मेंटर बनने की क्वालिटी सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मेंटर बनने की क्वालिटी

 मेंटर  बनने की क्वालिटी

एक अच्छा मेंटर यानी सलाहकार कौन है?

टीचर मेंटर कैसे बन सकता है?

मेंटर बनने के गुण

Qualities to become a mentor In hindi language.

 स्कूल और  समाज में मेंटर की भूमिका 

Mentor कैसे बने न्यू ज्ञान


The important role of mentor in our society read in Hindi, पथ प्रदर्शक  कौन होता है?




Mentor meaning


an experienced person who advises and helps somebody with less experience over a period of time

अनुभवी परामर्शदाता (कम अनुभवी व्यक्ति के लिए) 

Mentor  का मतलब होता है- गुरु।  गुरु सही दिशा बताने वाला व्यक्ति जो किसी की समस्या का समाधान करता है और उसे जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है। सलाह देता है।  उसका गाइडेंस करता है  वह मेंटर कहलाता है। आज के समय में टीचर को Mentor होना चाहिए।  एक अच्छा मेंटर बनने के लिए क्या-क्या गुण होने चाहिए और किस तरह की सोच होना चाहिए इस लेख में बताया गया है एक टीचर भी मेंटल बन सकता है एक टीचर को Mentor होना चाहिए ताकि बच्चों को सही गाइडेंस दे सके। नई एजुकेशन सिस्टम यानी कि न्यू एजुकेशन पॉलिसी 2020 टीचर को Mentor की तरह बनना होगा।


टीचर मेंटर कैसे बन सकता है? जानें
 सक्सेसफुल Mentor कैसे बने?



सफल Mentor बनने के लिए  लिंग, जाति, धर्म,  वर्ग के भेदभाव से ऊपर उठकर राष्ट्र एवं समाज के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध बनूंगा। मेंटर का मतलब सलाहकार होता है। एक सच्चा सलाहकार (मेंटर) ही  छात्र के साथ न्याय करता है। उसे जीवनपथ पर सही दिशा बिना भेदभाव के देता है। एक मेंटर के लिए सबसे बड़ी बात है कि वह स्वयं को भेदभाव (discrimination) से दूर रखें।  इसलिए मुझे इन बातों का सबसे पहले ध्यान रखना होगा फिर उसके बाद सत्यता और ईमानदारी की कसौटी में स्वयं को आंकना भी होगा तभी हम बिना स्वार्थ के एक अच्छा मेंटर बन सकते हैं।




 Mentor कैसे बन सकते हैं?

मेंटर पथप्रदर्शक होता है। रास्ता दिखानेवाला होता है इसलिए जब किसी को आवश्यकता हो तो उसके सामने तुरंत उपस्थित होकर उसकी समस्याओं का समाधान करने की भावना होना चाहिए इसलिए एक 


Mentor

 बनने के लिए मुझे समाज और देश के प्रति अपनी नैतिक जिम्मेदारी उठाने के लिए हमेशा तत्पर होना चाहिए इसलिए इस दिशा में एक  मेंटर  को पहले से सोच लेना चाहिए।



Mentor में कौन-कौन से गुण होते हैं?

कथनी और करनी में अंतर नहीं होना चाहिए


अगर हम अपनी कथनी और करनी में अंतर रखेंगे  तो कोई भी हम पर विश्वास नहीं करेगा इसलिए  एक मेंटर सामाजिक और व्यवसायिक रूप से नैतिक मूल्यों को मानने वाला और अनुशासन वाला होना चाहिए।


एक मेंटर बनने के लिए Teacher को हमेशा ज्ञान को प्राप्त करने के लिए तत्पर रहना चाहिए। अपने छात्रों के लिए उनके पथप्रदर्शक के रूप में तब मैं कामयाब हो सकता  हूँ जब शिक्षा और सामाजिकता से संबंधित जानकारियों को मैं हासिल करता रहूँ। जिस तरह ठहरा पानी खराब हो जाता है, उसी तरह से  नए ज्ञान से स्वयं को अधतन( अपडेट)  न करने वाला व्यक्ति उस ठहरे पानी की तरह हो जाता है।  इसलिए मुझे इन चार बातों का ध्यान रखना है-

