Cloud service providers in cloud computing in Hindi

Cloud service providers Hindi :आज के आर्टिकल में आप जाने की क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विस क्या है? Cloud service providers in cloud computing in Hindi में पूरी जानकारी दे रहे हैं, जिससे आप Cloud Computing टेक्नोलॉजी को अपनाकर Storage, Money और Time बचा सकते हैं। इस तरह की पूरी जानकारी हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से सरल और प्रभावी ढंग से बताने जा रहे हैं। cloud computing के बारे में general knowledge आप तक पहुंचा रहे हैं।‌

भारत के धीरे-धीरे क्लाउड सर्विसिंग टेक्नोलॉजी पर लोगों का विश्वास बन रहा है। यह तेज गति से काम करने वाली टेक्नोलॉजी है जो समय और स्टोरेज दोनों बचाता है। USA में 60% से भी अधिक इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के लोग अपनी वेबसाइट और दूसरी जानकारी क्लाउड सर्विस के माध्यम से ही प्रस्तुत करते हैं। असल में इस क्लाउड सर्विस से में डाटा अधिक सुरक्षित रहता है। Blogger और Business website के लिए या बेहतर विकल्प है। Cloud service providers Hindi में जानकारी आपके लिए उपयोगी है।

Cloud Computing का इस्तेमाल क्यों करते हैं

आपको बता दें कि क्लाउड सर्विस के माध्यम से हम अपने स्मार्टफोन व कंप्यूटर में अपनी वीडियो डॉक्यूमेंट पिक्चर्स को सेव करके स्टोर करते हैं। जो बहुत ही सुरक्षित होता है। cloud एक ऐसी service है जो बहुत तेजी से डाटा यूजर तक पहुंचाती है और यूजर्स के डाटा को बहुत अच्छे तरीके से सुरक्षित रखती है। उदाहरण के तौर पर आपको बता दें कि Gmail, Google Drive, iCloud आदि क्लाउड सर्विस के जरिए ही आप तक पहुंचती हैं।

यदि आप अपने बिजनेस के लिए ऑनलाइन डाटा को सुरक्षित करने के लिए कोई सर्विस के बारे में खोज रहे हैं तो ऐसी कई Cloud Computing Services है जो आपके वेबसाइट और डाटा को सुरक्षित ढंग से ऑनलाइन सेव करने और उसे एक्सेस करने का आसान बना देती है।

इसमें से कुछ उदाहरण क्लाउड सर्विस की है जिसे आप किराए पर लेकर अपनी वेबसाइट और डाटा को सुरक्षित ढंग से उपयोग कर सकते हैं। यह सबसे बड़े क्लाउड सर्विस प्लेटफॉर्म है। इसका उदाहरण निम्नलिखित है-

  • AWS (Amazon Web Services),
  • Azure- Microsoft,
  • Google Cloud

अगर कोई न्यूज़ आज अपने डेटा को क्लाइड सर्विस से सुरक्षित करना चाहता है। तो वह नए क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर सर्विस को ले सकता है इसमें खर्चा कम आता है।

क्लाउड कंप्यूटिंग टेक्नोलॉजी

अब हम आपको बताने जा रहे हैं कि क्लाउड कंप्यूटिंग टेक्नोलॉजी क्या है? या टेक्नोलॉजी पूरी तरीके से इंटरनेट पर निर्भर है। अगर आप क्लाउड सर्विस जैसे गूगल ड्राइव आईक्लाउड का आनंद लेना चाहते तो आपके पास इंटरनेट होना जरूरी है। इसलिए सकते हैं कि क्लाउड सर्विसेज इंटरनेट के द्वारा ही चलता है। और यह पूरी तरीके से सुरक्षित है यह आपकी स्टोर डाटा को सुरक्षित रखता है और अपलोड डाउनलोड प्रक्रिया को बहुत तेज गति से पूरा करता है।

अब बात करेंगे कि cloud computing क्या है cloud technology की विशेषता, प्रकार इसके एप्लीकेशन के उपयोग क्या है? इस आर्टिकल पूरी बात हम आपको बताएंगे।
cloud computing information आपके लिए बहुत फायदेमंद है, क्योंकि अगर आप क्लाउड कंप्यूटिंग के बारे में और क्लाउड कंप्यूटिंग इंटरनेट स्टोरेज के बारे में जानकारी उतना नहीं रखते हैं तो यह आर्टिकल आपको एक बेहतरीन जानकारी cloud computing technology पर आधारित सरल और सहज भाषा हिंदी में देने जा रही है।

Cloud क्या है?

