Labour Day speech in Hindi 2024 : मजदूर दिवस पर भाषण, स्कूल कॉलेज में बोलें

Last Updated on April 30, 2024 by Abhishek pandey

 Shram Divas bhasahan labour day speech in Hindi 2024 : श्रम दिवस shram Divas bhashan पर भाषण लेबर डे स्पीच इन हिंदी मजदूर दिवस पर भाषण 

Labour Day speech in Hindi 1 may labour Day speech in Hindi

आज हमारी संस्था में श्रमिक-दिवस के इस आयोजन पर मुझे बोलने का अवसर प्रदान किया गया है। इसलिए मैं सभी बंधुओं का आभार व्यक्त करता हूं और अपनी बात यहां पर रखना चाहता हूं।

 अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस (Labour Day)  के खास मौके पर आज सभी श्रम करने वाले आप सभी लोगों का मैं आभार व्यक्त करता हूं। श्रमिक वर्ग, कामगार इन सभी का सम्मान करना हमारा परम कर्तव्य है। समाज में जितने भी नव निर्माण, साफ-सफाई इत्यादि होते हैं, यह सभी श्रम करने वालों के कारण ही हो पाते हैं।

श्रम से मनुष्य का जीवन अनुशासित रहता है। शारीरिक श्रम से ही जीवन धन्य हो जाता है। इसलिए हर किसी को श्रमशील बनने की प्रेरणा दी गई है।

श्रम को मान सम्मान और उनके अधिकारों के लिए अंतरराष्ट्रीय श्रमिक-दिवस हर साल 1 मई को मनाया जाता है।

 जैसा कि हम सभी जानते हैं, श्रमिक-दिवस दुनिया भर में हर साल 1 मई को मनाया जाता है। इस दिन श्रमिकों  के संघर्ष और उनकी श्रम महता को सम्मान देने के लिए  हर साल  1 मई को श्रमिक दिवस मनाया जाता है,  श्रमिकों ने  विश्व को मजबूत और समृद्ध बनाने के लिए अपना अहम् योगदान दिया है।

जब मिला श्रमिकों को उनका अधिकार

उस समय श्रमिकों (Shramik Divas) से सुबह से देर शाम तक काम कराया जाता था।  उनकी मजदूरी भी बहुत कम थी और उनके अधिकारों की रक्षा करने के लिए कोई संगठन भी नहीं थी। औद्योगिक क्रांति के इस दौर में मजदूरों के साथ शोषण और अत्याचार होना शुरू हो गया था। पूंजीवादी व्यवस्था ने मजदूरों का शोषण करना शुरू कर दिया ऐसे में मजदूरों में असंतोष आ गया। मजदूरों ने 12 घंटे श्रम का विरोध करना शुरू कर दिया। उन्होंने इस व्यवस्था के खिलाफ आवाज उठाई और सभी मजदूर हड़ताल पर चले गए।

Labour Day speech in Hindi

 इस संघर्ष में कई मजदूरों की जान भी चली गई। लेकिन मजदूर अपने संघर्ष के प्रति एक जुट रहें । मजदूर वर्ग ने मांग रखी; 8 घंटे काम, 8 घंटे आराम और 8 घंटे मनोरंजन के लिए उन्हें समय मिलना चाहिए। पूंजीपतियों के खिलाफ मजदूर कामगार वर्ग का आंदोलन जबरदस्त था।

See also  Cloud service providers in cloud computing in Hindi

मजदूरों की मांगों के सामने आखिरकार पूंजीपतियों को झुकना पड़ा। शोषण और अत्याचार की यह लड़ाई उस समय खत्म हो गई लेकिन आज भले ही 8 घंटे काम करने और सप्ताह में 1 दिन छुट्टी इन्हें मिली हो लेकिन आज भी मजदूर की परिस्थितियां बद से बदतर है।

कई देशों में न्यूनतम मजदूरी को लेकर आज भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। भारत जैसे देश में असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूरों की कोई नहीं सुनता है। इस आंदोलन के इतने साल बाद भी मजदूरों की स्थिति आज भी वही भरी हुई है। हालांकि 1 मई को अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस यानी इंटरनेशनल लेबर डे मनाया जाता है ताकि पूरी दुनिया के देश में काम करने वाले सभी मजदूरों के हितों की रक्षा की जा सके। लेकिन जिस तरह से पूंजीवादी व्यवस्था लाभ का बड़ा भाग अपने पास रखना चाहता है और मजदूरों के हिस्से में दो वक्त की रोटी और बेबसी ही मिलती है।

