं। ध्यान और योग के शरण में जाएं आध्यात्मिक सुख और मानसिक सुख दोनों एक दूसरे के साथ ही मिलता है। यानी कि यदि आध्यात्मिक सुख है तो मानसिक सुख भी है। अगर आध्यात्मिक सुख नहीं है तो मानसिक सुख भी नहीं है। मन अशांत ही होता है क्योंकि मन सदा चंचल ही होता है इसलिए अशांत मन को हटाने के लिए मन से दूर हट जाना चाहि

आओ खत्म करें प्रदूषण के रावण वाले राक्षस को

प्रदूषण की समस्या पर निबंध | प्रदूषण का राक्षस |  Pollution Problem nibhandh in hindi |  essay on pollution in hindi  read for your examination.  सत्य, अहिंसा और  सरल जीवन। इन्हें अपनाकर ही हम प्रकृति की रक्षा कर सकते हैं। आप बताइए कि आज सबसे  बड़ी बुराई हमारे अंदर क्या है? जिस कारण से यह प्रकृति भी कांप    उठती है।  राम और रावण युद्ध के बीच में भी,  इतना प्रदूषण नहीं हुआ होगा, जितना प्रदूषण हम धरतीवासी आज   एक  दिन में फैलाते हैं।   प्रदूषण वाला राक्षस आज आधुनिक युग में हम ऐसे बड़े राक्षस से घिरे हुए हैं। जो हमारा सर्वनाश करने के लिए आगे बढ़ रहा है।और दिनोंदिन यहा  शक्तिशाली होता चला जा रहा है। यह राक्षस आकाश से पाताल, पाताल से धरती, धरती से हिमालय, जैसे क्षेत्रों में अपना विकराल रूप दिखा रहा है। ' प्रदूषण ' नाम है- इस राक्षस का। यह हमारी गलतियों का दुष्परिणाम है। इसके लिए मनुष्य जाति ही जिम्मेदार है। उसने अपनी सुख-सुविधा की खोज में अनजाने में और फिर जानबूझकर इस प्रदूषण रूपी राक्षस को शक्ति प्रदान की है। आज हम ऐसे मुहाने में खड़े हैं, जहां से हमारी  पीढ़ी, हमारी ओर देख रह

नवरात्रि का शारदी नवरात्र: सिद्धि योग वाला। जाने पूजा पद्धति और मुहूर्त

इस शारदीय नवरात्रि पर 9 दिन में 9 देवियां देंगी नौ संयोग, घट स्थापना के भी कई मुहूर्त। इस बार का  शारदीय नवरात्रि का महत्व विशेष है। शारदीय नवरात्रि रविवार 29 सितंबर से शुरू होकर यह 8 अक्टूबर तक चलेगी। नवरात्रि के दिन शक्ति प्राप्त करने का दिन होता है। इस बार 9 दिन  नव अद्भुत और मंगलकारी शक्तियों का सहयोग मिल  मिल रहे हैं।   ये है सिद्धियां - 2 दिन अमृत सिद्धि 2 दिन  सर्वार्थसिद्धि 2 दिन रवि योग की सिद्धि प्राप्त होगी। दो सोमवार भी होंगे जो शिव और शक्ति के प्रतीक हैं अश्वनी नव रात को देवी ने अपनी वार्षिक पूजा कहा है  कि यह पूजा मुझे बहुत प्रिय है। मैं अपना वचन पूरा करने के लिए इस संसार लोक में आती  हूं। इस बार मां देवी दुर्गा का आगमन  हाथी के सवारी से हो रहा है।  यानी कि माँ दुर्गा हाथी पर विराजमान होकर पधार रही हैं।  पहले दिन शैलपुत्री की आराधना से नवरात्र का प्रारंभ होगा। इस बार देवी भगवती हाथी पर सवार होकर आ रही है लेकिन घोड़े पर सवार होकर उनकी विदाई होगी। वर्षा और प्रकृति का प्रतीक भी है- घोड़े पर सवारी ।इसके साथ ही हाथी पर आगमन शुभ माना जाता है। धन और धान की कोई कमी नहीं

