लाइफस्टाइल

After 40 age love 40 की उम्र के बाद प्यार ना बाबा रे ना

 40 की उम्र में प्यार क्यों?


अक्सर देखा गया है कि मन में और समय से पहले प्यार जैसी ख्वाहिशें रह जाती है। 40 के आते-आते लोगों में प्रेम का एहसास  होता है।  ये एक समस्या नहीं बल्कि लगाओ और खिंचाव ही है। इंसान जैसे -जैसे तरक्की पसंद होता जा रहा, वैसे- वैसे नए तरीके से जीवन जीने के लिए आगे बढ़ रहा है।

 साइकोलॉजिस्ट इसे एक तरह का आकर्षण मानते हैं। इस उम्र में मानसिक प्रेम अधिक होता है। आज हम इसी टॉपिक पर आपसे रूबरू होने जा रहें।

कहानी एक ऐसे इंसान की है सुनिए-जो पारिवारिक जिम्मेदारियों के बोझ में 14-15 साल की उम्र से कमाना शुरु कर दिया। जब तक दुनियादारी उसने सीख ली थी लेकिन अभी भी उसका दिल बच्चे की तरह ही था। मां को बहू के सुख के खातिर उसकी कम उम्र में शादी करा दी गई। पढ़ा-लिखा न होना और कम उम्र में उसका विवाह हो जाना। उसके लिए सामाजिक बंधन था। अब  जीवन में पैसा कमाना ही लक्ष्य रह गया। अब उसके जीवन में पैसा तो था लेकिन वैवाहिक जीवन एकतरफा प्यार और तनाव में भरा था। इस तरह समय के साथ घर की जिम्मेदारियों में आदमी को घोड़ा बना दीया। मां तो बहू को पाकर खुश थी लेकिन बेटे ने अपनी खुशी नशे में खोज लिया।  
कहानी 10 -15 साल आगे बढ़ती है और फिर वह कामयाब इंसान अपनी व सभी हसरते जीना चाहता है, उसका आकर्षण अपने ही काम के दौरान एक 40 साल की तलाकशुदा महिला की ओर हुआ। महिला के लिए कमाऊ सहारा और उसके बच्चों की परवरिश के लिए उसे आदमी की जरूरत थी। इस तरह उनके बीच में 40 साल वाला प्यार सामाजिक-सामाजिक बंधनों की सारी हदें को तोड़ दिया। 
उस आदमी की पत्नी को जब ये पता चला तो मामला कोर्ट कचहरी तक भी पहुंचा। अंततः उसकी पत्नी ने भी समझौता कर लिया और अपनी नियति  को कुदरत का फैसला  मान लिया। क्योंकि आदमी के पास पैसों की कमी नहीं थी। उसकी सारी इच्छाएं और उसकी सारी आकांक्षाएं पूरी होने वाली थी लेकिन उसके इस कदमों ने परिवार के बीच में दरार पैदा कर दिया। लेकिन कहा जाता है कि पैसा हर तरह की बुराइयों को भी ढक देता है और इस तरह उस आदमी ने एक दूसरे मकान में अपनी प्रेमिका को रखा और पत्नी को समाज की नजर में।
इस तरह की स्थितियां कभी-कभी भयंकर रूप धारण कर लेती है लेकिन इस मामले में पत्नी ज्यादा तेज तर्रार पढ़ी-लिखी ना होने के कारण उसने अपने भाग्य में यही लिखा समझा।
छोटी मोटी नोकझोंक और तू -तू, मैं- मैं के साथ उनका जीवन कट रहा। यहां पर पैसा था इसलिए सभी की इच्छाएं पूरी हो रही थीं।

बढ़ती उम्र में प्रेम होना स्वभाविक तो है लेकिन अगर आप पहले से शादीशुदा है तो आपकी जिंदगी में जहर खोल देगा।

इस तरह की स्थिति से बचने के लिए कुछ साइकोलॉजिकल टिप्स


ध्यान रखिए कि आपकी पत्नी अभी तक आपका साथ निभा रही है।  पत्नी को प्यार करना और पति का फर्ज होता है।

सुंदरता कोई मायने नहीं रखता, आपको उम्र के इस पड़ाव में अपनी पत्नी शुक्रिया अदा करना चाहिए क्योंकि उसने आपके परिवार और आपको संभाल रखा है। अब उसके पास केवल आप हैं। और आप पर विश्वास करती हैं। ऐसे में आप किसी और की तरफ आकर्षित होने से पहले, जरूर सोचे!

 एक दूसरे के दुख व तकलीफों को समझने वाले बहुत कम ही मिलते हैं। आपकी पत्नी आपकी सच्ची साथी है।

बाहरी दुनिया की चमक दमक और ग्लैमर आज के आसपास आपके मन को बदलने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। इससे उबरने के लिए आप अपने परिवार के साथ समय बिताइए। 
इस तरह आप अपने परिवार बच्चों के साथ और करीब होते हैं। पत्नी और बच्चों के साथ आपका रिश्ता जितना मजबूत होता है। उतना ही आप अपनी जिम्मेदारी अच्छी तरह से निभाते हैं। साइकोलॉजिस्ट भी मानते हो कि जो व्यक्ति अपने परिवार जितना अधिक समय देता है वाह दूसरी औरत की तरफ आकर्षित नहीं हो सकता है।
प्यार में धोखा: कारगर Tips

अंत में यह हमेशा याद रखें किसी का साथ आप बीच रास्ते में अगर छोड़ देंगे शायद आपको व सुकून न मिलेगा, जिसकी सुख की लालसा में आप किसी और की ओर आकर्षित हो रहे हैं। इसीलिए संभल जाए और आप अपने पति पत्नी के रिश्ते को और मजबूत बनाएं जहां किसी की स्पेस की जरूरत ही ना रहे।

ऐसे महान लोग जिन्होंने विकलांगता को पछाड़ दिया

खेल का महत्व स्कूल में जाने इस लेख से

छोटी सी झपकी आपको बनाए फ्रेश
रिसर्च लिखने और पढ़ने में दिमाग अलग-अलग तरह से सोचता है

मैथ का भूत हटाओ ये टिप्स अपनाओ

मातापिता चाहते हैं कि उनका बच्चा अच्छी आदतें सीखें और अपने पढ़ाई में आगे रहें, लेकिन आप चाहे तो बच्चों में अच्छी आदत का विकास कर सकते ..


About the author

admin

A. K Pandey,
Teacher, Writer, Journalist, Blog Writer, Hindi Subject - Expert with more than 15 years of experience. Articles on various topics have been published in various magazines and on the Internet.
Educational Qualification- MA (Hindi)
Professional Qualification-
Diploma in Journalism from Allahabad University, Master of Journalism and Mass Communication, B.Ed., CTET

Leave a Comment