New Gyan सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सूर्य यंत्र की पूजा कैसे करें, टिप्स

सूर्य यंत्र की पूजा कैसे करें  सफलताओं मान मर्यादा पद प्रतिष्ठा से आप वंचित है या मनचाही सफलता नहीं मिल रही है तो ग्रह इस सही स्थिति नहीं है। नवग्रह में सूर्य की उपासना सफलता मान मर्यादा और प्रतिष्ठा पाने के लिए सबसे कारगर उपाय है। दोस्तों आज चर्चा करेंगे सूर्य उपासना की जो आपके जीवन को बदल देगा। धरती पर समस्त ऊर्जा का स्रोत सूर्य की रोशनी ही है। सूर्य की रोशनी ही मनुष्य के जीवन में  उजाला भरती है। सूर्य उपासना नौ ग्रहों में उन्नति के मार्ग प्रशस्त करने का सबसे अच्छा माध्यम है। नौ ग्रह में सूर्य को राजा की उपाधि दी गई है। सूर्य की किरणें सात घोड़ों के रथ पर सवार होकर धरती तक अपनी ऊर्जा का संचार करती है, ऐसा सनातन धर्म की मान्यता है। सूर्य निकलने के समय जल से अर्ध्य देना इंसान के उन्नति और स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। ज्योतिष के अनुसार अगर आपका सूर्य ग्रह कमजोर है तो उन्नति में चुनौतियां मिल सकती है। यहां पर सूर्य यंत्र स्थापना करके आप जीवन के हर क्षेत्र में सक्सेस प्राप्त कर सकते हैं। सूर्य यंत्र की पूजा से आपकी सफलता के घोड़े कभी नहीं रुकेगा। सूर्य यंत्र की पूजा प

Book Review By Abhishek Kant Pandey

Book Review  By Abhishek Kant Pandey Class 1 st   to 8 th Hindi Text book Book Name –  Publisher- Class Chapter or pages Price as print in Rs 1 st 19 chapter pages 80 230 2 nd 12 chapter pages 96 250 3 rd 12 chapter pages 104 260 4 th 14 chapter pages 112 270 5 th 14 chapter pages 124 280 6 th 16 chapter pages 140 310 7 th 16 chapter pages 144 325 8 th 16 chapter pages 144 340 Print and cover The perfect print with good qualities picture insert in this book. 80 GS paper qualities for long life book with attractive and thick cover paper qualities. Graphics and picture It book have attractive detailed picture qualities with given mapping chart for every chapter. In primary class book have more attractive illustration given. Every question given with some small pictures for grows to the interest motivation learning in children. Upper primary level as Hindi Text book given intro is given every chapter very meaningful for lesson learning. All sets of picture qualities, p

Dosti ko Pyar me Kaise badle दोस्ती को प्यार में कैसे बदले

दोस्ती को प्यार में कैसे बदले प्रेम दो जीवों को मिलाता है। लड़का और लड़की के बीच में दोस्ती है, लेकिन ये प्यार में बदल जाए फिर शादी के रिश्ते में ढल जाए। ये ख्वाब एक तरफा होता है। लेकिन हम आपको कुछ बेहतरीन टीप्स देने जा रहे हैं, जिसे आप अपनाकर अपने दोस्त का प्यार पा सकते हैं। वे आपको प्यार करने लगेगा। अगर आप अपने दोस्त का मजाक बनाते हैं तो छोड़ दें, यानी मजाक बनाना। आपको को डर लगता है कि आप प्यार का इजहार कर दिया तो हो सकता है कि आपको अपनी दोस्ती भी खोनी पड़े। इस कारण से आप अपने दोस्त को पसंद तो करत हैं पर मन में पल रहे प्यार के बारे में भी नहीं कह पाते हैं। आपने कई फिल्मों में ऐसे कई सीन देखा होगा। पहले समझ ले कि आप अपने दोस्त से प्यार करते हैं कि नहीं। अगर आपके  अंदर उसके प्रति प्यार पनप चुका है तो उसे जल्दबाजी में न कहें बल्कि आप धीरे—धीरे इस बात का एहसास दिलाएं कि आप उससे प्यार करते हैं। चलिए मैं आपकी हेल्प करता हूं तो आइए ले चलते हैं प्यार की दुनिया में— शादी करने से पहले सवाल जरूर पूछें टिप्स नंबर एक इमोशनल अत्याचार नहीं बल्कि दोस्त के इमोशन को समझें और

