Anuchchhed Lekhan hindi (Paragraph Writing) अनुच्छेद-लेखन| Example in hindi

sandesh lekhan

Last Updated on February 16, 2023 by Abhishek pandey

Anuchchhed Lekhan hindi : Anuched lekhan udaharan paragraph writing in hindi new update 2023 for cbse board class 9th and 10th . अनुच्छेद लेखन के उदाहरण न्यू टॉपिक 2023 परीक्षा के लिए उपयोगी. mera desh mahan, Adhjal gagri chlkat jaye anuched

Anuched lekhan udaharan paragraph writing in hindi new update 2022 term 2 for cbse board class 9th and 10th

ग्लोबल वार्मिंग- मानव जाति के लिए खतरा global warming Manav jaati ke liye khatra anuchchhed Hindi

 
आधार बिंदु Anuchchhed Lekhan hindi 
 
ग्लोबल वार्मिंग क्या है? (what is the global warming)
ग्लोबल वार्मिंग के कारण (what is the reason of global warming)
ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव (effect of global warming)
समस्या का समाधान ( the problem solution of global warming)
 
धरती के तापमान में लगातार बढ़ोतरी होना ग्लोबल वार्मिंग कहलाता है।‌ जिसे हिंदी में वैश्विक ताप वृद्धि कहा जाता है। ‌ अपनी धरती का तापमान धीरे-धीरे बढ़ रहा है जिस कारण से धरती पर रहने वाले जीवो और मनुष्यों पर खतरा मंडराने लगा है। ग्लोबल वार्मिंग का कारण मनुष्य की अंधाधुंध विकास की रफ्तार और जंगलों का विनाश है। पेड़ काटने से हरियाली में कमी आई है, इस कारण से बारिश भी कम होने लगा है। इसलिए पर्यावरण असंतुलित हो गया है। ग्लोबल वार्मिंग की एक और कारण है। ओजोन परत हमें सूर्य की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से बचाती है। ‌ प्रदूषण के कारण ग्लोबल वार्मिंग बढ़ी है। पर्यावरण असंतुलन होने के कारण समय से वर्षा नहीं होता है। सर्दी-गर्मी ऋतुओं में बदलाव होना है। समुद्र का जलस्तर इसलिए बढ़ता जा रहा है क्योंकि धरती का तापमान बढ़ रहा है। इस कारण से सारे ग्लेशियर जो बर्फ के रूप में वह पिघल रहे हैं। ग्लोबल वार्मिंग के कारण पर्यावरण असंतुलित हो गया है। इससे बचाव के लिए हमें पर्यावरण का संरक्षण करना चाहिए। फैक्ट्रियों और वाहन से निकलता हुआ धुंआ , इसके कारण से पर्यावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा अधिक हो रही है और यह ग्लोबल वार्मिंग का सबसे बड़ा कारण है। वाहनों और फैक्ट्रियों में इस्तेमाल होने वाले पेट्रोलियम पदार्थों प्रतिबंध लगाकर सौर ऊर्जा व पवन ऊर्जा का उपयोग करना चाहिए। प्रकृति के संतुलन के लिए जंगलों का संरक्षण करना जरूरी है तभी हम ग्लोबल वार्मिंग की चपेट से बच सकते हैं।
 
 

मेरा देश महान mera desh mahan (Anuched Lekhan)

संकेत बिंदु Anuchchhed Lekhan hindi 

 

  •  दुनिया में स्थान

  •   अद्भुत प्राकृतिक सौंदर्य

  • अनेकता में एकता

 