1.सामाजिकता- नैतिकता का दायित्व
2.छात्रों के प्रति अपनी जिम्मेदारी
3.शिक्षा के साथ आनेवाले जीवन में कठिनाइयों के बारे में  छात्रों को अवगत कराना
(जीवन की कठिनाइयों  के बारे में  एक सर्जक (creator) मेंटर इस बात को बेहतर तरीके से अपने अनुभव द्वारा छात्रों को अवगत करा सकता है।)
 4.ज्ञान का परिमार्जन करना। 


एक Mentor  की सोच (Thinking)

एक छात्र जीवन के अनुभव से बहुत कुछ सीखता है लेकिन उसकी समस्याओं का  सही समाधान एक आदर्श मेंटर के पास होता है। 


  • एक अच्छा मेंटर बनने के लिए बच्चों को प्रेरित करना चाहिए।
  • छात्रों का उत्साहवर्धन करना, 
  • उनका सम्मान चाहिए।
  • छात्रों के व्यक्तित्व और उनके सोच को समझना और परिमार्जित चाहिए।
  • छात्रों को देश और समाज के प्रति नैतिक मूल्यों के साथ जोड़ना समाज की वास्तविकता से परिचित कराना चाहिए।
  •  महापुरुषों के जीवन के कठिन अनुभवों  को साझा करना और उनकी सफलता की कहानी से बच्चों के अंदर समस्या से लड़ने और जूझने की मानसिक शक्ति का विकास करना चाहिए।
  •  पारिवारिक दायित्व के अलावा सामाजिक दायित्व को पूरा करने के लिए उन्हें अपने पेशे के प्रति मूल्यवान विचारक बनाना ताकि भविष्य में भी किसी भी व्यवसाय (प्रोफेशन) में जाए तो  वहाँ पर क्रांतिकारी फैसले लेकर समाज और देश को विषम परिस्थितियों से निकालकर एक अच्छे राष्ट्र की कल्पना साकार कर सके, 

  • एक मेंटर बहुत कुछ बदल सकता है,  संसार को गरीबी, भूखमरी, हिंसा, अपराध, युद्ध,  महामारी के दलदल से निकाल सकता है। क्योंकि  सैकड़ों मेंटर्स  लाखों लोगों की जिंदगी बदल सकता है। 

स्कूल में टीचर का रोल mentor की तरह 

 छात्रों के दोस्त बने

एक सफल मेंटर पूरी सोसाइटी को बदल देता है

 एक अच्छा सलाहकार छात्र का जीवन बना देता है

 आप शिक्षक हैं तो मेंटर भी बनिए

 

एक सफल शिक्षक बालक के भविष्य को संवार सकता है लेकिन एक सफल Mentor बालक के पूरे जीवन को एक नई दिशा में ले जा सकता है और उससे प्रभावित होने वाले और लोगों के जीवन को भी बदल सकता है।

विद्यालय (School Education) में सामूहिक रूप से मेंटरिंग का वातावरण बनाने के लिए सुझाव हैं-

  अगर बदलाव चाहिए तो स्वयं से शुरुआत करना होगा इसलिए विद्यालय में स्वस्थ वातावरण के लिए अनुशासन स्वयं से शुरू होगा और बच्चे उनका अनुसरण करेंगे।


बच्चों को प्रेरित करना

 कक्षा के दौरान बच्चों को प्रेरित करना उनके व्यक्तित्व और उनकी सोच को सम्मान देना।


 महापुरुषोंं के बाारे में बताना


महापुरुषों की जन्मदिवस पर उनके विचारों और समाज में दिए गए उनके योगदान के बारे में चर्चा करना, बच्चों के विचारों को सुनना ताकि उनमें विश्लेषण की क्षमता की कुशलता पैदा हो सके। 

सही मूल्यांकन करना


 एक अच्छा मेंटर एक अच्छा मूल्यांकनकर्ता (Evaluator) भी होता है।  अंको की भागम-भाग जीवन से अलग पढ़ाई को आत्मसात करना भी जरूरी है। यानी विषय की कुशलता को व्यावहारिक और सैद्धांतिक (Practical and theoretical skills) रूप से प्राप्त करना जरूरी है। इसलिए एक अच्छा मेंटर बालक का मूल्यांकन (Evaluation)  विस्तृत रूप से करता है। ताकि अपेक्षित सुधार किया जा सके।


