CBSE Board Class 10 Hindi

Vigyapan Lekhan Hindi class 10| PDF downloa विज्ञापन

 CBSE board advertisment writing Hindi class 10 सी० बी० एस० ई० (CBSE board) बोर्ड के कक्षा – 10 हिंदी अ पाठ्यक्रम में 5 अंकों का विज्ञापन लेखन latest pdf vigyapan lekhan in hindi download.


advertisement writing से प्रश्न परीक्षा में पूछा जाता है। न्यू एग्जामिनेशन पेटर्न 2023 के अनुसार  Cbse board) की परीक्षा में संदेश लेखन, अनुच्छेद लेखन, पत्र लेखन और विज्ञापन लेखन 5-5 अंक होंगे।
 

hindi vigypan lekhan udharan

 

 

विज्ञापन लिखे जाने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। Cbse board

 

बोर्ड की परीक्षा में आप विज्ञापन किस तरह से लिखेंगे।

  छात्रों आज के क्लास में विज्ञापन  के   पहलुओं के बारे में चर्चा करेंगे जो हर प्रतियोगी परीक्षा और अकैडमी परीक्षा के लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण है।

 

 विज्ञापन किसे कहते हैं?

 

‘विज्ञापन’ शब्द के लिए अंग्रेजी में एडवर्टाइजमेंट (Advertisement) का प्रयोग होता है।  जिसका मतलब होता है, सार्वजनिक सूचना, सार्वजनिक घोषणा अथवा ध्यानाकर्षण करना।  विज्ञापन का मतलब सूचना पहुंचाना व अपील करना होता है। 

 छात्रो! विज्ञापन यदि रोचक होगा तो अपनी बात अधिक से अधिक लोग तक पहुंचाई जा सकती है इसलिए विज्ञापन में रचनात्मकता का बहुत बड़ा महत्व होता है।

 

 विज्ञापन दो शब्दों से मिलकर बना है-

 वि+ ज्ञापन।

यहाँ  उपसर्ग  ‘वि’ का अर्थ-  विशेष होता है।

ज्ञापन का अर्थ होता है- सूचना का ज्ञान।

  विज्ञापन किसी  लक्षित समूह (Target Audience/ group/ consumer) को संबोधित करता है। जिसमें किसी वस्तु के क्रय- विक्रय या सेवा से संबंधित ज्ञान यानी सूचना होता है।

 

 विज्ञापन के उद्देश्य

 

 कोई विज्ञापन तभी सफल होता है जब वह  अपने उद्देश्य को पूरा कर सकता हो।

  1. उत्पादक को लाभ (profit) पहुँचाना।

  2.  उपभोक्ता (consumer) को वस्तु या सेवा खरीदने के लिए प्रेरित करना।

  3.  विक्रेता (seller) यानी बेचने वाले की  मदद विज्ञापन करता है।

  4.  प्रतिस्पर्धा (competition) बनाए रखता है और अपने उत्पाद (product) की बाजार में मांग (Demonds in maket)  पैदा करता है।

  5.  उपभोक्ता (consumer) को किसी वस्तु को खरीदने के लिए प्रेरित (motivate) करता है अर्थात उसकी क्रय क्षमता का विकास भी करता है।

 

 विज्ञापन की आवश्यकता

 

 अब प्रश्न उठता है कि विज्ञापन की आवश्यकता क्यों पड़ती है।  अगर आप कोई उत्पाद (product) बाजार में लाए हैं तो उसे  लक्षित उपभोक्ता (Target consumer) तक पहुँचाने के लिए आपको सूचना देनी पड़ेगी इसलिए आपको विज्ञापन की जरूरत पड़ती है।

 

  1.  नए उत्पादों या नए विचार (new product or new idea) को लोगों तक पहुँचाने के लिए विज्ञापन की जरूरत पड़ती है।