क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विस शब्द का प्रयोग अंग्रेजी में किया जाता है। सबसे पहले हम आपको बता दें कि क्लाउड शब्द का अर्थ बादल होता है। लेकिन टेक्नोलॉजी में इसका अर्थ अलग है। इसको इस तरह से आप समझ सकते हैं कि क्लाउड एक सर्वर टेक्नोलॉजी होता है। सर्वर के डाटा को इंटरनेट के जरिए किसी दूसरे कंप्यूटर में एक्सेस किया जा सकता है।

See also  Medical Career 2023: मेडिकल में करियर, पूरी जानकारी

जैसे मान लीजिए कि आप अपने कंप्यूटर पर E mail से अपना User ID डालकर अपना डाटा एक्सेस करना चाहते अली कोई ईमेल पढ़ना चाहते हैं तो यह प्रक्रिया जीमेल क्लाउड होस्टिंग के जरिए आपके कंप्यूटर एक्सेस होती है। कभी आप अपने कंप्यूटर पर तीव्र गति से जीमेल के डाटा को एक्सेस कर लेते हैं।
क्लाउड होस्टिंग का यही काम है कि वह डाटा को इंटरनेट के जरू आपके कंप्यूटर पर बहुत तेज, तीव्र गति सुरक्षित तरीके से लोड होता है। इस तरह से आप इंटरनेट सर्फिंग एक्सेस कर पाते हैं।

अगर इसे एक डिटेल में पता है तो cloud1 सर्वर टेक्नोलॉजी है। इस सर्वर को इंटरनेट के जरिए एक्सेस किया जाता है। ‌ इसके जरिए इसके server, Business, user database और application Store किया जाता है।

इंटरनेट पर Google drive, AdSense, सर्विसेस है वह सब इस समय क्लाउड सर्विस के अकॉर्डिंग ही चलती है। information picture file video data यह सब क्लाउड सर्विस के जरिए आसानी से यूजर्स अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर इंटरनेट के बाद दे उसे एक्सेस कर सकता है।

Cloud Computing क्या हैं? (Cloud computing in Hindi)

Cloud computing kya hai इस प्रश्न का जवाब सरल ढंग से Cloud service providers Hindi में समझें।
Cloud Computing एक सर्विस है। इस सर्विस को देने वाले कई Cloud Service Provider
हैं। जैसे AWS (Amazon Web Services), Azure, Google इत्यादि। जब आप अपने बिजनेस या पर्सनल इस्तेमाल के लिए वर्चुअल स्टोरेज खरीदना चाहते हैं तो यही क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर आपको किराए पर डाटा को रखने और उसे एक्सेस करने की सुविधा इंटरनेट के द्वारा प्रदान करते हैं। जिससे यूजर्स अपना डाटा अपलोड डाउनलोड कर सकता है, बैकअप की सुविधा मिलती है।
मान लीजिए किसी ब्लॉगर का एक ब्लॉग है तो इसमें लिखी सामग्री और फोटो वगैरा सब क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर के वर्चुअल स्टोरेज में सुरक्षित होती है और इससे वह और उसके ढेर सारे कंजूमर डाउनलोड करके उस ब्लॉग की सामग्री को देख सकते हैं पढ़ सकते हैं।

आपको बता दें कि क्लाउड कंपनी प्रोवाइडर के निम्नलिखित नाम है जो आज इंटरनेट के जरिए अपनी सेवा दे रहे हैं।

  • ICloud
  • Google Drive
  • Dropbox

यह क्लाउड स्टोरेज कंपनी है और स्टोरेज इन यूजर अपने मन मुताबिक डेटा का उपयोग इसमें कर सकते हैं। आप जानते हैं कि डाटा के रूप में Videos, Files, pictures होता है जिसे स्टोर करने के लिए क्लाउड कंप्यूटिंग स्टोरेज सर्विस की आवश्यकता होती है।