स्कूल में खेल जरूरी क्यों है | खेल का महत्व निबन्ध hindi nibnad

स्कूल में खेल का आयोजन स्कूल में खेल जरूरी क्यों है | खेल का महत्व निबन्ध  Hindi Nibandh Essay in Hindi| School me Khel Kyon Jaroori Hai | खेल के लाभ निबंध हिंदी में लिखें, स्कूल में खेल क्यों जरूरी होता है। नई शिक्षा नीति के अंतर्गत खेल क्यों जरूरी है , इस पर आपको एक अच्छा सा निबंध Essay in hindi दिया जा रहा है। स्कूल-कॉलेज की और प्रतियोगी परीक्षाओं में अक्सर  निबंध में पूछा जाता है कि स्कूल में खेल क्यों जरूरी होता है।  स्कूल में पढ़ाई के साथ खेल को भी जरूरी कर दिया गया है इसलिए खेल का पीरियड होता है। अंग्रेजी, मैथ, साइंस, सोशल, साइंस,  कंप्यूटर आदि विषयों के साथ खेल को भी अनिवार्य विषय के रूप में सरकार ने नई शिक्षा नीति new Education Policy 2021 के अंतर्गत रखा है।  school mein Khel Kyon jaruri hai 2022 योग और खेल (Yoga and Sport are very Important role in our Lift) हमारे शारीरिक स्वास्थ्य (Physical Health) और मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health) दोनों के लिए बहुत ही उत्तम होता है। आधी से ज्यादा आबादी  मोटापे से परेशान है, इसलिए क्योंकि बचपन से हम खेल और शरीर को स्वस्थ रखने के महत्व

After 40 age love 40 की उम्र के बाद प्यार ना बाबा रे ना

 40 की उम्र में प्यार क्यों? अक्सर देखा गया है कि मन में और समय से पहले प्यार जैसी ख्वाहिशें रह जाती है। 40 के आते-आते लोगों में प्रेम का एहसास  होता है।  ये एक समस्या नहीं बल्कि लगाओ और खिंचाव ही है। इंसान जैसे -जैसे तरक्की पसंद होता जा रहा, वैसे- वैसे नए तरीके से जीवन जीने के लिए आगे बढ़ रहा है।  साइकोलॉजिस्ट इसे एक तरह का आकर्षण मानते हैं। इस उम्र में मानसिक प्रेम अधिक होता है। आज हम इसी टॉपिक पर आपसे रूबरू होने जा रहें। कहानी एक ऐसे इंसान की है सुनिए-जो पारिवारिक जिम्मेदारियों के बोझ में 14-15 साल की उम्र से कमाना शुरु कर दिया। जब तक दुनियादारी उसने सीख ली थी लेकिन अभी भी उसका दिल बच्चे की तरह ही था। मां को बहू के सुख के खातिर उसकी कम उम्र में शादी करा दी गई। पढ़ा-लिखा न होना और कम उम्र में उसका विवाह हो जाना। उसके लिए सामाजिक बंधन था। अब  जीवन में पैसा कमाना ही लक्ष्य रह गया। अब उसके जीवन में पैसा तो था लेकिन वैवाहिक जीवन एकतरफा प्यार और तनाव में भरा था। इस तरह समय के साथ घर की जिम्मेदारियों में आदमी को घोड़ा बना दीया। मां तो बहू को पाकर खुश थी लेकिन बेटे ने अपनी खुशी नशे

