किशोरावस्था में गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड से दूर रहने वाले छात्र एग्जामिनेशन में करते हाई स्कोर

जिन बच्‍चों के नहीं होते बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड, उनके आते हैं अच्‍छे नंबर- रिसर्च में हुआ खुलासा।

 एक रिसर्च से हुआ खुलासा विशेषज्ञों  के मुताबिक जो बच्चे स्कूल में सिंगल रहते हैं उनका विकास सही तरीके से होता है।
Research की खास बातें-
 रिसर्च से यह सामने आया कि गर्लफ्रेंड  या ब्वॉयफ्रेंड  नहीं होने वाले बच्चों के नंबर  ज्यादा आते हैं।
 रिसर्च के मुताबिक अकेले रहने वाले इन बच्चों का स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है
रिसर्च से खुलासा हुआ कि सिंगल बच्चों का समाज में स्तर अच्छा होता है।
प्रयागराज। जिन बच्चों के गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड नहीं होते हैं उनका मानसिक स्वास्थ्य अच्छा होता है और यही नहीं उनके परीक्षा में अंक भी अधिक आते हैं।
रिसर्च में बताया गया कि जो किशोरावस्था में प्यार के चक्कर में  होते हैं, उनकी तुलना में ऐसे  किशोर जो किशोरावस्था में प्यार में नहीं पड़ते हैं, उनकी मानसिक स्थिति बेहतर होती है।
 डेली मेल की खबर के अनुसार यह रिसर्च यूनिवर्सिटी ऑफ जॉर्जिया ने 600 छात्रों के ऊपर किया था रिसर्च में टीचर्स की रेटिंग और छात्रों से पूछे गए सवालों को शामिल किया गया था।
एक्सपर्ट के अनुसार स्कूल  ने बच्चों को सिंगल रहने के फायदे तो बताना चाहिए ताकि उनका सेहतमंद तरीके से विकास हो सके।

समझें आँखों की भाषा’  पढ़ने के लिए क्लिक करें

 रिसर्च के आंकड़ों के अनुसार जो रोमांटिक रिलेशनशिप में नहीं उनका डिप्रेशन लेवल बहुत कम था जबकि ऐसे लोग जो रोमांटिक रिलेशनशिप में थे उनका डिप्रेशन लेबल अधिक था।
यह रिसर्च कक्षा 6 से 12 तक के पढ़ने वाले छात्रों पर किया गया था। यह स्टडी जर्नल ऑफ स्कूल हेल्थ में पब्लिश हुई।

See also  Online hindi cbse alternative academy calender activities study

 और पढ़ने के लिए क्लिक करें

अच्छे वैवाहिक जीवन के लिए खुद को बदलें।

Leave a Comment