पत्र लेखन, सीबीएसई बोर्ड हिंदी पत्र लेखन | letter writing in Hindi for examination

letter writing in Hindi new subject aur CBSE board in Hindi paper practice set for examination 2024 class 10th पांच अंको का हिंदी में पत्र लेखन कक्षा दसवीं सीबीएसई बोर्ड, औपचारिक अनौपचारिक पत्र लेखन के उदाहरण पत्र कैसे लिखें जानकारी।

Table of Contents

Hindi Patra lekhan ke udaharan हिंदी पत्र लेखन

सीबीएसई बोर्ड परीक्षा (Cbse board examination) की कक्षा दसवीं की हिंदी की तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स के लिए यहां पांच अंकों के पत्र लेखन लिखने की कला सिखाई जा रही है। इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक पढ़ें और विभिन्न प्रकार के पत्र लेखन जो आपकी परीक्षा है, class 10th में अक्सर पूछा जाता है। उनके बारे में आज जानकारी दी गई है- यह एक प्रैक्टिस सेट पेपर की तरह है जो आपकी परीक्षा के लिए काफी मददगार होगा।‌
practice set later writing in Hindi for class 10th examination CBSE board UP Board

See also  CBSE Class 10 Hindi examination practice (Live study FAQ)

पत्र लेखन क्या है?

स्टूडेंट सबसे पहले आपको जानकारी दे दें कि पत्र लेखन आज के दौर में बहुत अहम है, भले ही आज इंटरनेट मोबाइल का जमाना है। लेकिन पत्र लेखन परीक्षा में पूछा जाता है जिसे पत्र लेखन लिखना आ जाता है, वह ईमेल राइटिंग भी अच्छे से कर सकता है। ‌

इसके साथ ही अपनी बात अच्छे से वह व्यक्त कर सकता है।
हम आपको बताने जा रहे हैं कि पत्र लेखन क्या है, आपकी परीक्षा सीबीएसई बोर्ड क्लास 10th और दूसरे बोर्ड के पेपर के अनुसार पत्र के माध्यम से अपनी बात लिखकर व्यक्ति तक पहुंचाई जाती है।

पत्र के प्रकार kind of letter

सीबीएसई बोर्ड क्लास 10th क्लास 9th पत्र लिखना पूछा जाता है. अनौपचारिक पत्र और दूसरा औपचारिक पत्र।

अनौपचारिक पत्र

अनौपचारिक पत्र को अंग्रेजी में informal letter कहां जाता है या एक ऐसा पत्र होता है जो अपने मित्रों रिश्तेदारों, सगे संबंधियों को लिखा जाते हैं। इस पत्र लेखन के माध्यम से व्यक्ति अपने भाव और विचारों को प्रकट करता है उन व्यक्तियों के साथ जो उनके सगे संबंधी होते हैं रिश्तेदार होते हैं या मित्र होते हैं।

अनौपचारिक पत्र लेखन के प्रारूप

informal letter format अनौपचारिक पत्र को व्यक्तिगत पत्र भी कहते हैं. इसका फार्मेट निम्नलिखित है।

  • सबसे पहले लिखनेवाले का पता
  • तिथि
  • संबोधन
  • अभिवादन
  • विषय वस्तु
  • समापन और हस्ताक्षर

अनौपचारिक पत्र का प्रारूप उदाहरण the example of informal letter

मित्र को अपना हाल-चाल बताते हुए एक पत्र का उदाहरण यहां हम बता रहे हैं-

129, विकास कालोनी, वाराणसी।‌

प्रिय मित्र प्रकाश, (अभिवादन)

मित्र प्रकाश, यहां सब कुशल है।‌ आशा करता हूं कि तुम भी कुशल होगे। पिछले हफ्ते तुम्हारा पत्र प्राप्त हुआ है।‌ तुम्हारे पत्र से यह जानकारी मिली कि तुम्हारी वार्षिक परीक्षा शुरू होने वाली है, जिसकी तुम तैयारी कर रहे हो। परीक्षा में अच्छे अंक आए, इसके लिए मेरी तरफ से बहुत-बहुत शुभकामनाएं।
इस बार अवकाश में घर आना होगा तो मुझसे जरूर मिलना, हम परिवार के लोग गर्मियों की छुट्टी में घूमने की योजना बना रहे हैं। मेरे माता-पिता चाहते हैं कि इस गर्मी की छुट्टी में तुम भी हमारे साथ घूमने के लिए जरूर चलो।
तुम जब से हॉस्टल में पढ़ने के लिए गए हो। हम लोग सभी तुम्हें बहुत याद करते हैं,। इस बार घर आने पर हम लोग ढेर सारी बातें करेंगे और खूब घूमेंगे। तब तक मेरी परीक्षा और तुम्हारी भी परीक्षा समाप्त हो चुकी होगी। गर्मियों की छुट्टी में हम लोग खूब आनंद करेंगे।

See also  MCQ Apathit gadyansh cbse board class 10th hindi

तुम्हारे पत्र के इंतजार में , तुम्हारा मित्र
आशीष!