Opoo A9 2020 mobile review in hindi

ओप्पो A9 2020 मोबाइल फोन रिव्यू credit: amazon ओप्पो A9 2020 मोबाइल फोन मिड रेंज स्मार्टफोन है। इसकी बॉडी प्लास्टिक बॉडी डिजाइन के साथ आता है। फ्रंट और बैक पर गोरिल्ला ग्लास 3 प्लस का प्रोटेक्शन दिया गया है। इसमें एचडी प्लस डिस्पले है। प्राइस रेंज के हिसाब से देखें तो फुल एचडी प्लस डिस्पले होता तो ज्यादा बेहतर था। ब्राइटनेस लेवल अच्छा है। बड़ी डिस्प्ले की वजह से वीडियोस्ट्रीम करने और गेम खेलने में मजा आएगा।  credit:  amazon बात परफारमेंस की करें तो मल्टीटास्किंग के दौरान फोन अच्छे से वर्क करता है। अगर गेमिंग पसंद है तो फोन निराश नहीं करेगा। इसमें हैवी गेम भी इस पर खेल सकते हैं। इसमें गेम बूस्ट 250 फीचर है, जो गेमिंग के आपके एक्सपीरियंस को बहुत ही बेहतरीन बनाता है। हालांकि लंबे समय तक गेमिंग फोन थोड़ा गर्म होने लगता है। फिंगरप्रिंट सेंसर और फेस अनलॉक ठीक से काम करता है। इस फोन में साउंड क्वालिटी बेहतर है। रियर पैनल पर एलईडी फ्लैश के साथ क्वॉड कैमरा है, जो इसे बेहतर बनाता है। इनमें पैनोरमा मोड, प्रोफेशनल मोड, पोट्रेट मॉड, टाइमलेस फोटोग्राफी, स्लो मोशन आदि फीचर भी दिए

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ईमेल लेखन कैसे करें | cbse class 10, 9 Email writing in hindi

  ईमेल लेखन कैसे करें cbse class 10, 9 Email writing in hindi CBSE बोर्ड की क्लास 9th और 10th में सेशन 2022 23 से ईमेल राइटिंग पर प्रश्न पूछा जाएगा। ईमेल राइटिंग जी का यह प्रश्न सीबीएसई बोर्ड क्लास 10th की बोर्ड परीक्षा में ढाई अंक का होगा। आपको बता दें कि क्लास 9th और 10th मे अनुच्छेद-लेखन Anuched Lekhan for class 10 and 9 , लघुकथा-लेखन, विज्ञापन-लेखन, संदेश-लेखन, संवाद-लेखन से प्रश्न भी पूछा जाता है इस पर आपको अधिक जानकारी चाहिए तो क्लिक करके पढ़ें… छात्रों ईमेल राइटिंग लिखना बहुत आसान है। ईमेल राइटिंग का प्रारूप और विषय आपको बस समझ में आना चाहिए। आपको यह बता दे कि आपकी परीक्षा में औपचारिक यानी कि फॉर्मल ईमेल राइटिंग ही पूछा जाएगा. जैसे कि बैंक मैनेजर को  पासबुक जारी करने के लिए ई-मेल लिखना, आप एक लाइब्रेरियन है और किताब मगवाना चाहते हैं  तो बुक पब्लिशर को आप ईमेल लिखेंगे। ई-मेल की भाषा हिंदी | Email writing in hindi अगर आप ईमेल लिख रहे हैं तो उसकी भाषा हिंदी ही होनी चाहिए। प्रचलित का अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं, जैसे स्कूल, बस, ट्रेन इत्यादि। ई-मेल 20 से 30 शब्द

क्लास मानीटर बनने के टिप्स/ What are the duties of a class monitor?