आओ हम एक हो जाएं: नेक सलाह

आओ हम एक हो जाएं नेक सलाह अभिषेक कांत पाण्डेय आज भारत आजाद है, हम आजादी की सांस ले रहे हैं लेकिन हमने देश में ही मानव-मानव के बीच लंबी रेखाएं खींच रखी हैं। धर्म, जाति, संप्रदाय, अमीरी-गरीबी, गोरे-काले आदि की जबकि हम भारत के निवासी हैं, हम उस देश में रहते हैं, जहां विभिन्न प्रकार के लोग हैं। इनके बीच एकता स्थापित करना और एक देश के निवासी होने का गर्व हमारे मन में होना चाहिए। धर्म, देश, लोकतंत्र इक दूसरे के पर्याय हैं। धर्म का अर्थ मानव प्रेम और देश का अर्थ यहां रहने वाले लोगों में एकता और लोकतंत्र पर विश्वास रखना। लोकतंत्र का मतलब बराबरी से जीने का हक, कोई भ्ोद-भाव नहीं। क्या हम मानव जाति के कल्याण के लिए धर्म, देश और लोकतंत्र को एक दूसरे का पूरक नहीं बना सकते हैं। देश और लोकतंत्र दोनों शरीर और आत्मा है तो धर्म उसमें रहने वाले व्यक्ति के लिए आचरण, नैतिकता, कर्तव्य, विश्व बंधुता के भाव की धारा बहाती है। निश्चय ही देश बड़ा होता है, क्योंकि यह ही सभी देशवासियों को एक सूत्र में पिरोता है और मानव जाति को सुरक्षित और सम्मान से जीने का हक देता है। देश के प्रति हमारे कर्तव्य हैं, जिसके लिए

पहचानिए अपने विचारों की शक्ति

नेक सलाह पहचानिए अपने विचारों की शक्ति अभिषेक कांत पाण्डेय ऐसे ही छोटे विचारों को कसौटी में कसना जरूरी होता है, नहीं तो हम सही और गलत पर विचार नहीं कर पाते हैं। यानी अपने विचारों को पहचानिए और उसे एक जोहरी की तरह परखिए, हो सकता है भविष्य के बुद्ध, महावीर जैन, गांधी, न्यूटन, आइंस्टीन बनना आपके विचारों में हो, बस उसे मूर्त रूप देना भर है। ---------------------------------------------------------- विचारों की शक्ति ऐसी है जब तक खुद इसका अनुभव नहीं करते हैं तब तक विश्वास नहीं होता है। अपने मन में आने वाले निगेटिव थिंकिंग को हटाने का यह सर्वोत्तम उपाय है। पॉजिटिव थिंकिंग की एनर्जी जीवन में बदलाव लाता है। लेकिन आपके विचारों में दृंढ़तता और सच्चाई होनी चाहिए। पूर्वाग्रह ग्रसित नहीं होना चाहिए। विचार दिमाग में उत्पन्न होता है लेकिन इसका स्रोत अपका अनुभव होता है। विचार की शक्ति की पहचान कई महापुरुषों ने अपने जीवननकाल में कर लिया और वे अपने सदविचारों के माध्यम से ही लोगों में ज्ञान बांटा। विचार की कसौटी विचार जो मानव के जीवन को सकारात्मक दिशा की ओर ले जाने वाला हो, जो इंसान की भलाई में

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। Laghu Katha ke Udharan class 9th hindi term-2 sylabuss 2022 hindi  न्यू सिलेबस सीबीएसई बोर्ड लघु कथा लेखन क्लास नाइंथ इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। the shrot story छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य (gadya sahitya)  और दूसरा काव्य साहित्य ।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। लघुकथा की महत्वपूर्ण बातें the important character of laghu katha in Hindi लघु कथा क्यों लिखी जाती है? 1.आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। लघु कथा का जन्म कैसे हुआ? हमारी संस्कृति में लघु कथा का क्या-क्या रूप है? laghu Katha kya hota hai? 2.लघु कथा

