CBSE Board Class 10 Education Hindi MCQ

नेताजी का चश्मा पाठ 10 हिंदी/ MCQ-QUESTION CBSE BOARD. New Examination Pattern-2022

 नेताजी का चश्मा पाठ  10 हिंदी/ MCQ-QUESTION CBSE BOARD. New Examination Pattern-2022 

Neta jee ka chashma lesson hindi class 10 mcq cbse board new examination pattern 2022  CBSE


CBSE BOARD बहुविकल्पी प्रश्न. Cbseb board

 Netajee-Ka-Chashma-path-class-10-Hindi-MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2022 
नेताजी का चश्मा पाठ  10 हिंदी. MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2022 

Neta jee ka chashma lesson: hindi class 10 mcq, cbse board new examination pattern 2023  CBSE 

CBSE 2022-23 नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार इस बार हिंदी अ पाठ्यक्रम में पेपर 80 अंकों का होगा और यह तीन खंडों में है। प्रश्नपत्र 3 घंटे में लिखना  है। अ, ब और स खंड है। हिंदी के प्रश्न पत्र में कुल 40 Mcq  और इसके साथ ही वर्णनात्मक लिखने वाले भी क्वेश्चन 40 नंबर के प्रश्न पूछे जाएंगे। इस तरह से कुल 80 अंकों का पूरा प्रश्न पत्र हिंदी का होगा। इस सीरीज में आज हम नेताजी का चश्मा पाठ का MCQ  प्रश्न दे रहे हैं।


 Netajee-Ka-Chashma-path-class-10-Hindi-MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2022 

निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्पों पर टिक ​लगाइए—

1. नेताजी का चश्मा पाठ किसने लिखा है?

i स्वयं प्रकाश

ii रामववृक्ष बेनीपुरी

iii सालिम अली

iv फादर कामिल बुल्के


2. नेताजी की प्रतिमा चौराहे पर किसने लगवाई थी?

i कैप्टन चश्मेवाले ने

ii नगरपालिका के प्रशासनिक अधिकारी ने

iii हालदार साहब ने

iv मास्टर ने


उत्तर— नगरपालिका के प्रशासनिक अधिकारी ने


3. कैप्टन किसे बुलाते थे?

i हालदार साहब को

ii पानवाले को

iii चश्मेवाले को

iv मास्टर को


उत्तर—iii चश्मेवाले को


4. हालदार साहब को क्या आदत थी?

i पान खाना और मूर्ति को देखना

ii टहलना और घूमना

ii चाय पीना और लोग से बात करना।

iv उपरोक्त में से कोई विकल्प सही नहीं है।

MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2022 

उत्तर— पान खाना और मूर्ति को देखना


5. सेनानी न होते हुए भी लोग चश्मेवाले को कैप्टन क्यों कहते थे?

i उसका नाम कैप्टन था

ii उसने आजादी की लड़ाई में भाग लिया था

iii उसके अंदर देशभक्ति का जज्बा था

iv उपरोक्त में से कोई विकल्प सही नहीं है।


उत्तर—उसके अंदर देशभक्ति का जज्बा था।


6.  नेताजी की मूर्ति पर सरकंडे का लगा हुआ चश्मा क्या उम्मीद जगाता है?

i आज भी नयी पीढ़ी में देशभक्ति का जज्बा है

ii कैप्टन चश्मावाला अभी जिंदा है

iii लोग के मन देशभक्ति का जज्बा खत्म हो चुका है

iv उपरोक्त विकल्प में से कोई नहीं।


उत्तर—आज भी नयी पीढ़ी में देशभक्ति का जज्बा है


7. नेताजी की मूर्ति पर चश्मा कौन बदलता था?

i. हालदार साहब

ii. कैप्टन

iii. मूर्तिकार मास्टर

iv. पानवाला


उत्तर—कैप्टन


8. हालदार साहब किस सिलसिले में उस कस्बे से गुजरते थे?

i. सामान लेने के लिए

ii. कंपनी के काम से और मूर्ति देखने के लिए

iii. अपने मित्र चश्मे वाले से मिलने के लिए

iv. पान खाने के लिए।


उत्तर—ii.  कंपनी के काम से और मूर्ति देखने के लिए

9. हालदार साहब को उस कस्बे में किस कौतूहल के कारण जाते थे?

i. वे देखने जाते थे कि नेता जी की आंखों पर कैसा चश्मा लगा है।

ii. वे पानवाले से बात करने जाते थे।

iii. वहां उनका घर था

iv. उपरोक्त विकल्प में से काई नहीं।

cbse Board hindi multiple choice Questions and Answers mcq

उत्तर—हालदार साहब कंपनी के काम से उस कस्बे से गुजरते थे। वे देखने जाते थे कि नेता जी की आंखों पर कौन सा चश्मा लगा है। वे पान खाने के भी शौकीन थे। हालदार साहब जब उस कस्बे के चौराहे पर लगी नेता सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा को देखते और उस पर रोज चश्मे के फ्रेम को बदलना देखते तो वे आश्चर्यचकित हो जाते थे। 

उनकी जिज्ञासा थी कि मूर्ति पर चश्मा कौन बदलता है। तब उन्हें पता चलता है कि कैप्टन चश्मेवाला चश्मे का फ्रेम बदलता था। 