अनौपचारिक पत्र संबोधन letter writing in Hindi

अपने से बड़ों के लिए जैसे माता-पिता गुरुजन के लिए संबोधन के रूप में पूज्य, पूजनीय, वंदनीय इत्यादि से शुरू किया जाता है। जैसे पूज्य पिताजी पूज्य माताजी पूजनीय गुरुजन

बड़ों के लिए अभिवादन पत्र में कैसे किया जाता है??

बड़ों के लिए अभिवादन पत्र लेखन में सादर प्रणाम चरण स्पर्श नमस्कार आदि का प्रयोग किया जाता है।

बड़ों के लिए पत्र का समापन आपका आज्ञाकारी, स्नेहाभिलाषी, शुभचिंतक आदि शब्द का प्रयोग किया जाता है।

अपने से छोटे के लिए पत्र का संबोधन अभिवादन समापन कैसे किया जाता है?

यदि अपने छोटे भाई बहन को पत्र लिख रहे हैं तो इसके लिए प्रिय शब्द का प्रयोग कर सकते हैं। अभिवादन के लिए शुभ आशीर्वाद, स्नेह आदि शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं। पत्र का समापन आप हितैषी शुभचिंतक दर्शन अभिलाषी शब्दों से कर सकते हैं।

मित्र को पत्र लिखते समय संबोधन अभिवादन और समापन वाले शब्द कौन से हैं?

जब आप मित्र को पत्र लिखते तो संबोधन में प्रियवर या प्रिय मित्र शब्द का प्रयोग कर सकते हैं। अभिवादन में स्नेह, और पत्र के समापन में तुम्हारा अभिन्न मित्र।

औपचारिक पत्र

फॉर्मल लेटर अंग्रेजी में औपचारिक पत्र को कहा जाता है। यह पत्र संस्था के व्यक्तियों, कार्यालय के प्रमुख प्रकाशक, कंपनी. व्यापारी आदि को लिखा जाता है। औपचारिक पत्र में सूचना महत्वपूर्ण होती है। इन पत्रों के प्रारूप के बारे में जानकारी नीचे दी जा रही है।

औपचारिक पत्र के प्रारूप

  • सबसे पहले भेजने वाले का नाम पता
  • जिसे पत्र लिख रहे हैं उसे अधिकारी की उपाधि और पता
  • संबोधन
  • पत्र की विषय वस्तु।
  • समापन हस्ताक्षर
See also  kanyadan summary in hindi

औपचारिक पत्र संबोधन कैसे लिखा जाता है?

जिसे पत्र लिखा जा रहा है, उस अधिकारी का संबोधन निम्नलिखित अनुसार हो सकता है।
अध्यक्ष/ संपादक प्रधानाचार्य /पोस्टमास्टर/ प्रबंधक इत्यादि शब्दों का प्रयोग किया जा सकता है।

औपचारिक पत्र में अभिवादन के लिए कौन से शब्द का प्रयोग किया जाता है?

हिंदी में औपचारिक पत्र letter writing in Hindi के लिए अभिवादन के लिए माननीय महोदय / श्रीमान / माननीय आदि शब्दों का प्रयोग करते हैं।

हिंदी में औपचारिक पत्र का समापन कैसे किया जाता है?

भवदीय, भवदीया, प्रार्थी / निवेदक आदि शब्दों का प्रयोग करते हैं।

औपचारिक पत्र का उदाहरण और प्रारूप

विद्यालय के प्रधानाचार्य को एक पत्र लिखिए इस विषय पर की पुस्तकालय में हिंदी की पत्रिका मंगाई जाए।

सेवा में,
प्रधानाचार्य
न्यू ज्ञान पब्लिक स्कूल
मुंबई।

विषय: पुस्तकालय में हिंदी पत्रिका मंगवाने के लिए प्रार्थना पत्र

महोदय,
सविनय निवेदन है कि हमारे स्कूल में कई तरह की सुविधाएं हैं, जिसमें पुस्तकालय की सुविधा हम विद्यार्थियों के लिए उत्तम पुस्तक उपलब्ध कराती हैं।
आपको इस बात से अवगत कराना चाहते हैं कि अंग्रेजी भाषा की पुस्तकें पर्याप्त हैं लेकिन पुस्तकालय में हिंदी भाषा की पुस्तक बहुत ही कम हैं। हिंदी की बढ़ती हुई उपयोगिता को ध्यान में रखकर हिंदी विषय की कहानियों और अन्य विषयों की हिंदी में पत्र-पत्रिका उपलब्ध कराने की कृपा करें। इसके लिए हम सभी विद्यार्थी आपके आभारी रहेंगे।

भवदीय/ आज्ञाकारी
समस्त दसवीं ‘अ’ के छात्रगण
दिनांक:

Leave a Comment