ईमेल लेखन कैसे करें | cbse class 10, 9 Email writing in hindi

  ईमेल लेखन कैसे करें cbse class 10, 9 Email writing in hindi CBSE बोर्ड की क्लास 9th और 10th में सेशन 2022 23 से ईमेल राइटिंग पर प्रश्न पूछा जाएगा। ईमेल राइटिंग जी का यह प्रश्न सीबीएसई बोर्ड क्लास 10th की बोर्ड परीक्षा में ढाई अंक का होगा। आपको बता दें कि क्लास 9th और 10th मे अनुच्छेद-लेखन Anuched Lekhan for class 10 and 9 , लघुकथा-लेखन, विज्ञापन-लेखन, संदेश-लेखन, संवाद-लेखन से प्रश्न भी पूछा जाता है इस पर आपको अधिक जानकारी चाहिए तो क्लिक करके पढ़ें… छात्रों ईमेल राइटिंग लिखना बहुत आसान है। ईमेल राइटिंग का प्रारूप और विषय आपको बस समझ में आना चाहिए। आपको यह बता दे कि आपकी परीक्षा में औपचारिक यानी कि फॉर्मल ईमेल राइटिंग ही पूछा जाएगा. जैसे कि बैंक मैनेजर को  पासबुक जारी करने के लिए ई-मेल लिखना, आप एक लाइब्रेरियन है और किताब मगवाना चाहते हैं  तो बुक पब्लिशर को आप ईमेल लिखेंगे। ई-मेल की भाषा हिंदी | Email writing in hindi अगर आप ईमेल लिख रहे हैं तो उसकी भाषा हिंदी ही होनी चाहिए। प्रचलित का अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं, जैसे स्कूल, बस, ट्रेन इत्यादि। ई-मेल 20 से 30 शब्द

MCQ Vachya वाच्य class 10 cbse board new 2021

MCQ Vachya  वाच्य class 10 cbse board new 2021 CBSE Change question paper pattern in hindi. Hindi Grammar asking MCQ's. वाच्य Vachya topic given multiple cohice question with answer.     सीबीएसइ कक्षा 10 की हिन्दी  अ Syllabus 2021 में अब अधिकतर Questions Objective  टाइप के प्रश्न पूछे जाएंगें। यहां पर Vachya वाच्य टॉपिक से दे रहे हैं। Vachya Topic  में 5 में से 4  इस वाच्य टॉपिक questions आएंगे। वाच्य शब्द का अर्थ बोलने का तरीका वाच्य कहलाता है। ऐसा वाक्य जहां पर क्रिया का पर प्रभाव कर्ता, कर्म या भाव का पड़ता है तो क्रिया उसी के अनुसार परिवर्तित होती है। इस तरह से वाच्य तीन प्रकार के हुए। क्योंकि तीन तरह से क्रिया पर प्रभाव पड़ता है। यानी  1 कर्ता  2 कर्म  3 भाव क्रिया विधानों के अनुसार वाच्य 3 तरह के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य (Active Voice) 2. कर्मवाच्य (Passive Voice) 3. भाववाच्य (Impersonal Voice) कर्तृवाच्य व अ कर्तृवाच्य   के अनुसार वाच्य दो प्रकार के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य 2  अ कर्तृवाच्य  अ कर्तृवाच्य के दो भेद होते हैं-        i. कर्मवाच्य (Passive Voice)         ii भावव

MCQ Balgobin Bhagat CBSE Class 10

  MCQ Balgobin Bhagat CBSE Class 10  बालगोबिन भगत पाठ, लेखक रामवृक्ष बेनीपुरी क्षितिज भाग- क्षितिज भाग- 2 बुक से MCQ Balgobin Bhagat, CBSE Class 10  CBSE 2023  नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार इस बार हिन्दी अ पाठ्यक्रम में पेपर में दो खंड होंगे। अ और ब खंड हैं। Examination में  MCQ क्यूश्चन ( questions) पूछा जाएगा।  इस   सीरीज में MCQ Balgobin Bhaghat CBSE Class 10  MCQ दे रहे हैं। कक्षा 10 क्षितिज भाग 2 book kshitij   से Balgobin Bhaghat  MCQ  CBSE Class 10  पर बहुविकल्पी MCQs प्रश्न दे रहे हैं। Class 10 Hindi Class YouTube Channel Link    निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्पों पर टिक ​लगाइए —  1 भगत जी कौन-सा काम करते थे? i खेतीबारी ii नौकरी iii भजन गाते ​थे iv व्यापार करते थे उत्तर—i  खेतीबारी 2 बालगोबिन भगत किसको साहब कहते थे? i भगवान ii कबीर iii जमींदार iv मुखिया उत्तर—ii कबीर 3. बालगोबिन भगत साहब के दरबार में फसल ले जाते थे। यहां साहब के दरबार से क्या अभिप्रायय है? i जमींदार की हवेली ii राजा का दरबार iii कबीरपंथी मठ iv मंडी उत्तर—iii कबीरपंथी मठ 4.  ठंडी पुरवाई का क्या मतल

