क्या आप जानते हैं?

मोहनदास करमचंद गांधी से महात्मा गांधी

कॉपी राइट अगर आपको यह आर्टिकल प्रकाशन के लिए उपयोग करना है तो मेरे मेल पर संपर्क ​कीजिए। [email protected]

अभिषेक कांत पाण्डेय
महात्मा गांधी के बारे में तुम बहुत कुछ जानते होगे कि उन्होंने हमारे देश की आजादी के लिए बहुत बड़े-बड़े आंदोलन किया। उनके मार्गनिर्देशन में ही आजादी का आंदोलन चला और उनके सत्य, अहिंसा और सत्याग्रह के कारण ही हमें अंग्रेजों से आजादी मिली। गांधी जयंती के अवसर पर आओ उनकी शिक्षाओं और उनके बारे में जानें-
————————————————————————————–

सत्य और अहिंसा का पाठ सीखाने वाले सदी के नायक का नाम कौन नहीं जानता है। अंग्रेजों से अहिंसा के बल पर भारत को आजादी दिलाने वाले महात्मा गांधी का नाम सारी दुनिया में जाना जाता है। मोहन करमचंद गांधी से महात्मा गांधी बनने की एक लंबी गाथा है। 2 अक्टूबर 1869 में गुजरात के पोरबंदर में जन्में गांधीजी अपने विद्यार्थी जीवन में एक औसत छात्र थे। लेकिन अपनी मेहनत और देश के प्रति प्रेम के कारण वे आाजादी के महानायक बनें। सत्य व अहिंसा का पाठ पढ़ाने वाले सबके प्यारे बापू आज भी हमारे लिए एक महत्वपूर्ण व्यक्तित्व हैं।
सत्य के प्रयोग
गांधीजी ने अपना सारा जीवन सच्चाई और ईमानदारी में बिताया है। स्वयं की गलतियों से सीखते हुए, उन्होंने अपने जीवन में किए गए सत्य के प्रयोग पर किताब ‘मेरे सत्य के प्रयोग’ लिखी है। यह किताब आंग्रेजी भाषा में लिखी गई, जिसका हिंदी में अनुवाद बहुत लोकप्रिय हुआ। महात्मा गांधी के जीवन की झलक इस पुस्तक में मिलती है। बच्चों, तुम्हें यह किताब जरूरी पढ़नी चाहिए। गांंधी जब युवक थे तो वे पश्चिमी संस्कृति से बहुत ही प्रभावित थे। उनके जीवन में आए कई बदलाव ने उन्हें मानवता का सेवक बना दिया। महात्मा गांधी ने अपनी जीवनी में लिखा है, ‘मुझे आत्मकथा के बहाने सत्य के जो अनेक प्रयोग मैंने किए हैं, उसकी कथा लिखी है।’
अनशन और अहिंसा
महात्मा गांधी ने भारत की आजादी के लिए पूरा जीवन न्योछावर कर दिया। वे भारत में अंग्रजों के अत्याचार से दुखी थे। वे हर कीमत पर भारत की आजादी चाहते थे। इसीलिए वे भारत की आजादी के लिए दक्षिण अफ्रिका से अपने देश आएं। यहां पर भारतीयों और खासतौर पर दलितों की दुरदशा देखकर बहुत दुखी हुएं। यहीं से उनके जीवन में बदलाव आया और अब वे भारत की आजादी के लिए एक नए तरीके की खोज की, जिसे आज सारी दुनिया ने अपनाया वह था, आहिंसा और अनशन। अहिंसा यानी बिना हिंसा के अपनी बात मनवाने के लिए अनशन करना। सत्य की इस लड़ाई में गांधीजी अब भारतीयों के नायक बन चुके थे। उस समय लाखों लोग उनके साथ भारत की आजादी के संग्राम में कूद पड़े। जिसका परिणाम यह हुआ की आज हम आजाद भारत में रह रहे हैं। हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के निवासी हैं और इस बात पर हम भारतीयों को गर्व है।
गांधी के सपनों का संसार
गांधीजी ने हमें कुछ बातें बताईं, जिन्हें हमें अपने जीवन में उतारना चाहिए। गांधीजी ने अपने जीवन में सत्य, अहिंसा, ब्रह्मचर्य, सादगी से जीवन जीना और स्वयं पर विश्वास रखने की बात बताई है। इसीलिए उन्हें ‘जन नायक’, ‘महात्मा’, ‘बाप’ू, ‘राष्ट्रपिता’ के उप नाम से हम लोग पुकारते हैं। सत्य के बारे में गांधीजी ने कहा है कि सत्यता का साथ देने पर हमें भय-असुरक्षा से मुक्ति मिलती है। सादा जीवन, उच्च विचार उन्होंने अपने जीवन में उतारा था। उनके मन में एक सच्चे भारत की तस्वीर थी। जहां चारों ओर खुशिहाली और भाईचारा हो। लेकिन आज हम गांधीजी की बातों को भूलते जा रहे हैं। सही अर्थों में अगर हम महात्मा गांधी के विचारों को अपने जीवन में उतार ले तो निश्चित ही ये दुनिया ‘गांधी के सपनों का संसार’ बन जाएगी। जहां न कोई युद्ध होगा और न कोई दुखी होगा।