अगर यही काम हम अपने बिजनेस के लिए एक server बनाए तो इसमें बहुत अधिक खर्चा आता है जबकि क्लाउड server बना बनाया होता है, इसको अपने मुताबिक हम उपयोग कर सकते हैं, बस इसका किराया देना होता है और इस लिहाज से यह बहुत ही सस्ता पड़ता है। क्योंकि क्लाउड सरवर उपलब्ध कराने वाली कंपनियां इसकी देखरेख सुरक्षा की जिम्मेदारी उनके पास होती है बस आपको डाटा स्टोर करने की जगह मिल जाती जिससे इंटरनेट के माध्यम से आप अपना बिजनेस वेबसाइट या ब्लॉग आसानी से चला सकते हैं।

आप चाहे तो क्लाउड स्टोरेज सर्विस निम्नलिखित है इसमें से आप अपने लिए डाटा रखने का स्टोरेज स्पेस से किराए पर खरीद सकते हैं। उसका पैसा हर महीने आप को चुकाना होता है। खुद की कंपनी का डेटाबेस सरवर और उस पर आने वाले कर्मचारियों का खर्चे बहुत अधिक होता है इसलिए क्लाउड स्टोरेज सर्विस का फायदा उठा कर आप अपना पैसा और समय दोनों बचाते हैं। इसके साथ यह बहुत सुरक्षित है।
Aws (Amazon web Service), IBM Cloud, Google cloud Service, Microsoft cloud से Cloud Storage यहां से खरीद सकते हैं।

क्लाउड स्टोरेज के 3 बेहतरीन फायदे हैं-

  • पहला कि पैसा आपका बचाता है।
  • दूसरा डाटा आसानी से तीव्र गति से एक्सेस कर सकते हैं।
  • तीसरा सबसे बड़ा कि यह सुरक्षित है।
See also  EPF Pension: अधिक पेंशन चाहिए 3 मार्च तक यह काम जरूर कर लें

अक्सर देखा गया कि डाटा लीक हो जाता है या फिर डाटा कोई हैक कर लेता है। इस झंझट से मुक्ति पाने के लिए क्लाउड होस्टिंग Cloud Storage बहुत ही फायदेमंद है।

cloud storage GK questions

अब हम आपको क्लाउड स्टोरेज के इतिहास के बारे में जनरल नॉलेज (GK questions) Cloud service providers Hindi देने जा रहे हैं। cloud storage computing ऑनलाइन इंटरनेट की दुनिया में सबसे बड़ी क्रांति के रूप में देखा जाता है। क्लाउड होस्टिंग क्लाउड स्टोरेज money, time बचाने और safety तागड़ी होने के कारण यहां बहुत लोकप्रिय है।

पूरी दुनिया में क्लाउड कंप्यूटिंग की शुरुआत एक बहुत बड़ी उपलब्धि के तौर पर देखा जाता है क्योंकि इसके वजह से cloud business इंटरनेट यूजर के लिए फायदेमंद साबित हुआ है। ‌

आपकी जानकारी दुरुस्त कर दें कि साल 1960 में बेंजामिन करली (Benjamin Curley) ने दुनिया का पहला सबसे छोटा कंप्यूटर बनाया था।

इसके बाद सन् 1961 में ग्रेट कंप्यूटर साइंटिस्ट John MCcarthy ने पूरी दुनिया को cloud computing से परिचय कराया था।

फिर cloud computing में साल 1969 में ARPAnet को J.C.R licklider computer network को डिवेलप किया और इसी से ARPAnet की शुरुआत हुई।

इसके बाद UNIX ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया गया। एक समय में एक ही व्यक्ति कंप्यूटर का इस्तेमाल कर सकते थे। 70 और 80 के दशक बड़ा महत्वपूर्ण रहा इस समय ईमेल और कई बड़ी कंपनी जैसे माइक्रोसॉफ्ट और एप्पल का उदय हुआ।

साल 1980 में आईबीएम ने पहला पीसी बनाया और इसे लांच किया। इस पीसी का नाम IBM5150 था। इसके बाद कंपटीशन बढ़ गया और सन 1984 में एप्पल ने आईबीएम से एक कदम आगे Macintosh कंप्यूटर लांच किया है। फिर इसके बाद माइक्रोसॉफ्ट ने पहला विंडोज वर्जन 1.0, 1985 में लांच किया था।

web browser 1990 के समय बहुत पॉपुलर हुआ। इसके बाद सर्च इंजन 1998 में गूगल कंपनी की स्थापना हुई। क्लाउड तकनीकी शुरुआत सन 1999 में सेल्स फोर्स डॉट कॉम कंपनी ने शुरू की। ‌ इसने एक ऐसे ऐप को लांच किया है जो क्लाउड टेक्नोलॉजी के जगत में उपभोक्ताओं को क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा देने लगी।

