गतिविधियां लाइफस्टाइल

November 19 is ‘International Men’s Day’purush hone ke maayane

https://www.newgyan.com/2019/11/bhaarateey-aajaadee-ke-gumanaam-naayak.html

19 नवंबर को ‘इंटरनेशनल मेंस डे’ यानी ‘अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस’ है।

पुरुष होने के मायने


आज हम जितने मार्डन हैं, उतने ही समझदार भी हैं।
आज आधी आबादी यानी महिलाओं की स्वतंत्रता की बात तो होती है, लेकिन कहीं न कहीं, पुरुष की स्वतंत्रता की बात नहीं हो पाती है।
पुरुषों की पीड़ा भी होती है और दुनिया के तमाम प्रगतिशील देश ‘पुरुषदिवस’ मना रहा है।
भारत की स्थिति कुछ अलग ही है, क्योंकि यहां पर अभी भी शोषण व अत्याचार की स्थिति बनी हुई है।
महिलाओं पर हो रहे यौन हिंसा के कारण, समाज का यह भयानक चेहरा उन कथित मानसिकता को उजागर कर रहा है।

पुरुष होने के मायने


पुरुष पिता के रूप में और पति के रूप में भारतीय परंपरा का निर्वाहन कर रहा है।
आज ईमानदार पुरुषों की आवश्यकता है ताकि इस ‘पुरुषदिवस’ को हम सब सेलिब्रेट कर सकें।
हर भारतीयों की नारी के प्रति संवेदना पुरुषत्व  की पहचान है।
 पुरुष परिवार की एक ऐसी कड़ी है, जो परिवार को सही दिशा और दशा प्रदान करता है।
आज का भारतीय पुरुष दकियानूसी ख्यालात और अंधविश्वास, जोकि महिलाओं  का आजादी को छीनता है, उसके खिलाफ खड़ा है।
भारतीय पुरुष द्रौपदी की लाज बचाने वाला वह कृष्ण है। नारी अस्मत और राष्ट्र की रक्षा करने वाला महाराणा प्रताप सिंह, छत्रपति शिवाजी महाराज और सारे दुनिया को अहिंसा व सादगी का पाठ पढ़ाने वाले महात्मा गांधी हैं। आज के पुरुषों के हीरो चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस, विवेकानंद जैसे महापुरुष हैं। जिनके नक्शे कदम पर चलकर देश दुनिया और जहान को बदलने का जज्बा पुरुष अपने अंदर लिए हुए हैं।

11 लक्षणों से स्मार्ट बच्चों को पहचानें

Tips: तनाव से हो जाइए टेंशन फ्री

नई पहल  नए भारत की तस्वीर, बदल रहा है-सरकारी स्कूल। आइए सुनाते हैं एक ऐसे सरकारी स्कूल की  शिक्षिका की कह… क्लिक करे

मातापिता चाहते हैं कि उनका बच्चा अच्छी आदतें सीखें और अपने पढ़ाई में आगे रहें, लेकिन आप चाहे तो बच्चों में अच्छी आदत का विकास कर सकते …

आज का पुरुष महिलाओं के साथ कंधा मिलाकर चल रहा है। उसके लिए हर तरह के रास्ते खोल रहा है।
आज का पुरुष असल में जननी (माँ) का कर्ज़ चुका रहा है, जो हजा़रों साल से हर सभ्यता में दबी और कुचली रही है।
राजा राममोहन राय महिलाओं को सती प्रथा से मुक्ति दिलाई तो ज्योतिबा फुले जैसे लोगों ने महिलाओं की शिक्षा के लिए उठने वाले कदमों को रोकने वालों के खिलाफ लोहा लिया।
भगवान राम ने नारी अस्मिता के साथ खिलवाड़ करने वाले रावण को परास्त करने के लिए देवी शक्ति  मां दुर्गा की पूजा की।
 जब प्रकृति ने पुरुष और स्त्री में भेद नहीं किया है तो हम और आप स्त्री और पुरुष के बीच में भेद करने वाले कौन हैं। पुरुष वही है जो अपने पुरुषार्थ के बल पर इस प्रकृति के हर जीवों को जीने का अवसर और सम्मान प्रदान करता है। भगवान महावीर जैन तथा भगवान बुद्ध ने अपने पुरुषार्थ के बल पर ही अपने समय में इस दुनिया को शांति और अहिंसा का नया पाठ पढ़ाया था।

आज का पुरुष भारत के उस गौरवमान-मर्यादा को फिर से स्थापित करने में लगा हुआ है। उसके साथ उसकी पत्नी, बेटी, बहन,माँ, दोस्त सब हैं।
कर्म की पूजा करने वाला देश भारत नारी शक्ति की भी पूजा करता है। आज का पुरुष  अपनी भारतीय संस्कृति  के अनुरूप ‘नारी शक्ति’ को  आगे बढ़ाने का अवसर प्रदान कर रहा है,  नारी को घर की देहरी से आसमान की ऊँचाइयों में फाइटर  एरोप्लेन उड़ाने वाली महिला पायलट, सीमा पर तैनात महिला अधिकारी और बड़े-बड़े मल्टीनेशनल कंपनियों में निर्णय लेते हुए महिला अधिकारी के रूप में वे नई भूमिका में सामने आ रही हैं, जिनका स्वागत व उत्साहवर्धन भारतीय पुरुष  कर रहे हैं।
भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, इंदिरा गांधी के बचपन में देशभक्ति का जज्बा Bhagat Singh, Chandrashekhar Azad, Indira Gandhi’s childhood patriotic spirit

आजादी के गुमनाम नायक

About the author

admin

नमस्कार दोस्तो!
New Gyan हिंदी भाषा में शैक्षणिक और सूचनात्मक विषयवस्तु (Educational and Informative content) के साथ ज्ञान की बातें बतलाता है। हिंदी-भाषा में पढ़ाई-लिखाई, ज्ञान-विज्ञान, साहित्य, तकनीक आदि newgyan website नया ज्ञान आपको बताता है। इंटरनेट जगत में यह उभरती हुई हिंदी की वेबसाइट है। हिंदी भाषा से संबंधित शैक्षिक (Educational) साहित्य (literature) ज्ञान, विज्ञान, तकनीक, सूचना इत्यादि नया ज्ञान, new update, नया तरीका बहुत ही सरल सहज ढंग से प्रस्तुत करते हैं।
ब्लॉग के संस्थापक Founder of New gyan
अभिषेक कांत पांडेय- शिक्षक, लेखक- पत्रकार, ब्लॉग राइटर, हिंदी विषय -विशेषज्ञ के रूप में 15 साल से अधिक का अनुभव है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट पर विभिन्न विषय पर लेख प्रकाशित होते रहे हैं।
शैक्षिक योग्यता- इलाहाबाद विश्वविद्यालय से फिलासफी, इकोनॉमिक्स और हिस्ट्री में स्नातक। हिंदी भाषा से एम० ए० की डिग्री। (MJMC, BEd, CTET, BA Sanskrit)
प्रोफेशनल योग्यता-
इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पत्रकारिता मे डिप्लोमा की डिग्री, मास्टर आफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, B.Ed की डिग्री।
उपलब्धि-
प्रतिलिपि कविता सम्मान
Trail social media platform writing competition winner.
प्रतिष्ठित अखबार में सहयोगी फीचर संपादक।
करियर पेज संपादक, न्यू इंडिया प्रहर मैगजीन समाचार संपादक।

Leave a Comment