Nari Niketan nibandh in hindi: नारी निकेतन क्या होता है?

 Nari Niketan nibandh: (Nari Niketan kya hota hai) नारी निकेतन क्या होता है? nari niketan ,Nari Niketan kya hota hai in Hindi 2023: नारी निकेतन पर निबंध

 नारी निकेतन का मतलब क्या होता है-  नारी निकेतन ऐसी जगह जहां पर असहाय नारी रहती है।  ऐसी महिलाएं (नारी) जिनका कोई नहीं होता है  उन्हें असहाय कहा जाता है। अतः हम कह सकते हैं कि ऐसी अनाथ बालिका, तलाकशुदा, बुजुर्ग महिला जिनका कोई नहीं होता है, ऐसी नारियां जहां रहती हैं, उसे नारी निकेतन कहते हैं।  

नारी निकेतन का अर्थ

 meaning of nariniketan in hindi : नारी निकेतन दो शब्द से मिलकर बना है नारी का अर्थ महिला और निकेतन का मतलब घर ऐसी जगह जहां नारी रहती है उसे नारी निकेतन कहा जाता है। नारी निकेतन एक संस्था होती है, इस संस्था को जब सरकार या कोई एनजीओ चलाती है तो इसे नारी निकेतन संस्था कहा जाता है।

नारी निकेतन संस्था की आवश्यकता क्यों 

   हमारे समाज में नारी को दोयम दर्जे का माना जाता रहा है। केवल सिंधु सभ्यता में ही नारी को बहुत महत्व दिया गया और उन्हें यह सभी अधिकार दिए गए थे इसलिए वह सभ्यता मातृसत्तात्मक सभ्यता थी। जबकि उसके बाद जितने भी समाज हुए उनमें नारी को केवल सजावटी वस्तु की तरह ही देखा गया। Nari Niketan nibandh

कुछ धार्मिक अनुष्ठान और रीति रिवाज में नारी को महत्व दिया जाता है लेकिन वास्तविकता यह है कि नारी आज भी असहाय है, इसलिए आधुनिक समय में नारियों को सुरक्षा और संरक्षा प्रदान करने के लिए सरकार और एनजीओ द्वारा नारी निकेतन की स्थापना की गई है।

 अगर नारी असहाय नहीं होती तो नारी निकेतन जैसी संस्था की आवश्यकता नहीं होती। असल में नारी सशक्तिकरण के इस दौर में नारी बहुत तीव्र गति से आगे तरक्की की है। लेकिन आज भी पुरानी खयालात के कारण नारियों की उपेक्षा हो रही है। इसके लिए जिम्मेदार हमारे दकियानूसी खयालात है जिसमें दहेज प्रथा और बालिकाओं को समाज में बालक से कमतर मानना है।

See also  Multilingual Education and using mother tongue as a medium/ मातृभाषा में शिक्षा जरूरी क्यों जाने हिंदी में

प्राचीन काल से नारियों को कमतर माना जाता है

प्राचीन काल से ही नारी को उतना अधिकार नहीं दिया गया जितना एक पुरुष को दिया गया है। आज के दौर में तलाकशुदा, महिला, बुजुर्ग महिला, अनाथ बालिका इन सब की देखभाल करने के लिए नारी निकेतन जैसी संस्था बनाई गई है। यहां पर महिलाएं किसी भी बंधन से अलग स्वयं अपनी पढ़ाई लिखाई और कोई योग्यता हासिल कर सकती हैं।

नारी निकेतन की आवश्यकता क्यों पड़ी

समाज में नारियों के साथ  दुर्व्यवहार भी होता है। जिन महिलाओं का परिवार नहीं होता है या उन्हें की देखभाल करने वाला कोई नहीं होता है, ऐसे में इन महिलाओं को उनकी सुरक्षा के लिए नारी निकेतन में उन्हें रहने की सुविधा दी जाती है।  नारी निकेतन की स्थापना सरकार हर जिले में करती है इसके साथ ही समाज के उत्साही सामाजिक संगठन एनजीओ के माध्यम से नारी निकेतन की स्थापना करती और उसका संचालन सोसाइटी के द्वारा होता है।

नारी निकेतन संस्था कौन चलाता है?

 हर जिले में सरकार द्वारा पोषित यानी फाइनेंशियल सपोर्ट वाली नारी निकेतन संस्थाएं होती हैं। जिन महिलाओं का कोई भी नहीं होता है ऐसी महिलाओं को यहां पर रहने दिया जाता है, उन्हें छोटे-मोटे काम और कुशलता सिखाई जाती है ताकि वह अपने खर्चे स्वयं उठा सके। नारी निकेतन में रहने वाली महिलाएं खुद को स्वालंबन भी बना रही है और कई सहायता समूह के साथ काम करके तरक्की भी कर रही है।  नारी निकेतन में रहने वाली बालिकाओं का विवाह 18 साल होने के बाद किया जाता है। राज सरकार या संस्था द्वारा सामूहिक विवाह का आयोजन कराया जाता है। विधवा और तलाकशुदा महिलाओं का भी पुनर्विवाह इस संस्था द्वारा कराया जाता है ताकि उनका पारिवारिक जीवन फिर से बस सके।

See also  Google Scholarship 2023 : ₹80000 का स्कॉलरशिप गूगल दे रहा है, online application form

Nari Niketan kya hota hai नारी निकेतन क्या होता है? nari niketan

Shram Divas per bhashan in Hindi

Shram Divas Labour Day

Leave a Comment