इसके बाद 2006 में अमेजॉन वेब सर्विस लॉन्च हुई जो क्लाउड सर्विस से प्रदान करती थी पुलिस स्टाफ फिर गूगल 2009 में इस तरह 2010 में सैमसंग एप्पल ने मोबाइल टेबलेट के जरिए या सेवा शुरू हुई 2012 में गूगल ड्राइव ने लांच किया जो एक तरह का क्लाउड सर्विस है। 2013 में क्लाउड कंप्यूटिंग का सबसे अधिक उपयोग शुरू होने लगा।

Cloud computing कैसे काम करता हैं?

अब आपको बता दें कि Cloud की working System क्या है। यानी कि काम कैसे करता है। आपको बता दें कि क्लाउड कंप्यूटिंग रिमोट सर्वर का एक बहुत बड़ा ग्रुप होता है। मान लीजिए आपका डाटा डाटा सेंटर के सर्वर पर Upload किया जाता है। यह भी बताते चलें कि cloud वर्चुअल रिसोर्सेस है, जबकि डाटा सेंटर एक फिजिकल रिसोर्सेस है जिसमें डाटा स्टोर होता है। Physical Data Business संबंधित जानकारी सुरक्षित की जाती है।

अब आपको बता दें कि क्लाउड में डाटा सेंटर के सर्वर पर आपका डाटा अपलोड रहता है और यह डाटा वीडियो फाइल फोटो के रूप में होती है।

आपको बता दें कि डाटा सेंटर के सर्वर पर कोई डाटा अपलोड रहता है। यह डाटा वीडियो फाइल फोटो के रूप में है। अब मान लीजिए कि क्लाउड सर्विस इस डाटा को गूगल ड्राइव में अपलोड करता है। फिर डाटा गूगल डाटा सेंटर के अलग-अलग सरवर में अपलोड हो जाता है अब कोई यूज़ है इंटरनेट के द्वारा अपने लैपटॉप पर कंप्यूटर मोबाइल में इस डाटा को एक्सेस कर सकता है डाउनलोड कर सकता है। दुनिया में जहां जहां सरवर होता वहां वहां क्लाउड डाटा उस सर्विस प्रोवाइडर के जरिए डाटा सेंटर पर अपलोड हो जाती है उसकी कॉपी।
हर कंपनी की अपनी-अपनी डाटा सेंटर होता है जो क्लाउड सर्विसेज से प्रोवाइड कराती है।

See also  टर्म लाइफ इंश्योरेंस क्या है? meaning term insurance hindi

मान लीजिए कि डाटा क्लाउड की सर्विस से डिलीट हो जाता है तो भी कुछ दिनों तक अलग-अलग सर्वर पर यह डाटा रहता है जिससे आप आसानी से इसका बैकअप हासिल कर सकते हैं। यह भी जानकारी दे दे कि क्लाउड सर्विस के जरिए आप इंटरनेट पर किसी भी तरह का डाटा आसानी सपोर्ट करते हैं यह सभी प्रक्रिया Cloud Computing कहलाती है।

क्लाउड कंप्यूटिंग कितने तरह के होते हैं

अब हम आपको बहुत जरूरी बात बताने जाने वाले हैं कि Cloud Computing कितने प्रकार के होते हैं? क्लाउड कंप्यूटिंग (Types of Cloud Computing in Hindi) जानकारी हिंदी भाषा में दे रहे हैं।
क्लाउड कंप्यूटिंग 4 तरह के होते हैं इसे दूसरी भाषा में गवर्नमेंट मॉडल कहा जाता है। इसके प्रकार पब्लिक, प्राइवेट, हाइब्रिड और किसी विशेष ग्रुप के लिए क्लाउड सर्विस से के तौर पर चार प्रकार से गिला जाता है।

