दुनिया की सबसे बड़ी आबादी वाला देश बन गया है भारत largest population country India (जनसंख्या एनालिसिस पॉपुलेशन डिटेल जानकारी)

India become first largest country of over world, new update information in Hindi :अब तक आप यहां पर से आए हैं कि सबसे बड़ा जनसंख्या वाला देश चीन है।‌ लेकिन यह जानकर आपको आश्चर्य होगा कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा आबादी वाला देश बन गया है। नई जानकारी के मुताबिक भारत की आबादी 3 की तुलना में 2.9 मिलियन ज्यादा हो गई है।

largest population country India

अगर आपसे पूछा जाए कि दुनिया का सबसे बड़ा आबादी वाला देश कौन सा है तो अब चीन की जगह आप भारत बोल सकते हैं। सामान्य ज्ञान में अक्सर यह सवाल पूछे जाते रहे हैं। आइए पूरी जानकारी इस खबर और अपडेट न्यूज़ से प्राप्त करें कि सबसे बड़ा आबादी वाला देश भारत कैसे हो गया।

यूनाइटेड नेशन जिसे संयुक्त राष्ट्र संघ (UNO) कहा जाता है उसने पिछले साल यानी 2022 में यह दावा कर दिया था कि भारत दुनिया का सबसे विशाल जनसंख्या वाला देश बन चुका है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस समय भारत की आबादी 142.86 करोड़ हो गई है। संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष के लिए नए आंकड़े जारी किए हैं।‌ आप भारत दुनिया का सबसे बड़ा आबादी वाला देश बन गया। लेने के मुताबिक भारत में 15 से 64 साल तक की आबादी की संख्या 68% है।

क्या करता है संयुक्त राष्ट्र संघ का आंकड़ा

भारत की जनसंख्या पर नजर रखने वाले संयुक्त राष्ट्र संघ का आंकड़ा यह बताता है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा आबादी वाला देश बन गया है। यह चीन को पछाड़कर पहले स्थान पर आ गया है। भारत की कुल आबादी इस समय 142.86 करोड़ पहुंच चुकी। चीन की तुलना में भारत की आबादी 29 लाख अधिक हो गई है। भारत की आबादी तो बड़ी है लेकिन 1980 के बाद से इसकी बढ़ने की गति धीमी हुई है। इसके साथ एक अपडेट और आपको दे दे कि चीन की आबादी तेजी गति से बढ़ने के साथ अब घटने की दर की ओर बढ़ रही है।

See also  Fixed vs Floating Home Loan Rates में कौन सा लोन फायदेमंद है

विशेषज्ञ बताते हैं कि अभी भारत की आबादी और बढ़ेगी इसके बाद एक समय यह भी घटने की दर में आ जाएगी।

NFPA  The word population report 2023 की रिपोर्ट

द वर्ल्ड पापुलेशन रिपोर्ट 2023 ने ताजा रिपोर्ट जारी कर दिया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक 8 billian life infinity possible is the case for rights and choice. जनसंख्या को मापने वाले की श्रेणी में इस आंकड़े को रखा गया है। पूरी दुनिया के जनसंख्या आंकड़ों को मापने वाली यह रिपोर्ट है। भारत के बढ़ती हुई जनसंख्या और चीन की घटती जनसंख्या पर भी नजर रखता है।

UNA ने जारी किया पापुलेशन डाटा

विषय विशेषज्ञ की माने तो पिछले साल से ही चीन की आबादी में बड़ा गिरावट शुरू हो गया है। ऐसे में भारत की आबादी का बढ़ना चीन की आबादी की तुलना में तेजी गति से बढ़ रहा है। यही वजह है कि भारत की आबादी चीन से आगे पहुंच गई है।

इसके साथ भारत की आबादी में जबरदस्त ग्रोथ 1980 के पहले था लेकिन अब इसमें भी गिरावट देखने को मिल रही है।

जनसंख्या के रिपोर्ट के मुताबिक भारत में आबादी के चौंकाने वाले आंकड़े

जानकारी के लिए रिपोर्ट के कुछ जानकारी वाले हिस्से के बारे में यहां सरल भाषा और जारी आंकड़ों के जरिए समझाया जा रहा है।