MCQ Ras Hindi class 10 cbse Update 2023

MCQ Ras Hindi class 10 cbse Update 2023 MCQ Ras Hindi class 10 cbse Ras Hindi MCQ class# 10 CBSE board new# syllabus objective questions. New gyan dotcom Gmail important question topic ras रस पर क्वेश्चन आंसर यहां दिये जा रहे हैं।‌  If you have any problem of the topic of Hindi Ras write a comment, I will solve your problems within 24 hours. You have know that  multiple choice question coming Hindi grammar section class of 10.  Ras,  Rachna ke Aadhar per Vakya, Pad Parichy,  aur Vachy. रस, रचना के आधार पर वाक्य, पद परिचय और वाच्य है। यहां पर रस पर आधारित MCQ क्वेश्चन दिए जा रहे हैं यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा कई प्रतियोगी परीक्षा के लिए भी रस पर MCQ  प्रश्न काफी आते हैं। Given 10 topic question answer objective type. latest 2022-23 रस के बहुविकल्पी प्रश्न के उत्तर भी लिखे हुए हैं। १. निम्नलिखित प्रश्नों में दिए गए चार विकल्पों में से सर्वश्रेष्ठ सही विकल्प चुनिए। रस  को काव्य की आत्मा माना जाता है। " जब किसी नाटक, काव्य में आनंद की अनुभूति होती है त

Laghu Katha Lekhan CBSE Board

     लघु कथा कैसे लिखें, उदाहरण से समझें CBSE board hindi  प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा (laghu katha)  लिखना। CBSE Board 9th class Laghu Katha lekhan दसवीं बोर्ड की कक्षा 9 के सिलेबस में और कई  बोर्ड की परीक्षा में इस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं।  (new syllabus 2022 Laghu Katha lekhan)    दिए गए प्रस्थान बिंदु (prasthan Bindu) का मतलब है कि दो या चार लाइन लघुकथा के दिए होते हैं। उसके बाद आपको 80 से 100 शब्दों में लघुकथा को पूरा करना होता है। उसका एक शीर्षक (title) लिखना होता है।  नई शिक्षा नीति 2020 (New Education Policy) में भाषा में रचनात्मक लेखन (Creative Writing) को बढ़ावा दिया गया है। इसलिए  हिंदी Hindi, अंग्रेजी, मराठी  उर्दू किसी भी भाषा के पेपर में संवाद लेखन, लघुकथा, लेखन अनुच्छेद, (anuchchhed lekhan) लेखन, विज्ञापन लेखन, (Vigyapan lekhan) सूचना लेखन (Hindi mein Suchna lekhan) जैसे टॉपिक में नई शिक्षा नीति के ( new education policy 2021) अंतर्गत सिलेबस में रखे गए हैं।  लघुकथा लेखन 9 व 10 की परीक्षा में पूछा जाता है Laghu katha lekhan in Hindi in board examination

भारतीय आजादी के गुमनाम नायक

भारतीय आजादी के गुमनाम नायक bhaarateey aajaadee ke gumanaam naayak 2022 आज हम अपनी मर्जी से कहीं भी आ जा सकते हैं, पढ़ लिख सकते हैं अपने मनपसंद का करियर चुन सकते हैं, क्योंकि हम आजाद हैं और इस आजादी के लिए वीरों ने अपनी आहुति दी है, पर जब स्वतंत्रता सेनानियों के नाम बताने की बारी आती है तो हम सिर्फ गिने-चुने नाम ही बता पाते हैं, जबकि हकीकत यह है कि आजादी सिर्फ कुछ लोगों के बलिदान से नहीं मिली बल्कि इसके लिए बहुतों ने अपनी जान गंवाई। इनमें से कई तो गुमनामी की अंधेरों में खो चुके हैं। हम आपको ऐसे ही स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्होंने आज़ादी की लड़ाई में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी-  आजादी के गुमनाम नायक हम बताने जा रहे हैं आजादी के महानायक जिनको हम भूल गए हैं-- कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी भारत छोड़ो आंदोलन से जुड़ने वाले कन्हैयालाल कई बार अंग्रेजी शासन के खिलाफ आवाज उठाने के आरोप में गिरफ्तार किए गए और अंग्रेजों के जुल्म का शिकार हुए पर उन्होंने कभी हार नहीं मानी हर बार दुगनी ताकत के साथ अंग्रेजों से मुकाबला किया। भगत सिंह, चंद्रशेखर आजा