ऑनलाइन और ऑफलाइन में अंतर |online offline training

online offline education anuched in Hindi

इस आर्टिकल के जरिए हम आपको ऑनलाइन और ऑफलाइन में अंतर बताने जा रहे हैं। ऑनलाइन के जरिए कोई भी व्यक्ति कंप्यूटर मोबाइल के माध्यम से जुड़ कर आसानी से कोई काम कर सकता है जिसके अंतर्गत पढ़ाई दिखाएं खरीदारी करना और कोई जानकारी हासिल करना होता है। 

जबकि ऑफलाइन सेंटर सेवा के माध्यम से स्वयं जाकर पढ़ाई लिखाई या खरीदारी संस्थान से की जाती है।

ऑनलाइन ऑफलाइन के फायदे

ऑनलाइन ऑफलाइन के कई फायदे हैं और इनमें कमियां भी हैं।

ऑनलाइन पढ़ाई के माध्यम से घर बैठे कंप्यूटर इंटरनेट के माध्यम से जानकारी मिलती है लेकिन इस पढ़ाई में सबसे बड़ी बात यह होती है कि एक टीचर से से संपर्क में केवल डिजिटल के माध्यम से ही छात्र आता है जबकि आमने-सामने बैठकर ऑफलाइन पढ़ाई में छात्र और शिक्षक के बीच में मानवीय गुणों का आदान-प्रदान होता है और फीडबैक तुरंत प्राप्त होता है।

ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाई सस्ती पड़ती है और उसे हर कोई हासिल कर सकता है। ऑनलाइन पढ़ाई के माध्यम से छात्रों और अधिक मेहनत करनी होती है जिससे कि ऑनलाइन पढ़ाई का फायदा हुआ अच्छी तरीके से उठा सके।

भारत में ऑनलाइन ऑफलाइन पढ़ाई दोनों ही कारगर है और हम इस निष्कर्ष पर पहुंच सकते हैं की आवश्यकता अनुसार ऑनलाइन ऑफलाइन दोनों पढ़ाई का उपयोग करना चाहिए ऑफलाइन पढ़ाई वैसे सर्वश्रेष्ठ होता है लेकिन ऑनलाइन माध्यम से चीजों को डिजिटल तरीके से प्रस्तुत किया जा सकता है जिससे कि छात्र और अच्छे तरीके से सीख सकता है।

See also  CBSE Class 6 Hindi अनुच्छेद-लेखन

hindi word हिंदी भाषा के सही शब्द अर्थ

conclusion

offline online education दोनों काफी जरूरी है लेकिन आप किसी एक पर निर्भर नहीं रह सकते हैं। ऑनलाइन पढ़ाई के कई दोष है, जैसे कि इस माध्यम से पड़ने पर छात्र और शिक्षक संपर्क और फीडबैक नहीं बन पाता है जबकि ऑफलाइन में feedback बहुत आसानी से होता है और सीखने की प्रक्रिया तीव्र गति से बढ़ती है।

अगर आप इस तरह के ढेरों अनुच्छेद विचार और नई जानकारी हासिल करना चाहते तो हमारे वेबसाइट न्यू ज्ञान से जुड़े रहे।

online offline training बेहतर कौन सा

ऑनलाइन ट्रेनिंग से बेहतर ऑफलाइन ट्रेनिंग होती है क्योंकि इसमें आप ट्रेनर के सामने रूबरू होते हैं। ऑफलाइन ट्रेनिंग में आप कई गतिविधियों को आसानी से सीख सकते हैं। ऑफलाइन ट्रेनिंग महंगा होता है। जबकि ऑनलाइन ट्रेनिंग सस्ता होता है लेकिन इसमें सीखने की संभावना एक तरह के इंफॉर्मेशन पर ही आधारित होती है।

ऑफलाइन ट्रेनिंग में प्रैक्टिस करके सिखाई जाती है। जबकि ऑनलाइन ट्रेनिंग में दूर होने के कारण या गतिविधियां डिजिटल माध्यम से संभव नहीं हो पाती है।

ऑनलाइन या ऑफलाइन कौन सी पढ़ाई बेहतर है?

जानकारी के लिए बता दे कि ऑनलाइन या ऑफलाइन में कौन सी पढ़ाई बेहतर है। दोनों पढ़ाई बेहतर होती है। ऑनलाइन पढ़ाई के फायदे भी हैं और कमियां भी हैं इसके अलावा offline पढ़ाई के भी फायदे और कमियां है।

online learning घर बैठे आसानी से हो जाता है लेकिन इसकी सबसे बड़ी कमी है कि आप अपने फीडबैक और प्रश्न उत्तर अपने अच्छे से प्राप्त नहीं कर पाते हैं जितनी अच्छे से आप ऑफलाइन में सामने टीचर की मौजूदगी में प्राप्त कर पाते हैं। इस नजरिए से देखा जाए तो ऑफलाइन टीचिंग ज्यादा बेहतर है। लेकिन बड़ी कक्षाओं में और किसी सिद्धांत को सीखने के लिए ऑनलाइन सबसे आसान तरीका होता है।

See also  नई शिक्षा नीति में हिंदी मातृभाषा की पढ़ाई पर निबंध, सीबीएसई बोर्ड हिंदी पढ़ने का नया तरीका

वैसे देखा जाए तो ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीकों को मिलाकर सीख जाए तो उसे समय और धन की बचत होती है और दोनों तरीके से पढ़ाई बेहतर होती तो संस्थान पद्धति को अपना रहे हैं।

Leave a Comment