सृजनात्मक लेखन बच्चों में आभव्यक्ति का विकास करती है। कहानी, कविता व लेख लेखन से बच्चे अपने आसपास की विषय वस्तु, घटनाक्रम व विश्लेषण की अदृभुत श्रमता का विकास करते हैं। बच्चों दृवारा लिखित कहानी, कविता व लेख आदि से उनकी समझ का विकास और दुनिया के साथ स्थानीय परिवेश को देखने की झमता की अभिवृद्धि् होती है। इस श्रृंखला में बच्चों से मौलिक लेखन के लिए प्रेरित करना और उनके लिखे लेखों को प्रकाशित कराना उनके सृजनात्मक कल्पना शक्ति को निखारना शिक्षा का एक अनिवार्य भाग है।
कक्षा 1 से लेकर 12 तक के विद्यार्थी अपनी मौलिक रचना कहानी, लेख्र, कविता,यात्रा वृतांत भ्रेजे मेल 
abhishekkantpandey@gmail.com
See also  ऑफिस में डेडलाइन के अंदर काम करने के तरीके

Leave a Comment