“सारे जहाँ  से अच्छा हिंदुस्तान हमारा।

हम बुलबुले है इसकी ये गुलसिताँ  हमारा।”-

दुनिया के पटल पर भारत का प्रमुख स्थान है।

 भारत देश विश्व में महान शक्ति के रूप में उभर रहा है। भारत आर्थिक, समाजिक, वैज्ञानिक शैक्षिक, सांस्कृतिक एवं सामरिक रूप से आगे बढ़ रहा है।  प्राचीनकाल का गौरव तथा आधुनिक समय का ज्ञान और विज्ञान के साथ भारत देश दुनिया के अग्रणी देश है।  योग और आध्यात्म के साथ विज्ञान की  संस्कृति पूरी दुनिया में अनेकता में एकता की सीख देती है। विश्वबंधुता की सीख देने वाला दुनिया में भारत का स्थान प्रथम है। दुनिया की हर संस्कृति की झलक यहाँ पर है, तो हर तरह की प्राकृतिक सुंदरता यहाँ पर दिखाई देती है।  जम्मू कश्मीर से कन्याकुमारी तक थार मरुस्थल से उत्तर-पूर्वी की  प्राकृतिक संसाधन भारत की एकता को प्रस्तुत करते हैं। भारत की प्रकृति ही नहीं बल्कि यहाँ की संस्कृति और धार्मि में भी अनेकता में एकता दिखाई देती है। सर्वधर्म समभाव की सीख देती,  यहाँ  की संस्कृति  मानव बनने की सीख देती है। दुनिया में एकमात्र देश भारत है, जिसने कभी भी किसी देश पर  आक्रमण नहीं किया बल्कि  विश्व शांति का संदेश देनेवाला भारत देश आधुनिक युग में विश्व गुरु की भूमिका में शांति की बात करता है। करोना महामारी के समय विश्व के देशों को हर संभव सहायता कर भारत देश ने ये सिद्ध कर दिया कि मानवता की रक्षा, शांति, करुणा व विश्वबंधुता उसकी पहचान है। इसलिए हमारा देश ज्ञान, विज्ञान, दर्शन, साहित्य, कला के क्षेत्र में संपूर्ण विश्व में अग्रणी है और विश्वबंधुत्वता की सीख देनेवाला भारत देश से आज संसार के पटल पर विश्वगुरु की उपाधि से विभूषित है।( new Anuched in hindi udaharan)

See also  Important Alankar class 10th Examination with Questions Answer

लघुकथा लेखन कैसे लिखें? Laghu Katha Lekhan what is the laghu Katha Lekahan

——————————————————————-

 

Anuchchhed-Lekhan (Paragraph Writing) (Term-2) अनुच्छेद-लेखन| Example in hindi

 

अधजल गगरी छलकत जाए Adhjal gagri chalkat jaiye anuched in hindi

  •  संकेत बिंदु

    •  अधूरा ज्ञान वाला अहंकार होता है

    •  अज्ञानी बदतमीज होता है

    •  ज्ञानी  विनम्रता का प्रतीक है

    ‘अधजल गगरी छलकत जाए’- का अर्थ है अधूरा ज्ञानवाला इंसान अपनी विद्वता का अधिक बखान करता है।  अधूरा ज्ञानवाला इंसान बड़ी-बड़ी बातें करता है।  इस संसार में ऐसे अनेक लोग मिल जाएँगे, जो अपने अधूरे ज्ञान की प्रशंसा करते हुए नजर आएँगे। ऐसे अल्पज्ञानी लोग दिखावे की जिंदगी जीते हैं। अधूरे ज्ञान वाले लोग को भगवान भी नहीं समझा सकते है, अधूरे ज्ञान वाले इंसान स्वयं को ज्ञानी समझने की भूल में जीते रहते हैं, यदि कोई इन्हें ज्ञान देता है तो वे उनकी बात नहीं समझते हैं बल्कि सज्जन व्यक्ति से बदतमीजी करने लगते हैं। गंवार को तो समझाया जा सकता है लेकिन जो इस भुलावे में हैं कि वह सबकुछ जानता हैं, उसे समझा पाना ‘लोहे के चने चबाने’ के बराबर है। ऐसे लोग से दूर रहना चाहिए। इनके लिए एक कहावत है, ‘थोथा चना बाजे घना’- मतलब,  अधूरा ज्ञानवाला इंसान अपनी हीनता को  छिपाने  के लिए अपनी झूठी  प्रशंसा करता है। ऐसे इंसान झूठा घमंड करते हैं और समाज में मजाक का पात्र बन जाते हैं।  जो ज्ञानी  होता है, वास्तव में वह विनम्र स्वभाव का होता है। विनम्रता ज्ञान से ही आती है। विनम्र इंसान ही ज्ञानी बनता और सफल होता है। विनम्रता, व्यावहारिकता एवं सामाजिकता होना ज्ञानी पुरुष की पहचान है। cbse board class 9th and 10th Anuched Lekhan in hindi newgyan.com

—————————–

👇👇👇👇👇

पर्यावरण पर अनुच्छेद 150 शब्दों में in hindi

  • पर्यावरण प्रदूषण
  • प्रदूषण का कारण
  • प्रदूषण का निवारण
  • प्रदूषण के प्रति हमारी जिम्मेदारी