(Population Report) पापुलेशन रिपोर्ट UNO द्वारा जारी किया गया है, उसके मुताबिक भारत की कुल आबादी में से 25% आबादी जीरो से 14 वर्ष के बीच के बालकों का है।

10 से 19 साल के उम्र के लोगों की कुल 18 फ़ीसदी संख्या है।

10 से 24 वर्ष तक के लोगों की कुल संख्या 26% है।

15 से 64 साल तक के लोगों की सबसे अधिक संख्या यानी कुल 68% है।

65 साल से अधिक उम्र के लोगों की संख्या 7% है।

चीन की आबादी के रोचक आंकड़े

पिछले साल ही भारत की आबादी चीन से अधिक हो गई थी। आपको बता दें कि चीन आबादी दर धीरे-धीरे कम हो रही है। तो वहीं भारत की आबादी बढ़ रही है।

चीन की आबादी में 0 साल से 14 साल तक के बच्चों की संख्या 17 फ़ीसदी ही है।

जबकि 10 साल से 19 साल के बीच के लोगों की संख्या 12% है तो वहीं 10 से 24 साल के लोगों की संख्या 18% है।

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि 15 साल से 64 साल तक के लोगों का प्रतिशत 69 है।

जापान में बुजुर्गों की संख्या सबसे अधिक है इस बात की तस्दीक करता है कि आंकड़ों के मुताबिक 65 साल से ऊपर के बुजुर्गों की संख्या 14% है।

See also  CBSE expression Result घोषित किया गया, न्यू अपडेट जानें

भारत की आबादी के आंकड़े population report of India 

नई जानकारी के मुताबिक आने वाले 2050 तक भारत की कुल जनसंख्या 166 करोड़ हो जाएगी।

आपको कुछ ऐसे इंटरेस्टिंग पापुलेशन रिपोर्ट के बारे में बताने जा रहे हैं अमेरिकी सरकार की एक रिपोर्ट की मानें तो 18 वीं शताब्दी में भारत की कुल आबादी 12 करोड़ के आसपास रही है।

शताब्दी में भारत की जनसंख्या 23 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया था।

गवर्नमेंट ऑफ इंडिया द्वारा कराए गए पापुलेशन सर्वेक्षण 2001 के अनुसार भारत की आबादी 100 करोड़ के पार हो गई थी।

भारत के जनसंख्या आंकड़ों की ताजा रिपोर्ट की माने तो इस समय भारत की जनसंख्या 140 करोड़ के लगभग क्राश कर गई है।

वही अनुमान के मुताबिक 2050 तक भारत की जनसंख्या 166 करोड़ के आसपास रहने की उम्मीद जताई गई है।

क्यों बढ़ रही है भारत की आबादी

Why is the population of India increasing? Will the population of India decrease again? India’s population growth reason? अब हम आपको बता दें कि भारत की जनसंख्या यानी पापुलेशन बढ़ने का कारण क्या है?

 विषय विशेषज्ञों की रिपोर्ट और उन से ली गई जानकारी के अनुसार यहां पर आपके लिए general knowledge और paragraph writing in Hindi जनसंख्या क्यों बढ़ रही है? इस पर एक रिपोर्ट हम आपको प्रस्तुत करने जा रहे हैं। यह आपके सामान्य ज्ञान general knowledge के लिए और हिंदी अनुच्छेद लेखन में बहुत उपयोगी होगा।

UNO की जानकारी के मुताबिक भारत में जनसंख्या बढ़ने के तीन कारणों के बारे में बताया गया। 

जनसंख्या बढ़ने का पहला कारण 

शिशु मृत्यु दर (child death rate) में कम हो गई। इसका मतलब यह कि 1 साल से कम उम्र के बच्चों की मौत की संख्या कमी आई है। 

दूसरा सबसे बड़ा कारण 

नवजात शिशु मृत्यु दर यानी 28 दिन के कम उम्र के बच्चों की मौत की संख्या में कमी आना भी है। 