रोचक तरीके से पढ़ाना


 शिक्षाविदों ने भी कहा है कि कि रटने की प्रवृत्ति सही शिक्षा नहीं होती है,  इस आधार पर केवल अंकों के आधार पर मूल्यांकन  एक सीमा तक ही सही है।

कक्षा के दौरान बच्चे को पढ़ाते समय उदाहरणों का सबसे बड़ा योगदान होता है बच्चों की समझ को बढ़ाने के लिए इसलिए उदाहरणों और उन अनुभवों के आधार पर बच्चों को समझाना जो उनके आसपास हैं।   इससे बच्चा रुचि लेता है और उदाहरण को समझता है। इन उदाहरणों से विश्लेषण करके आपसे प्रति प्रश्न पूछता है,  जिससे उनका सर्वांगीण विकास होता है।

नैतिकता और श्य गुणवत्ता युक्त कुशलता और ज्ञान वाला नागरिक बनाना होता है। आदर्श की स्थापना से ही  हम नैतिकता और स्वानुशासन  सीखते हैं। इसलिए स्कूलों में उच्च आदर्श की स्थापना आवश्यक है। 


नैतिकता अनुशासन की शिक्षा


किताबी बातों के आदर्श को समाज में स्थापित नहीं कर पाते हैं तो यह एक शिक्षक के रूप में सबसे बड़ी कमी होगी। क्योंकि आदर्शमुखी समाज की स्थापना स्कूलों पढ़ रहे बच्चों के माध्यम से समाज में होता है इसलिए स्कूलों के वातावरण में ज्ञानार्जन के साथ कुशलता, नैतिकता, आदर्श और अनुशासन की सीख होनी चाहिए। 


एक्टिविटी कराके पढ़ाना

 इसलिए एक शिक्षक और मेंटर होने के नाते अपने विषयों के साहित्य से (Subject Content) क्रियाकलापों  (Activities) द्वारा आदर्शमुखी समाज (Ideal society) निर्मित के लिए बच्चों को सिखाना- समझाना प्रेरित करना  जरूरी है।  इसके लिए  शिक्षण अभिरुचि, शिक्षण-विधि, ऑनलाइन शिक्षा,  समूह-परिचर्चा, वाद-विवाद प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता, निबंध प्रतियोगिता, साफ- सफाई अभियान, जैसे तरीकों से बच्चों में कुशलता के साथ आदर्श की स्थापना किया जा सकता है।


व्यावसायिक दक्षता बढ़ाना


छात्रों को योग्यता के अनुसार उनमें व्यवसाय शिक्षा के लिए उन्हें प्रेरित करना ताकि उन्हें आने वाले भविष्य में रोजगार की समस्या न हो।  इसके लिए  व्यवसाय और अपने क्षेत्र में कामयाब व्यक्तित्व से ऑनलाइन बातचीत कराना भी शामिल है ताकि बच्चे प्रेरित हो सकें और अपने प्रश्न उनसे पूछ सके यह एक वास्तविक सीखने की प्रक्रिया होगी जो हमें व्यवसायिक कुशलता की ओर भी ले जाएगी।


गरीबी हमारे यहाँ एक समस्या है।  संसाधन की कमी किसी बच्चे की शिक्षा में अवरोध न बने इसलिए अपने समाज और विद्यालय में ऐसे बच्चों को चिह्नित करके उन्हें शिक्षित करने का दायित्व  मेंटर को निभाना चाहिए। इसके लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी होनी चाहिए और ऐसे बच्चों को लाभान्वित करने के लिए पहल भी करनी चाहिए। 


 चाहे कितना भी हम डिजिटल हो जाए लेकिन पुस्तक हमारे दोस्त हैं।  एक शिक्षक और मेंटर को अपने विषयों की अच्छी पुस्तकों के बारे में जानकारी होना चाहिए और साथ में उसे लिखना भी चाहिए ताकि आने वाली पीढ़ी उनके ज्ञान को भी प्राप्त कर सके।