  2.  अपने उत्पादों की  विशेषता (quality) बताने के लिए ग्राहकों तक पहुँचाने के लिए विज्ञापन की आवश्यकता होती है।

  3.  अपने उत्पादों के संबंध में जो तर्क है, उसको पुष्टि करने के लिए विज्ञापन की आवश्यकता होती है।

  4.  अपने विरोधियों की विज्ञापन  के गलत तर्कों  के जवाब में अपना तर्क रखने के लिए विज्ञापन की जरूरत होती है।

  5.  विज्ञापन के जरिए अपने उत्पाद की छवि वाली ब्रांड बनाए रखने के लिए विज्ञापन की समय-समय पर जरूरत होती है।

  6.  उपभोक्ता में दीर्घ काल (long periods) तक उत्पाद  के प्रति विश्वास बनाए रखने के लिए विज्ञापन की आवश्यकता होती है।

  7.  उपभोक्ता की पसंद को अपने उत्पाद के प्रति बनाए रखने के लिए भी विज्ञापन की जरूरत होती है।

 

 विज्ञापन लिखते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए-

 

  1.  विज्ञापन ऐसा हो जो कि उत्पाद के बारे में आकर्षित ढंग से बताएं और उपभोक्ता को उत्पाद खरीदने के लिए प्रेरित करने वाला होना चाहिए।

  2.    एक अच्छा विज्ञापन लोगों में उत्पाद के प्रति उनके मन में ब्रांड की छवि उभारता है।

  3. विज्ञापन उत्पाद के प्रति कम शब्दों में सही सूचना प्रदान करने वाला होना चाहिए।

  4.  सबसे महत्वपूर्ण बात की विज्ञापन उसको उपभोक्ता को यह समझाने में सफल रहे कि आखिर इस उत्पाद को खरीदने में उन्हें क्या लाभ होगा।

 

विज्ञापन और माध्यम (advertisment and medium)

 

  आज के युग में विज्ञापन कई माध्यमों में प्रचारित होते हैं। लिखित विज्ञापन अखबारों और छपते हैं।

  रेडियो में केवल ध्वनि प्रभाव वाले विज्ञापन सुनाई देते जिस में संगीत का अच्छा प्रयोग किया जाता है।  इसी तरह इलेक्ट्रॉनिक चैनलों में भी विज्ञापन ऑडियो और वीडियो के माध्यम से प्रस्तुत किया जाता है। 

 आज के समय में विज्ञापन लिखना  बहुत सम्मानजनक और पैसा कमाने वाला व्यवसाय है। विज्ञापन वही व्यक्ति बेहतर लिख सकता है, जिन्हें उत्पाद के साथ-साथ  उपभोक्ता की भी समझ  हो। 

 

आपके बोर्ड परीक्षा में 5 अंकों का जो विज्ञापन लेखन आता है, उसमें आपको कम से कम शब्दों में आकर्षक चित्र के माध्यम से विज्ञापन लिखना होता है।

 

hindi Vigyapan Lekhan

 

छात्रों विज्ञापन में आकर्षक वाक्यों के साथ ही आकर्षक ग्राफिक्स यानी चित्र भी होते हैं। विज्ञापन के प्रकार के बारे में जान लीजिए-

  1.  अनुनेय विज्ञापन (Request)

 उपभोक्ता के मन में आकर्षित करने वाले विज्ञापन खरीदने के लिए प्रेरित करने वाले विज्ञापन इसके अंतर्गत आते हैं।

 

  1. सूचना प्राप्त विज्ञापन

  ट्रेनिंग या रोजगार, कार्यशाला आयोजन वाले विज्ञापन।

  1.  संस्थानिक विज्ञापन

 इस तरह के विज्ञापन व्यवसायिक विज्ञापन होते हैं जो कि समय-समय पर उन संस्थानों द्वारा अपनी साख बनाने के लिए प्रसारित किए जाते हैं। ब्रांड का विज्ञापन, जैसे- कार का विज्ञापन

 