  1. Public Cloud
    इस तरह का क्लाउड कंप्यूटिंग की फैसिलिटी इंटरनेट यूजर को दी जाती है। इसमें खास बात यह है कि क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर ही यहां के डाटा को मैनेज करता और स्टोर करता है। पब्लिक क्लाउड Pay-As-You-Go सर्विस है। यूजर को इसके लिए पैसे अदा करने होते हैं। पब्लिक क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर के नाम निम्नलिखित है-
  • Amazon Web Services (AWS)
  • microsoft AzureGoogle Cloud.
  1. Private Cloud

प्राइवेट क्लाउड डाटा सर्विस में एक ही व्यक्ति इसको मैनेज करता है। इस बात को इस तरह से समझे यदि कोई बिजनेसमैन या कोई संस्था प्राइवेट क्लाउड खुद ही डेवेलप करती है। और दूसरे लोगों को इस को एक्सेस करने का परमिशन देती है। Private cloud data service provider से किराए पर भी कंपनियां लेती हैं और उसे अपने प्राइवेट क्लाउड डाटा के तौर पर इस्तेमाल करती हैं।

प्राइवेट क्लाउड डाटा बनाने में अधिक खर्चा आता है, इस तरह से सर्विस प्रोवाइडर से प्राइवेट क्लाउड डाटा किराए पर लेना कंपनियों के लिए फायदेमंद होता है क्योंकि इसके रखरखाव और रिसोर्स पर्सन आदि के खर्चे बहुत अधिक होते हैं इसलिए किराए पर प्राइवेट क्लाउड लेना ज्यादा फायदेमंद है।

प्राइवेट क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर के नाम इस प्रकार

hPE (Hewlett Packard Enterprise)
VMware (Virtual Machine Ware)
DELL (Digital Electronic Link Library)
Red Hot Openstack

  1. Hybrid Cloud

हाइब्रिड शब्द का मतलब होता है कि 2 तरह से मिलाकर कोई नई चीज बनाई जाए- जैसा कि हमने ऊपर अभी बताया कि 2 तरह के क्लाउड होते हैं, पहला प्राइवेट क्लाउड और दूसरा पब्लिक क्लाउड।
उसमें एक दूसरे के डाटा को शेयर कर सकते हैं या अपने यूजर्स को यह सुविधा प्रदान कर सकते हैं।

इसको इस तरह से समझे कि कोई एक कंपनी किसी क्लाउड प्राइवेट असे प्राइवेट क्लाउड किराए पर लेता है और उसको फिर अपने यूजर्स में बांट देता है। इसलिए उसे हाइब्रिड क्लाउड सर्विस कहते हैं। गूगल क्लाउड एक हाइब्रिड क्लाउड है। यह कई तरह की क्लाउड सर्विस देता है चाहे वह प्राइवेट हो या पब्लिक क्लाउड हो जैसे पब्लिक क्लाउड में वह गूगल ड्राइव सर्विस अपने हर यूजर्स को प्रदान करता है।

  1. Community Cloud

सामुदायिक क्लाउड meaning कम्युनिटी क्लाउड होता है, जो कंप्यूटर रिसोर्सेज है, वह एक ही समूह के डाटा को संभालते हैं। इस तरह के ग्रुप हेल्थ, केयर ऑटो, मीडिया, फाइनेंस सर्विस इत्यादि से जुड़े होते हैं। इन समूह की कंपनियां अपने संबंधित कंपनी को कम्युनिटी क्लाउड पर स्टोर करते हैं। उनकी डाटा को सुरक्षित रखते हैं और एक्सेस करने की सुविधा देते हैं।

Google Scholarship 2023 : ₹80000 का स्कॉलरशिप गूगल दे रहा है, online application form

निष्कर्ष

Cloud service providers Hindi में पूरी जानकारी दी गई है। आशा है कि क्लाउड सर्विस के बारे में आपको काफी कुछ मालूम हो गया होगा। Cloud service providers Hindi लैंग्वेज में यह जानकारी आपको इंटरनेट की दुनिया को समझने में आसान होगी। क्लाउड सर्विस समय और श्रम दोनों बचाता है। छोटी कंपनियां हो या बड़ी कंपनियां क्लाउड सर्विस को अपना रही है। भारत में भी क्लाउड सर्विस बहुत तेजी से उभर कर सामने आ रहा है।

Successful youtuber कैसे बने)/ Youtuber Kaise Bane/ यूट्यूब से पैसे कैसे कमाए

Leave a Comment