विशेषज्ञ टीम बनवाना


 विद्यालय में विषय विशेषज्ञों की एक टीम होनी चाहिए जो  शिक्षा से लेकर खेल तक की गतिविधियों को नए ज्ञान (newgyan) के साथ जोड़ने के लिए तैयार रहे और बच्चों को उसे अवगत कराता रहता कि बच्चे अपडेट रहे।




(Education  system एजुकेशन सिस्टम को सुधारने के लिए आप अपने विचार हमें बताएं।)


 


लेखक अभिषेक कांत पांडेय शिक्षा,  पत्रकारिता और जनसंचार से जुड़े हैं।  सामाजिक, राजनीतिक, शैक्षिक, आध्यात्मिक लेखन कार्यों में सक्रिय हैं।


 कॉपीराइट 2020-21





टिप्पणियाँ

Popular Article

लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHS LEKHAN

'लघु-कथा' CBSE BOARD CLASS 9 NEW SYLLABUS LAGHU KATHA LEKHAN  लघु और कथा शब्द से मिलकर बना हुआ है। लघु का अर्थ होता है- छोटा और कथा का अर्थ होता है-कहानी।   इस तरह लघुकथा का अर्थ हुआ कि 'छोटी कहानी'। छात्रों हिंदी साहित्य को दो भागों में बाँटा गया है, पहला गद्य साहित्य और दूसरा काव्य साहित्य।  गद्य साहित्य के अंतर्गत कहानी, नाटक, उपन्यास, जीवनी, आत्मकथा विधाएँ आती हैं। इसी में लघु-कथा विधा भी 'गद्य साहित्य' का एक हिस्सा है। कहानी उपन्यास के बाद यह विधा सर्वाधिक प्रचलित भी है। आधुनिक समय में इंसानों के पास समय का अभाव होने लगा और वे कम समय में साहित्य पढ़ना चाहते थे तो  'लघु-कथा' का जन्म हुआ। लघु कथा की परंपरा हमारे संस्कृति में 'पंचतंत्र' और 'हितोपदेश' की छोटी कहानियों  से भी  रही है। इन कहानियों को लघु-कथा भी कह सकते हैं। आपने भी छोटी-छोटी लघु कहानियाँ अपने बड़ों से जरूर सुनी होगी।  'पंचतंत्र' में इस तरह की लघु-कथाओं में जीव-जंतु यानी जानवरों और पक्षियों के माध्यम से मनुष्य को नीति की शिक्षा या

MCQ Balgobin Bhagat CBSE Class 10

  MCQ Balgobin Bhagat CBSE Class 10  बालगोबिन भगत पाठ, लेखक रामवृक्ष बेनीपुरी क्षितिज भाग- 2 बुक से MCQ Balgobin Bhagat, CBSE Class 10  CBSE 2020-21 नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार इस बार हिन्दी अ पाठ्यक्रम में पेपर में दो खंड होंगे। अ और ब खंड हैं। इग्जामिनेशन में 40 अंक के 40 MCQ क्यूश्चन ( questions) पूछा जाएगा।    सीरीज में MCQ Balgobin Bhaghat CBSE Class 10  MCQ दे रहे हैं। कक्षा 10 क्षितिज भाग 2 book kshitij   से Balgobin Bhaghat  MCQ  CBSE Class 10  पर बहुविकल्पी MCQs प्रश्न दे रहे हैं। Class 10 Hindi Class YouTube Channel Link    निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्पों पर टिक ​लगाइए —  1 भगत जी कौन-सा काम करते थे? i खेतीबारी ii नौकरी iii भजन गाते ​थे iv व्यापार करते थे उत्तर—i  खेतीबारी 2 बालगोबिन भगत किसको साहब कहते थे? i भगवान ii कबीर iii जमींदार iv मुखिया उत्तर—ii कबीर 3. बालगोबिन भगत साहब के दरबार में फसल ले जाते थे। यहां साहब के दरबार से क्या अभिप्रायय है? i जमींदार की हवेली ii राजा का दरबार iii कबीरपंथी मठ iv मंडी उत्तर—iii कबीरपंथी मठ 4.  ठंडी पुरवाई का क्या मतलब