  1. औद्योगिक विज्ञापन

 औद्योगिक संस्थान का विज्ञापन ताकि प्रोडक्ट डिमांड को बढ़ाया जा सके। वाशिंग पाउडर, चायपत्ती आदि का विज्ञापन की श्रेणी में आता है।

  1.  वित्तीय विज्ञापन 

शेयर  खरीदने वाले विज्ञापन, आनंद से संबंधित विज्ञापन एलआईसी वगैरह के विज्ञापन किस श्रेणी में आता है।

  1. वर्गीकृत विज्ञापन जिसे क्लासीफाइड विज्ञापन भी कहते हैं।  अखबारों में विज्ञापन अधिकतर देखे जाते हैं कम खर्च में उपभोक्ता तक पहुंचने वाले यह विज्ञापन किसी शहर के अखबार में वहां स्थानीय जरूरतों के हिसाब से प्रकाशित किया जाता है। 

  2. नौकरी के लिए विज्ञापन

 

 विज्ञापन लिखने वाला कॉपीराइटर कहलाता है। 

 

विज्ञापन में शीर्षक

 यह आकर्षित करने वाला होना चाहिए।

 

उपशीर्षक

  शीर्षक के अतिरिक्त उपशीर्षक में अन्य बातें आती है जो उत्पाद के बारे में अलग तरह से बताती है।

 

मुख्य कथ्य (बॉडी कॉपी) (body copy)

 

 इसमें उपभोक्ताओं को विस्तार से उत्पाद के बारे में बताया जाता है और उसे खरीदने के लिए अभिरुचि उपभोक्ता में जगाई जाती है जिज्ञासा पैदा किया जाता है कि उत्पाद उनके लिए सबसे बेहतर होगा।

 

विज्ञापन की लेआउट (layout of Advertisement)

 

  विज्ञापन की रूप सज्जा, रंग- संयोजन, चित्र, इन सब बातों का ध्यान विज्ञापन की लेआउट  बनाते समय रखा जाता है ताकि उपभोक्ता को विज्ञापन एक नजर में आकर्षित लगे और उसे पढ़ने के लिए तैयार हो जाए।

 

 ट्रेडमार्क व लोगो (logo)

 

 हर उत्पाद की पहचान उसकी ट्रेडमार्क होता है जिससे कि उसे पहचाना जाता है।  यह चित्र के रूप में या खास लिखावट के रूप में ट्रेडमार्क या लोगों होते हैं जिससे उस उत्पाद की पहचान उपभोक्ता आसानी से कर लेता है और जब खरीददारी करने जाता है तो वह उत्पाद में यह लोगों देखकर उसे जल्दी याद आ जाता है कि इसे ही खरीदना था। इसलिए विज्ञापन में इन बातों का ध्यान रखा जाता है ट्रेडमार्क और लोगो का प्रयोग किया जाता है।

 

vigyapan lekhan ka udharan in hindi उदाहरण से समझें-

प्रश्न1.   न्यू रॉयल चाय चायपत्ती के प्रोडक्ट के लिए एक एक आकर्षक विज्ञापन तैयार कीजिए। 

 शीर्षक-  रॉयल चायपत्ती

 

सेहत भी बनाए और चुस्ती भी लाए

असम की चुनिंदा बागानों से चुनकर लाएं हैं, 

आपके लिए बेहतरीन  चाय!