वर्तमान में सबसे बड़ी समस्या प्रदूषण की  है।  विकास के युग में अंधाधुन मशीनों का उपयोग हो रहा है इस कारण से वायु प्रदूषण विकराल रूप ले रही है। वायु में कार्बन डाइऑक्साइड और हानिकारक गैस की मात्रा अधिक होने के कारण शहरों की हवा साँस लेने लायक नहीं रह गई है। इसका कारण विकास के नाम पर पेड़ों का कटना  और जंगल का समाप्त होना है।  कारखानों और वाहनों से निकलने वाला धुआँ पर्यावरण को प्रदूषित कर रहा है।  रासायनिक खाद का उपयोग करने से खेतों की मिट्टी प्रदूषित हो रही है, यह रासायनिक खाद जल को प्रदूषित भी कर रहा है। प्रदूषण का निवारण करने के लिए लोग को जाग्रत करना आवश्यक है। प्रदूषण रोकने के लिए सरकार द्वारा कड़े कानून बनाना आवश्यक है, साथ ही इन कानूनों का सख्ती से पालन करवाना भी सरकार की जिम्मेदारी है।  नागरिकों का भी कर्तव्य है कि पर्यावरण को साफ- सुथरा रखने में सरकार का सहयोग करें।  पर्यावरण प्रदूषण के रोकथाम में सबसे बड़ी जिम्मेदारी किसी देश के नागरिकों की होती है, हमारी जिम्मेदारी है कि हम भी पेड़-पौधे लगाएँ, प्रदूषण फैलाने वाले तरीकों के स्थान पर प्राकृतिक ऊर्जा को अपनाए, जैसे- सौर ऊर्जा, इलेक्ट्रिकल एनर्जी इत्यादि का उपयोग करना चाहिए।

 

pustak padhne ki aadat anuchchhed lekhan udaharan ine Hindi CBSE board 2017

पढ़ने की आदत पर सौ से डेढ़ सौ शब्दों पर एक अनुच्छेद लिखिए निम्नलिखित आधार बिंदु दिया है-

पढ़ने की घटती प्रवृत्ति

See also  Nari Niketan nibandh in hindi: नारी निकेतन क्या होता है?

पढ़ने की आदत से लाभ

कारण और हानि

 

किताब पढ़ने की आदत , पढ़ने की आदत padhne ki aadat per anuchchhed

जीवन में सच्चे साथी पुस्तकें ही होते हैं। पुस्तकें हमारे जीवन में ज्ञान का रस घोलती हैं और प्रेरणा के उमंग का संचार करती है। परंतु आज के समय में ज्ञानार्जन के लिए लोग पुस्तकों की जगह इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं लेकिन वहां पर वह पढ़ने की प्रवृत्ति नहीं बल्कि देखने की प्रवृत्ति होती जिसमें एक ठोस ज्ञान हासिल नहीं होता है। पुस्तक पढ़ने की अच्छी आदत हमारे जीवन में मनोरंजन और ज्ञान दोनों का संचार करती है। अगर हम तकनीकी माध्यम मोबाइल लैपटॉप वह जैसे संसाधनों में भी पी डी एफ फाइल के माध्यम से पुस्तक पड़े तो भी हमें बहुत अच्छी जानकारी मिल सकती है। लेकिन संचार माध्यमों में पन्ने पर छपी किताब पढ़ने का आनंद कुछ और ही होता है। इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि आप अधिक समय तक किताबों से पढ़ाई कर सकते हैं आंख नहीं दुखता है और जब चाहे कोई भी पन्ना पढ़ कर उसे समझ सकते हैं। अपनी मनपसंद किताबों को आप अपने कमरे में सजा सकते हैं और जब चाहे तो उसको पढ़कर उससे ज्ञान हासिल करके अपने रिसर्च कार्य को भी पूरा कर सकते हैं। इसलिए आज के समय में पुस्तक पढ़ने की आदत को विकसित करना चाहिए जिससे हमारी सोचने समझने की शक्ति भी विकसित होती है। सबसे बड़ा ब्राउज़र होता है कि अगर हमने पाठ्यक्रम की पुस्तकें पढ़ ली तो वही हमारी पढ़ाई होती है जबकि ऐसा नहीं है हमें साहित्य और ज्ञानवर्धक किताबों को भी पढ़ना चाहिए। पढ़ने की आदत से हमारे विचार सुगठित होते हैं और सोच का दायरा भी बढ़ता है। जीवन में हर समस्या का समाधान और ज्ञान दोनों चीन पुस्तकों से ही प्राप्त हो पाती है। अगर कहे की पुस्तक पढ़ने से हानि होती है तो यह बात बिल्कुल गलत है पुस्तक पढ़ने से बस इतना हानि होता है कि आपका समय थोड़ा अधिक लगता है लेकिन आप को ज्ञान भी मिलता है। पुस्तकें (books) सच्चे मित्र होते हैं और जब आप अच्छी पुस्तकें पढ़ते हैं तो उससे लाभ ही लाभ मिलता है और जब हम ऐसी पुस्तकें पढ़ते हैं जो उच्च कोटि की नहीं होती है, जिसकी भाषा शैली दोयम दर्जे की होती है और जिसमें विषयवस्तु शिष्ट नहीं होती हैं, वे पुस्तकें हमारी आदतों और विचारों को प्रभावित जरूर करती हैं। इसलिए जब भी पढ़े प्रमाणित और मानक पुस्तकों को ही पढें।