 मजदूर/श्रमिक दिवस एक जागरूकता दिवस है और इस दिन को हमारी पीढ़ियों को जानना चाहिए कि कितना लंबा संघर्ष किया गया है कि 8 घंटे काम पाने के अधिकार के लिए। हम श्रम की महत्ता को जानते हैं हर इंसान श्रमिक ही है क्योंकि बिना आश्रम के जीवन एक पल भी नहीं चल सकता है। इसलिए श्रमिक दिवस की महत्वता को जानते हुए हमें  कामगारों के लिए विशेष अधिकार और कल्याणकारी योजनाओं को गठन करने की पहल करनी चाहिए। 

जिस राष्ट्र में श्रम का सम्मान होता है, वह राष्ट्र उन्नति के शिखर पर पहुंचता है। आइए हम सभी लोग प्रण लें और उन्नत समाज के निर्माण में श्रमिकों के योगदान को भी रेखांकित करें। श्रमिक भी इंसान होते हैं और उनके उत्तम रहने खाने पीने की व्यवस्था करना हमारी परम जिम्मेदारी है हम इस जिम्मेदारी से खुद को अलग नहीं कर सकते हैं इसलिए श्रम को मान- सम्मान धन मिलना चाहिए। Shram Divas bhasahan के माध्यम से आपने लेबर डे के महत्व के बारे में जाना। यह स्पीच हिन्दी है, इसे कहीं भी आप बोलेंगे तो हर लोग समझेंगे क्योंकि हिन्दी सभी जानते हैं। Labour Day speech in Hindi present by new Gyan

धन्यवाद।

Shram Divas bhasahan के माध्यम से आपने लेबर डे के महत्व के बारे में जाना। यह स्पीच हिन्दी है, इसे कहीं भी आप बोलेंगे तो हर लोग समझेंगे क्योंकि हिन्दी सभी जानते हैं।

See also  Hindi grammar new hard questions for your latest examination 2023- 24 / हिंदी व्याकरण प्रश्न उत्तर PDF

1 मई को कौनसा दिवस मनाया जाता है?

Answer-

एक मई को मजदूर दिवस पूरी दुनिया में मनाया जाता है। अमेरिका में मजदूरी दिवस की शुरुआत 1 मई 1889 मई दिवस मनाने का प्रस्ताव किया गया था। इसके 34 साल बाद भारत में मजदूर दिवस 1 मई 1923 को मनाया जानो लगा।
भारत में मजदूर दिवस मनाने की शुरुआत चेन्नई से हुई 1 मई, 2023 को मनाया जाने लगा।

labour Day per Kavita 2024 in hindi

 हम श्रम की पूजा करते हैं। श्रमिक  है इस धरती का आधार,

 श्रम की महत्ता को सब जानते हैं,

इसीलिए आओ हम सब व्यक्त करें उनके प्रति आभार।

सड़क पुल इमारतें बनाने वाला

सच्चा मेहनतकश इंसान निराला, 

हमें देता है मेहनत की सीख।

ठंडी हो, गर्मी या बरसात श्रमिक करता जाता श्रम 

आओ मेहनतकश इन लोगों  को करें प्रणाम।

श्रमिक हमें सीख देते,

 मेहनत से कभी पीछे नहीं रहते

पहाड़ का सीना चीर रास्ता बनाया,

दशरथ मांझी ने श्रम की महत्ता बताया

आओ कर ले वंदना श्रमिक की, 

जीवन के आधार श्रम की।

नव निर्माण करता श्रमिक है,

नदियों पर बांध बनाता,

रेल पटरियां बिछाता।

श्रम की शक्ति से चलता संसार,

श्रम है हमारे जीवन का आधार,

आओ करें प्रण हम, 

श्रम की महत्ता का करें सम्मान। 

जय हो श्रम जय हो श्रमिक।

श्रम दिवस पर छोटा भाषण

श्रमिक दिवस के अवसर पर किसी कंपनी में काम करने वाले मजदूर और कामगारों के प्रति मैनेजमेंट की तरफ से किस तरह से भाषण और बधाई होनी चाहिए। इस छोटे से भाषण में उदाहरण स्वरूप यह दिया जा रहा है।