MCQ Vachya वाच्य class 10 cbse board new 2021

MCQ Vachya  वाच्य class 10 cbse board new 2021 CBSE Change question paper pattern in hindi. Hindi Grammar asking MCQ's. वाच्य Vachya topic given multiple cohice question with answer.     सीबीएसइ कक्षा 10 की हिन्दी  अ Syllabus 2021 में अब अधिकतर Questions Objective  टाइप के प्रश्न पूछे जाएंगें। यहां पर Vachya वाच्य टॉपिक से दे रहे हैं। Vachya Topic  में 5 में से 4  इस वाच्य टॉपिक questions आएंगे। वाच्य शब्द का अर्थ बोलने का तरीका वाच्य कहलाता है। ऐसा वाक्य जहां पर क्रिया का पर प्रभाव कर्ता, कर्म या भाव का पड़ता है तो क्रिया उसी के अनुसार परिवर्तित होती है। इस तरह से वाच्य तीन प्रकार के हुए। क्योंकि तीन तरह से क्रिया पर प्रभाव पड़ता है। यानी  1 कर्ता  2 कर्म  3 भाव क्रिया विधानों के अनुसार वाच्य 3 तरह के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य (Active Voice) 2. कर्मवाच्य (Passive Voice) 3. भाववाच्य (Impersonal Voice) कर्तृवाच्य व अ कर्तृवाच्य   के अनुसार वाच्य दो प्रकार के होते हैं- 1 कर्तृवाच्य 2  अ कर्तृवाच्य  अ कर्तृवाच्य के दो भेद होते हैं-        i. कर्मवाच्य (Passive Voice)         ii भावव

Laghu Katha Lekhan CBSE Board

    लघु कथा कैसे लिखें, उदाहरण से समझें CBSE board hindi  प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा (laghu katha)  लिखना। CBSE Board 9th class Laghu Katha lekhan दसवीं बोर्ड की कक्षा 9 के सिलेबस में और कई  बोर्ड की परीक्षा में इस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं।  (new syllabus 2021 Laghu Katha lekhan)    दिए गए प्रस्थान बिंदु (prasthan Bindu) का मतलब है कि दो या चार लाइन लघुकथा के दिए होते हैं। उसके बाद आपको 80 से 100 शब्दों में लघुकथा को पूरा करना होता है। उसका एक शीर्षक (title) लिखना होता है।  नई शिक्षा नीति 2020 (New Education Policy) में भाषा में रचनात्मक लेखन (Creative Writing) को बढ़ावा दिया गया है। इसलिए  हिंदी Hindi, अंग्रेजी, मराठी  उर्दू किसी भी भाषा के पेपर में संवाद लेखन, लघुकथा, लेखन अनुच्छेद, (anuchchhed lekhan) लेखन विज्ञापन लेखन, (Vigyapan lekhan) सूचना लेखन (Hindi mein Suchna lekhan) जैसे टॉपिक में नई शिक्षा नीति के ( new education policy 2021) अंतर्गत सिलेबस में रखे गए हैं।  लघुकथा लेखन 9 व 10 की परीक्षा में पूछा जाता है Laghu katha lekhan in Hindi in board examination आप

MCQ Ras Hindi class 10 cbse

MCQ Ras Hindi class 10 cbse MCQ Ras Hindi class 10 cbse Ras Hindi MCQ class# 10 CBSE board new# syllabus objective questions. New gyan dotcom Gmail important question topic ras रस पर क्वेश्चन आंसर यहां दिये जा रहे हैं।‌  If you have any problem of the topic of Hindi Ras write a comment, I will solve your problems within 24 hours. You have know that  multiple choice question coming Hindi grammar section class of 10.  Ras,  Rachna ke Aadhar per Vakya, Pad Parichy,  aur Vachy. रस, रचना के आधार पर वाक्य, पद परिचय और वाच्य है। यहां पर रस पर आधारित MCQ क्वेश्चन दिए जा रहे हैं यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा कई प्रतियोगी परीक्षा के लिए भी रस पर MCQ  प्रश्न काफी आते हैं। Given 10 topic question answer objective type. रस के बहुविकल्पी प्रश्न के उत्तर भी लिखे हुए हैं। १. निम्नलिखित प्रश्नों में दिए गए चार विकल्पों में से सर्वश्रेष्ठ सही विकल्प चुनिए। रस  को काव्य की आत्मा माना जाता है। " जब किसी नाटक, काव्य में आनंद की अनुभूति होती है तो वह रस  है।  रस  काव्य की

