Knowledge क्या आप जानते हैं?

न्यूट्रीशन वाली सब्जियां| Rog se bachane walii sabji

 Nutrition Vegetable | Rog se bachane walii sabji

Table of Contents

इन सब्जियों को खा लेंगे तो शरीर में कोई रोग नहीं होगा

knowledge दोस्तो! कुछ सब्जियां Vegetable for nutrition ऐसी हैं,जिसके बारे लोग बहुत कम जानते हैं पर आप इन सब्जियों को अपने डाइट में शामिल कर लिया तो आपके शरीर को जरूरी पोषक तत्व तो आसानी से मिल जाता है और साथ ही आप बीमारियों से भी बचे रहते हैं। ऐसी ही कुछ सब्जियों  Rog se bachane walii sabjee ke bar me keya ap jante hain?  को बारे में बताने जा रहे हैं, इन्हें खाइएगा जरूर—

कंटोला नाम की यह जादूई सब्जी

Rog se bahchane wali es sabjee ka Nam hai इसे मीठी नींम के नाम से भी जाना जाता है। दोस्तो! ये फाइटोकैमिकल, एंटीआक्सीडेंट, प्रोटीन, मोमोरडिसीन और फाइबर को खजाना है। साधारण—सी दिखने वाली इस सब्जी में मीठ से दुगुना प्रोटीन है। इसे खाने से आपके मसल्स बनेगा। भारत में कंटोला मानसून के समय मिलता है। ये हृदय रोगियों के फायदेमंद सब्जी है।

कैंसर जैसी बीमारियों को रोकने में कंटोला का जवाब नहीं है। ये शरीर को बीमारियों से लड़ने शक्ति देता है। इसलिए खांसी—जुकाम से छुटकारा पाने के लिए इस सब्जी का सेवन लोग करते हैं। तो इस बार कंटोला आपके किचन में पकना जरूर चाहिए। एक बात और नोट कर लें, संक्रामक बीमारियों से बचने के लिए कंटोला बहुत कारगर है। ल्यूटेन की मात्रा इसमें होने के कारण ये कैंसर से लड़ने की शक्ति देता है। डायबटीज के लिए बहुत फायदेमंद ye sabjee है।

जीमीकंद पोषक तत्वों से भरा

Vegetable Jeemi kand जिमीकंद में शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसमें विटामिन ए, विटामिन बी, आयरन, फॉस्पोरस, प्रोटीन, वसा, कार्बोहाईड्रेट, क्षार, कैल्शियम आक्ज्लेट आदि तत्व पाए जाते हैं। इसे देश के अधिकाशतः राज्यों में सूरन, ओल, जिमीकंद के नाम से ही जानते हैं।

कई राज्यों में इसके अलग अलग नाम है। इसे सूरन या ओल के नाम से जाना जाात है, ये सब्जी भी रोग से बचाने वाली सब्जी है। दीपावली या त्योहारों में इस सब्जी को बनाया जाता है।



मसालेदार इस सब्जी को बनाइए, खाने में बहुत स्वादिष्ट होता है। दीवाली और होली में भारतीय घरों में ये सब्जी खूब बनाई जाती है। मदर इंडिया फिल्म की कहानी में जब बाढ के सयम के सीन में चारों तरफ खाने के लिए के कुछ नहीं होता है तब इस फिल्म् की नायिका नर्गिस अपने बच्चों को खाने के लिए खेतों के मिट्टी खोदती है तो उसके अंदर सूरन उगा होता है। उसे निकालकर अपने भूखे बच्चों को इसे पानी में उबाल कर खिलाती है। फिल्म का यह सीन दिल को छूने वाली है। तो क्या आपने कभी खाया है? इसमें विटामिन ए व बी के साथ मिनरल्स हैं, आयरन, फास्फोरस,काब्रोहाइड्रेट, कैल्सियम आक्जलेट, प्रोटीन और वसा भी है।


सहजन पोषक सब्जी 

सहजन मार्च के महीने में बाजार में दिखना शुरू हो जाता है। एक बार इस सीजन में इस सब्जी को जरूर खाना चाहिए। इसमें विटामिन सी की भरपूर मात्रा होती है, जो हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है। Vegetable पोषक तत्वों से भरा हाता है।सौ रोगों से बचाता है अगस्त के फूल की सब्जी