मैनेजमेंट और मजदूर कामगार के रिश्ते को व्यक्त करते हुए पूंजीवादी व्यवस्था से अलग यह भाषण दिल को छू लेने वाली है इसे जरूर आप पढ़े और सोचे कि क्या इस तरह का कोई भाषण सचमुच में सुनने को मिल सकता है?

labour Day small speech at factory company (Hindi)

संस्थान में उपस्थित सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को मेरा प्रणाम। आज श्रमिक दिवस है। ‌ यह दिन हम सभी लोगों के लिए एकजुट होकर श्रम का सम्मान करने वाला दिवस है।
सभी कामगार भाइयों को श्रम का सम्मान देने का दिन आज है। ‌ इस अवसर पर है। श्रमिक दिवस के इस कार्यक्रम में मुझे आप लोगों ने अध्यक्ष बनाया है इसके लिए बहुत-बहुत शुक्रिया धन्यवाद।

आज मुझे बोलने का अवसर आपने दिया है, इसके लिए सभी कामगार श्रमिक भाइयों बहनों के प्रति में आभार व्यक्त करता हूं। इस कंपनी को आपके श्रम के माध्यम से ही आज हम लोग सफलता के शिखर पर ले गए हैं। इस अवसर पर हम सभी कर्मचारी एक दूसरे को बधाई और शुभकामनाएं प्रकट करके श्रम की महत्ता को बढ़ा सकते हैं। क्योंकि बिना श्रम के यह जीवन एक पल भी आगे नहीं बढ़ सकता है। श्रमिक हर व्यक्ति है, जो मेहनत करता है, कामगार है, वे सभी श्रमिक है। ‌ इस फैक्ट्री में काम करने वाले सभी कर्मचारी श्रम का योगदान देते हैं, तब यह फैक्ट्री तरह तरह के उत्पाद बना पाती है और लोगों की सेवा कर पाती है।
प्यारे साथियों आप सभी के सहयोग से ही यह कंपनी बुलंदियों तक पहुंचा है। इसके लिए आप सभी के प्रति मैनेजमेंट की तरफ से आभार व्यक्त करते हैं।
श्रमिक-दिवस के पावन अवसर पर हम सभी कामगारों के वेतन की वृद्धि करने जा रहे हैं, इसके साथ ही सभी कामगार- श्रमिकों के बच्चों की पढ़ाई की व्यवस्था के लिए ट्यूशन शुल्क भी प्रदान करने जा रहे ताकि हमारे कामगार- श्रमिकों के बच्चों का भविष्य उज्जवल बन सके।
प्यारे साथियों! कर्म की महत्ता को गीता में भी महत्व दिया गया है, श्रम के महत्व को कभी हमारे देश ने नकारा नहीं है। ‌ श्रम की शक्ति से ही यह भारत देश आज विकास की राह पर सबसे ऊपर है। ‌

See also  NIOS Hindi important question answer class 12th

आप सभी कामगारों और श्रमिकों की मेहनत के बल पर ही आज यह देश से दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की ओर अपने कदम बढ़ा रहा है। ‌
मजदूर दिवस एकता जागरूकता और काम के प्रति वफादार रहने की सीख देता है।
दोस्तों हम जिस कंपनी में काम करते हैं उसका मैनेजमेंट बहुत उदार और आप सभी के हितों के लिए काम करती हैं क्योंकि वह मानती है कि आप जैसे श्रमिक और कामगार की ही बदौलत यह कंपनी चल रही है। पूरी मैनेजमेंट और अधिकारियों की टीम की तरफ से आप सभी कामगार श्रमिकों को ढेर सारी बधाई और उनके तरफ से आभार भी प्रकट कर रहे हैं कि आपके मेहनत के बल पर यह कंपनी तरक्की कर रही है इसके लिए बहुत-बहुत आभार!!

shram day speech 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिंदी में बेस्ट करियर ऑप्शन, टिप्स CBSE Board Exam tips 2024 एग्जाम की तैयारी कैसे करें, मिलेगा 99% अंक