दिवस (मजदूर दिवस) पर labour day slogan नारा

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस 1 मई को मनाया जाता है। ‌ शोषण और अत्याचार के खिलाफ मजदूर एक हो गए तो उन्हें उचित मजदूरी और 8 घंटे काम का अधिकार मिला। नहीं तो इससे पहले मजदूरों को, कामगारों को उचित, वेतन, मजदूरी और मान सम्मान नहीं मिलता था। Labour day slogan in Hindi.

अब मजदूर मजबूर नहीं है दोस्तों नया जमाना आया, इनके जीवन को अधिकार दिलाने लोकतंत्र आया।

मेहनती इंसान का करो सम्मान, क्योंकि इनकी मेंहनत ही है इनका ईमान। श्रमिक दिवस की हार्दिक बधाई!

हर कामगार का करो सम्मान, क्योंकि इनकी मेहनत से तरक्की करता है हिंदुस्तान।

मजदूर दिवस पर जानकारियां पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Labour day slogan in Hindi update new

जागो कामगारों, अपने हक की आवाज उठाओ,
श्रम का सम्मान करना उस पूंजीवादी सभ्यता को सिखाओ।


मजदूर दिवस पर नारा (Slogans on Labour Day in Hindi) पर हम आपको slogan दे रहे हैं। मजदूर दिवस के अवसर पर इस स्लोगन का प्रयोग आप कर सकते हैं और लोगों को जागरूक कर सकते हैं। अपने स्कूल कॉलेज में भाषण के समय इन स्लोगन को बोलकर या पोस्टर बनाकर भी इसका उपयोग कर सकते हैं। ढेर सारा स्लोगन और नारा हिंदी विषय में यहां पर प्रस्तुत कर रहे हैं आशा है कि यह आपके लिए लाभकारी है। मजदूर दिवस से जुड़े भाषण, निबंध में labour day slogan बोलने और लिखने से भाषण निबंध प्रभावशाली होता है।

See also  Email lekhan कैसे करें cbse class 10, 9 Email writing in hindi

“मेहनत करने वाला, सबसे हिम्मतवाला

मेहनत से नहीं घबराता मान सम्मान से जीता

श्रमिक कहलाता।”

‘शोषण करने वाले को सबक सिखाएं,

आओ मजदूरों को उनका हक दिलाएं।

शोषण करने वाले को सबक सिखाएं, आओ मजदूरों को उनका हक दिलाएं।

मजदूर दिवस पर कविता
हर एक मजदूर रचता इतिहास,

ऊंची
ऊंची बिल्डिंग बनाता,
गगन पर परचम लहराता,
मेहनतकश कहलाता
सीधा-साधा साधारण सा दिखने वाले
कामगार, श्रमिक, मजदूर सब है नाम अलग, पर है सब एक,
मेहनत करते जीते शान से
सदा हंसते मुस्कुराते मन से
धरती का मान सम्मान बढ़ाते

कामगारों और श्रमिकों का करले वंदना
जय जय श्रम के देवता,
तुम्हारी जय चारों ओर…।

newgyan.com

labour day kavita

मजदूर अपना कर्म जरूर करता है
इसलिए खुद पर गुरुर है
चोरी नहीं करता कमाकर खाता है
इसलिए खुद पर गुरुर है
ईमानदारी सदा करता है
इसलिए खुद पर गुरुर है
क्योंकि वह एक मजदूर है ।

मजदूर हूं मजदूर हूं
क्योंकि मजबूर हूं
कमाता भी हूं
खिलाता भी हूं
फिर भी लोगों की नजरों में क्यों दूर हूं
क्योंकि मैं एक मजदूर हूं।

मजदूर दिवस पर नई कविता 2023

कर्म है महान, श्रम की महत्ता का बखान।
कर्म ही पूजा, हमारी संस्कृति की पहचान।।
कर्म से बनता जीवन महान, गीता का ज्ञान।
आओ वंदना करें श्रमिकों की, ये भारत की पहचान।।
श्रम है महान
कर्म करते कामगार कहलाते
बड़े-बड़े भवन बनाते, बड़ी कंपनियां चलाते,
इनके दिमाग और भुजाओं के बल से
नदियों पर पुल बनता
अंबर को छूती इमारतें
आओ इनकी बात जाने हम
दुनिया में सबसे महान श्रम।

मेहनत करता, पसीना बहता
सागर का सीना चीर, ट्रेन उसमें चलता
श्रम का उपकार नहीं भूलना
पहाड़ काटकर रास्ता बनाया
दशरथ माँझी नाम कमाया।।

See also  ईमेल लेखन उदाहरण | cbse class 10, 9 Email writing in hindi


श्रमिक बनाता स्कूल और अस्पताल
फिर श्रमिकों का क्यों है बुरा हाल?
मेहनत की रोटी मिलती इतनी कम,
अपने बच्चों को पढ़ा नहीं सकता, ये गम।
स्कूलों की नींव में भरा अपना श्रम,
नहीं इलाज करवा पाते उन अस्पतालों में
जिसे बनाया पसीना बहा के।
बुरे दौर में आज है श्रमिक
इनके मेहनत का मिले हक
इनके बच्चों को भी मिले अच्छी शिक्षा, अच्छा घर।
आओ मेहनतकश श्रमिकों का करें सम्मान,
उन्हें भी मिले इस धरा का सुख और मान
आओ धन-संपदा से इनके घर को भर दें,
इन्हें सही मजदूरी दे, इन्हें सही वेतन दें।
तभी है सच्चे कामगार की सम्मान
यही कहता है हमारा संविधान।
मेहनतकश को मिले सभी सुविधाएं,
सड़क, पानी, सुरक्षा, शिक्षा, स्वास्थ्य उनका भी हक।

labour Day short poetry in Hindi

मेहनतकश मेहनत करते, धरती को सुंदर बनाते।

किसान-मजदूर-कामगार धरती की शान कहलाते।।

मुश्किल से मुश्किल काम धरती के अंदर से सोना निकालता, कोयला खोदता।

हर मुश्किल हालात को टक्कर देता कभी नहीं घबराता। ‌‌‌।

ठंडी गर्मी हो, बरसात, मेहनत है इनका काम

2 जून की रोटी मिल जाती बस थोड़ा सा आराम।।

सारे काम करते ये कामगार- श्रमिक

हजारों साल की संस्कृति में वंचित रहा हक।।

सच्चे संवेदनशील इंसान होने का फर्ज निभाएं।

कामगार दिवस का उपहार इनके लिए,

आओ इनकी वेतन मजदूरी को बढ़ाएं।

Leave a Comment