लेकिन जब चश्मे वाला कैप्टन मर गया तो उस मूर्ति पर कई दिनों तक किसी भी तरह का चश्मा नहीं था। अचानक एक दिन हालदार साहब ने देखा कि मूर्ति पर सरकंडे का चश्मा लगा हुआ है और यह उम्मीद दिलाती है कि हमारे आने वाली पीढ़ी के मन में देशभक्ति की भावना अभी भी जिंदा है।


10. हालदार साहब ने ऐसा क्यों कहा कि चौराहे पर रुकना नहीं, आज बहुत काम है, पान आगे कहीं खा लेंगे?

i. इसलिए कहा क्योंकि अब उस कस्बे में उनका काम नहीं था।

ii. नेताजी की बगैर चश्मेवाली मूर्ति देखकर उनको दुख होता था।

iii. चौराहे का पानवाला सही पान नहीं देता था।

iv. उपरोक्त् में कोई विकल्प सही नहीं है।

उत्तर—ii. नेताजी की बगैर चश्मेवाली मूर्ति देखकर उनको दुख होता था।

11. हालदार साहब क्यों दुखी हो गए?

i. नेताजी की मूर्ति को देखकर

ii. पानवाले को देखकर

iii. दुनिया के स्वार्थी स्वभाव पर

iv. उपरोक्त में कोई विकल्प सही नहीं है।

उत्तर- iii. दुनिया के स्वार्थी स्वभाव पर


12.  नेताजी का चश्मा पाठ में पानवाला किस तरह का व्यक्ति था?

i. पानवाला एक मोटा, हंसमुख और खुशमिजाज व्यक्ति था।

 ii. पानवाला तुनकमिजाज और चिड़चिड़ा स्वभाव का व्यक्ति था।

iii. पान वाला मोटा और बातूनी व्यक्ति था।

iv.  पानवाला भावुक और सबकी मदद करने वाला व्यक्ति था।

 उत्तर- i. . पानवाला एक मोटा, हंसमुख और खुशमिजाज व्यक्ति था।

13. नेता जी के पाठ की कहानी में जब हालदार साहब ने कैप्टन के बारे में जानना चाहा तो पानवाले ने कैप्टन चश्मेवाले के बारे में क्या कहा?

i. पागल

ii.  देशभक्त

iii.  फेरी लगानेवाला

iv. अच्छा आदमी

उत्तर- i. पागल

14. नेताजी का चश्मा पाठ में नेताजी की प्रतिमा किस चीज की बनी थी? 

i. काले पत्थर 

ii. ग्रेनाइट पत्थर

iii. मोम 

iv संगमरमर के पत्थर 

 उत्तर- iv संगमरमर के पत्थर 

15. नेता जी की मूर्ति किसने बनाई थी? 

i. हालदार साहब

ii. कैप्टन 

iii. चश्मेवाला 

iv. ड्राइंग मास्टर

 उत्तर- iv. ड्राइंग मास्टर, mcq new.

16. नेता सुभाष चंद्र की मूर्ति पर सरकंडे का चश्मा किस लिए लगाया होगा?

i. हालदार साहब ने

ii. पान वाले ने

iii किसी बच्चे ने

iv. वहां के लोगों ने

jndesh Lekan Hindi CBSE board class 10, new syllabus

Multiple Choice Question Answer New Pattern पाठ सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ chapter बहुविकल्पी प्रश्न उत्साह और अट नहीं रही है, Hindi class 10 CBSE board

       Copy Right 2022 newgyan.com

 पठन सामग्री केवल पढ़ने के लिए है किसी भी तरह का प्रकाशन और कॉपी करने की अनुमति नहीं है।

About the author

admin

नमस्कार दोस्तो!
New Gyan हिंदी भाषा में शैक्षणिक और सूचनात्मक विषयवस्तु (Educational and Informative content) के साथ ज्ञान की बातें बतलाता है। हिंदी-भाषा में पढ़ाई-लिखाई, ज्ञान-विज्ञान, साहित्य, तकनीक आदि newgyan website नया ज्ञान आपको बताता है। इंटरनेट जगत में यह उभरती हुई हिंदी की वेबसाइट है। हिंदी भाषा से संबंधित शैक्षिक (Educational) साहित्य (literature) ज्ञान, विज्ञान, तकनीक, सूचना इत्यादि नया ज्ञान, new update, नया तरीका बहुत ही सरल सहज ढंग से प्रस्तुत करते हैं।
ब्लॉग के संस्थापक Founder of New gyan
अभिषेक कांत पांडेय- शिक्षक, लेखक- पत्रकार, ब्लॉग राइटर, हिंदी विषय -विशेषज्ञ के रूप में 15 साल से अधिक का अनुभव है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट पर विभिन्न विषय पर लेख प्रकाशित होते रहे हैं।
शैक्षिक योग्यता- इलाहाबाद विश्वविद्यालय से फिलासफी, इकोनॉमिक्स और हिस्ट्री में स्नातक। हिंदी भाषा से एम० ए० की डिग्री। (MJMC, BEd, CTET, BA Sanskrit)
प्रोफेशनल योग्यता-
इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पत्रकारिता मे डिप्लोमा की डिग्री, मास्टर आफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, B.Ed की डिग्री।
उपलब्धि-
प्रतिलिपि कविता सम्मान
Trail social media platform writing competition winner.
प्रतिष्ठित अखबार में सहयोगी फीचर संपादक।
करियर पेज संपादक, न्यू इंडिया प्रहर मैगजीन समाचार संपादक।

14 Comments

Leave a Comment