International Day of Happiness 2024 | अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस

Last Updated on April 7, 2024 by Abhishek pandey

International Day of Happiness 2024 : 20 मार्च को मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस से इसे हिंदी में कहा जाता है। आज हम आपको प्रसन्नता दिवस happy day के बारे में पूरी जानकारी यहां दे रहे हैं।
today is important day: 2024 के आज महत्वपूर्ण दिवस 20 मार्च दिवस के तौर पर मनाया जा रहा है। The International Day of Happiness प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को आयोजित होता है।
इंटरनेशनल डे आफ हैप्पीनेस 2024 इसका हिंदी में मतलब अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस से होता है। खुश रहना जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि है।
किसी भी परिस्थिति में स्वयं को प्रसन्न रखना हैप्पी का अनुभव करना ही जीवन जीने की कला है।
भागम भाग दुनिया में आज इंसान चिंता और तनाव के चक्रव्यूह में स्वयं को फंसा लिया है। इस वजह से तरह-तरह की बीमारियों से इंसान कमजोर होता चला जा रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण तनाव है। दुनिया में 20 मार्च को The International Day of Happiness मनाया जाता है इसका उद्देश्य ही है कि लोगों में तनाव कम हो और प्रसन्नता भरा जीवन उनके जीवन में खुशियां लाएं।

क्यों मनाया जाता है International Happiness Day

इंसान के जीवन में सबसे बड़ा महत्वपूर्ण उसकी खुशी होती है। इंसान अगर खुश होता है तो वहां इस जीवन को बेहतरीन तरीके से जीता है। व्यक्तिगत खुश होने के लिए हमें अपने जीवन के तरीके को बदलना है। आधुनिक युग में इंसान मशीनों के साथ खुद एक मशीन बन गया है। ऐसे में उसकी हंसी खुशी सभी कुछ एक तरह से बनावटी हो गया है। बरहाल कुदरत से जुड़कर प्रसन्न रहने की सीख सीखना वर्षों के लिए बहुत जरूरी है। चलिए आपको बता दें कि 20 मार्च को मनाने जाने वाला प्रसन्नता दिवस की शुरुआत भूटान के हैप्पीनेस डे से हुई।

प्रसन्नता दिवस का उद्देश्य

The International Day of Happiness पूरी दुनिया में हर साल 20 मार्च को मनाया जाता है। पूरी दुनिया के लोग व्यक्तिगत रूप से खुश रहें प्रसन्न रहें इससे दिवस को मनाने का यही उद्देश्य है।

See also  Vishva Panchayat Divas विश्व पंचायत दिवस क्यों मनाया जाता है? GK

द यूनाइटेड नेशन इंटरनेशनल हैप्पीनेस डे मनाने की पहल की और उसके महत्व को समझा। इस तरह से तब से प्रसन्नता दिवस 20 मार्च को मनाया जाने लगा और इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस घोषित कर दिया। इस दिन गर्मजोशी से एक दूसरे का स्वागत करना एक दूसरे के प्रति प्रेमभाव रखना खुश रहना प्रसंता दिवस से की सबसे बड़ी सीख है।

International Day of Happiness 2024: Theme अंतर्राष्ट्रीय खुशी दिवस 2024 का थीम

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि International Day of Happiness 2023 का थीम
“Be Mindful, Be Grateful, Be Kind.” है जिसे हिन्दी में कहते हैं कि ‘सावधान रहो, आभारी रहो, दयालु बनो’।

2024 theme coming soon

International Day of Happiness का महत्व

अब हम आपको इंटरनेशनल डे ऑफ हैपनिंग के महत्व के बारे में हिंदी में बताने जा रहे हैं। अंतर्राष्ट्रीय खुशी दिवस यानी अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस जिसे अंग्रेजी में इंटरनेशनल डे आफ हैप्पीनेस कहा जाता है इसका सबसे बड़ा लक्ष्य है कि खुश रहना प्रसन्न रहना आनंद में रहना यह मनुष्य का मौलिक अधिकार है। इसके महत्व को जानकर ही इस दिवस को पूरी दुनिया में मनाया जा रहा है।
यदि इंसान चिंता दुख और क्रोध में रहेगा तो उसका कोई विकास नहीं हो सकता है इसलिए हर पल खुश रहना प्रसन्न रहना एक ऐसी स्थिति है जिसमें इंसान खुद को सबसे बेहतर बना सकता है।
कहा जाता है कि चिंता चिता के समान होती है लेकिन हम चिंता को छोड़ दे तो कई तरह की बीमारियों से भी बच जाते हैं। चिंता गलत सोच के कारण और भय के कारण उत्पन्न होता है इसलिए हमें उन नकारात्मक बातों को छोड़कर सकारात्मक पक्ष को हमेशा याद रखना चाहिए और प्रसन्न रहना चाहिए तभी हम शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकते हैं।
इसलिए प्रसन्नता दिवस यानी खुशी दिवस को मनाया जाने का सबसे बड़ा कदम इस दुनिया में माना जाता है।

यही नहीं हर मनुष्य इंसान एक दूसरे के खुशियों का ख्याल रखें तो निश्चित ही इंसान प्रसन्न रहेगा और उसके व्यवहार में सकारात्मक ऊर्जा भरी रहेगी।
खुश इंसान हर तरह की स्किल को सीख सकता है वह अपने जीवन को और भी अच्छा बना सकता है।

जबकि इसके विपरीत चिंता जीवन का विनाश करती है इसलिए प्रसन्नता दिवस से का महत्व बहुत बढ़ जाता है क्योंकि हमें खुश रहना सिखाता है। The International Day of Happiness is very important for our life.