MCQ hindi pad parichayCBSE Class 10 Hindi A व्याकरण पद परिचय | New pattern hindi pad parichay 2021

CMCQ CBSE Class 10 Hindi A व्याकरण पद परिचय | New pattern hindi pad parichay 2021 CBSE Class 10 Hindi A व्याकरण पद परिचय पद परिचय का अर्थ— जब किसी वाक्य में कोई शब्द आता है। जैसे— ज्ञान स्कूल जाता है। तो यहां पर हर शब्द व्याकरण का नियम के पालन करते हैं। ज्ञान यहां पर नामवाला शब्द है। वाक्य में आने से ये शब्द पद कहलााता है। इस पद का अपना व्याक​रण के नियम के आधार पर परिचय है। जब इसके बारे में हम व्याकरणिक नियमों के बारे में बातएंगे तो ये बताना ही पद परिचय है। ज्ञान पद का परिचय इस तरह से देंगे— ज्ञान एक पद के रूप में इस वाक्य में आया है। संज्ञा के रूप में आया है। यानि व्यक्ति​वाचक संज्ञा,एकवचन, पुल्लिंग, कर्ताकारक इसका पद परिचय है। पद का शब्द की परिभाषा— पद – जब कोई शब्द व्याकरण के नियमों के अनुसार वाक्य में प्रयोग होता है तो उसे पद कहते हैं। पद-परिचय- वाक्य में प्रयुक्त पदों का विस्तृत व्याकरणिक परिचय देना ही पद-परिचय कहलाता है। आइए सीबीएसई बोर्ड कक्षा 10  (CBSE BOARD CLASS 10) में इस टॉपिक से संबंधित MCQ बहुविकल्पी प्रश्नों को साल्व करें। पद परिचय सीबीएसई क्लास 10 हिन्दी अ पठ्यक्रम म

Sandesh Lekan Hindi CBSE board class 10, new syllabus

   Message Writing : संदेश लेखन का प्रारूप व उदाहरण Sandesh Lekan Hindi CBSE board class 10, new syllabus New syllabus CBSE board, New Topic Sandesh Lekhan 2021  आज हम संदेश लेखन  (message writing) के बारे में चर्चा करेंगे।  कई बोर्ड की परीक्षाओं में (CBSE board MP Board UP Board) और कंपटीशन यह आजकल संदेश लेखन पर प्रश्न आता है। इन प्रश्नों को करने के लिए आपको संदेश लेखन का ज्ञान होना जरूरी है। सीबीएससी बोर्ड के हाईस्कूल में इस बार संदेश लेखन 5 अंक का बोर्ड की परीक्षा में आएगा।   नई एजुकेशन पॉलिसी  (new education policy 2020) में  कई सब्जेक्ट  के सिलेबस में बदलाव होने वाला है। रटने की जगह समझने वाली और व्यवहारिकता कुशलता बढ़ाने वाली। इसीलिए इस बार CBSE बोर्ड की परीक्षा के सिलेबस में बदलाव किया गया है।  लेखन करना आपको आना चाहिए। जिसमें पत्र लेखन (letter writing in Hindi), अनुच्छेद लेखन (paragraph writing in Hindi), संदेश लेखन (message writing), सूचना लेखन, संवाद लेखन (dialogue writing in Hindi), सार लेखन (summary writing in Hindi) इन सब की जरूरत  पढ़े लिखे इंसान को पड़ती  है।  लेखन  कार

MCQ नेताजी का चश्मा पाठ 10 हिंदी. MCQ QUESTION CBSE BOARD New Examination Pattern-2021