अगस्त का फूल सफेद रंग होता है, इसके फूल की सब्जियां खाई जाती है। इसमें बहुत पोषक तत्व होता है। इसके फूलों का सूप व सब्जियां बड़े चाव से बनाकर खाई जाती है। इसके फूल से पराग नली को हटाकर सब्जी बनाई जाती है। इसके फूल में विटामिन बी समूह के थायमीन, राइबोफ्लाविन, नियसिन,फोलेट और विटामिन सी की अच्छी मात्रा होती है। ये शरीर में रोगों से लड़ने की शक्ति बढ़ाता है। हृदय और यकृत को जैसे अंगों को बीमारी से मुक्त बनाता है। ये कैंसररोधी, शोथरोधी, कृमिरोधी, जीवाणुरोधी, एंटीऑक्सीडेंट, दर्दनाशक, ज्वारनाशक भी हैं। ये रतौंधी, नजला, साइनस, पित्तदोष, गठिया, खाँसी, सिर दर्द, बुख़ार के इलाज में सहायक हैं। 


पत्तियाँ एंटीबायोटिकट, कफ़नाशक, ट्यूमररोधी, अल्सररोधी, मूत्र को बढ़ाने वाली होती हैं। इसका उपयोग शरीर के लिए टॉनिक का काम करता है। ये मेनरेजीअ, अल्सरेटिव कोलाइटिस, नकसीर, श्वसन संबंधी बीमारियों, मिर्गी, कुष्ठ रोग, गुर्दे की पथरी के इलाज में भी लाभकारी मानी गई हैं। ये पेटदर्द, राइनाइटिस (नाक के अंदर झिल्ली में सूजन) ल्यूकोरिया,और सभी प्रकार की यकृत और प्लीहा संबंधी बीमारियों के इलाज में भी लाभकारी माना गया है। यह शरीर से विषैले तत्व बाहर निकालने में भी सहायक है। दोस्तो! इसकी सब्जी बनाकर खाइए और रोगों से मुक्त रहिए। रोगों से बचाने वाली सब्जी के बारे में दिया गया नॉलेज knowledge आपको अच्छा लगा होगा ऐसा करते हैं कि आप कमेंट करके हमें जरूर बताएंगे कि आपको कौन-कौन सी जानकारी किन-किन विषयों पर चाहिए।



About the author

admin

नमस्कार दोस्तो!
New Gyan हिंदी भाषा में शैक्षणिक और सूचनात्मक विषयवस्तु (Educational and Informative content) के साथ ज्ञान की बातें बतलाता है। हिंदी-भाषा में पढ़ाई-लिखाई, ज्ञान-विज्ञान, साहित्य, तकनीक आदि newgyan website नया ज्ञान आपको बताता है। इंटरनेट जगत में यह उभरती हुई हिंदी की वेबसाइट है। हिंदी भाषा से संबंधित शैक्षिक (Educational) साहित्य (literature) ज्ञान, विज्ञान, तकनीक, सूचना इत्यादि नया ज्ञान, new update, नया तरीका बहुत ही सरल सहज ढंग से प्रस्तुत करते हैं।
ब्लॉग के संस्थापक Founder of New gyan
अभिषेक कांत पांडेय- शिक्षक, लेखक- पत्रकार, ब्लॉग राइटर, हिंदी विषय -विशेषज्ञ के रूप में 15 साल से अधिक का अनुभव है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट पर विभिन्न विषय पर लेख प्रकाशित होते रहे हैं।
शैक्षिक योग्यता- इलाहाबाद विश्वविद्यालय से फिलासफी, इकोनॉमिक्स और हिस्ट्री में स्नातक। हिंदी भाषा से एम० ए० की डिग्री। (MJMC, BEd, CTET, BA Sanskrit)
प्रोफेशनल योग्यता-
इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पत्रकारिता मे डिप्लोमा की डिग्री, मास्टर आफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, B.Ed की डिग्री।
उपलब्धि-
प्रतिलिपि कविता सम्मान
Trail social media platform writing competition winner.
प्रतिष्ठित अखबार में सहयोगी फीचर संपादक।
करियर पेज संपादक, न्यू इंडिया प्रहर मैगजीन समाचार संपादक।

Leave a Comment