See also  Silbatta, सिलबट्टा शब्द का हिंदी में अर्थ? सिलबट्टा क्या होता है

international Day of have happiness एक लोग से दूसरे लोग के बीच में अच्छे विचार पहुंचाता है इसके साथ एक देश दूसरे देश से बेहतरीन तरीके से जुड़ता है जहां पर किसी तरह का मतभेद नहीं होता है। खुशी से जीने वाला इंसान बहुत ही कला और रचनात्मक से भरा हुआ होता है उसके अंदर तार्किक शक्ति और जीवन को भाव रूप से समझने की क्षमता उसमें होती है। वह अपने प्रकृति पेड़ पौधे और जीव जंतु के साथ जीवन का लुफ्त उठाता है इसलिए खुश रहना जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि होती है।

दुनिया में रहने वाले अलग-अलग व्यक्तियों समुदाय और राष्ट्रों के बीच बढ़ती हुई दूरी का सबसे बड़ा कारण है कि हम केवल अपने जीवन को स्वार्थ के नजरिए से ही देखते हैं जबकि दुनिया में हर इंसान एक दूसरे का सहयोग करें और इस भावना में वह अपने जीवन की प्रसन्नता का अनुभव करें तो निश्चित ही पूरी दुनिया में शांति और सौहार्द का वातावरण बन जाएगा। इसलिए प्रसन्नता दिवस का महत्व बहुत बढ़ जाता है आज के दौर में हर दिन प्रसन्न रहने के लिए हमें प्रयास करना चाहिए और प्रसन्नता जब जीवन में आती है निश्चित ही सभी तरह का दुख क्लेश दूर हो जाता है।

happy कैसे रहे

पूरी दुनिया में मानसिक बीमारी बड़ी तेजी से बढ़ रही है ऐसे में डॉक्टर भी कहते हैं कि खुश रहना बहुत जरूरी है आज इंसान भावनात्मक रूप से बड़ा कमजोर होता चला जा रहा है कुछ पल खुश रहता है तो कुछ पल में वह दुखी हो जाता है लेकिन इसका कोई कारण समझ में नहीं आता है क्योंकि इंसान भावनाओं को नियंत्रित कर नहीं पाता है। प्रसन्न रहने के लिए हमें बहुत अधिक भावनाओं में बह ना नहीं चाहिए क्योंकि इससे दुखी होता है। किसी भी परिस्थिति में दुख को हावी नहीं होने दे बल्कि खुश रहना चाहिए और इस तरीके से आप कुछ ही समय में अपने हर कष्ट को सुख में बदल लेंगे क्योंकि आप में जीवन जीने की कला आ जाती है।

International Day of Happiness के फायदे क्या है

जब इंसान प्रसन्न रहता है तो उसमें सकारात्मक गुणों का विकास होता है। सामाजिक सेवा, स्वयं की भलाई, सभी मनुष्यों से प्रेम करना, प्रकृति और इस संसार को जीवन का अंग समझना आदि सकारात्मक गुणों का विकास उसके अंदर होता है।
इस तरह से मानव जाति एक ऐसे सकारात्मक लक्ष्य की ओर जाती है जहां पर मानव जाति का कल्याण होता है। युद्ध भय क्रोध अपराध इन सब का धीरे-धीरे विनाश होता है। ‌
इंसान एक ऐसी सभ्यता को रख सकता है जिसमें सबकुछ सत्यम शिवम सुंदरम है यह सब तभी हो सकता है जब हर मनुष्य प्रसन्न रहे।
त्याग समर्पण दया करुणा की भावना ही हमारे अंदर प्रसन्नता का संचार करती है। हंसता खेलता चेहरा हर इंसान को आकर्षित करता है।
इसके उल्टे यदि कोई डर में या क्रोध में है उसे देखना एक भयानक पीड़ा जैसी होती है। ‌ इसलिए सभी के दुखों को दूर करने के लिए खुश रहना और इस खुशी के गुणों की पहचान करके जीवन में मानव जाति के लिए भलाई का काम करना ही प्रसन्नता दिवस से का सबसे बड़ा महत्व है।

International Day of Happiness का इतिहास

अब आपको बता दें कि
International Day of Happiness कब से मनाया जाता है इसकी शुरुआत कैसे हुई? 12 जुलाई 2012 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अपने संकल्प पत्र 66/281 के जरिए 20 मार्च को International Day of Happiness‌ मनाने का फैसला लिया। इसका लक्ष्य था कि मनुष्य में खुशी और कल्याण की भावना जागरूक हो। सरकार द्वारा ऐसी सार्वजनिक नीति बनाई जाए और इसका महत्व इस बात पर केंद्रित होगी इंसान को प्रसन्न रहना बहुत जरूरी है। इन्हीं उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए अंतरराष्ट्रीय खुशी दिवस यानी
International Day of Happiness हर साल मनाया जाने लगा। चलिए आइए हम लोग भी आज से खुश रहने के महत्व को अपने जीवन अपनाकर खुशी से रहे.

See also  परीक्षा पर चर्चा प्रधानमंत्री मोदी Pariksha Pe Charcha 2024

conclusion

Through this article, we told you about the Happiness Day in Hindi language. The importance of International Happiness Day cannot be denied as it helps to keep our physical and mental life fit. पिछले कि मैं पैराग्राफ अनुच्छेद लेखन भी दिया गया है जिससे आप हैप्पीनेस डे पर पैराग्राफ लिख सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिंदी में बेस्ट करियर ऑप्शन, टिप्स CBSE Board Exam tips 2024 एग्जाम की तैयारी कैसे करें, मिलेगा 99% अंक