जनसंख्या ग्रोथ का तीसरा कारण

 5 साल से कम उम्र के बच्चों की मौतों की संख्या भी घट रही है।

सेंट्रल हेल्थ मिनिस्ट्री के हेल्थ मैनेजमेंट इनफार्मेशन सिस्टम की रिपोर्ट को आप देखिए तो 2021-22 से रिपोर्ट कहती है कि भारत में शिशु की मौत दर और नवजात मृत्यु दर के साथ अंडर- 5 मोर्टेलिटी रेट में गिरावट आई है।

आंकड़ों पर नजर डालें India largest population

भारत में शिशु मृत्यु दर

साल 2012 में 1000 बच्चों पर मृत्यु दर 42 थी।

साल 2020 में बच्चों पर 42 से घटकर यह दर 28 हो गई।

See also  कौन है? हिंदी विज्ञान साहित्य लेखक पंडित जगपति चतुर्वेदी | Hindi first science literature writers

मृत्यु दर 2012 में 29 थी, जो सन 2020 में घटकर 20 हो गई।

अंडर 5 मोटिलिटी भी 2012 में 52 थी, 2020 में घटकर 32 हो गई।

चीन की जन्म दर कितनी है?

अब आपको बता दें कि चीन में जन्म दर में कमी आ रही है। चीन सरकार के आंकड़ों पर नजर डाले सन 2022 में देश में जन्म दर प्रति हजार लोगों में 6.77 रहा है। 

वहीं पिछले साल 2021 से तुलना किया जाए तो उस समय 7.52 थी। ‌ पहली बार चीन की जन्म दर में कमी 1949 के बाद देखी गई है।

भारत की आबादी से संबंधित रोचक बातें

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि 78 देशों की आबादी के बराबर भारत में रोज बच्चे जन्म ले रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ के आंकड़ों की माने तो हर साल लगभग ढाई करोड़ बच्चों का जन्म भारत में होता है। 

हर साल ढाई करोड़ बच्चे जहां भारत में जन्म लेते हैं तो वहीं चीन में इस से आधे बच्चे ही साल भर में जन्म लेते हैं। चीन देश के 2022 के आंकड़ों पर नजर डालें तो इस साल 95 लाख बच्चों का जन्म हुआ था। 2021 की तुलना में 10% की गिरावट दर्ज की गई है।

भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की की अपडेट रिपोर्ट

सेंट्रल गवर्नमेंट हेल्थ मिनिस्ट्री अपडेट रिपोर्ट के अनुसार सन 2021 और 22 के वर्ष में 2.03 करोड़ अधिक बच्चों का जन्म हुआ था। 

अगर इससे हर दिन में के आंकड़ों में कैलकुलेट किया जाए तो 56000 बच्चे हर दिन पैदा हुए थे।

जबकि इसके पीछे 1 साल पहले यानी 2020-21 के वर्ष में पैदा हुए बच्चों की संख्या को देखें तो यह 2 करोड़ से अधिक था।

आते हैं यानी अब आप तुलना कर सकते हैं कि सब 2020-21 से की तुलना में 2021-22 में 1.32 लाख अधिक बच्चों का जन्म हुआ है। दोस्तों यह चौंकाने वाला आंकड़ा यह बताता है कि भारत की आबादी तेजी से बढ़ रही है पिछले साल की तुलना में।

दुनिया के 78 देशों की आबादी को जोड़ दिया जाए तो यह संख्या 2 करोड़ के लगभग पहुंचती है।

conclusion

India become first largest country of over world, new update information in Hindi के बारे में पूरी जानकारी यहां पर दी गई। जनसंख्या में चीन को पीछे करके भारत दुनिया का पहला ऐसा देश बन गया जिसकी जनसंख्या सबसे अधिक है। भारत में जनसंख्या बढ़ने के कारणों के बारे में चर्चा इस लेख में किया गया। इसके साथ ही चीन की घटती जनसंख्या के बारे में तुलनात्मक स्टडी करके बताया गया। आपकी परीक्षा और जनरल नॉलेज के लिए यहां India largest population बहुत उपयोगी है।

Leave a Comment