 

अनुच्छेद लेखन के Example latest 2023 corona virus

संकेत बिंदु

कोरोना का संक्रमण बचाव के उपाय लॉकडाउन में सकारात्मक प्रभाव

corona virus per anuchchhed lekhan

 

कोविड-19 की शुरुआत दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर में हुआ था।‌‌ कोरोना नाम की भयानक बीमारी वाला या वायरस विश्व के अनेक देशों में सन 2020 के मार्च महीने में फैल गया। हर दिन हजारों की संख्या में लोगों की मौत होने लगी। फिर 11 मार्च 2020 को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे महामारी घोषित कर दिया और बचाव के निर्देश जारी कर दिया गया। कोरोना की प्रथम लहर में विश्व के लाखों लोगों की जान चली गई। दुनिया के अनेक देश इस संक्रमित बीमारी से बचाने के लिए अपने देश में लॉकडाउन लगा दिया। लॉकडाउन के चलते लोग घरों में कैद हो गए। लॉकडाउन के कारण सारे विश्व की आर्थिक और राजनीतिक गतिविधियां लगभग ठप हो गई। दुनिया के बड़े देशों अमेरिका, रूस, जापान इटली भी इस बीमारी का सामना करने में विवश नजर आए लेकिन संसार भर के विज्ञानिकों के अथक प्रयास के बाद कोरोनावायरस से बचने का टीका तैयार कर लिया गया था। यह उपलब्धि भारत ने भी प्राप्त कर ली थी। भारत देश में कोरोनावायरस का प्रभाव बहुत ही कम पड़ा। धीरे-धीरे इस बीमारी पर नियंत्रण प्राप्त कर लिया गया। वर्तमान में भी कोरोना संक्रमण की आशंका बनी हुई है। इस बीमारी के बचाव का एक ही उपाय टीकाकरण है।‌‌ आज क्रोना संक्रमण की बीमारी पर भले नियंत्रण हो गया हो लेकिन इस तरह कि भविष्य में वायरस जनित कई बीमारियां आ सकती इसलिए हमें अपने चिकित्सा व्यवस्था को और दुरुस्त बनाए रखने की आवश्यकता है।

See also  CBSE board date sheet 2024| संस्कृत बुक

अनुच्छेद लेखन paragraph writing in Hindi अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

Paragraph writing in Hindi किसे कहते हैं?

 

जब एक अनुच्छेद  (Paragraph writing in Hindi) लिखने वाला एक भाव या विचार को स्पष्ट रूप से व्यक्त करता है इस तरह के छोटे-छोटे वाक्य समूह बनाता है और एक पैराग्राफ पूरा हो जाता है, उसे पैराग्राफ राइटिंग कहते हैं हिंदी में इसे अनुच्छेद लेखन कहा जाता है।

 

अनुच्छेद लेखन का उद्देश्य?