Tips to become a class monitor |  क्लास में मॉनिटर कैसे बने Image pexels क्लास मानीटर बनने के टिप्स/ What are the duties of a class monitor? Monitor banane ke tips, Qualities of Monitor in hindi. क्या आप जानते हैं कि एक अच्छा मॉनिटर बनने के गुण क्या—क्या होते हैं? क्या आप भी अपने बचपन में  क्लास के मॉनिटर थे! जब आप भी स्कूल में पढ़ते थे तो आपकी चाहत थी कि आप भी मानिटर बनें। मानिटर बनने का मतलब जिम्मेदार बनना, अनुशासन (Discipline) में रहने वाला और पढ़ाई के साथ खेलकूद में भी बेहतर ( Brilliant ) होता है। अब तो, टीचर पूरे  सत्र में बारी बारी से छात्रों को मॉनिटर की जिम्मेदारी क्लास में देते हैं। आइए इस लेख में पढ़े कि एक अच्छे मॉनिटर में क्या गुण होने चाहिए। हम यहां पर आपको कुछ टिप्स दे रहे हैं— हर माता-पिता सोचता है कि उसका बच्चा भी क्लास में अंतर होता कि उसके अंदर की जिम्मेदारी आए। एक क्लास में 30-40 बच्चे होते हैं ऐसे में सभी को मॉनिटर बनाना मुश्किल होता है लेकिन जोड़ने से ज्यादा सिंसियर होते हैं, उन्हें ही अक्सर क्लास मॉनिटर बनाया जाता है। कुछ बच्चे क्लास में बहुत ही

भारतीय आजादी के गुमनाम नायक

भारतीय आजादी के गुमनाम नायक bhaarateey aajaadee ke gumanaam naayak 2022 आज हम अपनी मर्जी से कहीं भी आ जा सकते हैं, पढ़ लिख सकते हैं अपने मनपसंद का करियर चुन सकते हैं, क्योंकि हम आजाद हैं और इस आजादी के लिए वीरों ने अपनी आहुति दी है, पर जब स्वतंत्रता सेनानियों के नाम बताने की बारी आती है तो हम सिर्फ गिने-चुने नाम ही बता पाते हैं, जबकि हकीकत यह है कि आजादी सिर्फ कुछ लोगों के बलिदान से नहीं मिली बल्कि इसके लिए बहुतों ने अपनी जान गंवाई। इनमें से कई तो गुमनामी की अंधेरों में खो चुके हैं। हम आपको ऐसे ही स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्होंने आज़ादी की लड़ाई में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी-  आजादी के गुमनाम नायक हम बताने जा रहे हैं आजादी के महानायक जिनको हम भूल गए हैं-- कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी भारत छोड़ो आंदोलन से जुड़ने वाले कन्हैयालाल कई बार अंग्रेजी शासन के खिलाफ आवाज उठाने के आरोप में गिरफ्तार किए गए और अंग्रेजों के जुल्म का शिकार हुए पर उन्होंने कभी हार नहीं मानी हर बार दुगनी ताकत के साथ अंग्रेजों से मुकाबला किया। भगत सिंह, चंद्रशेखर आजा

10 बातें एक टीचर के लिए जानना बहुत जरूरी है

गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः । गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ॥ भारतीय संस्कृति में यह श्लोक गुरु (teacher) की महिमा का बखान करता है। गुरु यानी शिक्षक और उस का व्यक्तित्व छात्र के जीवन में ज्ञान की रोशनी से उसके भविष्य को सँवारता है। अच्छा टीचर वही है, जो स्टूडेंट के मन मस्तिष्क पर ऐसी छाप छोड़ता है कि वह उसे जीवन भर याद रखता है।  आइए जाने एक बेहतरीन टीचर के 10 गुणों के बारे में।   यह क्वालिटी किसी टीचर को खास बनाती है। ऐसे 10 क्वालिटी की चर्चा हम करेंगे जो एक अच्छे टीचर की पहचान होती है। इस आर्टिकल में आज हम पढ़ेंगे टीचर के लिए कम्युनिकेशन स्किल कौन से होते हैं और एक अच्छे टीचर के कौन 10 से ऐसे क्वालिटी है जिसे हमें जानना जरूरी है। 1. Teacher के लिए कम्युनिकेशन स्किल यानी संचार कौशल   एक अच्छे टीचर की सबसे बड़ी पहचान होती है,  छात्रों पर प्रभावशाली ढंग से अपनी बात को रख सकने की कला।  स्टूडेंट और टीचर के बीच में संवाद दो तरफा होना चाहिए। टीचर का कम्युनिकेशन स्किल इफेक्टिव होना चाहिए ताकि वह अपने छात्रों से बेहतर संपर्क बना सके।  क्लास म