सुबह की  एक प्याली चाय 

 आपकी सुस्ती भगाए  और सेहत बनाएं

 

रॉयल चायपत्ती

 

विज्ञापन लेखन एडवरटाइजमेंट राइटिंग


  प्रोजेक्ट वर्क से पढ़ाई क्यों जरूरी है?  पढ़ने के लिए क्लिक करें।

Vigyapan Lekhan FQ

विज्ञापन लेखन में किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

  सबसे पहली बात विज्ञापन लेखन में या ध्यान रखना चाहिए विज्ञापन आकर्षक और छोटा होना चाहिए और इसमें विशेषण शब्द जैसे सबसे अच्छा सबसे बेहतर सबसे सस्ता आदि शब्दों का प्रयोग होना चाहिए। विज्ञापन के टेक्स्ट बहुत बड़े और लंबे नहीं होना चाहिए। विज्ञापन सरल शब्दों में लिखा जाने वाला होना चाहिए। विज्ञापन में सिंपल सेंटेंस का इस्तेमाल होना चाहिए। विज्ञापन जिनके लिए लिखा जा रहा है उनकी भाषा और उनकी समझ के अनुसार विज्ञापन लिखना  चाहिए। और सबसे बड़ी बात विज्ञापन लिखते समय जिस प्रोडक्ट के बारे में आप विज्ञापन लिखिए उसकी पूरी जानकारी होने से विज्ञापन आपको प्रभावशाली ढंग से लिख सकते और उसकी खूबियों के बारे में बता सकते हैं। विज्ञापन लिखते समय कोई गलत जानकारी नहीं देनी चाहिए।

विज्ञापन क्या है सीबीएसई बोर्ड क्लास 10th प्रश्न?

 विज्ञापन एक ऐसी कला है जिसमें किसी उत्पाद के बारे में अपने उपभोक्ता तक जनसंचार माध्यमों  के द्वारा जानकारी दी जाती है।  सरल शब्दों में कहें तो विज्ञापन एक तरह की सूचना है जो  उत्पाद या सेवा प्रदान करने  वाली कंपनी द्वारा अपने लक्षित उपभोक्ता को जानकारी देना होता है।

 सीबीएसई बोर्ड क्लास 10TH हिंदी पेपर विज्ञापन लेखन कितने अंकों का पूछा जाता है?

5 marks का सीबीएसई बोर्ड में पूछा जाता है।

 हिंदी विज्ञापन लेखन डाउनलोड pdf in hindi

class-10th-vigyapan-lekhan-PDF-exampal-notes

About the author

admin

नमस्कार दोस्तो!
New Gyan हिंदी भाषा में शैक्षणिक और सूचनात्मक विषयवस्तु (Educational and Informative content) के साथ ज्ञान की बातें बतलाता है। हिंदी-भाषा में पढ़ाई-लिखाई, ज्ञान-विज्ञान, साहित्य, तकनीक आदि newgyan website नया ज्ञान आपको बताता है। इंटरनेट जगत में यह उभरती हुई हिंदी की वेबसाइट है। हिंदी भाषा से संबंधित शैक्षिक (Educational) साहित्य (literature) ज्ञान, विज्ञान, तकनीक, सूचना इत्यादि नया ज्ञान, new update, नया तरीका बहुत ही सरल सहज ढंग से प्रस्तुत करते हैं।
ब्लॉग के संस्थापक Founder of New gyan
अभिषेक कांत पांडेय- शिक्षक, लेखक- पत्रकार, ब्लॉग राइटर, हिंदी विषय -विशेषज्ञ के रूप में 15 साल से अधिक का अनुभव है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट पर विभिन्न विषय पर लेख प्रकाशित होते रहे हैं।
शैक्षिक योग्यता- इलाहाबाद विश्वविद्यालय से फिलासफी, इकोनॉमिक्स और हिस्ट्री में स्नातक। हिंदी भाषा से एम० ए० की डिग्री। (MJMC, BEd, CTET, BA Sanskrit)
प्रोफेशनल योग्यता-
इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पत्रकारिता मे डिप्लोमा की डिग्री, मास्टर आफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, B.Ed की डिग्री।
उपलब्धि-
प्रतिलिपि कविता सम्मान
Trail social media platform writing competition winner.
प्रतिष्ठित अखबार में सहयोगी फीचर संपादक।
करियर पेज संपादक, न्यू इंडिया प्रहर मैगजीन समाचार संपादक।

Leave a Comment