CBSE Board Class 10 Education funda Hindi

ram lakshman parshuram samvad class 10 multiple question answer राम लक्ष्मण परशुराम संवाद

MCQ Ram lakshman parshuram samvad class 10  multiple question answer राम लक्ष्मण परशुराम संवाद

‘राम-लक्ष्मण-परशुराम संवाद’ पाठ  क्षितिज भाग 2 से नये सिलेबस के अनुसार बहुविकल्पीय प्रश्नों के उत्तर आपके सामने नीचे दिया गया है। इसे आप समझकर प्रैक्टिस करना शुरू कीजिए।  पाठ ( lesson) को ध्यान से इस बहुविकल्पी प्रश्न उत्तर के नजरिए से पढ़िए अगर आप इन प्रश्नों के बहुविकल्प कर सकेंगे तो फिर आप अच्छे अंक हासिल कर सकते हैं।
 इसलिए हर पाठ का गहराई से अध्ययन की आवश्यकता है।
नीचे प्रश्न दिए गए हैं, उनका उत्तर जानने के लिए आप इसी प्रश्न-उत्तर का यूट्यूब वीडियो क्लास देखें। जहां मैंने इसे बहुत ही अच्छी तरीके से एक्सप्लेन (विश्लेषण) किया है। यूट्यूब का लिंक नीचे दिया हुआ है क्लिक करके आप यूट्यूब वीडियो देख सकते हैं-

कक्षा 10 सीबीएसई बोर्ड में चलने वाली हिंदी का पाठ्यक्रम के नए परीक्षा पैटर्न में  आज आपसे बहुविकल्पी प्रश्न के बारे में चर्चा करेंगे।
 कक्षा 10 के नए पाठ्यक्रम में बहुविकल्पी प्रश्न पेपर के खंड अ में आएँगे।
 जिसमें से आज हम क्षितिज भाग 2 से जो प्रश्न पूछे जाएंगे बहुविकल्पी प्रकार के, उनका अध्ययन करेंगे।
आज क्षितिज भाग 2 का पहला पाठ सूरदास से संबंधित अपठित गद्यांश से बनने वाले प्रश्नों के उत्तर के बारे में चर्चा करेंगे और कुछ प्रश्न आपसे हल भी करवाएंगे तो आइए इस क्लास को शुरू करते हैं-

निम्नलिखित काव्यांश को ध्यान से पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर चुनकर लिखिए। cbse Mcq 2021