 

छात्रों अनुच्छेद लेखन का उद्देश्य ही होता है कि किसी भी विषय के बारे में संक्षिप्त रूप में एक ही अनुच्छेद में सरल और स्पष्ट विचारों के साथ लिखना अनुच्छेद लेखन का उद्देश्य। एक अनुच्छेद लेखन में लेखक अपने विचारों को उतना नहीं लिखता है जितना वह तथ्यात्मक बातों को अनुच्छेद में लिखता है। ‌ आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अनुच्छेद लेखन में तथ्यात्मक विवरण होना जरूरी है बहुत अधिक भावनात्मक और काल्पनिक बातें नहीं होना चाहिए। ‌

अनुच्छेद लेखन का उद्देश्य है कि एक ही पैराग्राफ में किसी जानकारी के एक पहलू को पाठक तक अवगत कराना रहता है।

 

परीक्षा में पूछे गए अनुच्छेद लेखन में इसीलिए आधार बिंदु दिया जाता था ताकि विषय के आधार बिंदु के आधार पर ही अनुच्छेद लेखन सटीक किया जा सके छात्रों द्वारा। आधार बिंदु अनुच्छेद का देने का उद्देश्य यही है कि विषय में भटकाव ना हो और परीक्षार्थी उत्तर सही तरीके से दें और उसकी जांच होने पर उसे सही अंक प्राप्त हो सके।

 

साहित्य विधा में अनुच्छेद लेखन का उद्देश्य क्या है?

 

छात्रों जब साहित्य की विधा की तरह अनुच्छेद Anuchchhed Lekhan hindi लेखन पाठक के लिए किया जाता है तो उसमें एक ही विषय वस्तु पर सटीक और तथ्यात्मक ज्ञान देते हुए सरल स्पष्ट शब्दों में कम से कम शब्दों में पूरा लिखा जाता है जो एक अनुच्छेद में होता है, इसे अनुच्छेद लेखन कहा जाता है और यही अनुच्छेद लेखन का प्रोफेशनल उद्देश होता है।

 

CBSE board की कक्षा 10वीं 12वीं में अनुच्छेद लेखन कैसे पूछा जाता है?

 

छात्रों class  9 , 10 ,11 ,12 में अनुच्छेद लेखन सौ से डेढ़ सौ शब्दों में पूछा जाता है। एक जिसे दिया होता और उसके कुछ आधार बिंदु या सब हेडिंग दिया जाता है उसके आधार पर एक अनुच्छेद 100 से 150 शब्दों में लिखने के लिए कहा जाता है। Anuchchhed Lekhan hindi 

 

परीक्षा के लिए अनुच्छेद लेखन की तैयारी कैसे करें?

 

examination preparation of paragraph in Hindi सबसे पहले अनुच्छेद क्या होता है? इसके बारे में पढ़िए और अनुच्छेद लेखन के अलग-अलग विषयों के बारे में पढ़कर जानकारी इकट्ठा करना चाहिए। वर्तमान विषय में अनुच्छेद लिखने की प्रैक्टिस करना चाहिए जैसे कोरोनावायरस संकट, पर्यावरण, बढ़ता हुआ भ्रष्टाचार, महंगाई, बस की यात्रा, रेलगाड़ी का सफर,  अवैध निर्माण, यदि मैं प्रधानमंत्री होता, होली त्यौहार, दीपावली, नई वैज्ञानिक उपलब्धियां, भविष्य का भारत, डिजिटल इंडिया योजना, अमृत महोत्सव, हमारी अर्थव्यवस्था, हिंदी राष्ट्रभाषा, हमारी संस्कृति और खेल, भारत रत्न लता मंगेशकर इत्यादि विषयों पर अक्सर अनुच्छेद किसी परीक्षा में पूछे जाते हैं। इस पर अनुच्छेद लिखने के लिए अभ्यास करना जरूरी है। आप  हमारे वेबसाइट newgyan.com में अनुच्छेद लेखन संबंधित कई उदाहरण और नियम, परिभाषा और उद्देश आदि अनुच्छेद लेखन के बारे में बताए गए, उसे पढ़कर आप अधिक जानकारी हासिल कर सकते हैं और परीक्षा में अच्छे नंबर हासिल कर सकते हैं। हर हफ्ते इस पेज को हम new update anuchchhed lekhan करते हैं। हर बार इस पेज पर आइए आपको मिलेगा नया कंटेंट अनुच्छेद से रिलेटेड। Anuchchhed Lekhan hindi 

 

 

new anuched for class 10 and 9 examination pattern

Anuched lekhan parvaran pradushan

 
Read now

hindi संदेश लेखन cbse  बोर्ड class 10 term 2  हिंदी

 

विज्ञापन लेखन cbse बोर्ड term 2 

 

सीबीएसई बोर्ड लघु कथा लेखन क्लास 9th

Anuched Lekhan Term 2 hindi class 9 to 12

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिंदी में बेस्ट करियर ऑप्शन, टिप्स CBSE Board Exam tips 2024 एग्जाम की तैयारी कैसे करें, मिलेगा 99% अंक