hindi poem for children day

hindi poem for children day

जागो आया नया सवेरा

नया हिंदुस्तान पुकार रहा। 

जागो आया नया सवेरा

नया हिंदुस्तान पुकार रहा,

आओ बच्चो पढ़ लिखकर

बनाए नया हिंदुस्तान प्यारा

चारों तरफ फैले शिक्षा का उजाला

हर बच्चों के चेहरे पर हो मुस्कान प्यारा।

जागो आया नया सवेरा

नया हिंदुस्तान पुकार रहा,

रंगविरंगी तितलियां उड़ रही

आजाद भारत का यह उपहार प्यारा

दुनिया में सबसे प्यारा,

अपना हिंदुस्तान न्यारा।

सबके प्यारे नेता सुभाषगांधीनेहरू

इनके त्याग की धरती

हर बच्चा जय हिंदुस्तान पुकार रहा।
शानदार खड़ा हिमालय

लहराता दक्षिण में सागर,

जागो आया नया सवेरा

विशाल हिंदुस्तान पुकार रहा।
हिंदुस्तान का हर बालक

पाये शिक्षा का वरदान

नहीं रहे कोई भूखा

अब नहीं रहे कोई दुखी

लहलाती फसलें, कलकल बहती नदिया की धारा
जागो आया नया सवेरा

नया हिंदुस्तान पुकार रहा।

कविता अभिषेक कांत पाण्डेय

बालदिवस विशेष पर कविता

children day speech in hindi


See also  नोटा nota, क्या सुधार की तरफ कदम | chunav me nota

Leave a Comment