नाथ संभुधनु भंजनिहारा। होइहि केउ एक दास तुम्हारा॥
आयसु काह कहिअ किन मोही। सुनि रिसाइ बोले मुनि कोही॥
सेवकु सो जो करै सेवकाई। अरि करनी करि करिअ लराई॥
सुनहु राम जेहिं सिवधनु तोरा। सहसबाहु सम सो रिपु मोरा॥
सो बिलगाउ बिहाइ समाजा। न त मारे जैहहिं सब राजा॥
सुनि मुनि बचन लखन मुसुकाने। बोले परसुधरहि अपमाने॥
बहु धनुहीं तोरीं लरिकाईं। कबहुँ न असि रिस कीन्हि गोसाईं॥
एहि धनु पर ममता केहि हेतू। सुनि रिसाइ कह भृगुकुलकेतू॥
दोहा :
 रे नृप बालक काल बस बोलत तोहि न सँभार।
धनुही सम तिपुरारि धनु बिदित सकल संसार॥
1. परशुराम के क्रोध को शांत करने के लिए राम ने उनसे क्या कहा?
I. धनुष तोड़ने वाला आपका कोई सेवक होगा।
II. धनुष तोड़ने वाला कोई राजकुमार है।
III.यह धनुष अपने आप ही टूट गया।
IV. इनमें से कोई भी उत्तर सही नहीं है।
2. शिवजी के धनुष को तोड़ने वाले के विरुद्ध परशुराम ने किस प्रकार के व्यवहार का संकल्प लिया?
I. धनुष तोड़ने वाला मेरे लिए शत्रु के समान है।
II. धनुष तोड़ने वाला मेरे लिए सहस्त्रबाहु के समान है।
III. वह तुरंत इस समाज को छोड़कर अलग हो जाए नहीं तो सभी राजा मारे जाएंगे।
IV. सभी विकल्प सही हैं।
3. लक्ष्मण के किस बात से परशुराम का क्रोध और बढ़ गया-
I. बचपन में हमने बहुत-सी धनुइया तोड़ी, तब तो आपने क्रोध नहीं किया लेकिन अब इस धनुष पर इतनी ममता क्यों?
II. क्षमा कीजिए, धनुष तो अपने आप ही टूट गया, इसमें हमारी कोई गलती नहीं।
III. धनुष टूटने का उचित मूल्य बताइए, हम उसे चुका देंगे।
IV.  विकल्प 1 व 2 सही हैं।
4. ‘भृगुकुलकेतु’ किसे कहा गया है?
I. विश्वामित्र को
II. परशुराम को
III. वहाँ पर उपस्थित महाराजाओं को
IV. दिए गए विकल्पों में से कोई भी नहीं।
5 स्वयंवर में जो धनुष टूट गया था, वह धनुष किसका था?
I. परशुराम जी के आराध्य शिवजी का
II. राजा जनक का
III. विष्णु जी का
IV. दिए गए विकल्पों में से कोई नहीं।
ऊपर लिखित काव्यांश किस भाषा में लिखा गया है-
I. ब्रजभाषा
II. हिन्दी
III. पश्चिमी हिन्दी
IV.अवधी
7 उपर्युक्त लिखे काव्यांश के कवि का नाम बताइए।
I. सूरदास
II. तुलसीदास
III. कबीर
IV. दिए गए विकल्पों में से कोई नहीं।
8. धनुष टूटने पर कौन क्रोधित हुए?
I.राजा जनक
II.विश्वामित्र
III. लक्ष्मण
IV. परशुराम
9. ‘रिपु’ का अर्थ-
I. मित्र
II. राजा
III. शत्रु
IV. सहस्रबाहु
10. धनुष टूटने पर परशुराम क्यों क्रोधित हुए?
I. परशुराम  शिवजी के भक्त थे और उन्हें शिवजी का धनुष प्रिय था।
II. उन्हें सभा में बुलाया नहीं गया था।
III. परशुराम जी क्रोधी स्वभाव के थे।
IV. उपर्युक्त में से कोई भी विकल्प सही नहीं है।
संबंधित स्टडी मैटेरियल Click now

About the author

admin

नमस्कार दोस्तो!
New Gyan हिंदी भाषा में शैक्षणिक और सूचनात्मक विषयवस्तु (Educational and Informative content) के साथ ज्ञान की बातें बतलाता है। हिंदी-भाषा में पढ़ाई-लिखाई, ज्ञान-विज्ञान, साहित्य, तकनीक आदि newgyan website नया ज्ञान आपको बताता है। इंटरनेट जगत में यह उभरती हुई हिंदी की वेबसाइट है। हिंदी भाषा से संबंधित शैक्षिक (Educational) साहित्य (literature) ज्ञान, विज्ञान, तकनीक, सूचना इत्यादि नया ज्ञान, new update, नया तरीका बहुत ही सरल सहज ढंग से प्रस्तुत करते हैं।
ब्लॉग के संस्थापक Founder of New gyan
अभिषेक कांत पांडेय- शिक्षक, लेखक- पत्रकार, ब्लॉग राइटर, हिंदी विषय -विशेषज्ञ के रूप में 15 साल से अधिक का अनुभव है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट पर विभिन्न विषय पर लेख प्रकाशित होते रहे हैं।
शैक्षिक योग्यता- इलाहाबाद विश्वविद्यालय से फिलासफी, इकोनॉमिक्स और हिस्ट्री में स्नातक। हिंदी भाषा से एम० ए० की डिग्री। (MJMC, BEd, CTET, BA Sanskrit)
प्रोफेशनल योग्यता-
इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पत्रकारिता मे डिप्लोमा की डिग्री, मास्टर आफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, B.Ed की डिग्री।
उपलब्धि-
प्रतिलिपि कविता सम्मान
Trail social media platform writing competition winner.
प्रतिष्ठित अखबार में सहयोगी फीचर संपादक।
करियर पेज संपादक, न्यू इंडिया प्रहर मैगजीन समाचार संपादक।

2 Comments

Leave a Comment