मोहन करमचंद गांधी से महात्मा गांधी
एके पाण्डेय
महात्मा गांधी के बारे में तुम बहुत कुछ जानते होगे कि उन्होंने हमारे देश की आजादी के लिए बहुत बड़े-बड़े आंदोलन किया। उनके मार्गनिर्देशन में ही आजादी का आंदोलन चला और उनके सत्य, अहिंसा और सत्याग्रह के कारण ही हमें अंग्रेजों से आजादी मिली। गांधी जयंती के अवसर पर आओ उनकी शिक्षाओं और उनके बारे में जानें-
————————————————————————————–

See also  Tips: say sorry to life partner/पार्टनर से इस तरह बोले सॉरी

सत्य और अहिंसा का पाठ सीखाने वाले सदी के नायक का नाम कौन नहीं जानता है। अंग्रेजों से अहिंसा के बल पर भारत को आजादी दिलाने वाले महात्मा गांधी का नाम सारी दुनिया में जाना जाता है। मोहन करमचंद गांधी से महात्मा गांधी बनने की एक लंबी गाथा है। 2 अक्टूबर 1869 में गुजरात के पोरबंदर में जन्में गांधीजी अपने विद्यार्थी जीवन में एक औसत छात्र थे। लेकिन अपनी मेहनत और देश के प्रति प्रेम के कारण वे आाजादी के महानायक बनें। सत्य व अहिंसा का पाठ पढ़ाने वाले सबके प्यारे बापू आज भी हमारे लिए एक महत्वपूर्ण व्यक्तित्व हैं।
सत्य के प्रयोग
गांधीजी ने अपना सारा जीवन सच्चाई और ईमानदारी में बिताया है। स्वयं की गलतियों से सीखते हुए, उन्होंने अपने जीवन में किए गए सत्य के प्रयोग पर किताब ‘मेरे सत्य के प्रयोग’ लिखी है। यह किताब आंग्रेजी भाषा में लिखी गई, जिसका हिंदी में अनुवाद बहुत लोकप्रिय हुआ। महात्मा गांधी के जीवन की झलक इस पुस्तक में मिलती है। बच्चों, तुम्हें यह किताब जरूरी पढ़नी चाहिए। गांंधी जब युवक थे तो वे पश्चिमी संस्कृति से बहुत ही प्रभावित थे। उनके जीवन में आए कई बदलाव ने उन्हें मानवता का सेवक बना दिया। महात्मा गांधी ने अपनी जीवनी में लिखा है, ‘मुझे आत्मकथा के बहाने सत्य के जो अनेक प्रयोग मैंने किए हैं, उसकी कथा लिखी है।’
अनशन और अहिंसा
महात्मा गांधी ने भारत की आजादी के लिए पूरा जीवन न्योछावर कर दिया। वे भारत में अंग्रजों के अत्याचार से दुखी थे। वे हर कीमत पर भारत की आजादी चाहते थे। इसीलिए वे भारत की आजादी के लिए दक्षिण अफ्रिका से अपने देश आएं। यहां पर भारतीयों और खासतौर पर दलितों की दुरदशा देखकर बहुत दुखी हुएं। यहीं से उनके जीवन में बदलाव आया और अब वे भारत की आजादी के लिए एक नए तरीके की खोज की, जिसे आज सारी दुनिया ने अपनाया वह था, आहिंसा और अनशन। अहिंसा यानी बिना हिंसा के अपनी बात मनवाने के लिए अनशन करना। सत्य की इस लड़ाई में गांधीजी अब भारतीयों के नायक बन चुके थे। उस समय लाखों लोग उनके साथ भारत की आजादी के संग्राम में कूद पड़े। जिसका परिणाम यह हुआ की आज हम आजाद भारत में रह रहे हैं। हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के निवासी हैं और इस बात पर हम भारतीयों को गर्व है।
गांधी के सपनों का संसार
गांधीजी ने हमें कुछ बातें बताईं, जिन्हें हमें अपने जीवन में उतारना चाहिए। गांधीजी ने अपने जीवन में सत्य, अहिंसा, ब्रह्मचर्य, सादगी से जीवन जीना और स्वयं पर विश्वास रखने की बात बताई है। इसीलिए उन्हें ‘जन नायक’, ‘महात्मा’, ‘बाप’ू, ‘राष्ट्रपिता’ के उप नाम से हम लोग पुकारते हैं। सत्य के बारे में गांधीजी ने कहा है कि सत्यता का साथ देने पर हमें भय-असुरक्षा से मुक्ति मिलती है। सादा जीवन, उच्च विचार उन्होंने अपने जीवन में उतारा था। उनके मन में एक सच्चे भारत की तस्वीर थी। जहां चारों ओर खुशिहाली और भाईचारा हो। लेकिन आज हम गांधीजी की बातों को भूलते जा रहे हैं। सही अर्थों में अगर हम महात्मा गांधी के विचारों को अपने जीवन में उतार ले तो निश्चित ही ये दुनिया ‘गांधी के सपनों का संसार’ बन जाएगी। जहां न कोई युद्ध होगा और न कोई दुखी होगा।

कॉपी राइट अगर आपको यह आर्टिकल प्रकाशन के लिए उपयोग करना है तो मेरे मेल पर संपर्क ​कीजिए। [email protected]

See also  एक्टर के लिए मिमिक्री और रिजोनेटर्स की पहचान क्यों ज़रूरी Tips

About the author

Abhishek pandey

Author Abhishek Pandey, (Journalist and educator) 15 year experience in writing field.
newgyan.com Blog include Career, Education, technology Hindi- English language, writing tips, new knowledge information.

Leave a Comment

हिंदी में बेस्ट करियर ऑप्शन, टिप्स CBSE Board Exam tips 2024 एग्जाम की तैयारी कैसे करें, मिलेगा 99% अंक