 नेताजी का चश्मा पाठ  10 हिंदी/ MCQ-QUESTION CBSE BOARD. New Examination Pattern-2021  CBSE BOARD बहुविकल्पी प्रश्न. Cbseb board  Netajee-Ka-Chashma-path-class-10-Hindi-MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2021  नेताजी का चश्मा पाठ  10 हिंदी. MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2020  Catch up course kya hai कैच-अप कोर्स/ केचप कोर्स -2021क्या है?/Bihar education Neta jee ka chashma lesson: hindi class 10 mcq, cbse board new examination pattern 2021  CBSE  CBSE 2021-22 नए परीक्षा पैटर्न के अनुसार इस बार हिंदी अ पाठ्यक्रम में पेपर में दो खंड होंगे। अ और ब खंड। इस बार परीक्षा में 40 अंक के 40 प्रश्न बहुविकल्पी प्रश्न पूछेंगे जाएंगे। इसके अलावा लेखन और पाठ पर आधरित लिखने वाले प्रश्न भी 40 अंक के पूछे जाएंगे। इस सीरीज में आज हम नेताजी का चश्मा पाठ का MCQ  प्रश्न दे रहे हैं।  Netajee-Ka-Chashma-path-class-10-Hindi-MCQ-QUESTION-CBSE-BOARD-New-Examination-Pattern-2022  निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्पों पर टिक ​लगाइए— 1. नेताजी का चश्मा पाठ किसने लिखा है? i स्वयं प्र

Alankar hindi objective question answer CBSE Class 9, 10, 11, 12

  Alankar hindi objective question answer  CBSE Class 9, 10, 11, 12 अलंकार Alankar# Cbse#  Multiple and objective Question very Impotent for you. Given Question Answer for total syllabus of CBSE Class 9 to 12 अलंकार पर आ​धारित प्रश्न सीबीएसई बोर्ड के न्यू पैटर्न पर। कक्षा 9 के सिलेबस में है। कक्षा 10 में भी अलंकार से प्रश्न पूछ लेता है। ये प्रश्न अपछित काव्यांश या पठित कविता में से अलंकार पहचानने वाला प्रश्न होता है।  Alankar-hindi-objective-question-answer-CBSE-Class-9-10-11-12 अलंकार काव्य के सौंदर्य में अभिवृद्धि करते हैं। काव्य की शोभा अलंकार बढ़ाता है। अलंकार के दो भेद होते हैं- 1. शब्दालंकार 2. अर्थालंकार जहाँ पर वर्णों की आवृत्ति अनुप्रास अलंकार कहलाती हैं। यहां पर वर्ण का मतलब अक्षर से है। एक शब्द का अलग अलग अर्थ में एक से अधिक बार प्रयोग यमक अलंकार कहलाता है।इसे सरल भाषा में समझें—अर्थात जब एक ही शब्द एक या दो से अधिक बार आता है परंतु उसके मतलब अलग अलग होता है। तो उसे कहते हैं।  जहाँ एक शब्द एक ही बार प्रयोग में आए लेकिन उसका अर्थ अलग-अलग हो तो उसे श्लेष अलंकार कहते हैं। श

Laghu katha prasthan bindu ke adhar per kaise likhe/ लघु कथा प्रस्थान बिंदु के आधार पर कैसे लिखें?

    लघु कथा प्रस्थान बिंदु के आधार पर कैसे लिखें? Laghu katha prasthan bindu ke adhar per kaise likhe लघुकथा लेखन उदाहरण सहित    कई बोर्ड की परीक्षाओं (board examination CBSE board) में लघुकथा (laghu Katha) लिखने को दिया जाता है। स्टेट बोर्ड (State board) की परीक्षा में भी लघुकथा पर प्रश्न (question of laghu katha) पूछता है। लघु कथा कैसे लिखा (How To write short story in hindi) जाए? आज हम laghu katha टॉपिक पर चर्चा करने जा रहे हैं। छात्रों सीबीएसई बोर्ड की कक्षा 9 के नए (CBSE board syllabus class 9 session 2020-21) सिलेबस 2020 के अनुसार हिंदी यह पाठ्यक्रम में प्रस्थान बिंदु के आधार पर लघु कथा लिखने का प्रश्न इस बार आएगा। CBSE class 10 B hindi syllabus. लघु कथा लेखन पूछा जाता है। According to the new syllabus 2020 of class 9 of CBSE board students, this question of writing short story based on the point of departure in Hindi syllabus will come this time.  निम्नलिखित   प्रस्थान बिंदु के आधार पर 100 से 150 शब्दों में एक लघुकथा लिखिए। (Write a short story in 100 to 150 words based on t

Archive

ज़्यादा दिखाएं