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी। Laghu Katha ke Udharan class 9th hindi term-2 sylabuss 2022 hindi  न्यू सिलेबस सीबीएसई बोर्ड लघु कथा लेखन क्लास नाइंथ इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य और दूसरा काव्य साहित्य।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। लघुकथा के महत्वपूर्ण बातें 1.आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। 2.लघु कथा की परंपरा हमारे संस्कृति में 'पंचतंत्र' और 'हितोपदेश' की छोटी कहानियों  से भी  रही है। इन कहानियों को लघु-कथा भी कह सकते हैं। आपने भी छोटी-छोटी लघु कहानियाँ अपने बड़ों से जरूर सुनी होगी।  3.

MCQ Vachya वाच्य class 10 cbse board new 2021

MCQ Vachya  वाच्य class 10 cbse board new 2021 CBSE Change question paper pattern in hindi. Hindi Grammar asking MCQ's. वाच्य Vachya topic given multiple cohice question with answer.     सीबीएसइ कक्षा 10 की हिन्दी  अ Syllabus 2021 में अब अधिकतर Questions Objective  टाइप के प्रश्न पूछे जाएंगें। यहां पर Vachya वाच्य टॉपिक से दे रहे हैं। Vachya Topic  में 5 में से 4  इस वाच्य टॉपिक questions आएंगे। वाच्य शब्द का अर्थ बोलने का तरीका वाच्य कहलाता है। ऐसा वाक्य जहां पर क्रिया का पर प्रभाव कर्ता, कर्म या भाव का पड़ता है तो क्रिया उसी के अनुसार परिवर्तित होती है। इस तरह से वाच्य तीन प्रकार के हुए। क्योंकि तीन तरह से क्रिया पर प्रभाव पड़ता है। यानी  1 कर्ता  2 कर्म  3 भाव क्रिया विधानों के अनुसार वाच्य 3 तरह के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य (Active Voice) 2. कर्मवाच्य (Passive Voice) 3. भाववाच्य (Impersonal Voice) कर्तृवाच्य व अ कर्तृवाच्य   के अनुसार वाच्य दो प्रकार के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य 2  अ कर्तृवाच्य  अ कर्तृवाच्य के दो भेद होते हैं-        i. कर्मवाच्य (Passive Voice)         ii भावव

CBSE Class पर्यावरण प्रदूषण अनुच्छेद| paragraph writing in hindi CBSE board

 अनुच्छेद लेखन 10th|  पर्यावरण प्रदूषण अनुच्छेद| paragraph writing in hindi CBSE board  CBSE board class 9th 10th 11th 12th paragraph writing in Hindi पर्यावरण प्रदूषण पर पैराग्राफ राइटिंग अनुच्छेद लेखन के कुछ उदाहरण यहां किए हुए हैं। अनुच्छेद लेखन पर यह लेख पढ़ें paragraph writing ke tips aur definition in Hindi   Anuchchhed lekhan  पर्यावरण प्रदूषण  पर्यावरण का अर्थ होता है- धरती के चारों को प्रकृति का आवरण। जिसमें जैविक व अजैविक पदार्थ होते हैं।  प्रकृति का गलत तरीके से  दोहन करने से प्रकृति प्रदूषित होती है। इसे पर्यावरण प्रदूषण  कहते हैं।  इस धरती पर प्रकृति ने हमें शुद्ध वायु, शुद्ध जल के साथ ढेर सारे संसाधन  दिए हैं। इस प्रकृति में पेड़-पौधे, जीव-जंतु निवास करते हैं।  परंतु इंसान बिना सोचे समझे प्रकृति के हर चीजों का दोहन करता है जैसे, फैक्ट्रियों और वाहनों का निकलता हुआ काला धुआं वायु को प्रदूषित करता है। खेतों में यूरिया और सीवर लाइन का गंदा जल हमारे नदियों और धरती को प्रदूषित कर रही हैं।   इस कारण से धरती का वायु-चक्र, जल-चक्र और मौसम-चक्र  पर बुरा प्रभाव पड़ता है।  जि